कोरोना वायरस: बेघरों को 'वाहे गुरु जी की रोटियों' का सहारा

कोरोना वायरस: बेघरों को 'वाहे गुरु जी की रोटियों' का सहारा

15-07-2020 17:12:00

कोरोना वायरस: बेघरों को 'वाहे गुरु जी की रोटियों' का सहारा

लॉकडाउन के दौरान रैन बसेरों में मिलने वाले पके हुए भोजन की व्यवस्था को तत्काल प्रभाव से बंद करने से बेघर लोगों के सामने मुसीबत खड़ी हो गई है.

आपके सवालकोरोना वायरस क्या है?लीड्स के कैटलिन सेसबसे ज्यादा पूछे जाने वालेबीबीसी न्यूज़स्वास्थ्य टीमकोरोना वायरस एक संक्रामक बीमारी है जिसका पता दिसंबर 2019 में चीन में चला. इसका संक्षिप्त नाम कोविड-19 हैसैकड़ों तरह के कोरोना वायरस होते हैं. इनमें से ज्यादातर सुअरों, ऊंटों, चमगादड़ों और बिल्लियों समेत अन्य जानवरों में पाए जाते हैं. लेकिन कोविड-19 जैसे कम ही वायरस हैं जो मनुष्यों को प्रभावित करते हैं

बेरूत धमाके के बाद लेबनान के प्रधानमंत्री दे रहे हैं इस्तीफ़ा? सचिन पायलट की श‍िकायतें दूर करने के लिए कांग्रेस की 3 सदस्यीय कमेटी में प्रियंका गांधी, अहमद पटेल और केसी वेणुगोपाल सचिन पायलट ने कहा, 'मुद्दे वैचारिक थे और उन्हें उठाना जरूरी था'

कुछ कोरोना वायरस मामूली से हल्की बीमारियां पैदा करते हैं. इनमें सामान्य जुकाम शामिल है. कोविड-19 उन वायरसों में शामिल है जिनकी वजह से निमोनिया जैसी ज्यादा गंभीर बीमारियां पैदा होती हैं.ज्यादातर संक्रमित लोगों में बुखार, हाथों-पैरों में दर्द और कफ़ जैसे हल्के लक्षण दिखाई देते हैं. ये लोग बिना किसी खास इलाज के ठीक हो जाते हैं.

लेकिन, कुछ उम्रदराज़ लोगों और पहले से ह्दय रोग, डायबिटीज़ या कैंसर जैसी बीमारियों से लड़ रहे लोगों में इससे गंभीर रूप से बीमार होने का ख़तरा रहता है.एक बार आप कोरोना से उबर गए तो क्या आपको फिर से यह नहीं हो सकता?बाइसेस्टर से डेनिस मिशेलसबसे ज्यादा पूछे गए सवाल

बाीबीसी न्यूज़स्वास्थ्य टीमजब लोग एक संक्रमण से उबर जाते हैं तो उनके शरीर में इस बात की समझ पैदा हो जाती है कि अगर उन्हें यह दोबारा हुआ तो इससे कैसे लड़ाई लड़नी है.यह इम्युनिटी हमेशा नहीं रहती है या पूरी तरह से प्रभावी नहीं होती है. बाद में इसमें कमी आ सकती है.

ऐसा माना जा रहा है कि अगर आप एक बार कोरोना वायरस से रिकवर हो चुके हैं तो आपकी इम्युनिटी बढ़ जाएगी. हालांकि, यह नहीं पता कि यह इम्युनिटी कब तक चलेगी.कोरोना वायरस का इनक्यूबेशन पीरियड क्या है?जिलियन गिब्समिशेल रॉबर्ट्सबीबीसी हेल्थ ऑनलाइन एडिटरवैज्ञानिकों का कहना है कि औसतन पांच दिनों में लक्षण दिखाई देने लगते हैं. लेकिन, कुछ लोगों में इससे पहले भी लक्षण दिख सकते हैं.

वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गनाइजेशन (डब्ल्यूएचओ) का कहना है कि इसका इनक्यूबेशन पीरियड 14 दिन तक का हो सकता है. लेकिन कुछ शोधार्थियों का कहना है कि यह 24 दिन तक जा सकता है.इनक्यूबेशन पीरियड को जानना और समझना बेहद जरूरी है. इससे डॉक्टरों और स्वास्थ्य अधिकारियों को वायरस को फैलने से रोकने के लिए कारगर तरीके लाने में मदद मिलती है.

क्या कोरोना वायरस फ़्लू से ज्यादा संक्रमणकारी है?सिडनी से मेरी फिट्ज़पैट्रिकमिशेल रॉबर्ट्सबीबीसी हेल्थ ऑनलाइन एडिटरदोनों वायरस बेहद संक्रामक हैं.ऐसा माना जाता है कि कोरोना वायरस से पीड़ित एक शख्स औसतन दो या तीन और लोगों को संक्रमित करता है. जबकि फ़्लू वाला व्यक्ति एक और शख्स को इससे संक्रमित करता है.

अयोध्या में अस्पताल बने, मस्जिद के लिए मेरे पिता दे देंगे जमीन: सुमैया राना दिल्ली: वेंटिलेटर सपोर्ट पर पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी, कुछ ही देर पहले हुई सफल ब्रेन सर्जरी गहलोत विवाद पर पहली बार बोले पायलट- पद का लालच नहीं, मान-सम्मान की लड़ाई

फ़्लू और कोरोना वायरस को फैलने से रोकने के लिए कुछ आसान कदम उठाए जा सकते हैं.बार-बार अपने हाथ साबुन और पानी से धोएंजब तक आपके हाथ साफ न हों अपने चेहरे को छूने से बचेंखांसते और छींकते समय टिश्यू का इस्तेमाल करें और उसे तुरंत सीधे डस्टबिन में डाल दें.आप कितने दिनों से बीमार हैं?

मेडस्टोन से नीताबीबीसी न्यूज़हेल्थ टीमहर पांच में से चार लोगों में कोविड-19 फ़्लू की तरह की एक मामूली बीमारी होती है.इसके लक्षणों में बुख़ार और सूखी खांसी शामिल है. आप कुछ दिनों से बीमार होते हैं, लेकिन लक्षण दिखने के हफ्ते भर में आप ठीक हो सकते हैं.अगर वायरस फ़ेफ़ड़ों में ठीक से बैठ गया तो यह सांस लेने में दिक्कत और निमोनिया पैदा कर सकता है. हर सात में से एक शख्स को अस्पताल में इलाज की जरूरत पड़ सकती है.

End of कोरोना वायरस के बारे में सब कुछमेरी स्वास्थ्य स्थितियांआपके सवालअस्थमा वाले मरीजों के लिए कोरोना वायरस कितना ख़तरनाक है?फ़ल्किर्क से लेस्ले-एनमिशेल रॉबर्ट्सबीबीसी हेल्थ ऑनलाइन एडिटरअस्थमा यूके की सलाह है कि आप अपना रोज़ाना का इनहेलर लेते रहें. इससे कोरोना वायरस समेत किसी भी रेस्पिरेटरी वायरस के चलते होने वाले अस्थमा अटैक से आपको बचने में मदद मिलेगी.

अगर आपको अपने अस्थमा के बढ़ने का डर है तो अपने साथ रिलीवर इनहेलर रखें. अगर आपका अस्थमा बिगड़ता है तो आपको कोरोना वायरस होने का ख़तरा है.क्या ऐसे विकलांग लोग जिन्हें दूसरी कोई बीमारी नहीं है, उन्हें कोरोना वायरस होने का डर है?स्टॉकपोर्ट से अबीगेल आयरलैंड

बीबीसी न्यूज़हेल्थ टीमह्दय और फ़ेफ़ड़ों की बीमारी या डायबिटीज जैसी पहले से मौजूद बीमारियों से जूझ रहे लोग और उम्रदराज़ लोगों में कोरोना वायरस ज्यादा गंभीर हो सकता है.ऐसे विकलांग लोग जो कि किसी दूसरी बीमारी से पीड़ित नहीं हैं और जिनको कोई रेस्पिरेटरी दिक्कत नहीं है, उनके कोरोना वायरस से कोई अतिरिक्त ख़तरा हो, इसके कोई प्रमाण नहीं मिले हैं.

जिन्हें निमोनिया रह चुका है क्या उनमें कोरोना वायरस के हल्के लक्षण दिखाई देते हैं?कनाडा के मोंट्रियल से मार्जेबीबीसी न्यूज़हेल्थ टीमकम संख्या में कोविड-19 निमोनिया बन सकता है. ऐसा उन लोगों के साथ ज्यादा होता है जिन्हें पहले से फ़ेफ़ड़ों की बीमारी हो.लेकिन, चूंकि यह एक नया वायरस है, किसी में भी इसकी इम्युनिटी नहीं है. चाहे उन्हें पहले निमोनिया हो या सार्स जैसा दूसरा कोरोना वायरस रह चुका हो.

सुशांत केस में हरकत में आई सीबीआई, ईडी की जांच ने भी पकड़ी रफ्तार चीनी सामान कम ख़रीदने लगा भारत, पर चीन को भारतीय सामानों की बिक्री बढ़ी, ऐसा कैसे? अच्छा मुसलमान राम मंद‍िर की बधाई नहीं दे सकता? देखें दंगल में जोरदार बहस

End of मेरी स्वास्थ्य स्थितियांअपने आप को और दूसरों को बचानाआपके सवालकोरोना वायरस से लड़ने के लिए सरकारें इतने कड़े कदम क्यों उठा रही हैं जबकि फ़्लू इससे कहीं ज्यादा घातक जान पड़ता है?हार्लो से लोरैन स्मिथजेम्स गैलेगरस्वास्थ्य संवाददाताशहरों को क्वारंटीन करना और लोगों को घरों पर ही रहने के लिए बोलना सख्त कदम लग सकते हैं, लेकिन अगर ऐसा नहीं किया जाएगा तो वायरस पूरी रफ्तार से फैल जाएगा.

फ़्लू की तरह इस नए वायरस की कोई वैक्सीन नहीं है. इस वजह से उम्रदराज़ लोगों और पहले से बीमारियों के शिकार लोगों के लिए यह ज्यादा बड़ा ख़तरा हो सकता है.क्या खुद को और दूसरों को वायरस से बचाने के लिए मुझे मास्क पहनना चाहिए?मैनचेस्टर से एन हार्डमैनबीबीसी न्यूज़

हेल्थ टीमपूरी दुनिया में सरकारें मास्क पहनने की सलाह में लगातार संशोधन कर रही हैं. लेकिन, डब्ल्यूएचओ ऐसे लोगों को मास्क पहनने की सलाह दे रहा है जिन्हें कोरोना वायरस के लक्षण (लगातार तेज तापमान, कफ़ या छींकें आना) दिख रहे हैं या जो कोविड-19 के कनफ़र्म या संदिग्ध लोगों की देखभाल कर रहे हैं.

मास्क से आप खुद को और दूसरों को संक्रमण से बचाते हैं, लेकिन ऐसा तभी होगा जब इन्हें सही तरीके से इस्तेमाल किया जाए और इन्हें अपने हाथ बार-बार धोने और घर के बाहर कम से कम निकलने जैसे अन्य उपायों के साथ इस्तेमाल किया जाए.फ़ेस मास्क पहनने की सलाह को लेकर अलग-अलग चिंताएं हैं. कुछ देश यह सुनिश्चित करना चाहते हैं कि उनके यहां स्वास्थकर्मियों के लिए इनकी कमी न पड़ जाए, जबकि दूसरे देशों की चिंता यह है कि मास्क पहने से लोगों में अपने सुरक्षित होने की झूठी तसल्ली न पैदा हो जाए. अगर आप मास्क पहन रहे हैं तो आपके अपने चेहरे को छूने के आसार भी बढ़ जाते हैं.

यह सुनिश्चित कीजिए कि आप अपने इलाके में अनिवार्य नियमों से वाकिफ़ हों. जैसे कि कुछ जगहों पर अगर आप घर से बाहर जाे रहे हैं तो आपको मास्क पहनना जरूरी है. भारत, अर्जेंटीना, चीन, इटली और मोरक्को जैसे देशों के कई हिस्सों में यह अनिवार्य है.अगर मैं ऐसे शख्स के साथ रह रहा हूं जो सेल्फ-आइसोलेशन में है तो मुझे क्या करना चाहिए?

लंदन से ग्राहम राइटबीबीसी न्यूज़हेल्थ टीमअगर आप किसी ऐसे शख्स के साथ रह रहे हैं जो कि सेल्फ-आइसोलेशन में है तो आपको उससे न्यूनतम संपर्क रखना चाहिए और अगर मुमकिन हो तो एक कमरे में साथ न रहें.सेल्फ-आइसोलेशन में रह रहे शख्स को एक हवादार कमरे में रहना चाहिए जिसमें एक खिड़की हो जिसे खोला जा सके. ऐसे शख्स को घर के दूसरे लोगों से दूर रहना चाहिए.

End of अपने आप को और दूसरों को बचानामैं और मेरा परिवारआपके सवालमैं पांच महीने की गर्भवती महिला हूं. अगर मैं संक्रमित हो जाती हूं तो मेरे बच्चे पर इसका क्या असर होगा?बीबीसी वेबसाइट के एक पाठक का सवालजेम्स गैलेगरस्वास्थ्य संवाददातागर्भवती महिलाओं पर कोविड-19 के असर को समझने के लिए वैज्ञानिक रिसर्च कर रहे हैं, लेकिन अभी बारे में बेहद सीमित जानकारी मौजूद है.

यह नहीं पता कि वायरस से संक्रमित कोई गर्भवती महिला प्रेग्नेंसी या डिलीवरी के दौरान इसे अपने भ्रूण या बच्चे को पास कर सकती है. लेकिन अभी तक यह वायरस एमनियोटिक फ्लूइड या ब्रेस्टमिल्क में नहीं पाया गया है.गर्भवती महिलाओंं के बारे में अभी ऐसा कोई सुबूत नहीं है कि वे आम लोगों के मुकाबले गंभीर रूप से बीमार होने के ज्यादा जोखिम में हैं. हालांकि, अपने शरीर और इम्यून सिस्टम में बदलाव होने के चलते गर्भवती महिलाएं कुछ रेस्पिरेटरी इंफेक्शंस से बुरी तरह से प्रभावित हो सकती हैं.

मैं अपने पांच महीने के बच्चे को ब्रेस्टफीड कराती हूं. अगर मैं कोरोना से संक्रमित हो जाती हूं तो मुझे क्या करना चाहिए?मीव मैकगोल्डरिकजेम्स गैलेगरस्वास्थ्य संवाददाताअपने ब्रेस्ट मिल्क के जरिए माएं अपने बच्चों को संक्रमण से बचाव मुहैया करा सकती हैं.अगर आपका शरीर संक्रमण से लड़ने के लिए एंटीबॉडीज़ पैदा कर रहा है तो इन्हें ब्रेस्टफीडिंग के दौरान पास किया जा सकता है.

ब्रेस्टफीड कराने वाली माओं को भी जोखिम से बचने के लिए दूसरों की तरह से ही सलाह का पालन करना चाहिए. अपने चेहरे को छींकते या खांसते वक्त ढक लें. इस्तेमाल किए गए टिश्यू को फेंक दें और हाथों को बार-बार धोएं. अपनी आंखों, नाक या चेहरे को बिना धोए हाथों से न छुएं.

बच्चों के लिए क्या जोखिम है?लंदन से लुइसबीबीसी न्यूज़हेल्थ टीमचीन और दूसरे देशों के आंकड़ों के मुताबिक, आमतौर पर बच्चे कोरोना वायरस से अपेक्षाकृत अप्रभावित दिखे हैं.ऐसा शायद इस वजह है क्योंकि वे संक्रमण से लड़ने की ताकत रखते हैं या उनमें कोई लक्षण नहीं दिखते हैं या उनमें सर्दी जैसे मामूली लक्षण दिखते हैं.

हालांकि, पहले से अस्थमा जैसी फ़ेफ़ड़ों की बीमारी से जूझ रहे बच्चों को ज्यादा सतर्क रहना चाहिए. और पढो: BBC News Hindi »

दूसरी बार 10 घंटे तक चली ED की रिया चक्रवर्ती से पूछताछ, देखें रिपोर्ट

सुशांत सिंह राजपूत की मौत से जांच के घेरे में आई उनकी गर्लफ्रेंड रिया चक्रवर्ती से ED की पूछताछ का आज दूसरा राउंड हुआ. ED दफ्तर में रिया सुबह 11 बजे पूछताछ के लिए पहुंची थीं और ये मैराथन पूछताछ 10 घंटों तक हुई. रिया के अलावा उनके भाई शौविक और पिता इंद्रजीत से भी ED ने आज पूछताछ की है. इस बीच रिया की ओर से सुप्रीम कोर्ट में दाखिल हलफनामे में कहा गया कि उनका मीडिया ट्रायल हो रहा है. हलफनामे में इस मीडिया ट्रायल को आगामी बिहार चुनाव से जोड़ा गया. हलफनामे में लिखा गया कि ऐसी खबरें हैं कि सुशांत की मौत के मामले में बिहार के मुख्यमंत्री के कहने पर पटना में FIR दर्ज हुई है. देखें वीडियो.

जिस देश मे फेंकू जी रहते हो वहाँ फिर ऊपर वाले के भरोसे रहते है लोग. Waheguru ji sb da bhla krn सरकार तो हमने इलेक्शंस लड़ने के लिए रक्खी है। जनता तो वाहे गुरु के सहारे है ही

वैज्ञानिकों ने लामाओं से कोरोना वायरस को बेअसर करने वाले दो एंटीबॉडी की पहचान कीइस बीच वैज्ञानिकों ने दक्षिण अमेरिकी स्तनधारियों लामाओं से ऐसे दो एंटीबॉडी की पहचान करने का दावा किया है

कोयला खदानों की नीलामी के ख़िलाफ़ झारखंड सरकार की याचिका पर केंद्र को नोटिसकेंद्र सरकार ने देश के कोयला क्षेत्र को निजी कंपनियों के लिए खोल दिया है. इस फ़ैसले के ख़िलाफ़ सुप्रीम कोर्ट में दायर याचिका में झारखंड सरकार ने कहा है कि इस निर्णय से पहले राज्य सरकारों को विश्वास में लेने की ज़रूरत थी. ठरकी ओली शर्मा भीख माँगते मांगते अपना औकाद भूल गया है। अपने देश को बर्बाद कर चुका है भिखारी बना दिया है नेपाल को पागल ठरकी

वित्त मंत्री ने की महामारी से निपटने में लगे स्वास्थ्य कर्मियों के बीमा योजना की समीक्षावित्त मंत्री ने की महामारी से निपटने में लगे स्वास्थ्य कर्मियों के बीमा योजना की समीक्षा healthinsurance Coronavirus Coronavirus COVID19 NirmalaSitharaman PMGKY Desh main itna sabse bada gap hai wo hai vishwas sanskar desh ke narendramodi ji aap ke netritv main aap apni vifalta ko chupanae ke liye media per koi krwai nhi kr rhe hai samachar ko dekhne se suchna jankari milni chaiye aaj to wotrp batorne main lagehai Muda gayab hai. चलो स्वास्थ्य कर्मियों के लिए भी ख्याल आया, वरना हमे इसी उम्मीद नहीं थी।🙏 लोकशाही देश मे जनता को भी विमा कवच अनिवार्य है कंपनी सरकारके बनाये कानुन नियम है तो क्या भारतीय नागरीकोंकी कोई ऐहमीहत नहीं है भारत देश मे? सिर्फ नौकरशाही के लिए ही सुविधाएं और वेतन आयोग विमा संरक्षण यह तो उचीत नहीं है. या तो हर नागरिक नोकरी उपलब्ध करवायें सरकार या सभी काम करेगें

ईरान की चीन से डील, भारत को झटका, रेल प्रोजेक्ट से किया किनारेइस रेल प्रोजेक्ट को ईरान की इस्लामिक रिपब्लिक रेलवे और इंडियन रेलवे कंस्ट्रक्शन लिमिटेड को पूरा करना था. सूत्रों का कहना है कि अमेरिका के प्रतिबंध और दबाव के चलते भारत इस प्रोजेक्ट की फंडिंग में देरी कर रहा था. Geeta_Mohan Huu haa😂 Geeta_Mohan फ़ोटो देखकर लगता तो नहीं Geeta_Mohan भाई कब चले गई ताऊ जी ईरान 😆 तुम मीडिया बाले भी आईटी सेल की तरह काम कर रहे हो क्या

Air India के कर्मचारियों को झटका, कंपनी बिना वेतन के 5 साल की छुट्टी पर भेजेगीकोरोना संक्रमण को रोकने के लिए देशभर में लंबे समय तक लॉकडाउन लागू रहा. इस दौरान देश में राष्ट्रीय और अंतरराष्ट्रीय उड़ानों पर पाबंदी लागू रही. इसका असर एयर लाइंस कंपनियों पर पड़ा. इसी वजह से एअर इंडिया अपने कर्मचारियों की संख्या कम करने के लिए नई स्कीम लेकर आई है. इसके तहत कर्मचारी बिना वेतन लिए लंबी छुट्टी पर जा सकते हैं. Skill india but work not available बस 5 साल ,,,,100 साल के लिए भेज दो ,,,,, भारत माता की जय

आशिकी फेम राहुल रॉय देशभक्ति से लबरेज फिल्मों से वापसी को तैयार, बताया प्लानराहुल रॉय ने कहा कि रोमांटिक और काल्पनिक कहानियों की बजाए देश भक्ति और सामाजिक मुद्दों पर फिल्में बनाना मेरी पहली पसंद है. हम राहुल भाई के साथ है👍👍👍👍 आशिकी कर ली, जानवर बन लिए फिर नौजवान लड़कियों के साथ नाँच गाने कर लिया फिर भी भला नही हुआ॥ गाना के कारण हिट हुए थे एक्टिंग के कारण नहीं। कृपया दोबारा कोशिश ना करें वरना हम जनता को आत्महत्या कर लेना होगा।