Re, We Are Farmers Not Hooligans, Rakesh Tikait, Shiv Kumar Kakka, Farmers Protest, Kisan Sansad, Jantar Mantar, Today Parliament Monsoon Session, Monsoon Session, Bus Checking, Delhi Police, Yogendra Yadav, Rakesh Tikait

Re, We Are Farmers Not Hooligans

केंद्रीय मंत्री मीनाक्षी लेखी के मवाली वाले बयान पर बोले राकेश टिकैत- हम किसान हैं, गुंडे नहीं

मीनाक्षी लेखी के बयान पर बोले राकेश टिकैत- हम किसान हैं, गुंडे नहीं #RE

23-07-2021 02:30:00

मीनाक्षी लेखी के बयान पर बोले राकेश टिकैत- हम किसान हैं, गुंडे नहीं RE

विदेश राज्य मंत्री मीनाक्षी लेखी की टिप्पणी से नाराज भारतीय किसान यूनियन (बीकेयू) के नेता राकेश टिकैत ( Rakesh Tikait ) ने कहा कि गुंडे वे हैं जिनके पास कुछ भी नहीं है. किसानों पर ऐसी टिप्पणी गलत है. हम किसान हैं, गुंडे नहीं.

स्टोरी हाइलाइट्सगुंडे वे हैं जिनके पास कुछ भी नहीं, ऐसी टिप्पणी गलतः राकेश टिकैतअगर हम गुंडे हैं तो हमारे द्वारा उगाए गए अनाज खाना बंद करेंः शिवलेखी के बयान की निंदा करते हुए 'किसान संसद' में एक प्रस्ताव पारिततीन केंद्रीय कृषि कानूनों के खिलाफ पिछले कई महीनों से धरने पर बैठे किसानों को लेकर गुरुवार को केंद्रीय मंत्री मीनाक्षी लेखी भड़क गईं और उन्होंने किसानों को मवाली कह दिया जिस पर किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा कि किसानों के लिए इस तरह की टिप्पणी करना गलत है. हम किसान हैं, गुंडे नहीं.

'बबीता जी' ने 'टप्पू' के साथ रिश्ते की ख़बरों पर कहा- ख़ुद को भारत की बेटी कहने में शर्म आती है - BBC News हिंदी योगी का विवादित बयान, कहा- पहले अब्बाजान कहने वाले राशन हजम कर जाते थे - BBC Hindi बिहार: जब भैंस पर सवार होकर नामांकन पत्र भरने पहुंचे प्रत्याशी, कहा- पेट्रोल बहुत महंगा है

बीजेपी नेता और विदेश राज्य मंत्री मीनाक्षी लेखी की टिप्पणी पर भारतीय किसान यूनियन (बीकेयू) के नेता राकेश टिकैत ने कहा कि गुंडे वे हैं जिनके पास कुछ भी नहीं है. किसानों पर इस तरह की टिप्पणी करना गलत है. हम किसान हैं, गुंडे नहीं. किसान जमीन के 'अन्नदाता' हैं.

मीनाक्षी लेखी की टिप्पणी पर निराशा जाहिर करते हुए किसान नेता शिव कुमार कक्का ने कहा कि ऐसी टिप्पणी भारत के 80 करोड़ किसानों का अपमान है. अगर हम गुंडे हैं तो मीनाक्षी लेखी को हमारे द्वारा उगाए गए अनाज को खाना बंद कर देना चाहिए. उन्हें खुद पर शर्म आनी चाहिए. उन्होंने कहा कि हमने उनके बयान की निंदा करते हुए 'किसान संसद' में एक प्रस्ताव पारित किया है. headtopics.com

इसे भी क्लिक करें-घंटेभर की देरी से शुरू हुई 'किसान संसद', राकेश टिकैत बोले- विपक्ष बने हमारी आवाजक्या कहा मीनाक्षी लेखी नेइससे पहले मीनाक्षी ने कहा कि पहली बात तो आप उन लोगों को किसान कहना बंद कीजिए क्योंकि वे किसान नहीं हैं. किसानों के पास इतना समय नहीं है कि वो जंतर-मंतर पर धरना देकर बैठें. किसान अपने खेतों में काम कर रहे हैं. ये सिर्फ साजिशकर्ताओं द्वारा भड़काए हुए लोग हैं और ये किसानों के नाम पर ये हरकतें कर रहे हैं.

मीनाक्षी लेखी यहीं नहीं रुकीं. उन्होंने आगे कहा कि ये सिर्फ आढ़तियों द्वारा बैठाए हुए लोग हैं ताकि किसानों को कृषि कानून का फायदा न मिल सके.जब केंद्रीय मंत्री लेखी से 26 जनवरी को हुई घटना के बावजूद जंतर-मंतर पर प्रदर्शनकारियों को आने की इजाजत के बारे में पूछा गया तो वो भड़क गईं. उन्होंने कहा कि फिर आप उन लोगों को किसान बोल रहे हैं. मवाली हैं वो. उन्होंने कहा कि 26 जनवरी को जो कुछ हुआ वो शर्मनाक था और विपक्ष द्वारा ऐसे लोगों को बढ़ावा दिया गया.

हम यही बोलेंगे कि इसको वोट मत देनाः टिकैतकिसानों की ओर से जंतर-मंतर पर आयोजित 'किसान संसद' से पहले आज सुबह कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि हम किसानों के साथ बातचीत करने को तैयार हैं और हम पहले भी बात करते रहे हैं. मोदी सरकार किसान हितैषी सरकार है.

आजतक से बात करते हुए राकेश टिकैत ने कहा कि सरकार बातचीत के लिए हमेशा शर्त लगा देती है. यह आंदोलन तब तक खत्म नहीं होगा जब तक भारत सरकार बिना शर्तों के बातचीत करने को तैयार नहीं होती.क्या यूपी चुनाव को प्रभावित करेंगे, इस पर टिकैत ने कहा कि जब हमारी लड़ाई इनसे हो रही है, अगर ये हमारी बात नहीं मानेंगे तो इनके खिलाफ चुनाव को प्रभावित करेंगे. हम यही बोलेंगे कि इसको वोट मत देना. सीधे यही बोलेंगे, हेराफेरी करके नहीं बोलेंगे. गन्ने का हमारा भुगतान है. चार साल से रेट नहीं बढ़ा क्या महंगाई नहीं बढ़ी. यूपी में बिजली सबसे ज्यादा महंगी है. आलू का किसान बर्बाद है. headtopics.com

यूपी और गोवा के चुनावी संग्राम में उतरेगी शिवसेना, संजय राउत ने किया ऐलान पवित्र रिश्ता 2 के ट्रोल होने पर बोलीं अंकिता लोखंडे- 'ये सुशांत के रियल फैंस हैं' Bengal: भवानीपुर में ममता को टक्कर देंगी प्रियंका टिबरेवाल, काली मंदिर में पूजा के बाद मांगे वोट

Live TV और पढो: आज तक »

गुजरात में सियासी भूचाल, कौन होगा अगला मुख्यमंत्री? देखें दंगल में बड़ी बहस

गुजरात में शनिवार को बड़ा सियासी उलटफेर हुआ है. विजय रुपाणी (Vijay Rupani) ने मुख्यमंत्री (Chief Minister) के पद से इस्तीफा (Resign) दे दिया. उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह और पार्टी आलाकमान को आभार प्रकट किया. कुछ देर पहले ही रुपाणी ने राज्यपाल आचार्य देवव्रत से मुलाकात करते हुए उन्हें इस्तीफा सौंप दिया. गुजरात के मुख्यमंत्री पद से विजय रुपाणी के इस्तीफा देने के बाद अब यह सवाल उठने लगा है कि राज्य का अगला मुख्यमंत्री कौन होगा? देखें दंगल में बड़ी बहस.

गुंडे नहीं तो फिर पत्रकारों को गाली और उनके साथ मारपीट क्यों करते हैं Tikaite Tum Jis Layak hai O hi to Bola Gunda h ye Isko rajneti main aana h तुम्हारी भाषा से नही लगता की किसान हो...... जो 26 jan को दंगा करे वो किसान नही हो सकता.... जय जवान जय किसान... गेंडा किसान Rakesh ji had made so bad about this topic as' Jidi type 'as using their might but don't understand.China is very powerful but God is slowly acting thru Floods. If destiny is with you, people would come with you but here people are realising that Rakesh ji is middle man person

Kisan nahi dicholiye matlab dalalo ho tum market ke Gunde hi hai iske gaon wale b khud bolte hai ye karta h apne gaon me b RakeshTikaitBKU tm gunda hi ho or yahi satya hai💯💯💯💯💯 hm sb kishan hain meri puri family kishani krti hai but hmlogo ko kisi ko to koi problem nhi hai gov se🤔🤔🤔🤔 tm koi kishan nhi ho tm kishano ko lootne wale lootere ka dalal ho bss😏😏 ShameOnYouRakeshTikait

Farmers are farmers agreed! but Tikait is definitely a Gunda.

Kisan Andolan : जंतर-मंतर पर 'किसान संसद' का पहला दिन खत्म, शुक्रवार को फिर जुटेंगे किसाननई दिल्ली। भारी सुरक्षा-व्यवस्था के बीच केंद्र के तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शन करते हुए 200 किसानों के एक समूह ने मध्य दिल्ली के जंतर मंतर पर गुरुवार को 'किसान संसद' शुरू की। जंतर मंतर, संसद भवन से कुछ ही दूरी पर स्थित है जहां मानसून सत्र चल रहा है। राष्ट्रगान के बाद गुरुवार शाम 5 बजे किसान संसद खत्म हो हुई। शुक्रवार की सुबह 11 बजे फिर 200 किसान जंतर-मंतर आएंगे। किसान बस में बैठकर वापस सिंघु बॉर्डर के लिए रवाना हो गए।

RakeshTikaitBKU जी, आप अपने व्यक्तिगत राजनीतिक-स्वार्थ के लिए सचमुच राजनैतिक-मवाली वाला कृत्य कर रहे हैं... अगर, किसानों के सच्चे हितैषी होते तो किसान हित की बात करते... न कि साम-दाम-दंड-भेद के साथ 'अपने व्यक्तिगत राजनीतिक-कैरियर' को चमकाने का प्रयास... 🙊🙈🙉 Kis angel se kisan h ....kisan fortuner me nhi ghumta...gandu

Kisan khet me or gunde sadak par 26 जनवरी में जो कारनामा किया था उसको देखकर लगता है कि तुम कुछ लोग किसान नही गुंडे हो। Tum kisi bhi angle se kisan nahin dikte. Gunda ,dalal aur dakait lagte ho!!! बर्ताव तो गुंडों वाला ही है किसानों को अपना दावी हासिल करने के लिए एक किसान पार्टी बनाना चाहिए। मवाली है singhu/ kundli पर बैठे किसानो ने GT रोड पर सैकंडो कारखाने बंद करवा दिये । हजारो लोग बेरोजगार हो गय। किसी को कोई दरद नही। ये किसान नही आतंकवादी है। जो जो इन किसानो के साथ खडा है उनको कीडे पडेगे। मिडिया चुप है। टिकेत सबसे बडा चोर

तुम किसान नही, दलाल है खालिस्तान और चायना का

Jantar-Mantar के लिए रवाना हो रहे किसान, देखें 'नियंत्रण' के लिए क्या हैं तैयारियांकृषि कानून (Farm Laws) के विरोध में जारी किसानों के आंदोलन का आज नया पड़ाव शुरू हो रहा है. दिल्ली के जंतर-मंतर पर करीब 200 किसान प्रदर्शन करेंगे, ये किसान संसद की तरह होगा. सिंघु, टिकरी और गाजीपुर बॉर्डर से बसों में भरकर किसानों का जंतर-मंतर पहुंचना जारी है. किसानों के प्रदर्शन को देखते हुए दिल्ली के टिकरी, सिंघु, गाजीपुर बॉर्डर और जंतर-मंतर पर सुरक्षा बढ़ा दी गई है. प्रदर्शन शुरू होने से पहले ही अलग-अलग इलाकों से किसानों का दिल्ली पहुंचना शुरू हो गया है. किसानों का बड़ा जत्था बसों से जंतर मंतर पहुंच रहा है. किसान यहां पर सुबह 11 बजे से लेकर शाम 5 बजे तक संसद लगा पाएंगे. देखें

के किसान है तो खेतों मे जो काम करने है वो क्या है? It is true that this movement of farmers has been taken over by anti national elements and Rakesh is playing in their hands Kutte hai 26 जनवरी को पुरी दुनिया ने देख लिया कि कौन किसान है कौन गुंडा है। खलिस्तानी आतंकी..!? FarmersAgainstTikait तू दल्ला ह कांग्रेश का खालिस्तानियों का

तुम गुंडे हो किसान नहीं इतने दिनो से घूम रहे हो भला कोई किसान घूमेगा क्या ? अबे तू किस एंगल से किसान है जरा ये बता असली किसान खेतो में पसीना बहाता है तू पसीना तो छोड़ो सोता भी एसी टेंट के अंदर है तेरी भाषा भी एकदम मवालियों जैसी है ओर सुन तू बकल तारने की बात करता है अब अगर कुछ अराजकता करने की कोशिश की तो जनता तेरे बकल तार देगी।

डकैत है डकैत। किसान गुंडे नही पर तुम हो मेने आज तक किसी किसान रैली में बलात्कार हुवा ये नही सुना था।

ये हैं भारत की सबसे सस्ती ब्लूटूथ वाली बाइक्स, आपके स्मार्टफोन से हो जाती हैं कनेक्टजो लोग ब्लूटूथ मोटरसाइकिल्स खरीदना चाहते हैं अब उनके लिए मार्केट में किफायती रेंज में ये बाइक्स उपलब्ध हैं। आज हम आपके लिए ऐसी ही कुछ ब्लूटूथ कनेक्टेड मोटरसाइकिल्स लेकर आए हैं जो आपके बजट में आसानी से फिट हो जाएंगी।

तुम गुंडे ही नहीं बल्कि आतंकी भी हो rakeshtikait Bjp govt became shameless, they don't have any respect for country, its hardworking people and not for its economic structure. They want only power and position and for that, they can even sell this country. That statement from Minakshi Lekhi was in very poor taste and language…

Tu gunda hai किसान तो ये है राकेश जी आप तो सच मे सियासी मवाली हो Kissan REALLY? ONE FAIMILY ONE STATE HOLDI NG UNION WHY? LET OTHER STATES OTHER PERSON LEAD THE BKU_KisanUnion Or it is a family property Changed business stratagy बक्कल तारने की बात करने वाला किसान के भेष में गुंडा ही तो है 😑 लाल किले पर खेती करनै गयै थै,ओर बक्कल उतार कर हल चलाना था वाम पन्थी टुकडो पर पलनै वाला कुत्ता है किसान तो हैही नही दल्ला है।

26 जनवरी को जो कारनामा किया है वह देख कर दो हम तो आतंकवादियों से कम नहीं समझते हमारा बस चले तो जो जो इसमें शामिल थे सभी को आजीवन कारावास दे दे एक शख्स को भी नहीं बख्शा हर हर महादेव निंदक नियरे राखिए,आंगन कुटी छवाय।। बिना साबुन पानी बिना, निर्मल करे सुहाय।। निंदा अवश्य होनी चाहिए चाहे वह हमारे किसान भाई लोग हों,चाहे कोई भी विपक्षी पार्टी हो,लेकिन जो भी हो देश हित में हो।। केवल चुनाव जीतने के लिए ना हो,।।

विवादों में संभावना सेठ: आदिवासी समाज पर कमेंट करना एक्ट्रेस को पड़ा भारी, बोलीं- जब हम वीडियोज बनाते हैं, तो हम किसी का अपमान नहीं करते हैंएक्टर संभावना सेठ रियलिटी शो बिग बॉस से फेमस हुईं। हाल ही में वो मुसीबत में पड़ गईं जब उन्होंने और उनके पति अविनाश द्विवेदी ने सोशल मीडिया पर अपनी मेड का मजाक उड़ाते हुए एक वीडियो शेयर किया। इस बारे में बात करते हुए संभावना कहती हैं, 'हमने कहीं भी अपमान नहीं किया। हमने कहीं भी जातिवाद वाली बात नहीं की...या कहीं भी आदिवासी की बात नहीं की। और फिर भी आदिवासी समुदाय ने हमें दोषी ठहराया, कि आपने ऐसा किया... | Sambhavna Seth, says- When we make videos, we don't insult anyone

चल झूठे 🤣🤣🤣🤣 गुंडे थे गुंडे हो और गुंडे ही रहोगे। जो दुसरो की जान की परवाह नही करता वो किसान कतई नही हो सकता। सिर्फ अपना उल्लू सीधा कर रहे है ये फर्जी किसान राजनीतिमे आनेके लिए तो हम किसान आंदोलन पर है , जैसे श्री केजरीवाल आए है सीधे आंदोलन से CM ,, मगर हरकोइ कामयाब नही होता , Tumhari harkat Gunde wali hai bc budha

RakeshTikaitBKU तु तो किसान है ही नहीं । गुंडा है गुंडा । किसानों को बर्बाद करने पर तुला है तु गधे । रोज गुंडेई करते है ओर अपने को किसान कहते हैं ।टिकैत रोज बक्कल फाड़ते ,धमकाते हैं फिर कहते हैं हम किसान नेता हैं । Sahi naam hai ' Agent ' Kis angle se yeh chu.... kissan lagta hai? तुम गुंडे ही हो। गद्दारो

यदि आप किसान होते तो आप किसानों के नाम पर राजनीति नहीं करते आप डकैत हो और कांग्रेस पार्टी के नौकर

कल किसान फिर करेंगे दिल्ली कूच, चलाएँगे अपनी संसद - BBC Hindiकृषि क़ानूनों का विरोध कर रहे किसान संगठनों ने कहा है कि वो कल से दिल्ली में किसान संसद के पास अपनी संसद लगाएँगे जो संसद के मॉनसून सत्र तक चलेगी. सिर्फ हंगामा खड़ा करना मेरा मकसद नहीं सारी कोशिश है कि ये सूरत बदलनी चाहिए ! मेरे सीने में नहीं तो तेरे सीने में सही हो कहीं भी आग..लेकिन आग जलनी चाहिए ! किसान_संसद FarmersProtest आब कीबार कोई दंगा करने की कोशिश की इन तथाकथित किसानो के ठेकेदारो ने तो इंका बक्कल उतार दियाजाये एसा मुझे भारत सरकार से उम्मीद हे,इन करोड़पति किसाननेताओ ने26 जनवरी को जोकिया बो किसीभी हालत मे भूलने लायक नहीं,ये किसानो को मूर्ख बना अपने आप को करोड़ो का मालिक बना लेतेहे हर आंदोलन से

Rakesh tikait gunda nhi mawali hai एक असामाजिक राजनीति करने वाला है

दिल्ली में 6 महीने बाद फिर किसानों की एंट्री: दिल्ली सरकार ने किसानों को जंतर-मंतर पर प्रदर्शन की इजाजत दी, 19 दिन तक रोज 200 किसान लगाएंगे किसान संसद26 जनवरी को दिल्ली में उग्र प्रदर्शन के बावजूद दिल्ली सरकार ने किसानों को एंट्री की इजाजत दे दी है। यह परमिशन 22 जुलाई से लेकर 9 अगस्त तक है। प्रदर्शन का समय सुबह 11 बजे से शाम 5 बजे तक रहेगा। दिल्ली डिजास्टर मैनेजमेंट अथॉरिटी ने शर्तों के साथ प्रदर्शन की मंजूरी दी है। | Farmer Protest (Kisan Andolan) | Delhi Authority Gives Permission To Protest At Jantar Mantar , Kisan Sansad , Kisan Andolan, Farmer Protest DelhiPolice nstomar ArvindKejriwal यह किसान अंदोलन देशके लिए घातल है।