Covid 19, Gold, Business, Covid 19, India, Gold Procurement, Hit, Q3, Low Demand, September 2020

Covid 19, Gold

कोरोना से प्रभावित हुई सोने की खरीद, सितंबर तिमाही में 30% की गिरावट

कोरोना और ऊंची कीमतों के कारण सितंबर तिमाही में भारत में सोने की मांग लुढ़क कर 86.6 टन पर आ गई.

29-10-2020 12:47:00

कोरोना वायरस महामारी से जुड़े व्यवधानों और ऊंची कीमतों के कारण सितंबर तिमाही में सोने की डिमांड कम हुई Covid19 Gold Business

कोरोना और ऊंची कीमतों के कारण सितंबर तिमाही में भारत में सोने की मांग लुढ़क कर 86.6 टन पर आ गई.

स्टोरी हाइलाइट्ससितंबर तिमाही में सोने की मांग 30 प्रतिशत कमसितंबर तिमाही में मांग अब 86.6 टन पर आ गईपिछले साल तिमाही में मांग 123.9 टन रही थीकोरोना वायरस महामारी से जुड़े व्यवधानों और ऊंची कीमतों के कारण सितंबर तिमाही में सोने की डिमांड कम हुई है. भारत में सोने की मांग साल भर पहले की तुलना में 30 प्रतिशत कम होकर 86.6 टन पर आ गई. विश्व स्वर्ण परिषद (डब्ल्यूजीसी) ने एक रिपोर्ट में यह जानकारी दी है.

सिंघु बॉर्डर पर प्रदर्शन कर रहे किसानों का होगा Covid टेस्ट, सोनीपत के DM ने दिए आदेश MDH के महाशय नहीं रहे: MDH मसाले के मालिक महाशय धर्मपाल गुलाटी का 98 साल की उम्र में हार्ट अटैक से निधन 'केंद्र के पास ये अंतिम मौका', सरकार से वार्त्ता शुरू होने से पहले किसानों की दो टूक; 10 अहम बातें

रिपोर्ट के अनुसार, पिछले साल की सितंबर तिमाही में सोने की कुल मांग 123.9 टन रही थी. मूल्य के आधार पर, इस दौरान सोने की मांग पिछले साल के 41,300 करोड़ रुपये की तुलना में चार प्रतिशत कम होकर 39,510 करोड़ रुपये पर आ गई.दूसरी तिमाही से ज्यादाविश्व स्वर्ण परिषद के प्रबंध निदेशक (भारत) सोमसुंदरम पीआर ने बताया कि कोविड-19 से जुड़े व्यवधानों, कमजोर उपभोक्ता धारणा, ऊंची कीमतें और उथल-पुथल के कारण साल 2020 की तीसरी तिमाही में सोने की मांग 30 प्रतिशत घटकर 86.6 टन रह गई. सोमसुंदरम ने कहा, “साल 2020 के तीसरी तिमाही में मांग आम तौर पर मॉनसून जैसे मौसमी कारकों और पितृ-पक्ष और अधिक मास जैसी अशुभ अवधियों के कारण कम होती है. आभूषणों की मांग में 48 प्रतिशत की गिरावट आयी है, क्योंकि आभूषणों की खरीदारी में त्योहारों या शादियों का कोई समर्थन नहीं था.’’

देखें:आजतक LIVE TVउन्होंने बताया कि देश में आभूषण खरीदना एक अनुभव है और सामाजिक सुरक्षित दूरी तथा मास्क पहनने जैसी पाबंदियों ने खुदरा स्टोरों में उपभोक्ता स्तर को कम रखा है. हालांकि यह साल 2020 की दूसरी तिमाही से अधिक है. दूसरी तिमाही में सोने की मांग साल भर पहले की तुलना में 70 प्रतिशत कम होकर 64 टन पर आ गयी थी.

अगस्त में कम कीमत का फायदातिमाही आधार पर मांग में सुधार का कारण लॉकडाउन की पाबंदियों में ढील मिलना और अगस्त में कुछ समय के लिये कीमतों का कम होना है. उन्होंने कहा कि अगस्त में कुछ समय कीमतें कम होने से कुछ दिलचस्प लोगों को खरीदारी करने का मौका मिला. इस दौरान भारत की कुल आभूषण मांग साल भर पहले के 101.6 टन से 48 प्रतिशत कम होकर 52.8 टन पर आ गई.

मूल्य के संदर्भ में आभूषणों की मांग साल भर पहले के 33,850 करोड़ रुपये से 29 प्रतिशत गिरकर 24,100 करोड़ रुपये पर आ गई. इस दौरान कुल निवेश मांग साल भर पहले के 22.3 टन से 52 प्रतिशत बढ़कर 33.8 टन पर पहुंच गई. और पढो: आज तक »

काशी के बाद सारनाथ में पीएम मोदी! जगमग बनारस में पीएम का हर-हर महादेव

देव दीपावली का उत्सव मनाने के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सारनाथ पहुंचे. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी उनके साथ में हैं. सारनाथ में भगवान बुद्ध ने पहला उपदेश दिया था, ऐसे में इस जगह का विशेष महत्व है. पीएम मोदी ने वाराणसी में 7 घंटे से ज्यादा वक्त बिताया. सारनाथ में भगवान बुद्ध पर लाइट एंड साउंड शो आयोजित किया गया है. इस शो को देखने के लिए खुद पीएम मोदी सारनाथ पहुंचे. सारनाथ ही वो जगह है, जहां से भगवान बुद्ध ने दुनिया को संदेश दिया. अमिताभ बच्चन की आवाज में काशी पर केंद्रित शो में प्राचीनता के अलग-अलग रंगों पर चर्चा की गई. इसके साथ ही पीएम मोदी ने काशी दौरे पर बनारस के घाटों का दर्शन किया. वाराणसी-प्रयागराज 6-लेन हाइवे के चौड़ीकरण का लोकार्पण भी किया. पीएम मोदी ने करीब 25 मिनट तक किसानों के नाम का संदेश दिया. फिर भगवान विश्वनाथ के दर्शन, संत रैदास के दर्शन और दीपदान किया. वाराणसी में पीएम मोदी के 7 घंटों में क्या-क्या रहा खास, देखिए बेहद खास शो खबरदार, श्वेता सिंह के साथ.

इस वक्त लोगों को जीने के लिए दाना पानी चाहिए सोना चांदी नहीं चाहिए 😶 I see

भारत में कोरोना जिहाद, एनेस्थीसिया इंजेक्शन से हस्तियों की हत्या की साजिश रच रहे थे आतंकीभारत में कोरोना जिहाद, एनेस्थीसिया इंजेक्शन से हस्तियों की हत्या की साजिश रच रहे थे आतंकी coronajihad ISKPterrorists NIA पक्का हरामी है तुम अभी चुनाव चल रहा है तू हिन्दू मुस्लिम का प्रोपगंडा कर रहा है आज ही सब दलाल लाइन से माफी मांगा है सब अमर उजाला को शर्म आनी चाहिए हर खबर में जिहाद शब्द जोड़कर मुसलमानों को टारगेट क्यों किया जाता है अमर उजाला जैसे अखबार भी अब नफरत फैला रहे हैं। asadowaisi AIMPLB_Official ndtvindia ajitanjum नफरत फैलेने वालो घर तुम्हारा भी जलेगा याद रखना लानत है तुम लोगो पर

दरभंगा: मैथिली में पीएम ने की भाषण की शुरुआत, कोरोना को लेकर भी दी नसीहतबिहार विधानसभा चुनाव 2020 में पहले चरण का मतदान जारी है. पहले चरण में 16 जिलों की 71 विधानसभा सीटों के लिए वोटिंग हो रही है. पहले चरण में इसमें 2.14 करोड़ से ज्यादा मतदाता 1066 प्रत्याशियों के भाग्य का फैसला करेंगे. इसी बीच पीएम मोदी ने आज दरभंगा में रैली कर लोगों को संबोधित किया. पीएम मोदी ने लोगों को कोरोना से बचने के लिए पूरी सावधानी बरतने की नसीहत दी. पीएम मोदी ने मैथिली में अपने भाषण की शुरुआत की. देखें वीडियो. Armaankuldeep MuskankumarYAD5 बालातकारी पुलिस वाले ankur Aggarwal IPS vrinda sukhala IPS harish चन्द्र नोइडा फेश 3 narendramodi RahulGandhi NCWIndia AmitShah CMODelhi myogiadityanath kanhaiyakumar priyankagandhi dgpup INCUttarPradesh Uppolice 💘 DILWALA _ D143💘 I LOVE SRK 💘 I LOVE SRK 💘 I LOVE SRK I LOVE SRK 💘I LOVE SRK 💘 I LOVE SRK 💘 I LOVE SRK 💘 I LOVE SRK 💘 I LOVE SRK 💘 I LOVE SRK 💘 I LOVE SRK 💘 I LOVE SRK जैसा देश वैसा भेष!!

बिहार में कोरोना पर वोट की चोट, पहले चरण में 71 सीटों पर 53.54 फीसदी वोटिंगबिहार में कोरोना पर वोट की चोट, पहले चरण में 71 सीटों पर 53.54 फीसदी वोटिंग BiharElections2020 BiharPolls biharelections

कोरोना बुलेटिन: देश में रिकवरी रेट में बढ़ोतरी, मृत्यु दर में आई भारी गिरावटकोरोना बुलेटिन: देश में रिकवरी रेट में बढ़ोतरी, मृत्यु दर में आई भारी गिरावट coronavirus Coronaupdate MoHFW_INDIA NITIAayog

ऋतिक रोशन की फैमिली के लिए गुड न्यूज, एक्टर की मां हुईं कोरोना नेगेटिवऋतिक रोशन की मां पिंकी रोशन अपने पति राकेश रोशन के साथ इस समय खंडाला में अपने फार्म हाउस पर हैं. राकेश रोशन ने कंफर्म किया है कि पिंकी कोरोना नेगेटिव हो चुकी हैं. Hate queen kangna to dukhi Ho jayegi ye sunke 😂 What about KareenaKapoorKhan & AnushkaSharma Delivery Status? So long no news From media. Where you ppl are busy ?😡 Hmm...

क्या खराब हवा की वजह से कोरोना ने ली 1 लाख 70 हजार लोगों की जान?रिसर्चर्स की अंतरराष्ट्रीय टीम को पता चला है कि अगर हवा साफ होती तो कोरोना से होने वाली मौतों की संख्या में 15 फीसदी की कमी हो सकती थी. Who will bell the cat? देश की जनसंख्या इतनी अधिक नहीं होती तो इतना प्रदूषण फैलानेवाले नहीं होते। प्रदूषण नहीं फैलता तो कोरोना भी नहीं मरता और लोगों की मौत भी नहीं होती। अजीब इत्तेफाक से तर्क निकाल कर पेश किया गया। केजरीवाल के होते हुए क्या बचेगा