Itrules, Mainstreammedia, Government, आईटीनियम, मेनस्ट्रीममीडिया, सरकार

Itrules, Mainstreammedia

केंद्र का मुख्यधारा के मीडिया को नये आईटी नियमों से छूट देने से इनकार, कहा- इसे लागू करें

केंद्र का मुख्यधारा के मीडिया को नये आईटी नियमों से छूट देने से इनकार, कहा- इसे लागू करें #ITRules #MainstreamMedia #Government #आईटीनियम #मेनस्ट्रीममीडिया #सरकार

14-06-2021 01:30:00

केंद्र का मुख्यधारा के मीडिया को नये आईटी नियमों से छूट देने से इनकार, कहा- इसे लागू करें ITRules MainstreamMedia Government आईटीनियम मेनस्ट्रीममीडिया सरकार

बीते दिनों नेशनल ब्रॉडकास्टर्स एसोसिएशन ने मुख्यधारा के टीवी मीडिया और इसके डिजिटल मंचों को नये आईटी नियमों से बाहर रखने की मांग की थी. इस पर सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय ने कहा है कि नियमों से कुछ को छूट देना उन डिजिटल समाचार प्रकाशकों के साथ भेदभाव होगा, जिनके पास पहले से टीवी या प्रिंट मंच नहीं है.

नई दिल्ली:केंद्र सरकार ने मुख्यधारा के टेलीविजन चैनलों और प्रिंट मीडिया को आईटी नियम, 2021 के दायरे से छूट देने से इनकार कर दिया है.सरकार ने उनसे डिजिटल मीडिया नियमों के प्रावधानों का तुरंत पालन करने के लिए ‘तत्काल कदम’ उठाने को कहा है.सूचना और प्रसारण मंत्रालय ने डिजिटल समाचार प्रकाशकों, ओटीटी प्लेटफार्मों और डिजिटल मीडिया प्रकाशकों के संघों को बीते गुरुवार को दिए एक स्पष्टीकरण में कहा कि है कि इन वेबसाइटों कानून के दायरे में लाने का औचित्य ‘अच्छी तरह से तर्कपूर्ण’ है.

Unlock Education - Help For India's International Students Tokyo Olympics: भारतीय महिला हॉकी 'टीम सेमीफाइनल में अर्जेंटीना से 1-2 से हारीं, अब कांस्य पदक की लड़ाई लड़ेगी बहराइच: दलित प्रधान की हत्या के मामले में गरमाई राजनीति - BBC News हिंदी

मंत्रालय ने कहा इस कानून के तहत कुछ को छूट देना उन डिजिटल समाचार प्रकाशकों के साथ भेदभावपूर्ण होगा जिनके पास पहले से टीवी या प्रिंट प्लेटफॉर्म नहीं है.नेशनल ब्रॉडकास्टर्स एसोसिएशन (एनबीए) ने हाल ही में मंत्रालय को पत्र लिखकर मुख्यधारा की टेलीविजन मीडिया और इसके डिजिटल समाचार प्लेटफार्मों को

के नियमों को लागू करने से छूट देने की मांग की थी.एनबीए नेदलीलदी थी कि ऐसे संस्थान पहले से ही विभिन्न व्यवस्थाओं, कानूनों, दिशानिर्देशों और नियम एवं विनियमनों द्वारा ‘पर्याप्त रूप से विनियमित’ है, इसलिए इन्हें नए आईटी नियम 2021 के दायरे से ‘छूट’ प्रदान की जाए. headtopics.com

इस पर मंत्रालय ने कहा, ‘चूंकि आचार संहिता के तहत ऐसे डिजिटल प्लेटफॉर्म को मौजूदा मानदंडों/ नियमों का पालन करने के लिए कहा गया, जो पारंपरिक प्रिंट और टीवी मीडिया के लिए प्रचलित हैं, इसलिए ऐसी संस्थाओं के लिए नियामक कोई अतिरिक्त बोझ नहीं है. तदनुसार, ऐसे संगठनों की डिजिटल समाचार सामग्री को डिजिटल मीडिया नियम 2021 के दायरे से छूट देने के अनुरोध को स्वीकार नहीं किया जा सकता है.’

हालांकि मंत्रालय ने यह भी कहा कि कहा वे मानते हैं कि पारंपरिक टीवी और प्रिंट मीडिया वाली संस्थाएं पहले से ही सरकार के साथ प्रेस और पंजीकरण पुस्तक अधिनियम या 2011 के अपलिंकिंग और डाउनलिंकिंग दिशानिर्देशों के तहत पंजीकृत हैं.उन्होंने कहा, ‘पारंपरिक समाचार प्लेटफॉर्म (टीवी और प्रिंट) वाले संगठनों के डिजिटल संस्करण/डिजिटल प्रकाशन स्व-नियामक निकायों के आंतरिक दिशानिर्देशों का पालन कर रहे होंगे. इसलिए यदि संगठन चाहें तो वे डिजिटल मीडिया नियम, 2021 के साथ निरंतरता सुनिश्चित करने के बाद उसी स्व-नियामक तंत्र के तहत काम कर सकते हैं.’

मंत्रालय ने यह भी स्पष्ट किया कि जब किसी डिजिटल समाचार प्रकाशक की कोई भी खबर ओटीटी प्लेटफॉर्म पर प्रसारित की जाती है तो ऐसे कंटेंट उस प्लेटफॉर्म की नियामक की जिम्मेदारी से बाहर होंगे. हालांकि अगर किसी ओटीटी प्लेटफॉर्म को इस तरह की खबरों या कंटेंट को लेकर कोई शिकायत मिलती है तो वह इस मामले को उस खबर से संबंधित प्रकाशक को ट्रांसफर कर सकता है.

मंत्रालय ने कहा कि ऐसी स्थिति को देखते हुए इस मामले में डिजिटल न्यूज पब्लिशर्स या किसी को भी कोई आशंका नहीं होनी चाहिए.मंत्रालय ने कहा कि केबल टेलीविजन नेटवर्क अधिनियम, 1995 और उनके आंतरिक कोड या दिशानिर्देशों के तहत कार्यक्रम कोड के उल्लंघन से संबंधित शिकायतों का न्याय करने के लिए टेलीविजन समाचार चैनलों के पास पहले से ही एक स्व-नियामक तंत्र है. headtopics.com

कृषि क़ानून पर मीडिया के सामने भिड़ गए दो सांसद - BBC Hindi भारतीय महिला हॉकी टीम टोक्यो ओलंपिक के फ़ाइनल में पहुंचने से चूकी - BBC News हिंदी कार्टून: ये मैच जरा लम्बा है - BBC News हिंदी

उन्होंने कहा, ‘डिजिटल मीडिया नियम 2021 के तहत स्तर II की आवश्यकता केवल मौजूदा संस्थागत व्यवस्था का विस्तार है. इसके अलावा स्व-नियामक निकाय की संरचना पूरी तरह से प्रकाशकों द्वारा तय की जाएगी और इसमें सरकार की कोई भूमिका नहीं होगी.’केंद्र ने आगे कहा कि सरकार न तो इसमें हस्तक्षेप करेगी और न ही बाधा डालेगी.

मंत्रालय ने उन चिंताओं को भी खारिज कर दिया कि डिजिटल मीडिया नियमों के तहत निर्धारित निगरानी तंत्र से डिजिटल समाचार प्रकाशकों और ओटीटी प्लेटफार्मों के कामकाज पर अत्यधिक सरकारी नियंत्रण होगा.उन्होंने कहा, ‘वर्तमान में भी पारंपरिक टीवी चैनलों के संबंध में सरकार में एक अंतर-मंत्रालयी समिति (आईएमसी) के माध्यम से एक निगरानी तंत्र है, जो उल्लंघन से संबंधित कुछ शिकायतों को देखता है.’

इन दलीलों के साथ केंद्र सरकार ने मुख्यधारा की मीडिया से कहा कि वे नए नियमों का पालन करें. आईटी नियम 2021 के संबंध में 500 से अधिक प्रकाशकों ने सरकार के साथ मांगी गई जानकारी साझा कर दिया है.(समाचार एजेंसी पीटीआई केइनपुटके साथ) और पढो: द वायर हिंदी »

झारखंड में जज की हत्या का आरोपी गिरफ्तार: ऑटो चालक ने गुनाह कबूला, केस की जांच SIT करेगी; हाईकोर्ट ने कहा- कोताही हुई तो केस CBI को सौंपेंगे

झारखंड के धनबाद में अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश उत्तम आनंद की हत्या की मामले में 2 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। पुलिस का कहना है कि इनमें से एक ने अपना गुनाह कबूल कर लिया है। झारखंड पुलिस के प्रवक्ता अमोल बी होमकर ने बताया कि ऑटो चालक लखन वर्मा और उसके सहयोगी राहुल वर्मा को गिरफ्तार किया गया है। लखन ने स्वीकार किया है कि उसने ऑटो से जज को धक्का मारा था। | Jharkhand Judge Murder CCTV Footage | Uttam Anand Dies After Being Hit By Auto In Dhanbad

जितिन, ज्योतिरादित्य के बाद सचिन पायलट को लेकर अटकलें, आज कांग्रेस हाईकमान से मिलेंगेराजस्‍थान की राजनीति में इन दिनों फिर उथल-पुथल देखने को मिल रही है। जितिन प्रसाद के बाद पायलट के भाजपा में जाने की अटकलें लगाई जा रही है। हालांकि पायलट ने एक बार फिर स्पष्ट किया- मैं कांग्रेस में हूं और रहूंगा। SachinPilot ashokgehlot51 BJP4Rajasthan INCIndia कांग्रेस हाई कमान की तीन ब्रांच हैं, पता नहीं किस ब्रांच में जाएंगे। SachinPilot ashokgehlot51 BJP4Rajasthan INCIndia हाईकमान मिलने का समय भी देगा या कुत्ते को बिस्किट ही खिलता रहेगा😂

अयोध्या के मंदिरों में आज से नए नियम लागू: बिना मास्क के मंदिर में नो एंट्री, प्रसाद नहीं मिलेगा; नियमों को तोड़ा तो होगी कार्रवाई; ट्रैफिक व्यवस्था भी बदलीउत्तर प्रदेश की धार्मिक नगरी अयोध्या में आज से यातायात व्यवस्था की बदल रही है। वहीं, मंदिरों में दर्शन के लिए आने वाले श्रद्धालुओं के लिए भी नए नियम तय किए गए हैं। अयोध्या आने वाले श्रृद्धालु शासन द्वारा जारी कोविड-19 से बचाव के निर्देशों का पालन करेंगे। बिना मास्क श्रृद्धालुओं का प्रवेश पूर्णतः वर्जित रहेगा। किसी भी प्रकार का प्रसाद (मिष्ठान) मन्दिर में पूर्णतया प्रतिबंधित किया गया है। | Ayodhya Temples New rules implemented: Entry of devotees prohibited without mask ban on distribution of prasad and traffic system also changed in Ayodhya : बिना मास्क के श्रृद्धालुओं का प्रवेश वर्जित, प्रसाद वितरण पर लगी रोक; यातायात व्यवस्था भी बदली

अंतरराष्ट्रीय हस्तियों ने भारत सरकार को लिखा, भीमा कोरेगांव मामले के बंदियों को फ़ौरन रिहा करेंशिक्षाविदों, यूरोपीय संघ के सांसदों, नोबेल पुरस्कार विजेताओं और अन्य अंतरराष्ट्रीय हस्तियों ने भारतीय जेलों में बंद मानवाधिकार कार्यकर्ताओं की दयनीय स्थिति और उचित मेडिकल देखरेख न होने पर चिंता जताते हुए कहा है कि उन्हें कोरोना वायरस के नए और अधिक घातक स्ट्रेन से संक्रमित होने का गंभीर ख़तरा है. उनको चौराहे परतुम्हारे साथ साथ एंकाउंटर कर देना चाहिए पुलिसकर्मी द्वारा अर्बन नक्सली हो सब तुम Tum sab urban naxal ho So inhumane.

झारखंड: ट्रांसपोर्ट कंपनी के मालिक के घर से डेढ़ करोड़ की चोरी, मामला दर्जये मामला कोडरमा के तिलैया थाना क्षेत्र के गैस गोदाम गली का है. जहां शुक्रवार रात ट्रांसपोर्ट कंपनी के मालिक भूपेंद्र सिंह के घर में बर्थडे पार्टी थी जिसके कारण घर के लोग काफी देर से सोए थे. चोर लॉक तोड़कर लगभग 3 लाख 25 हजार कैश और 2 किलो सोने के बने जेवरात लेकर फरार हो गए. यह AAP वाले AAP के है कि बीजेपी के है, लगता है बीजेपी इनका हजबैंड हो और यह बीजेपी की वाइफ जब देखो बीजेपी ने यह किया, बीजेपी ने वो किया... ही बोलते है जैसे बीवी डांट रही हो हजबैंड को😂 यह सब सीएम, Dy CM घरवालियां है क्या बीजेपी के मोदी जी की और योगी जी की😂😂 दुर्भाग्य BycottKareenaKhan

लोगों को मिलेगी कोरोना की नई दवा, Colchicine के क्लीनिकल ट्रायल को मंजूरीभारत न्यूज़: दवा नियामक डीसीजीआई ने कोरोना के मरीजों पर इसके क्‍लीनिकल ट्रायल को मंजूरी दी है। हृदय रोग से पीड़ित कोरोना के मरीजों के लिए यह उपयोगी होगी।

अब DL के लिए नहीं देना पड़ेगा ड्राइविंग टेस्ट, RTO के चक्कर लगाने से मिलेगा छुटकाराड्राइविंग लाइसेंस प्राप्त करने के लिए अब आवेदनकर्ताओं को जटिल प्रक्रिया से नहीं गुजरना पड़ेगा। दरअसल रोड ट्रांसपोर्ट मंत्रालय की तरफ से ड्राइविंग लाइसेंस बनवाने के लिए नये नियम को नोटिफाई किया गया है जो जुलाई से लागू हो जाएगा। उस्से कोई फायदा नही पब्लिक को 6000 तो लगना ही ना हैं उसे भी कम कर दो RTO भाई साहब Aaj phir haryana electricity drama... Bhut din bad customer care pr phone lga.. But reply was amazing.. 'BJP KO VOTE DIYA H TO BJP JAISA H KAM HOGA'.... Test toh Hamne pahle bhi Nahi Diya.