Coronavirus, Covid 19deaths, Coronaınındia, Coronavirus, Covid 19 Deaths İn İndia Latest, Covid 19, Covid 19 Deaths İn İndia, Covid 19 Fatalities İn İndia, Covid 19 Fatalities, Centre For Global Health Research, Study Report, भारत में कोरोना से मौत का आंकड़ा, भारत में कोरोना से मौत

Coronavirus, Covid 19deaths

कोरोना से मौतें: अध्ययन में दावा, भारत में करीब 33 लाख लोगों की गई संक्रमण से जान

एक अध्ययन में दावा किया गया है कि भारत में जून 2020 से 2021 तक 27-33 लाख लोगों की कोरोना से मौतें हुई हैं।

27-07-2021 05:28:00

कोरोना से मौतें: अध्ययन में दावा, भारत में करीब 33 लाख लोगों की गई संक्रमण से जान Coronavirus Covid19deaths CoronaInIndia mansukhmandviya MoHFW_INDIA ICMRDELHI

एक अध्ययन में दावा किया गया है कि भारत में जून 2020 से 2021 तक 27-33 लाख लोगों की कोरोना से मौतें हुई हैं।

ख़बर सुनेंदेश में कोरोना से मरने वालों की संख्या को लेकर आए दिन अध्ययन के आधार पर नए दावे किए जा रहे हैं, जो सरकारी आकंड़ों पर सवाल उठा रहे हैं। भारत में भले ही सरकारी आंकड़ों के हिसाब से चार लाख 20 हजार से अधिक मौतें हुई हों, लेकिन एक अध्ययन में दावा किया गया है कि भारत में कोरोना की दोनों लहर के दौरान 27-33 लाख लोगों की संक्रमण से मौतें हुई हैं।

सिद्धू पर 'देशद्रोह' के आरोप, बीजेपी ने पूछा- सोनिया, राहुल और प्रियंका चुप क्यों हैं? - BBC Hindi उत्तराखंड: केजरीवाल ने की वादों की बौछार, 6 महीने में 1 लाख नौकरी और 5 हजार का भत्ता गुजरात: कोई 10वीं पास तो कोई सिर्फ़ चौथी, भूपेंद्र पटेल के नए मंत्रियों की शिक्षा पर चर्चा - BBC News हिंदी

टोरंटो विश्वविद्यालय में सेंटर फॉर ग्लोबल हेल्थ रिसर्च के डॉ प्रभात झा और डार्टमाउथ कॉलेज में अर्थशास्त्र विभाग के डॉ. पॉल नोवोसाद द्वारा लिखित एक अध्ययन में यह अनुमान लगाया गया है।यह अध्ययन जून 2020 और 2021 के बीच आठ राज्यों और सात शहरों में दर्ज अधिक मृत्यु दर पर आधारित है, और इसी की गणना के आधार पर अनुमान लगाया गया है।

2020 में महामारी की पहली लहर के दौरान दर्ज की गई औसत अतिरिक्त मृत्यु दर 22 फीसदी थी। इस दौरान आंध्र प्रदेश में 63 फीसदी से लेकर केरल में 6 फीसदी तक मृत्युदर थी, जो इस साल अप्रैल और जून के बीच महामारी की दूसरी लहर के दौरान बढ़कर 46 फीसदी हो गया और मध्यप्रदेश में सबसे अधिक 198 फीसदी तक मृत्युदर दर्ज की गई। headtopics.com

पिछले वर्षों की तुलना में 2020 और 2021 में किसी भी कारण से होने वाली मौतों की संख्या के बीच का अंतर अधिक मृत्यु दर को बढ़ाता है। शोधकर्ताओं का मानना है कि इनमें से अधिकतर अतिरिक्त मौतें कोविड-19 के कारण हुई हैं।इसके समकक्ष-रिव्यू अध्ययन, जिसे हाल ही में मेडरेक्सिव (MedRxiv) पर अपलोड किया गया था, वह नागरिक पंजीकरण प्रणाली पर अधिक मृत्यु दर के आंकड़ों जो सभी जन्म और मृत्यु को रिकॉर्ड करता है, और स्वास्थ्य प्रबंधन सूचना प्रणाली के माध्यम से एकत्र किए गए कई स्वास्थ्य संस्थानों के आंकड़ों और एक टेलीफोनिक सर्वेक्षण पर आधारित है।

बता दें कि कुछ दिन पहले अमेरिकी रिपोर्ट में दावा किया गया था कि भारत में कोरोना से 34 से 49 लाख लोगों की मौतें हुई हैं। यह संख्या भारत सरकार के आंकड़ों से 10 गुना से भी ज्यादा है। रिपोर्ट को तैयार करने वालों में चार साल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मुख्य आर्थिक सलाहकार रहे अरविंद सुब्रमण्यन भी शामिल हैं।

वाशिंगटन के अध्ययन संस्थान सेंटर फॉर ग्लोबल डेवलपमेंट की ओर से जारी रिपोर्ट में सरकारी आंकड़ों, अंतरराष्ट्रीय अनुमानों, सेरोलॉजिकल रिपोर्टों और घरों में हुए सर्वे को आधार बनाया गया है। अरविंद सुब्रमण्यन, अभिषेक आनंद और जस्टिन सैंडफर ने दावा किया है कि मृतकों की वास्तविक संख्या कुछ हजार या लाख नहीं दसियों लाख है। गौरतलब है कि भारत सरकार द्वारा जारी आंकड़ों पर पहले भी संशय जताया गया है।

अमेरिकी अध्ययन में कहा गया है कि भारत में जनवरी 2020 से जून 2021 के बीच कोविड-19 से लगभग 50 लाख (4.9 मिलियन) लोगों की मृत्यु हुई है, जिससे यह विभाजन और स्वतंत्रता के बाद से देश की सबसे बड़ी मानव त्रासदी बन गई है। वहीं कोरोना वायरस का डेल्टा वैरिएंट दुनिया भर में चिंता की एक नई लहर पैदा कर रहा है। headtopics.com

उत्तराखंड में केजरीवाल का बड़ा चुनावी वादा : 6 महीने में 1 लाख जॉब्स, नौकरी न मिलने तक 5000 रुपये भत्ता अंबिका सोनी ने ठुकराया CM पद का ऑफर, कहा-पंजाब का मुख्यमंत्री एक सिख ही हो अफगानिस्तान में इन्फ्रास्ट्रक्चर पर अब भी भारत करेगा निवेश? नितिन गडकरी ने दिया ये जवाब

विस्तारदेश में कोरोना से मरने वालों की संख्या को लेकर आए दिन अध्ययन के आधार पर नए दावे किए जा रहे हैं, जो सरकारी आकंड़ों पर सवाल उठा रहे हैं। भारत में भले ही सरकारी आंकड़ों के हिसाब से चार लाख 20 हजार से अधिक मौतें हुई हों, लेकिन एक अध्ययन में दावा किया गया है कि भारत में कोरोना की दोनों लहर के दौरान 27-33 लाख लोगों की संक्रमण से मौतें हुई हैं।

विज्ञापनटोरंटो विश्वविद्यालय में सेंटर फॉर ग्लोबल हेल्थ रिसर्च के डॉ प्रभात झा और डार्टमाउथ कॉलेज में अर्थशास्त्र विभाग के डॉ. पॉल नोवोसाद द्वारा लिखित एक अध्ययन में यह अनुमान लगाया गया है।यह अध्ययन जून 2020 और 2021 के बीच आठ राज्यों और सात शहरों में दर्ज अधिक मृत्यु दर पर आधारित है, और इसी की गणना के आधार पर अनुमान लगाया गया है।

2020 में महामारी की पहली लहर के दौरान दर्ज की गई औसत अतिरिक्त मृत्यु दर 22 फीसदी थी। इस दौरान आंध्र प्रदेश में 63 फीसदी से लेकर केरल में 6 फीसदी तक मृत्युदर थी, जो इस साल अप्रैल और जून के बीच महामारी की दूसरी लहर के दौरान बढ़कर 46 फीसदी हो गया और मध्यप्रदेश में सबसे अधिक 198 फीसदी तक मृत्युदर दर्ज की गई।

पिछले वर्षों की तुलना में 2020 और 2021 में किसी भी कारण से होने वाली मौतों की संख्या के बीच का अंतर अधिक मृत्यु दर को बढ़ाता है। शोधकर्ताओं का मानना है कि इनमें से अधिकतर अतिरिक्त मौतें कोविड-19 के कारण हुई हैं।इसके समकक्ष-रिव्यू अध्ययन, जिसे हाल ही में मेडरेक्सिव (MedRxiv) पर अपलोड किया गया था, वह नागरिक पंजीकरण प्रणाली पर अधिक मृत्यु दर के आंकड़ों जो सभी जन्म और मृत्यु को रिकॉर्ड करता है, और स्वास्थ्य प्रबंधन सूचना प्रणाली के माध्यम से एकत्र किए गए कई स्वास्थ्य संस्थानों के आंकड़ों और एक टेलीफोनिक सर्वेक्षण पर आधारित है। headtopics.com

बता दें कि कुछ दिन पहले अमेरिकी रिपोर्ट में दावा किया गया था कि भारत में कोरोना से 34 से 49 लाख लोगों की मौतें हुई हैं। यह संख्या भारत सरकार के आंकड़ों से 10 गुना से भी ज्यादा है। रिपोर्ट को तैयार करने वालों में चार साल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के मुख्य आर्थिक सलाहकार रहे अरविंद सुब्रमण्यन भी शामिल हैं।

वाशिंगटन के अध्ययन संस्थान सेंटर फॉर ग्लोबल डेवलपमेंट की ओर से जारी रिपोर्ट में सरकारी आंकड़ों, अंतरराष्ट्रीय अनुमानों, सेरोलॉजिकल रिपोर्टों और घरों में हुए सर्वे को आधार बनाया गया है। अरविंद सुब्रमण्यन, अभिषेक आनंद और जस्टिन सैंडफर ने दावा किया है कि मृतकों की वास्तविक संख्या कुछ हजार या लाख नहीं दसियों लाख है। गौरतलब है कि भारत सरकार द्वारा जारी आंकड़ों पर पहले भी संशय जताया गया है।

पंजाब के मंत्री सुखजिंदर रंधावा हो सकते हैं अगले मुख्यमंत्री : सूत्र बंगाल की खाड़ी के 'कॉन्टिनेंटल शेल्फ़' पर भारत के दावे से बांग्लादेश को एतराज - BBC Hindi उम्मीद है कैप्टन कांग्रेस को नुकसान पहुंचाने वाला कदम नहीं उठाएंगे, अंतरात्मा की सुनें: अशोक गहलोत

अमेरिकी अध्ययन में कहा गया है कि भारत में जनवरी 2020 से जून 2021 के बीच कोविड-19 से लगभग 50 लाख (4.9 मिलियन) लोगों की मृत्यु हुई है, जिससे यह विभाजन और स्वतंत्रता के बाद से देश की सबसे बड़ी मानव त्रासदी बन गई है। वहीं कोरोना वायरस का डेल्टा वैरिएंट दुनिया भर में चिंता की एक नई लहर पैदा कर रहा है।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?हांखबर की भाषा और शीर्षक से आप संतुष्ट हैं?हांखबर के प्रस्तुतिकरण से आप संतुष्ट हैं?हांखबर में और अधिक सुधार की आवश्यकता है? और पढो: Amar Ujala »

प्रधानमंत्री से लेकर रक्षा मंत्री तक...देखें तालिबान की सरकार में कौन-कौन शामिल

तालिबान ने अंतरिम सरकार की घोषणा कर दी है. इस अंतरिम सरकार में प्रधानमंत्री यानी सरकार के प्रमुख की भूमिका में मुल्ला हसन अखुंद होंगे. मुल्ला हसन अखुंद तालिबान की रहबरी शूरा यानी लीडरशिप काउंसिल का चीफ है और तालिबान प्रमुख मुल्ला हिब्तुल्लाह अखुंदजादा के बेहद करीबियों में शामिल हैं. मुल्ला बरादर को तालिबान सरकार में डिप्टी पीएम बनाया गया है. डिप्टी पीएम की भूमिका में मुल्ला हन्नाफी की भी भूमिका रहेगी. इसके अलावा मुल्ला याकूब तालिबान सरकार में रक्षा मंत्री होगा और सिराजुद्दीन हक्कानी तालिबान सरकार में आंतरिक मामलों का मंत्री होगा. शेर मोहम्मद अब्बास स्तनकजई तालिबान सरकार में उपविदेश मंत्री होगा. खैरुल्लाह खैरख्वा तालिबान सरकार में सूचना मंत्री होगा. जबकि तालिबान प्रवक्ता जैबुल्लाह मुजाहिद को उप सूचना मंत्री की जिम्मेदारी मिल रही है. अब्दुल हकीम को तालिबान सरकार का न्याय मंत्री बनाया गया है. ज्यादा जानकारी के लिए देखें खबरदार.

mansukhmandviya MoHFW_INDIA ICMRDELHI बिल्कुल सत्य, इसमें से लगभग 50% महाराष्ट्र, कर्नाटका का स्तर काफी ऊंचा रहा। ओर यह सरकार , जनता, एवं कोरोना वारियर्स ने कोई कमी नही छोड़ी कोरोना को खत्म करने में। सबने बड़ी जागरूकता के साथ लड़ाई की एंड जून अंत तक सब कंट्रोल में आग्या। जय हिन्द। mansukhmandviya MoHFW_INDIA ICMRDELHI समाजवादी शासनकाल में कराये निर्माण कार्य उo.प्रo.राजकीय निर्माण निगम लिo.द्वारा लोहिया अकैडमी ब्लॉक में करोडो के घोटाले से बचने के लिये हो रही है साजिश डर है उनके खुल ना जाये पोल पट्टी 4माह पूर्व मागी गई सूचना अभी तक कोई जवाब नहीं निजी लाभ से नहीं दे पाए सूचना?

mansukhmandviya MoHFW_INDIA ICMRDELHI शायद इससे कुछ ज्यादा.... जो मौतें कहीं भी Trace नहीं हुईं उनका क्या? वो तो कहीं भी नहीं गिनी जाएंगी।

दिल्ली में पिछले 24 घंटे में कोरोना के 66 नए मामले, 2 मरीजों की मौतदिल्ली में पिछले 24 घंटे में कोरोना के 66 नए मामले सामने आए जिसके बाद यहां कोरोना संक्रमण दर 0.09 फीसदी हो गई है. वहीं पिछले 24 घंटे में कोरोना से 2 मरीजों की मौतों को मिलाकर मौत का कुल आंकड़ा 25,043 हो गया. दिल्ली में अब कोविड के सक्रिय मरीजों की संख्या 579 है. दिल्ली में अब होम आइसोलेशन में 167 मरीज हैं. सक्रिय कोरोना मरीजों की दर लगातार 14वें दिन 0.04 फीसदी रही. Not a good news on corona virus increased trend . आज़म ख़ान साहब के लिए सब लोग अखिलेश यादव को टैग करके....उनके अच्छे इलाज़ की मांग करें प्लीज ट्वीट, रिट्वीट एंड शेयर.. 'बीजेपी आलाकमान ने मुरुगेश निरानी को कर्नाटक का CM बनाने के लिए उससे 2000 करोड़ घूस लिया है।' --- बीजेपी विधायक बासनगौड़ा यतनाल जो अपनी पार्टी में CM बनाने के लिए घूस ले रहा है, वह देश को कितना लूट रहा होगा? यह सब चंगेज खां, तैमूर लंग और महमूद गजनवी से बड़े लुटेरे हैं।

दुनियाभर में अब तक 19.40 करोड़ से अधिक लोग हुए कोरोना से संक्रमित, 41.58 लाख से ज्यादा मौतेंGlobal Covid19 Cases दुनियाभर में कोरोना के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। अब तक दुनियाभर में 19.40 करोड़ से अधिक लोग कोरोना की चपेट में आ चुके हैं। इसके साथ ही 41.58 लाख से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है। करगिल_विजय_दिवस सारे देश में मनाया जाया रहा है पर्व की तरह कारगिल विजय दिवस को

कोरोना देश में: बीते दिन 38176 केस आए, 35945 ठीक हुए और 411 मौतें; चिंता की बात कि 11 राज्यों में अब भी रोजाना 500 से ज्यादा संक्रमित मिल रहेदेश में कोरोना की रफ्तार में उतार-चढ़ाव जारी है। यहां रविवार को कोरोना के 38,176 केस सामने आए। इस दौरान 35,945 लोग ठीक हुए और 411 लोगों की मौत हुई। इस तरह एक्टिव केस में 2,112 की बढ़ोतरी रिकॉर्ड की गई। तीसरी लहर की आशंका के बीच चिंता की बात यह भी है कि देश के 11 राज्यों में अब भी रोजाना 500 से ज्यादा संक्रमितों की पहचान हो रही है। इनमें महाराष्ट्र, केरल, कर्नाटक, तमिलनाडु, आंध्र प्रदेश, पश्चिम बंगाल... | Lockdown: Coronavirus Outbreak India Cases, Vaccination LIVE Update | Maharashtra Pune Madhya Pradesh Bhopal Indore Rajasthan Uttar Pradesh Haryana Punjab Bihar Novel Corona (COVID 19) Death Toll India Today, Mumbai Delhi Coronavirus News अहीर_रेजिमेंट_हक़_है_हमारा we want ahir regiment

कोरोना: 24 घंटे में मिले 39 हजार से ज्यादा नए मरीज, 416 ने गंवाई जानभारत में कोरोना का प्रकोप खत्म होने का नाम नहीं ले रहा। आए दिन बड़ी संख्या में लोग इस घातक बीमारी की चपेट में आ रहे हैं।

कोरोना पर ग़लत दिशा में जा रहा है अमेरिका, डॉ फ़ाउची ने चेताया - BBC Hindiअमेरिका के शीर्ष संक्रामक रोग विशेषज्ञ डॉ. फ़ाउची ने चेतावनी दी है कि अमेरिका कोरोना महामारी से निपटने के मामले में ग़लत दिशा में जा रहा है. बॉक्सिंग में आशीष भी हारे

पूर्वोत्तर के 35 जिलों में कोरोना चिंताजनक, पॉजिटिविटी रेट 10 फीसदी या उससे ज्यादामिजोरम में 6 जिले और नगालैंड, राजस्थान, मेघालय में कोरोना पॉजिटिविटी रेट 10 फीसदी से ज्यादा वाले 5 जिले हैं. पॉजिटिविटी रेट कुल जांच के मुकाबले नए संक्रमित मरीजों की संख्या है.