कोरोना वायरस: किम जोंग-उन ने ऐसा क्या किया कि संक्रमण नहीं फैला

कोरोना वायरस: किम जोंग-उन ने ऐसा क्या किया कि संक्रमण नहीं फैला

03-04-2020 15:56:00

कोरोना वायरस: किम जोंग-उन ने ऐसा क्या किया कि संक्रमण नहीं फैला

दक्षिण कोरिया तबाह है पर उत्तर कोरिया में कोरोना वायरस से संक्रमण का एक भी मामला सामने नहीं आया.

13: 36 IST को अपडेट किया गयाउत्तर कोरिया का दावा है कि उसके यहां 'एक भी व्यक्ति' कोरोना वायरस के संक्रमण का शिकार नहीं हुआ है. इस दावे पर अब संदेह बढ़ता जा रहा है और सवाल उठने लगे हैं.उत्तर कोरिया ने संक्रमण न फैलने का श्रेय अपनी सीमाओं को बंद करने जैसे सख़्त फ़ैसलों को दिया है.

राहुल का ट्वीट- क्या भारतीय सीमा में नहीं घुसा कोई चीनी सैनिक? स्पष्ट करे सरकार लद्दाख सीमा विवाद पर बोले राजनाथ सिंह- अच्छी खासी संख्या में आ गए चीनी सैनिक सरकार की इस योजना में मिलेगा 10 हजार तक लोन, 50 लाख लोगों को फायदा - Coronavirus AajTak

लेकिन दक्षिण कोरिया में अमरीकी सेना के वरिष्ठ कमांडर ने उत्तर कोरिया के इस दावे को 'झूठ' और 'नामुमकिन' बताया है.हालांकि उत्तर कोरिया के एक विशेषज्ञ ने बीबीसी से कहा कि वहां संक्रमण के मामलों से इनकार नहीं किया जा सकता लेकिन बड़े स्तर पर संक्रमण फैलने की आशंका कम है.

जॉन्स हॉप्किन्स यूनिवर्सिटी के आँकड़ों के अनुसार मौजूदा वक़्त में दुनिया भर में कोरोना वायरस से संक्रमण के 10 लाख से ज़्यादा मामले हैं 53,069 मौतें हो चुकी हैं.उत्तर कोरिया में सेंट्रल एंटी-एपिडेमिक मुख्यालय के निदेशक पाक म्योंग-सू ने शुक्रवार को समाचार एजेंसी एएफ़पी से कहा,"उत्तर कोरिया में अब तक एक भी व्यक्ति कोरोना वायरस के संक्रमण की चपेट में नहीं है.

उन्होंने कहा,"हमने संक्रमण रोकने के लिए पहले से ही सक्रिय और वैज्ञानिक क़दम उठाए हैं. जैसे कि विदेशों से आए लोगों की तलाशी और उन्हें क्वारंटाइन में रखना. हमने सभी सामानों को पूरी तरह सैनिटाइज़ किया, अपनी सभी जल, थल और वायु सीमाओं को बंद किया."

इमेज कॉपीरइटGetty Imagesक्या उत्तर कोरिया का दावा सच हो सकता है?दक्षिण कोरिया में अमरीकी सेना के कमांडर जनरल रॉबर्ट अबराम्स ने उत्तर कोरिया के इन दावों को ग़लत बताया है.उन्होंने सीएनए और वॉइस ऑफ़ अमरीका को संयुक्त रूप से दिए इंटरव्यू में कहा,"हमें जो जानकारी मिली है उसके हिसाब से मैं आपको बता सकता हूं कि ये नामुमकिन दावा है."

हालांकि उन्होंने ये भी कहा कि वो पक्के तौर पर ये नहीं कह सकते कि उत्तर कोरिया में कुल कितने मामले हैं.अमरीकी वेबसाइट एनके न्यूज़ के मैनेजिंग एडिटर ऑलिव हॉटम ने का भी मानना है कि उत्तर कोरिया में संक्रमण के मामले हैं.उन्होंने कहा,"ऐसी उम्मीद बहुत कम है कि उत्तर कोरिया में संक्रमण के एक भी मामले न हों क्योंकि इसकी सीमाएं दक्षिण कोरिया और चीन से मिलती हैं. उत्तर कोरिया के चीन से जिस तरह के व्यापारिक रिश्ते हैं उससे बिल्कुल नहीं लगता कि कोरोना वायरस के संक्रमण का कोई मामला नहीं है.

हालांकि उन्होंने ये भी कहा कि उत्तर कोरिया में बड़े स्तर पर संक्रमण फैला हो, इसकी आशंका भी 'कम' है.प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहाभारत या पाकिस्तान, सीरिया या ग्रीस सब कोरोनावायरस की वजह से एक जैसी तकलीफ़ें झेल रहे हैं.उत्तर कोरिया ने संक्रमण संकट का सामना कैसे किया है?

कांग्रेस के बाद अब ममता की मांग- मजदूरों को 10 हजार रुपये की आर्थिक मदद दे केंद्र नवाजुद्दीन की भतीजी ने उनके भाई पर लगाया यौन उत्पीड़न का आरोप, एफआईआर में लिखा- उस वक्त मैं 9 साल की थी सरकार पुष्टि कर सकती है कि कोई चीनी सैनिक भारतीय सीमा में दाखिल नहीं हुआ: राहुल

इसमें कोई शक़ नहीं कि उत्तर कोरिया ने कोरोना वायरस संक्रमण के ख़िलाफ़ कई अन्य देशों के मुकाबले कहीं ज़्यादा फुर्ती से और प्रभावी क़दम उठाए हैं. इसने जनवरी के आख़िर में ही अपनी सीमाएं सील कर दी थीं और बाद में प्योंगयांग आने वाले सैकड़ों विदेशियों को क्वारंटाइन में रख दिया था. उस दौरान चीन में संक्रमण बहुत तेज़ी से बढ़ रहा था.

एनके न्यूज़ की रिपोर्ट के अनुसार उत्तर कोरिया ने अपने 10 हज़ार नागरिकों को आइसोलेशन में रखा था और 500 लोग अब भी क्वारंटाइन में हैं.प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहाCorona Virus से जुड़े वो सवाल-जवाब, जो आप शायद नहीं जानतेउत्तर कोरिया में लोगों को कोरोना वायरस के बारे में पता है?

ऑलिव हॉटम का मानना है कि उत्तर कोरिया में ज़्यादातर लोगों को कोरोना वायरस के बारे में 'काफ़ी कुछ' पता है.उन्होंने बीबीसी से कहा,"मीडिया कवरेज काफ़ी ज़्यादा है और हर दिन अख़बार के एक पूरे पन्ने में उन कोशिशों के बारे में बताया जा रहा है कि उत्तर कोरिया घरेलू और अंतराष्ट्रीय हालात से कैसे निबट रहा है."

सोल स्थित कूकमिन यूनिवर्सिटी के शोधकर्ता फ़्योडोर टेरटिटिस्की का कहना है कि उत्तर कोरिया में लोगों को ये भी 'सिखाया जा रहा है वायरस का संक्रमण कैसे रोका जाए'.उत्तर कोरिया में स्वास्थ्य सुविधाएं कैसी हैं?विशेषज्ञों का मानना है कि उत्तर कोरिया में अलग-अलग जगहों पर अलग-अलग स्तर की स्वास्थ्य सुविधाएं हैं.

फ़्योडोर टेरटिटिस्की का कहना है कि उत्तर कोरिया का स्वास्थ्य तंत्र 'उसके जितनी पर कैपिटा जीपीडी वाले कई अन्य देशों से कहीं बेहतर है.'उन्होंने कहा,"उत्तर कोरिया ने बड़ी संख्या में अपने डॉक्टरों को ट्रेनिंग दी है. हालांकि वहां डॉक्टर पश्चिमी देशों के मुकाबले कम योग्य हैं और उन्हें अपेक्षाकृत कम वेतन भी मिलता है लेकिन इसके बावजूद वो अपने नगारिकों की सेहत की बुनियादी देखरेख अच्छी तरह कर सकते हैं."

ऑलिव हॉटम भी बारे में टेरटिटिस्की से सहमत हैं लेकिन साथ ही वो ये भी कहते हैं कि उत्तर कोरिया के डॉक्टर बुनियादी बीमारियों का इलाज करने में पूरी तरह सक्षम हैं लेकिन कोरोना संक्रमण जैसी गंभीर समस्या से निबटने के लिए ज़्यादा बेहतर मेडिकल उपकरणों और बेहतर स्वास्थ्य सुविधा की ज़रूरत है.

सीमा विवाद: चीन नहीं आ रहा बाज, 6 जून को फिर होगी दोनों सेनाओं में बात संविधान से इंडिया शब्द हटाने की याचिका पर SC का दखल देने से इनकार लॉर्ड्स में दहाड़ रहे थे दादा, लक्ष्मण बोले- युवाओं को निखारने वाले महान कप्तान - Sports AajTak

उत्तर कोरिया पर लगी पाबंदियों की वजह से भी उसके लिए नए मेडिकल उपकरण ख़रीदना मुश्किल है.ऑलिव हॉटम ये भी कहते हैं कि शहरी इलाक़ो में तो बेहतर स्वास्थ्य सुविधाएं मौजूद हैं लेकिन ग्रामीण इलाकों में रहने वाले लोगों को ये सुविधाएं मिलना अपेक्षाकृत मुश्किल होता है.

उन्होंने कहा,"कुछ इलाक़ों के अस्पतालों में फ़ंडिंग की कमी है. वहां अस्पतालों में न तो ठीक से पानी की सप्लाई होती है और न ही बिजली की."प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहाकोरोना: क्या कहते हैं स्वास्थ्यकर्मी जो इस महामारी को सबसे क़रीब से देख रहे हैं?

उत्तर कोरिया संक्रमण के मामले क्यों छिपा रहा है?अगर उत्तर कोरिया ये स्वीकार कर ले कि उसके यहां संक्रमण मामले के हैं तो ये उसके लिए 'हार' का संकेत होगा.ऑलिव हैटम कहते हैं,"उत्तर कोरिया इस संक्रमण से कैसे जूझ रहा है, इस बारे में काफ़ी प्रोपेगैंडा है. अगर ये मान ले कि वहां संक्रमण के मामले हैं तो ये उसके लिए हार स्वीकार करने जैसा होगा. इससे उत्तर कोरियाई लोगों में घबराहट और डर पैदा होगा. अगर लोग बड़ी संख्या में पलायन करने लगें तो इससे अस्थिरता पैदा हो सकती है और संक्रमण भी बढ़ सकता है."

फ़्योडोर टेरटिटिस्की का मानना है कि संक्रमण के मामले छिपाकर उत्तर कोरिया अपनी इमेज बचाने की कोशिश कर रहा है. और पढो: BBC News Hindi »

निपटा दिया होगा सबको नो एफआईआर, नो केस फैसला ऑन द स्पॉट। जितने जेहादी संक्रमण फैलाना चाहते थे सबको सूट करवा दिया पहले दिन से ही अंधेरा कर के थाली बजा रहा होगा। Jisko Corona hua usko goli maar di. Contain ho gaya. लोग संक्रमित तो है आप को न्यूज़ नहीं दिया जा रहा है मेडिकल रिपोर्ट ओपन नहीं हो रहा है Wo hi india me jaroorat hai

Positive case ko shut kar diya Ye dabbang h 💪💪💪 Sometimes it is better to isolate from world he is like a hero in Northkorea for the world he is a Insane गोलियों से उड़ा दिया अच्छे नेता का लक्षण। वही कम इंग्लैंड में क्यों नहीं करा देते ? आपण थाळ्या-टाळ्या वाजवल्या व आत्ता दिवे लावणार त्यांनी तर बाँबच लावले असतील म्हणजे एकाच वेळेस प्रचंड आवाज आणि प्रचंड उजेड (प्रकाश) त्यामुळे कदाचीत एकाच वेळेस कोरोना बहिरा व आधंळा झाला असेल त्यामुळे त्याला अक्रमन करता नसेल आले.

नींबू मिर्ची लटका दिया होगा 🤣 Truth may different Bas kuch bullet kharch karne pade aur sab thik ho gaye NO FIR NO ARREST फैसला ON THE SPOT COVID19 क्या ये था वह राज ❓❓ संक्रमित व्यक्ति को गोली मार दो। संक्रमण अपने आप खत्म हो जाएगा। बस यही किम जोंग उन ने किया 9am : 20 cases 9:30 am : 0 cases with 0 cured , 0 active

चीन में वायरस फैलता देख तुरंत सीमायें बंद कर दी। बाक़ी तो वो सिर्फ़ ऐक्शन पे विश्वास रखता है।

कोरोना वायरस: तीन दिन के बच्चे और मां को हुआ संक्रमणबच्चे के पिता ने अस्पताल पर लगाया लापरवाही का आरोप, अस्पताल का इनकार. बहुत ही दुःखद मेरी ऊपर वाले से दुआ हैं कि माँ और बच्चे दोनों स्वथ्य हो जाये।। Sad Go corona please leave them 🙏🙏

कोरोना संकट: हरियाणा में वायरस संक्रमण के केस बढ़कर 39 हुएsatenderchauhan ५ऐप्रिल २०२० ला देशाच्या पंतप्रधानानी सांगितले आहे रात्री ९वाजता आपल्या घरात, बाल्कनीत, दरवाजात दीवे लावा व एकता दाखवा, पण तसे न होता थाळी वाजवताना जो प्रकार सर्व देशभर झाला तसा प्रकार पुन्हा झाला तर याला जबाबदार कोण?

2 अप्रैल कोरोना अपडेट: जानिए चंद मिनटों में कोरोना वायरस से जुड़ी हर खबरCoronaLockdown CoronaUpdate 2 अप्रैल कोरोना अपडेट: जानिए चंद मिनटों में कोरोना वायरस से जुड़ी हर खबर

ये हैं दुनिया के 14 देश जहां अभी तक नहीं पहुंचा कोरोना वायरसCoronavirus outbereak: who के मुताबिक अभी तक दुनिया के 205 देशों में कोरोना वायरस का संक्रमण फैल चुका है, वहीं 14 देश ऐसे हैं जहां अभी तक कोरोना संयुक्त राष्ट्र के - 193 वेटिकन और ताइवान -2 आश्रित देश देश -45 अनइनहैबीटेट -6 अंटार्कटिका-1 कुल मिलाकर -247 ही तो हुए आपने कहा 249 ऐसे कैसे 🤔🤔 कृपा कर बताएं।

Coronavirus Outbreak Live Updates: कोरोना वायरस लाइव अपडेट - कोरोना वायरस: तेजी से बढ़ने लगा देश में संक्रमण का ग्राफ, नए मामलों में 65 प्रतिशत अकेले तबलीगी जमात से जुड़ेतमिलनाडु में कोरोना मरीजों की संख्या बढ़कर 411 हुई। राज्य भर में संक्रमित और संभावित संक्रमित 1580 लोगों को अलग-अलग अस्पतालों में भर्ती कराया गया हैः सी. विजयभास्कर, स्वास्थ्य मंत्री coronavirusindia CoronaLockdown CoronavirusPandemic CautionYesPanicNo

नहीं रहे स्वर्ण मंदिर के पूर्व हजूरी रागी ज्ञानी निर्मल सिंह, कोरोना वायरस से थे संक्रमितनहीं रहे स्वर्ण मंदिर के पूर्व हजूरी रागी ज्ञानी निर्मल सिंह, कोरोना वायरस से थे संक्रमित Coronavirus GianiNirmalSingh भगवान उनको जल्दी से ठीक कर दे 🙏 So sad !COVIDー19 TabhleegiJamaat भगवान राम इनकी आत्मा को शान्ति प्रदान करे।

निसर्ग: मुंबई में 129 साल के बाद आएगा चक्रवाती तूफ़ान पीएम केयर्स फंड पर बॉम्बे हाईकोर्ट में दायर याचिका को केंद्र ने ख़ारिज करने का अनुरोध किया अनुष्का शर्मा ने शेयर की फोटो, पति विराट कोहली ने किया ये कमेंट दिल्ली BJP अध्यक्ष पद से मनोज तिवारी की छुट्टी, आदेश कुमार गुप्ता को मिली जिम्मेदारी कोरोना अपडेटः प्रधानमंत्री मोदी बोले, कोरोना महामारी विश्वयुद्ध के बाद आया सबसे बड़ा संकट है - BBC Hindi मनोज तिवारी की छुट्टी, आदेश गुप्ता बने दिल्ली बीजेपी के नए अध्यक्ष चीन को सबक सिखाने का मेगाप्लान? ट्रंप ने PM मोदी को दिया G-7 में शामिल होने का न्योता तीन में से एक छोटा उद्योग बंद होने की कगार पर: सर्वे 11 जून को भारत में पहला लैपटॉप MI Notebook लॉन्च करेगी Xiaomi BJP विधायक ने सोनू सूद से मांगी मदद तो अलका लांबा ने जमकर लताड़ा, कहा- देश में इन्हीं की सरकार फिर भी मदद, शर्म हो तो... सोनू सूद ने पहले बसों से और फिर 1000 प्रवासियों को ट्रेनों से घर भेजा, खुद रात 2 बजे ठाणे स्टेशन पर पहुंचे