Coronaviruspandemic, Amphancyclon, Tragedy, Locust Plague, New Dlehi, Jaipur

Coronaviruspandemic, Amphancyclon

कोरोना और अम्फान के बीच देश पर एक और आफत, पाकिस्तान से आया संकट

कोरोना और अम्फान के बीच देश पर एक और आफत #CoronavirusPandemic #AmphanCyclon #tragedy

23-05-2020 04:44:00

कोरोना और अम्फान के बीच देश पर एक और आफत CoronavirusPandemic AmphanCyclon tragedy

साल के छह महीने भी नहीं गुजरे हैं कि कोरोना और तूफान अम्फान के बाद अब एक और बड़ा संकट देश के सामने है। राजस्थान में घुसीं

आंधियों के दौर वाले इस महीने में टिड्डियां जहां की तरफ हवा चली, वहीं एक-एक दिन में 200-200 किलोमीटर तक तेजी से आगे बढ़ती चली गईं। पर्यावरण मंत्रालय के अनुसार फसलों और सब्जियों को इनसे गंभीर खतरा है। मंत्रालय ने सभी राज्यों को अलर्ट भी जारी किया है। इनकी वजह से सिर्फ राजस्थान में बीते वर्ष 1000 करोड़ का नुकसान हुआ था। विशेषज्ञों के अनुसार इस बार इनका झुंड और बड़ा रहने की आशंका है। ऐसे में पहले से ही संकट झेल रहे किसानों को बड़ा नुकसान हो सकता है।

खबरदार: नेपाल-भारत के बीच विवाद में चीन की भूमिका का विश्लेषण MP: पुजारियों की रोजी-रोटी पर संकट, कांग्रेस बोली- एक जून से खुलें मंदिर लॉकडाउन हटाना कब होगा फायदेमंद, जानें क्या कहती है AIIMS के डॉक्टरों की स्टडी

टिड्डी दल राजस्थान में जैसलमेर, बाड़मेर, श्रीगंगानगर, जोधपुर से दाखिल होकर अब दौसा, सवाईमाधोपुर, करौली और धौलपुर तक पहुंच गए हैं। दो दिन पूर्व टिड्डियों का अत्यधिक बड़ा दल शिवाड़ क्षेत्र में दो दलों में बंट गया। एक दल इंद्रगढ़ लाखेरी की ओर से, तो दूसरा दल बनास नदी की ओर से मध्यप्रदेश और उत्तर प्रदेश की ओर बड़ता गया। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने चेतावनी दी है कि यदि ये कीट एक बार इलाके में घुस गए तो इनका प्रकोप कम से कम तीन साल तक रहेगा। इनके अंडों से करोड़ों की तादाद में टिड्डियां बढ़ेंगी।

पर्यावारण मंत्रालय ने पंजाब और हरियाणा को भी जारी किया अलर्टआंधी के साथ एक दिन में 200 किलोमीटर तक आगे बढ़ीं टिड्डियांसिर्फ राजस्थान में बीते वर्ष किया था 1000 करोड़ का नुकसानआगरा में भी अलर्टआगरार में किसानों को सतर्क रहने को कहा गया है। हालांकि यह भी कहा गया है कि तुरंत कोई चिंता की बात नहीं है। इससे पहले सहारनपुर, मुजफ्फरनगर, शामली, मेरठ, बगापत, हापुड़, मथुरा, गाजियाबाद, और अलीगढ़ में भी अलर्ट जारी किया गया था।

राजस्थान में घुसने के बाद टिड्डियां लगातार हवा के साथ बह रही हैं, इन पर नियंत्रण तभी हो सकता है, जब ये जमीन पर बैठें। रात को इन पर कीटनाशक छिड़का जा रहा है, लेकिन पीछे से फिर उतनी ही संख्या में टिड्डी आ रही हैं। अफ्रीका, ईरान, भूमध्य सागर के देशों में बड़ी संख्या में टिड्डियों के प्रजनन के समाचार भी आ रहे हैं।

इस साल जल्दी प्रवेशपाकिस्तान से टिड्डियों की दल राजस्थान, पंजाब, हरियाणा और मध्यप्रदेश में प्रवेश कर चुका है। इससे कपास की फसल और सब्जियों को भारी नुकसान का अंदेशा है। राजस्थान सबसे ज्यादा प्रभावित राज्य है। इस साल टिड्डियों का दल जल्दी आया है। आम तौर पर ये जून-जुलाई में आती हैं। सभी राज्य इन पर नियंत्रण के लिए अलग-अलग प्रयास कर रहे हैं।

-प्रवक्ता, पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालयसारपाकिस्तान से आए इस संकट ने दी यूपी और एमपी की सीमा पर दस्तक दी है। राह में आने वाली फसलें चट करते हुए टिड्डियों का दल दिल्ली की ओर बढ़ रहा है।विस्तार टिड्डियां अब देश के दूसरे हिस्सों की ओर बढ़ रही हैं। इस पाकिस्तानी हमले का निशाना अब यूपी, पंजाब, हरियाणा और मध्यप्रदेश हैं। आमतौर पर जून-जुलाई में आने वालीं ये टिड्डियां अपनी राह में आने वाली सारी फसलें चट करते हुए दिल्ली की ओर बढ़ रही हैं।

विज्ञापनआंधियों के दौर वाले इस महीने में टिड्डियां जहां की तरफ हवा चली, वहीं एक-एक दिन में 200-200 किलोमीटर तक तेजी से आगे बढ़ती चली गईं। पर्यावरण मंत्रालय के अनुसार फसलों और सब्जियों को इनसे गंभीर खतरा है। मंत्रालय ने सभी राज्यों को अलर्ट भी जारी किया है। इनकी वजह से सिर्फ राजस्थान में बीते वर्ष 1000 करोड़ का नुकसान हुआ था। विशेषज्ञों के अनुसार इस बार इनका झुंड और बड़ा रहने की आशंका है। ऐसे में पहले से ही संकट झेल रहे किसानों को बड़ा नुकसान हो सकता है।

क्या भारत से दोस्ती नेपाल को रास नहीं आ रही! देखें ये रिपोर्ट कोरोना: इस देश में बनने लगे सोशल डिस्टेंसिंग बनाए रखने वाले जूते - trending clicks AajTak अमेरिका में अश्वेत शख्स की मौत के बाद बढ़ा तनाव, ट्विटर ने ब्लैक की कवर फोटो

टिड्डी दल राजस्थान में जैसलमेर, बाड़मेर, श्रीगंगानगर, जोधपुर से दाखिल होकर अब दौसा, सवाईमाधोपुर, करौली और धौलपुर तक पहुंच गए हैं। दो दिन पूर्व टिड्डियों का अत्यधिक बड़ा दल शिवाड़ क्षेत्र में दो दलों में बंट गया। एक दल इंद्रगढ़ लाखेरी की ओर से, तो दूसरा दल बनास नदी की ओर से मध्यप्रदेश और उत्तर प्रदेश की ओर बड़ता गया। विश्व स्वास्थ्य संगठन ने चेतावनी दी है कि यदि ये कीट एक बार इलाके में घुस गए तो इनका प्रकोप कम से कम तीन साल तक रहेगा। इनके अंडों से करोड़ों की तादाद में टिड्डियां बढ़ेंगी।

पर्यावारण मंत्रालय ने पंजाब और हरियाणा को भी जारी किया अलर्टआंधी के साथ एक दिन में 200 किलोमीटर तक आगे बढ़ीं टिड्डियांसिर्फ राजस्थान में बीते वर्ष किया था 1000 करोड़ का नुकसानआगरा में भी अलर्टआगरार में किसानों को सतर्क रहने को कहा गया है। हालांकि यह भी कहा गया है कि तुरंत कोई चिंता की बात नहीं है। इससे पहले सहारनपुर, मुजफ्फरनगर, शामली, मेरठ, बगापत, हापुड़, मथुरा, गाजियाबाद, और अलीगढ़ में भी अलर्ट जारी किया गया था।

नियंत्रण मुश्किलराजस्थान में घुसने के बाद टिड्डियां लगातार हवा के साथ बह रही हैं, इन पर नियंत्रण तभी हो सकता है, जब ये जमीन पर बैठें। रात को इन पर कीटनाशक छिड़का जा रहा है, लेकिन पीछे से फिर उतनी ही संख्या में टिड्डी आ रही हैं। अफ्रीका, ईरान, भूमध्य सागर के देशों में बड़ी संख्या में टिड्डियों के प्रजनन के समाचार भी आ रहे हैं।

इस साल जल्दी प्रवेशपाकिस्तान से टिड्डियों की दल राजस्थान, पंजाब, हरियाणा और मध्यप्रदेश में प्रवेश कर चुका है। इससे कपास की फसल और सब्जियों को भारी नुकसान का अंदेशा है। राजस्थान सबसे ज्यादा प्रभावित राज्य है। इस साल टिड्डियों का दल जल्दी आया है। आम तौर पर ये जून-जुलाई में आती हैं। सभी राज्य इन पर नियंत्रण के लिए अलग-अलग प्रयास कर रहे हैं।

-प्रवक्ता, पर्यावरण, वन और जलवायु परिवर्तन मंत्रालय और पढो: Amar Ujala »

Bhai abhi to wha congress ki sarkar hai संकट तो 2014 से ही आया हुआ है 😂😂

कोरोना संकट के बीच डॉक्टरों और नर्सों के संगठन ने केंद्र सरकार के खिलाफ खोला मोर्चाकेन्द्र सरकार ने अपने एक आदेश में मेडिकल कर्मचारियों के लिए क्वारंटीन रहने की अनिवार्यता खत्म कर दी है। जिसके खिलाफ डॉक्टरों और नर्सों के संगठन ने अपना विरोध दर्ज कराया है।

लोकसभा सचिवालय में दो और कोरोना पॉजिटिव मिले, सामने आ सकते हैं और मामलेलोकसभा सचिवालय में दो और कोरोना पॉजिटिव मिले, सामने आ सकते हैं और मामले CoronaUpdate Lockdown4 coronavirus CoronaHotSpots CoronaVirusUpdate coronaupdatesindia PMOIndia MoHFW_INDIA DrHVoffice PMOIndia MoHFW_INDIA DrHVoffice असफल लोक डाउन

कहीं उड़ी छत-कहीं उखड़े पेड़, देखें बंगाल-ओडिशा में अम्फान के कहर के वीडियोपश्चिम बंगाल और ओडिशा में गुरुवार को साइक्लोन अम्फान ने तबाही मचा दी. इस दौरान कई जगह पेड़ उखड़ गए, गाड़ियों को नुकसान हुआ तो मकान ही तबाह हो गए. Mamta next statement to PM would be.. Paisa do package do 😢😢😢😢

कोरोना के चलते इन देशों की अर्थव्यवस्था डूबने के कगार परसेंट्रल अमरीकी देशों की अर्थव्यवस्था पर कोरोना वायरस की वजह से लगे लॉकडाउन का बहुत बुरा असर हुआ है. Venuazla banega phla shikar तुम्हारे देश की भी घंटा बढिय़ा नहीं है, मगर तुम्हें भारत पर अपना ऐजेंडा चलाने से फुर्सत मिले तो देख पाओ। chinaa se koronaa nikalaa to sabhi desho ki gupachar yantranaye soi thi kyaa ? e sabse bada sawal hi

कोरोना वायरस के टीके के मामले में आगे रहना चाहता है भारत | DW | 20.05.2020ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी की एक संभावित वैक्सीन का भारतीय कंपनी सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया बड़े स्तर पर निर्माण शुरु कर चुकी है. आखिर कितनी जल्दी कोविड-19 का टीका तैयार होने की उम्मीद है. CoronavirusPandemic coronavaccines COVID19 great👍

corona patient in india: देश के कई राज्यों में बढ़े कोरोना के मामलेIndia News: covid-19 latest news: देश में कोरोना मरीजों की संख्या में तेजी रुक नहीं रही है। कई राज्यों में प्रवासियों के लौटने से वहां कोरोना पीड़ितों की संख्या बढ़ती जा रही है। महाराष्ट्र ने कोरोना के संक्रमण को फैलने से रोकने के लिए कड़े कदम उठाए हैं।

e-Agenda Aaj Tak 2020: 1 Year Of Modi Government 2.0, Schedule and List Of Speakers ट्विटर पर ट्रेंड #BoycottChineseProducts, अरशद वारसी-मिलिंद सोमन ने किया सपोर्ट e-एजेंडा: 7500 रुपये का कांग्रेसी नारा जनता चुनाव में नकार चुकी है-शाह नरेंद्र मोदी की चिट्ठी- मुझमें कमी हो सकती है, पर देश पर भरोसा शिवसेना नेता राउत की सलाह, CAA को कुछ दिन के लिए ठंडे बस्ते में डालें आठ जून से लागू होगा अनलॉक का पहला चरण, एक जून से ई-पास की अनिवार्यता समाप्त अनलॉक 1 से लेकर आत्मनिर्भर भारत तक पर बोले अमि‍त शाह, देखें पूरा इंटरव्यू कर्मचारियों की सैलरी के पैसे नहीं, दिल्ली सरकार ने केंद्र से मांगे 5 हजार करोड़ रुपये संजय राउत ने देश में कोरोना फैलने ने लिए 'नमस्ते ट्रंप' कार्यक्रम को ठहराया जिम्मेदार, कहा... मोदी सरकार 2.0 के मैन ऑफ़ द मैच हैं अमित शाह? e-एजेंडा: लॉकडाउन पर राहुल गांधी की बात पीएम मोदी को सुननी चाहिए: संजय राउत