कोरोना: 46 घंटे की ट्रेन यात्रा, सिर्फ दो बार खाना और तीन बार पानी

कोरोना वायरस: 46 घंटे की ट्रेन यात्रा, सिर्फ दो बार खाना और तीन बार पानी

29-05-2020 10:29:00

कोरोना वायरस: 46 घंटे की ट्रेन यात्रा, सिर्फ दो बार खाना और तीन बार पानी

बदरुद्दीन अंसारी चार दिन में मुंबई से वापस जसीडीह पहुंचे. जानिए उनकी यात्रा कैसी रही.

आपके सवालकोरोना वायरस क्या है?लीड्स के कैटलिन सेसबसे ज्यादा पूछे जाने वालेबीबीसी न्यूज़स्वास्थ्य टीमकोरोना वायरस एक संक्रामक बीमारी है जिसका पता दिसंबर 2019 में चीन में चला. इसका संक्षिप्त नाम कोविड-19 हैसैकड़ों तरह के कोरोना वायरस होते हैं. इनमें से ज्यादातर सुअरों, ऊंटों, चमगादड़ों और बिल्लियों समेत अन्य जानवरों में पाए जाते हैं. लेकिन कोविड-19 जैसे कम ही वायरस हैं जो मनुष्यों को प्रभावित करते हैं

WHO ने कहा- कोरोना अभी बद से बदतर होगा, वैक्सीन और इम्युनिटी से भी निराशा ईरान ने भारत को दिया झटका, चार साल पहले मोदी ने किया था करार नेपाल के पीएम ओली अयोध्या और राम पर अपने ही देश में घिरे

कुछ कोरोना वायरस मामूली से हल्की बीमारियां पैदा करते हैं. इनमें सामान्य जुकाम शामिल है. कोविड-19 उन वायरसों में शामिल है जिनकी वजह से निमोनिया जैसी ज्यादा गंभीर बीमारियां पैदा होती हैं.ज्यादातर संक्रमित लोगों में बुखार, हाथों-पैरों में दर्द और कफ़ जैसे हल्के लक्षण दिखाई देते हैं. ये लोग बिना किसी खास इलाज के ठीक हो जाते हैं.

लेकिन, कुछ उम्रदराज़ लोगों और पहले से ह्दय रोग, डायबिटीज़ या कैंसर जैसी बीमारियों से लड़ रहे लोगों में इससे गंभीर रूप से बीमार होने का ख़तरा रहता है.एक बार आप कोरोना से उबर गए तो क्या आपको फिर से यह नहीं हो सकता?बाइसेस्टर से डेनिस मिशेलसबसे ज्यादा पूछे गए सवाल

बाीबीसी न्यूज़स्वास्थ्य टीमजब लोग एक संक्रमण से उबर जाते हैं तो उनके शरीर में इस बात की समझ पैदा हो जाती है कि अगर उन्हें यह दोबारा हुआ तो इससे कैसे लड़ाई लड़नी है.यह इम्युनिटी हमेशा नहीं रहती है या पूरी तरह से प्रभावी नहीं होती है. बाद में इसमें कमी आ सकती है.

ऐसा माना जा रहा है कि अगर आप एक बार कोरोना वायरस से रिकवर हो चुके हैं तो आपकी इम्युनिटी बढ़ जाएगी. हालांकि, यह नहीं पता कि यह इम्युनिटी कब तक चलेगी.कोरोना वायरस का इनक्यूबेशन पीरियड क्या है?जिलियन गिब्समिशेल रॉबर्ट्सबीबीसी हेल्थ ऑनलाइन एडिटरवैज्ञानिकों का कहना है कि औसतन पांच दिनों में लक्षण दिखाई देने लगते हैं. लेकिन, कुछ लोगों में इससे पहले भी लक्षण दिख सकते हैं.

वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन (डब्ल्यूएचओ) का कहना है कि इसका इनक्यूबेशन पीरियड 14 दिन तक का हो सकता है. लेकिन कुछ शोधार्थियों का कहना है कि यह 24 दिन तक जा सकता है.इनक्यूबेशन पीरियड को जानना और समझना बेहद जरूरी है. इससे डॉक्टरों और स्वास्थ्य अधिकारियों को वायरस को फैलने से रोकने के लिए कारगर तरीके लाने में मदद मिलती है.

क्या कोरोना वायरस फ़्लू से ज्यादा संक्रमणकारी है?सिडनी से मेरी फिट्ज़पैट्रिकमिशेल रॉबर्ट्सबीबीसी हेल्थ ऑनलाइन एडिटरदोनों वायरस बेहद संक्रामक हैं.ऐसा माना जाता है कि कोरोना वायरस से पीड़ित एक शख्स औसतन दो या तीन और लोगों को संक्रमित करता है. जबकि फ़्लू वाला व्यक्ति एक और शख्स को इससे संक्रमित करता है.

चार समर्थक विधायकों को मंत्री बनाना चाहते थे सचिन पायलट, इन वजहों से की बगावत फैंस का प्यार देख अमिताभ हुए प्रभावित, लोगों के नाम शेयर की खास कविता कांग्रेस में राहुल गांधी के करीबी क्यों कर रहे किनारा, देखें Video

फ़्लू और कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए कुछ आसान कदम उठाए जा सकते हैं.बार-बार अपने हाथ साबुन और पानी से धोएंजब तक आपके हाथ साफ न हों अपने चेहरे को छूने से बचेंखांसते और छींकते समय टिश्यू का इस्तेमाल करें और उसे तुरंत सीधे डस्टबिन में डाल दें.आप कितने दिनों से बीमार हैं?

मेडस्टोन से नीताबीबीसी न्यूज़हेल्थ टीमहर पांच में से चार लोगों में कोविड-19 फ़्लू की तरह की एक मामूली बीमारी होती है.इसके लक्षणों में बुख़ार और सूखी खांसी शामिल है. आप कुछ दिनों से बीमार होते हैं, लेकिन लक्षण दिखने के हफ्ते भर में आप ठीक हो सकते हैं.अगर वायरस फ़ेफ़ड़ों में ठीक से बैठ गया तो यह सांस लेने में दिक्कत और निमोनिया पैदा कर सकता है. हर सात में से एक शख्स को अस्पताल में इलाज की जरूरत पड़ सकती है.

End of कोरोना वायरस के बारे में सब कुछमेरी स्वास्थ्य स्थितियांआपके सवालअस्थमा वाले मरीजों के लिए कोरोना वायरस कितना ख़तरनाक है?फ़ल्किर्क से लेस्ले-एनमिशेल रॉबर्ट्सबीबीसी हेल्थ ऑनलाइन एडिटरअस्थमा यूके की सलाह है कि आप अपना रोज़ाना का इनहेलर लेते रहें. इससे कोरोना वायरस समेत किसी भी रेस्पिरेटरी वायरस के चलते होने वाले अस्थमा अटैक से आपको बचने में मदद मिलेगी.

अगर आपको अपने अस्थमा के बढ़ने का डर है तो अपने साथ रिलीवर इनहेलर रखें. अगर आपका अस्थमा बिगड़ता है तो आपको कोरोना वायरस होने का ख़तरा है.क्या ऐसे विकलांग लोग जिन्हें दूसरी कोई बीमारी नहीं है, उन्हें कोरोना वायरस होने का डर है?स्टॉकपोर्ट से अबीगेल आयरलैंड

बीबीसी न्यूज़हेल्थ टीमह्दय और फ़ेफ़ड़ों की बीमारी या डायबिटीज जैसी पहले से मौजूद बीमारियों से जूझ रहे लोग और उम्रदराज़ लोगों में कोरोना वायरस ज्यादा गंभीर हो सकता है.ऐसे विकलांग लोग जो कि किसी दूसरी बीमारी से पीड़ित नहीं हैं और जिनको कोई रेस्पिरेटरी दिक्कत नहीं है, उनके कोरोना वायरस से कोई अतिरिक्त ख़तरा हो, इसके कोई प्रमाण नहीं मिले हैं.

जिन्हें निमोनिया रह चुका है क्या उनमें कोरोना वायरस के हल्के लक्षण दिखाई देते हैं?कनाडा के मोंट्रियल से मार्जेबीबीसी न्यूज़हेल्थ टीमकम संख्या में कोविड-19 निमोनिया बन सकता है. ऐसा उन लोगों के साथ ज्यादा होता है जिन्हें पहले से फ़ेफ़ड़ों की बीमारी हो.लेकिन, चूंकि यह एक नया वायरस है, किसी में भी इसकी इम्युनिटी नहीं है. चाहे उन्हें पहले निमोनिया हो या सार्स जैसा दूसरा कोरोना वायरस रह चुका हो.

अहमदाबाद में अब बिना मास्क बाहर निकले तो दोगुने से ज्यादा देना होगा जुर्माना सचिन पायलट की बगावत बरकरार, बैठक में नहीं होंगे शामिल कल खुलेगा येस बैंक का FPO, करीब आधे दाम पर शेयर खरीदने का मौका!

End of मेरी स्वास्थ्य स्थितियांअपने आप को और दूसरों को बचानाआपके सवालकोरोना वायरस से लड़ने के लिए सरकारें इतने कड़े कदम क्यों उठा रही हैं जबकि फ़्लू इससे कहीं ज्यादा घातक जान पड़ता है?हार्लो से लोरैन स्मिथजेम्स गैलेगरस्वास्थ्य संवाददाताशहरों को क्वारंटीन करना और लोगों को घरों पर ही रहने के लिए बोलना सख्त कदम लग सकते हैं, लेकिन अगर ऐसा नहीं किया जाएगा तो वायरस पूरी रफ्तार से फैल जाएगा.

फ़्लू की तरह इस नए वायरस की कोई वैक्सीन नहीं है. इस वजह से उम्रदराज़ लोगों और पहले से बीमारियों के शिकार लोगों के लिए यह ज्यादा बड़ा ख़तरा हो सकता है.क्या खुद को और दूसरों को वायरस से बचाने के लिए मुझे मास्क पहनना चाहिए?मैनचेस्टर से एन हार्डमैनबीबीसी न्यूज़

हेल्थ टीमपूरी दुनिया में सरकारें मास्क पहनने की सलाह में लगातार संशोधन कर रही हैं. लेकिन, डब्ल्यूएचओ ऐसे लोगों को मास्क पहनने की सलाह दे रहा है जिन्हें कोरोना वायरस के लक्षण (लगातार तेज तापमान, कफ़ या छींकें आना) दिख रहे हैं या जो कोविड-19 के कनफ़र्म या संदिग्ध लोगों की देखभाल कर रहे हैं.

मास्क से आप खुद को और दूसरों को संक्रमण से बचाते हैं, लेकिन ऐसा तभी होगा जब इन्हें सही तरीके से इस्तेमाल किया जाए और इन्हें अपने हाथ बार-बार धोने और घर के बाहर कम से कम निकलने जैसे अन्य उपायों के साथ इस्तेमाल किया जाए.फ़ेस मास्क पहनने की सलाह को लेकर अलग-अलग चिंताएं हैं. कुछ देश यह सुनिश्चित करना चाहते हैं कि उनके यहां स्वास्थकर्मियों के लिए इनकी कमी न पड़ जाए, जबकि दूसरे देशों की चिंता यह है कि मास्क पहने से लोगों में अपने सुरक्षित होने की झूठी तसल्ली न पैदा हो जाए. अगर आप मास्क पहन रहे हैं तो आपके अपने चेहरे को छूने के आसार भी बढ़ जाते हैं.

यह सुनिश्चित कीजिए कि आप अपने इलाके में अनिवार्य नियमों से वाकिफ़ हों. जैसे कि कुछ जगहों पर अगर आप घर से बाहर जाे रहे हैं तो आपको मास्क पहनना जरूरी है. भारत, अर्जेंटीना, चीन, इटली और मोरक्को जैसे देशों के कई हिस्सों में यह अनिवार्य है.अगर मैं ऐसे शख्स के साथ रह रहा हूं जो सेल्फ-आइसोलेशन में है तो मुझे क्या करना चाहिए?

लंदन से ग्राहम राइटबीबीसी न्यूज़हेल्थ टीमअगर आप किसी ऐसे शख्स के साथ रह रहे हैं जो कि सेल्फ-आइसोलेशन में है तो आपको उससे न्यूनतम संपर्क रखना चाहिए और अगर मुमकिन हो तो एक कमरे में साथ न रहें.सेल्फ-आइसोलेशन में रह रहे शख्स को एक हवादार कमरे में रहना चाहिए जिसमें एक खिड़की हो जिसे खोला जा सके. ऐसे शख्स को घर के दूसरे लोगों से दूर रहना चाहिए.

End of अपने आप को और दूसरों को बचानामैं और मेरा परिवारआपके सवालमैं पांच महीने की गर्भवती महिला हूं. अगर मैं संक्रमित हो जाती हूं तो मेरे बच्चे पर इसका क्या असर होगा?बीबीसी वेबसाइट के एक पाठक का सवालजेम्स गैलेगरस्वास्थ्य संवाददातागर्भवती महिलाओं पर कोविड-19 के असर को समझने के लिए वैज्ञानिक रिसर्च कर रहे हैं, लेकिन अभी बारे में बेहद सीमित जानकारी मौजूद है.

यह नहीं पता कि वायरस से संक्रमित कोई गर्भवती महिला प्रेग्नेंसी या डिलीवरी के दौरान इसे अपने भ्रूण या बच्चे को पास कर सकती है. लेकिन अभी तक यह वायरस एमनियोटिक फ्लूइड या ब्रेस्टमिल्क में नहीं पाया गया है.गर्भवती महिलाओंं के बारे में अभी ऐसा कोई सुबूत नहीं है कि वे आम लोगों के मुकाबले गंभीर रूप से बीमार होने के ज्यादा जोखिम में हैं. हालांकि, अपने शरीर और इम्यून सिस्टम में बदलाव होने के चलते गर्भवती महिलाएं कुछ रेस्पिरेटरी इंफेक्शंस से बुरी तरह से प्रभावित हो सकती हैं.

मैं अपने पांच महीने के बच्चे को ब्रेस्टफीड कराती हूं. अगर मैं कोरोना से संक्रमित हो जाती हूं तो मुझे क्या करना चाहिए?मीव मैकगोल्डरिकजेम्स गैलेगरस्वास्थ्य संवाददाताअपने ब्रेस्ट मिल्क के जरिए माएं अपने बच्चों को संक्रमण से बचाव मुहैया करा सकती हैं.अगर आपका शरीर संक्रमण से लड़ने के लिए एंटीबॉडीज़ पैदा कर रहा है तो इन्हें ब्रेस्टफीडिंग के दौरान पास किया जा सकता है.

ब्रेस्टफीड कराने वाली माओं को भी जोखिम से बचने के लिए दूसरों की तरह से ही सलाह का पालन करना चाहिए. अपने चेहरे को छींकते या खांसते वक्त ढक लें. इस्तेमाल किए गए टिश्यू को फेंक दें और हाथों को बार-बार धोएं. अपनी आंखों, नाक या चेहरे को बिना धोए हाथों से न छुएं.

बच्चों के लिए क्या जोखिम है?लंदन से लुइसबीबीसी न्यूज़हेल्थ टीमचीन और दूसरे देशों के आंकड़ों के मुताबिक, आमतौर पर बच्चे कोरोना वायरस से अपेक्षाकृत अप्रभावित दिखे हैं.ऐसा शायद इस वजह है क्योंकि वे संक्रमण से लड़ने की ताकत रखते हैं या उनमें कोई लक्षण नहीं दिखते हैं या उनमें सर्दी जैसे मामूली लक्षण दिखते हैं.

हालांकि, पहले से अस्थमा जैसी फ़ेफ़ड़ों की बीमारी से जूझ रहे बच्चों को ज्यादा सतर्क रहना चाहिए. और पढो: BBC News Hindi »

BBC ज़रा अमरीकियों की चर्खा में तेल डालें! वहां के दंगा पर नजर डालें । दुनिया में सबसे ज्यादा करोना महामारी से मृत्यु हुईं अमरीका में। Kuch khane ka saman gr se bi lekar jana cahiye जबकि स्वयं सेवकों द्वारा रोटी पानी बाटने के वीडियो वायरल किए जा रहे मेरा भारत 'परेशान'। बीबीसी वालों तुम लोगो की हालत ये हो गयी है कि अब तुम्हे रोटी और नौकरी भारत मे ही मिल सकती है। भारत को बदनाम करते हो और नौकरी के लिए भी भारत ही आते हो। बीबीसी वैसे भी अब ट्विटर तक ही सीमित हो गया है।

BBC वालों तुमने भारत का विरोध 2014 और 2019 में भी किया था । झूठी खबरें दिखाना और भारत को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बदनाम करना तुम्हारी फितरत है। ब्रिटैन की 200 सालों की लूट और बर्बरता अब दुबारा नही होगी। लूट के साथ साथ कितने लाखों लोगों का मारा । नही भुलाया जा सकता। 2 दिन में दो बार खाना यानी एक दिन में एक बार खाना और पानी का हिसाब भी ऐसा ही है गर्मी में पानी ज्यादा कर देते अगर खाने में बचत करनी है तो

लंबे सफर में आदमी 12 सोता है तो 46 में से 24 गई इसके बाद जाकर बचें 24 घंटे 12 12 घंटों में आपको दो बार फ्री खाना मिल था क्या ? 🙆‍♂️ इवेंट मैनेजमेंटऔर मीडिया मैनेंजमेंट वालें से 24 घंटे में तीन बार की उम्मीद कर रहें है RailMinIndia PiyushGoyal God ka sukrana karna chahiya desh ki janta ko ki two days ki jaruny may two times Roti milli hai. Sirf train may hi. Baki too har deah ki sarkar desh ki janta ki help kar rahy hai. Par humaray desh ki sarkar Janta say help mang rhi hai

Bina soche samjhe lockdown ka natiza hai. Lockdown se pahle desh ko time dena chahiye tha. मोदी है तो मुमकिन है। बस इतना कि आप ज़िंदा रहो ..घर पहुँच जाओ .. फिर आपकी आप जानो मुफ्तखोरी के चक्कर में काहिलपना है अन्यथा जनरली सफर करने वाले अपनी तैयारी से सफर करते हैं। Itni barbrta to koi janwaro se bhi Nahi karta jitni garib majbur majdur se ho rahi h, bechare rajniti Mai pise ja rahe h,ae kudha in majburo ki maddat farma inhe himmat ATA farma Jo inke dard ko na samaj sake unhe esa dard nasib farma tadpe ameen

इसके जिम्मेदार सिर्फ भारतीय मीडिया है दलाल मीडिया Ek bar or vote kro BJP ko gharibo Ka safaya na kr dia to khna 46 घंटे में सिर्फ दो बार खाना एक बार पानी यहाँ देखो देश के फकीर चाप रहे बिरयानी बहुत भयानक हाल है देश का PiyushGoyal iske baare mein kya bahana hai ? Shariqu78383725 कल इस खबर को गलत कह कर पल्ला झाङ लेंगे और अपनी व्यवस्था गिनाना शुरू कर देंगे।

Train mai free mai he sab kuch laina hai itnai paisai to rkhta he hai Shame🙏 मोदी सरकार रही तो देश के लोग सांस के लिए भी तड़पें‌ गें इस में कोई दो राय नहीं है। Modi is saving money for his Travelling, what is wrong? His traveling around the world are majestic! Waaa Modi ji waaaaa. But if you just spend 1 of your upcoming travelling cost to the people of India, the problem would be solved.

यहाँ चूक रेलवे प्रबन्धन की हैं क्योंकि उन्हें समुचित व्यवस्था कर गन्तव्य स्थल तक पहुंचाने की जिम्मेदारी थीं।हर जगह भ्रष्टाचार व्याप्त है।मजदूरों को दूसरे प्रदेश में भेज दिया जाता है फिर रेलवे मंत्री जी सफाई देते हैं कि लाइन डाईवर्ट कर भेजा गया।गलतियाँ कोई स्वीकारने को तैयार नहीं RAAT DIN SEWA KARO INKI

Pls vote again this time FOR BJP THEY WILL REMOVE ALL THESE PROBLEM FOREVER Indian railways totally flop. जय हिंद. हिन्दुस्तान में तत्काल राष्ट्रपति शासन लागू किया जाये. ,, जय हिंद ,, गलत है लेकिन मुसीबत उठाने के अलावा कोई रास्ता नही, जब हमारे डाक्टर इलाज करते करते पीपीटी किट में ठीक से सांस ना लेने ओर घबराहट के कारण कई बार बेहोश हो जाते है जब लाखो रुपये कमाने वाले कि ऐसी हालत है तो दिहाड़ी मजदूर का अंदाज़ा लगाना मुश्किल नही

or kya chahiye भारत का सनातन निष्ठुर हो गया है मै कई बार कही रेल ड्राईवर को देते ₹50000+ स्वतः सी चलती रेल जबकि और टेक्सी ड्राईवर को ₹5000 24घंटे सतर्क जब सड़क पर ड्राईवर मरता पोस्ट मार्टम बताता होगा 2 2दिन भूखा होता! ये आदत पड़ रही राज्य को सनातन ऐसै जीवन को ही जनमा! सो यह आम् RahulGandhi जवाब दो, ArvindKejriwal इस्तीफा दो। बंगाल में राष्ट्रपति शासन लगाओ, और महाराष्ट्र की सरकार को गिरा दो। कैसे किया उन्होंने ऐसा काम?

वह दिन कुछ और थे जब सरकार कर्तव्य नहीं निभाने पर पद से इस्तीफा देने थे,,,और आज मतलब ब्रेक फ़ास्ट लंच डिनर सब करवा दे ? आप बोलो तो ? bycottBBC रोज हजारों रेल चलती थी भारत में हर तरह का नागरिक करता था सफर विरले ही रेल में मरता था कोई! आज नाममात्र की संख्या में रेल और रोज मर रहे नागरिक ये गरीबी भुखमरी क्योंकि कुछ श्रेष्ठि हाथ में मुद्रा ! नागरिक शर्मा जी सा करोड़ पति होते- रोड़पति आज!

PiyushGoyal iss nikamme waahiyaat ko railmamtri bnaaya hi majdooro ko maarne ke liye he... murderer he yeh nikamma majdooro ka जब खुद वैसे जाते थे तो खाना कहा से मिलता था आत्मनिर्भर बनो सब सरकार थोड़ी करेगी। वैसे ही बहुत काम है सरकार के पास। फेकने की फुर्सत नही मिल रही। और बेचने को सब बेच देंगे। यही है मोदी का अच्छा दिन

Who told these home sick people to returm from their work place ? In Delhi Janaab Kejeriwal is feeding lakhs. Why want to return to their home land where their is jobs ? BBC and NDTV are just anti Modi mouthpieces. Paidal ate to mar jati nani Unse puchho jo paidal chale gaye और क्या लोगे, क्या 46 बार खाना चाहिए?

I thank BBC Hindi for the fact that she is the only one with a vision. Description of the photo. I thank them for this. Thank you BBC News Hindi. It's a sacrifice for our country's war against corona... Thank the migrant worker... YRSIN LAA BHAAR BADD JAAYEYGAA?BHAIO BEHNO One more visual of taliban rule now in India

💯 bjp sarkar me kya asa rakhte hai yahi bahut ho gya jada bolna mana nhi jel me dal diya jayega 20 lakh crore. Kala dham wapis.. 15 lakh account me.... Unginat yognai.... Pm care fund..... Yaah re Modiji..... Sirf andbhakto ki jalegi... Ask migrants to use their '15 lakh' for food don't blame Modi Government for this BJPFailsIndia

कोरोना वायरस: क्या इस बार मुसलमान मक्का जाकर हज कर पाएंगे?मध्य पूर्व के देशों में लॉकडाउन में धार्मिक स्थलों को बंद कर दिए जाने से यहां दुनिया भर के मुसलमानों का आना रुक गया है. Yahan logo ki jan par ban aayi hai aur aap Makka jane ki bat karte hai... मेरे पास कोरोना से बचने ओर पुरी तरह खत्म करने का प्लान हे अगर सही लगे तो लागु कर सकते हैं Seems unlikelyfor outsiders. From the locals may be some can perform Haj. Even if pandemic shows signs of let off but the virus eradication is not possible within2 months.

दिल्ली में कोरोना ने तोड़ा रिकॉर्ड, पहली बार 24 घंटे में 1000 से ज्यादा आए केसदिल्ली में पिछले 24 घंटे में 1024 नए केस सामने आए हैं, जो एक दिन में सबसे ज्यादा है. इसी के साथ राजधानी में कोरोना से संक्रमित लोगों की संख्या 16 हजार 281 हो गई है. PankajJainClick India rank is 4th in world with total active cases. PankajJainClick Kejru Delhi walo ki supari le rakhi hai.. PankajJainClick सिर्फ प्रेस कॉन्फ्रेंस से कुछ नहीं होगा । कॉरोना मुफ्त में नहीं जाएगा उसके लिए व्यवस्था ठीक करने होंगें । कजरीलाल

कोरोना के बीच वाराणसी से 'गुड न्यूज', पहली बार दुबई को निकला 'लंगड़ा-दशहरी'कोरोना वायरस (Coronavirus in India) के बढ़ते मामलों के बीच गुरुवार का दिन वाराणसी (Varanasi) के लिए बहुत खास रहा। जयापुर गांव को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Prime Minister Narendra Modi) ने गोद लिया हुआ है, यहां की जया सीड्स प्रड्यूसर कंपनी की ओर से राजा तालाब भिखारीपुर गांव स्थित बगीचे से वाराणसी का मशहूर लंगड़ा और दशहरी आम (Varanasi Famous Mango) पहली बार दुबई भेजा गया है। इन तस्वीरों को देख आपके मुंह में भी आम का स्वाद उतर आएगा। दुबई वाले भले ही सरकार को पेलते रहे... लेकिन हमारी मुहब्बत कम नही होगी दशहरी तो बदमाश मौका मिला दौड़ पड़ा और लंगड़ा कंधे पर बैठ लिया! बस किसान को श्रम का प्रतिफल देता रहे ईश्वर!👃 भारत में तो अभी उपलब्ध नहीं

दिल्ली में कोरोना का कहरः पहली बार 24 घंटे में सामने आए 792 संक्रमित, 15 मौतें, कुल संख्या 15 हजार के पारदिल्ली में कोरोना का कहरः पहली बार 24 घंटे में सामने आए 792 संक्रमित, 15 मौतें, कुल संख्या 15 हजार के पार Delhi Coronavirus ArvindKejriwal drharshvardhan MoHFW_INDIA LambaAlka ArvindKejriwal drharshvardhan MoHFW_INDIA ArvindKejriwal और तुम लॉकडाउन हटाने की बात करते हो। LambaAlka ArvindKejriwal drharshvardhan MoHFW_INDIA क्या हुआ मुख्यमंत्री साहब ArvindKejriwal जी। कही लोकडाउन 4.0 में(ईद के चलते) दी गयी ढील महँगी न पड़ जाए दिल्ली वाशी को। आज 24 घंटे में अबतक के सर्वाधिक केस जवाब_दो_केजरीवाल ? LambaAlka INCDelhi duttabhishek Ch_AnilKumarINC alimehdi_inc ShivaniChopra_ RajeshLilothia ArvindKejriwal drharshvardhan MoHFW_INDIA But update mein in app cases only 412

अंतरिक्ष की यात्रा अब सरकारों के कब्जे से बाहर | DW | 27.05.2020लंबे समय के बाद अमेरिकी अंतरिक्षयात्री एक बार फिर अंतरिक्ष की यात्रा पर जा रहे हैं. इसके साथ ही एक निजी कंपनी के अंतरिक्ष में लोगों को ले जाने की घड़ी भी आ गई है. SpaceLaunchLIVE SpaceX

भारत और अमेरिका में हवाई यात्रा करने पर क्या-क्या है गाइडलाइंस?भारत में सरकार ने राज्य सरकारों को यात्रा के बाद क्वारंटीन के नियम बनाने को कहा है जबकि अमेरिका में ऐसा प्रावधान नहीं

कांग्रेस के सचिन अब क्या बीजेपी के लिए 'बल्लेबाज़ी' करेंगे? राहुल गांधी का हमला, कहा- PM मोदी के रहते भारत की जमीन को चीन ने कैसे छीन लिया सचिन पायलट BJP के संपर्क में, 30 MLA भी छोड़ सकते हैं कांग्रेस का दामन नेपाल के प्रधानमंत्री ओली का बेतुका बयान, बोले- भारत ने बनाई नकली अयोध्या कोरोना वायरस: रूस का दावा, उसने कोरोना की वैक्सीन का सफल परीक्षण किया - BBC Hindi योगी सरकार की 'ठोंको नीति' से इंसाफ़ मिलेगा या अपराध बढ़ेगा? कोरोना वायरस: 12 से 26 जुलाई के बीच भारत के पाँच शहरों से UAE की विशेष उड़ानें - BBC Hindi कोरोना वायरस: महामारी रोकने के लिए दक्षिण अफ्रीका ने लगाई शराब पर पाबंदी - BBC Hindi कोरोना वायरस: अमरीका में एक दिन में 66,281 नए मामले, अकेले फ्लोरिडा में 15,300 पॉज़िटिव - BBC Hindi LIVE: खतरे में गहलोत सरकार, पायलट खेमे के विधायक आज देर रात दे सकते हैं इस्तीफा सचिन पायलट बोले- 25 MLA मेरे साथ बैठे हैं, 102 का गलत दावा कर रहे हैं अशोक गहलोत