Prashantkishor, Prashant Kishore, Congress Party

Prashantkishor, Prashant Kishore

कुरुक्षेत्र: कांग्रेस के 'सारथी' बनेंगे पीके या 'संन्यास' रहेगा कायम? बोले- राजनीति करूंगा तो सबको बताकर

चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर के कांग्रेस में शामिल होने की अटकलें फिलहाल अब खत्म हो गई हैं क्योंकि उन्होंने इन सारी

27-07-2021 06:17:00

कुरुक्षेत्र: कांग्रेस के 'सारथी' बनेंगे पीके या 'संन्यास' रहेगा कायम? बोले- राजनीति करूंगा तो सबको बताकर PrashantKishor PrashantKishor INCIndia RahulGandhi MamataOfficial VinodAgnihotri7

चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर के कांग्रेस में शामिल होने की अटकलें फिलहाल अब खत्म हो गई हैं क्योंकि उन्होंने इन सारी

ख़बर सुनेंचुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर के कांग्रेस में शामिल होने की अटकलें फिलहाल अब खत्म हो गई हैं। क्योंकि जहां कांग्रेस ने न इसकी पुष्टि की न खंडन किया लेकिन प्रशांत किशोर ने इन सारी अटकलों को खारिज करते हुए साफ किया है कि अभी वह किसी भी तरह की राजनीतिक गतिविधि में शामिल नहीं हैं और न ही 2022 के प्रारंभ में होने वाले पांच राज्यों के चुनावों में उनकी कोई प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष भूमिका होगी। साथ ही उन्होंने यह भी कहा चाहे पंजाब का मामला हो या कोई और मसला, कांग्रेस के किसी भी फैसले में उनकी कोई भूमिका न पर्दे के पीछे है और न ही पर्दे के बाहर। प.बंगाल चुनाव के नतीजों के बाद दो मई को उन्होंने जो घोषणा की थी वह पूरी तरह उस पर कायम हैं और अब जब भी कोई फैसला लेंगे तो उसकी सार्वजनिक घोषणा करेंगे। पीके ने कहा कि आगे राजनीति में सक्रिय होंगे या नहीं होंगे इसका अभी तक उन्होंने कोई फैसला नहीं किया है।

सोनू सूद ने 20 करोड़ रुपये की टैक्स चोरी की: आयकर विभाग - BBC News हिंदी कैप्टन अमरिंदर सिंह ने NDTV से कहा- सिद्धू पाकिस्तान समर्थक, उन पर भरोसा नहीं किया जा सकता कैप्टन अमरिंदर सिंह क्या पंजाब कांग्रेस के लिए सबसे बड़ी चुनौती बन सकते हैं - BBC News हिंदी

उधर कांग्रेस सूत्रों का कहना है कि पीके पार्टी में शामिल होंगे या नहीं ये उन्हें और कांग्रेस नेतृत्व को तय करना है, लेकिन कांग्रेस नेतृत्व ने अनौपचारिक तौर पर पीके से राय मशविरा करना शुरु कर दिया है। जिसकी झलक पार्टी संगठन में होने वाले बदलाव के फैसलों में देखी जा सकती है।

पंजाब में मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिदंर सिंह और नवनियुक्त प्रदेश अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू के बीच के विवाद का फिलहाल पटाक्षेप हो गया है और उत्तराखंड में पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत को अगले चुनाव में मुख्यमंत्री का चेहरा बनाने के साथ ही उनके हिसाब से संगठन की पूरी टीम बना दी गई है।अब राजस्थान में अशोक गहलोत और सचिन पायलट के बीच सुलह संवाद कराने और राज्य मंत्रिमंडल के विस्तार और फेरबदल की कवायद चल रही है। जल्दी ही राजस्थान से भी कांग्रेस को लेकर नेतृत्व की तरफ से निर्णायक कदम उठाए जाने की खबरें मिल सकती हैं। इसके फौरन बाद उत्तर प्रदेश को लेकर भी कोई बड़ा फैसला हो सकता है। पार्टी सूत्रों का कहना है कि यहां या तो प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू को बदला जाएगा या फिर उनके समानांतर किसी बड़े चेहरे को उत्तराखंड की तर्ज पर चुनाव प्रचार अभियान समिति का अध्यक्ष बनाकर मुख्यमंत्री का चेहरा बनाया जा सकता है और साथ ही कुछ कार्यकारी अध्यक्ष भी बनाए जा सकते हैं। headtopics.com

वैसे भी कांग्रेस अब एक बड़े बदलाव के दौर में प्रवेश कर चुकी है। दस जनपथ के एक बेहद भरोसेमंद सूत्र के मुताबिक अगर कभी भी पीके विधिवत पार्टी में शामिल हुए तो वह कांग्रेस अध्यक्ष के राजनीतिक सलाहकार की भूमिका में होंगे और आगे उन्हें राज्यसभा में भी भेजा जा सकता है। मुमकिन है कि पंजाब से उन्हें राज्यसभा में भेजा जाए या फिर तमिलनाडु से कांग्रेस उन्हें डीएमके के सहयोग से राज्यसभा में भेजे, क्योंकि प्रशांत किशोर ने इस बार ममता बनर्जी के साथ साथ डीएमके के चुनाव प्रचार अभियान और रणनीति का काम संभाला था और द्रमुक प्रमुख एम के स्टालिन से उनके अच्छे रिश्ते हैं। लेकिन पीके इस तरह की अटकलों को पूरी तरह बेबुनियाद बताते हैं।

पार्टी संगठन में संभावित बदलाव की जानकारी देने वाले सूत्रों का कहना है कि कांग्रेस ने जिस तरह पंजाब, उत्तराखंड और मणिपुर में कार्यकारी अध्यक्ष बनाए हैं और उत्तर प्रदेश में भी ऐसा करने की तैयारी है। मुमकिन है कि राष्ट्रीय स्तर पर भी पार्टी के संगठन को गति देने के लिए कांग्रेस में कुछ कार्यकारी अध्यक्ष या उपाध्यक्ष बनाए जा सकते हैं। सूत्रों के मुताबिक इनकी संख्या कम से कम चार से पांच हो सकती है जिनमें एक ब्राह्रण, एक पिछड़ा, एक दलित एक मुस्लिम और एक महिला को शामिल किया जाएगा। यह जानकारी देने वाले दस जनपथ के बेहद करीबी कांग्रेसी सूत्रों का कहना है कि राहुल गांधी चाहते हैं कि पीके विधिवत कांग्रेस में शामिल होकर पार्टी को मजबूत करने में उनकी मदद करें। राहुल को इस मुद्दे पर अपनी बहन और कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी का समर्थन भी प्राप्त है। लेकिन कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी का असमंजस है कि प्रशांत किशोर की कार्यशैली पार्टी के तमाम वरिष्ठ नेताओं को असहज कर सकती है। इसलिए सोनिया फिलहाल कांग्रेस को मजबूत करने के लिए पीके की भूमिका को धीरे-धीरे बढ़ाना चाहती हैं। उनका मानना है कि जब पीके के प्रयासों से कांग्रेस का ग्राफ बढ़ने लगे और राहुल गांधी की पार्टी और जनता पर पकड़ मजबूत होने लगे उस समय प्रशांत किशोर को पार्टी में कोई बड़ी भूमिका देनी चाहिए। उधर कांग्रेस के साथ 2017 में जुड़े पीके इस बार हर कदम फूंक-फूंक कर रखना चाहते हैं। उन्होंने अभी अपनी आगे की भूमिका पर कोई भी फैसला नहीं लिया है। अगले साल मार्च में होने वाले पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों में पीके किसी भी तरह की भूमिका निभाना नहीं चाहते हैं। वैसे भी वह चुनावी रणनीतिकार का अपना व्यवसायिक काम पूरी तरह छोड़ चुके हैं और राजनीति में आने या न आने का अंतिम फैसला उन्होंने नहीं किया है।

दस जनपथ के करीबी सूत्रों का यह भी कहना है कि पीके के कांग्रेस में शामिल होने की चर्चाएं भले ही अब चल रही हों लेकिन प्रशांत किशोर को 2017 में खुद कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने पार्टी में शामिल होकर राहुल गांधी को मजबूत करने के लिए बड़ी जिम्मेदारी निभाने का प्रस्ताव दिया था। लेकिन प्रशांत किशोर ने बेहद विनम्रता से यह कहा था अभी उनका राजनीति में सीधे आने का काई इरादा नहीं है और समय आने पर वह इस पर जरूर विचार करेंगे। यह उन दिनों की बात है जब पीके ने उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनावों में कांग्रेस के चुनाव प्रचार अभियान और रणनीति बनाने का काम संभाला था। यह अलग बात है कि पीके जिस रणनीति के तहत कांग्रेस का चुनाव अभियान चलाना चाहते थे, कांग्रेस के नेता तंत्र ने उसे चलने नहीं दिया और फिर जो हुआ वह सबके सामने है।

उन दिनों पीके से एक मुलाकात में मैने कहा था कि कांग्रेस के दिग्गज नेता ऐसा चक्रव्यूह रचेंगे कि उसमें अभिमन्यु की तरह फंसने का खतरा है। तब प्रशांत किशोर ने कहा था कि उन्हें कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी,उपाध्यक्ष राहुल गांधी और प्रियंका गांधी तीनों का भरोसा और विश्वास हासिल है, इसलिए उनके साथ ऐसा नहीं होगा। लेकिन आखिर में वही हुआ और उस झटके से बाहर निकलने में पीके को करीब तीन साल लगे। चुनावी रणनीतिकार के रूप में पीके अपने को कई बार साबित कर चुके हैं। उत्तर प्रदेश के एक अपवाद को छोड़कर उन्होंने हर राज्य में जहां भी काम संभाला अपनी कामयाबी के झंडे गाड़े। उनके आलोचक कहते हैं कि पीके हमेशा जीतने वाले का ही हाथ थामते हैं और सफल होते हैं, लेकिन ये अर्धसत्य है। पूर्ण सत्य ये है कि 2014 अगर देश ने नरेंद्र मोदी को जीतता हुआ देखना शुरु किया तो उसके पीछे पीके की चुनाव प्रचार अभियान की रणनीति का भी योगदान था। 2015 में नरेंद्र मोदी की तूफानी आंधी के मुकाबले बिहार में नीतीश लालू की जोड़ी की जीत पीके की प्रचार अभियान रणनीति का बड़ा योगदान था। headtopics.com

कानूनी ढांचे पर छलका CJI का दर्द: चीफ जस्टिस रमना बोले- देश में अब भी गुलामी के दौर की न्याय व्यवस्था, यह भारत के हिसाब से ठीक नहीं MP: फिर बोलीं उमा भारती, 'मध्य प्रदेश में शराबबंदी करवा कर रहूंगी' नोटबंदी का नहीं हुआ असर: NCRB की रिपोर्ट में खुलासा, महाराष्ट्र में एक साल में 83.61 करोड़ रुपए के फर्जी नोट बरामद हुए, देश में नकली करेंसी बरामदगी 190 प्रतिशत बढ़ी

इसी तरह अगर दूसरी बार दिल्ली में अरविंद केजरीवाल और पश्चिम बंगाल में तीसरी बार ममता बनर्जी अपनी सरकार के सत्ता विरोधी रुझान (एंटी इन्कंबेंसी) को अपने पक्ष में बदल सके और नरेंद्र मोदी और अमित शाह के नेतृत्व में भाजपा की आक्रामक चुनावी रणनीति के सामने टिके रहे तो उसमें भी प्रशांत किशोर के योगदान को कम करके नहीं आंका जा सकता। इसलिए पीके के अब अपनी योग्यता और क्षमता साबित करने के लिए किसी और परीक्षण की जरूरत नहीं रह गई है और सफल चुनावी रणनीतिकार के रूप में वह देश के नंबर एक ब्रांड बन चुके हैं। शायद इसलिए वह किसी जल्दबाजी में नहीं हैं और अपना फैसला बहुत ही सोच समझ कर लेना चाहते हैं।

लेकिन सवाल ये भी है कि अगर प्रशांत किशोर के साथ कांग्रेस के तीनों सर्वोच्च नेता सोनिया गांधी, राहुल गांधी और प्रियंका गांधी ने एक साथ बात की है तो जाहिर है यह बातचीत मौसम और खान पान पर तो नहीं हुई होगी। निश्चित रूप से इसका राजनीतिक एजंडा होगा और इसी पर बात हुई होगी। लेकिन क्योंकि इस मुलाकात के बारे में न तो कांग्रेस की तरफ से कोई अधिकृत जानकारी आई और न ही पीके ने कोई जानकारी दी है। जो भी खबरें मीडिया में अब तक आई हैं वह महज अनुमान या सूत्रों के हवाले से ही आई हैं और उनमें ज्यादातर का सार यही है कि प्रशांत किशोर कांग्रेस में शामिल हो सकते हैं और उन्हें कोई बड़ी जिम्मेदारी यानी कांग्रेस अध्यक्ष के राजनीतिक सलाहकार या सचिव जैसी भूमिका दी जा सकती है। यह भूमिका वो है जो कभी कांग्रेस के दिवंगत नेता अहमद पटेल और उसके पहले जितेंद्र प्रसाद के पास वर्षों तक रही है।

सवाल है कि अगर पीके कांग्रेस में शामिल होते हैं और उन्हें अहमद पटेल या जितेंद्र प्रसाद जैसी भूमिका मिलती है तो क्या कांग्रेस के तमाम दिग्गज नेता जिन्हें जी-23 भी कहा जाता है,और देश भर में फैले कांग्रेस संगठन के पदाधिकारी और कार्यकर्ता इस सहजता से स्वीकार करेंगे। क्योंकि जब से यह खबरें मीडिया में आ रही हैं तमाम कांग्रेसियों में बेचैनी और उत्सुकता दोनों है। जो मठाधीश हैं उन्हें डर है कि पार्टी के भीतर सत्ता के सूत्र उनके हाथ से खिसक जाएंगे। ऐसे ही एक मझोले कद के कांग्रेस नेता जो उत्तर प्रदेश से आते हैं लेकिन पार्टी से द्वारा खासे लाभान्वित हो चुके हैं, की प्रतिक्रिया है कि अगर पीके को ही पार्टी चलानी है तो उन्हें फिर कांग्रेस अध्यक्ष ही क्यों नहीं बना दिया जाता। इस नेता का कहना है कि जिस दिन पीके के कांग्रेस में शामिल होने और उन्हें अहमद पटेल की भूमिका देने का ऐलान होगा उस दिन वह यह बयान दे देंगे कि पीके को कांग्रेस अध्यक्ष ही बना दिया जाए।

लेकिन दूसरी तरफ जो कांग्रेसी किसी भी तरह पार्टी को मजबूत देखना चाहते हैं, उन्हें लगता है कि पार्टी में पिछले चालीस सालों से काबिज मौजूदा नेताओं की जमात थक चुकी है। इसलिए जैसे भी हो चाहे पीके कुछ करिश्मा करें या कोई और कांग्रेस को मजबूत होना चाहिए और उसकी सत्ता वापसी होनी चाहिए। इन जमीनी कार्यकर्ताओं को इससे कोई मतलब नहीं है कि कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी या राहुल गांधी के सलाहकार एपी की जगह पीके हो जाएं लेकिन कांग्रेस आगे बढ़नी चाहिए। पश्चिमी उत्तर प्रदेश के बागपत जिले से आने वाले एक जमीनी कांग्रेसी कार्यकर्ता का कहना है कि जब बीमारी ज्यादा बढ़ जाती है तो इलाज के लिए विदेशों से भी डाक्टर और विशेषज्ञ बुलाए जाते हैं। इसलिए अगर कांग्रेस को स्वस्थ करने और सत्ता में लाने के लिए पार्टी नेतृत्व पीके जैसे सफल विशेषज्ञ को जिम्मेदारी देता है तो यह बहुत अच्छी बात होगी।कुल मिलाकर प्रशांत किशोर कांग्रेस में शामिल भले ही न हुए हों लेकिन उनका असर कांग्रेस और कांग्रेसियों पर साफ दिखाई पड़ रहा है। headtopics.com

विस्तारचुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर के कांग्रेस में शामिल होने की अटकलें फिलहाल अब खत्म हो गई हैं। क्योंकि जहां कांग्रेस ने न इसकी पुष्टि की न खंडन किया लेकिन प्रशांत किशोर ने इन सारी अटकलों को खारिज करते हुए साफ किया है कि अभी वह किसी भी तरह की राजनीतिक गतिविधि में शामिल नहीं हैं और न ही 2022 के प्रारंभ में होने वाले पांच राज्यों के चुनावों में उनकी कोई प्रत्यक्ष या अप्रत्यक्ष भूमिका होगी। साथ ही उन्होंने यह भी कहा चाहे पंजाब का मामला हो या कोई और मसला, कांग्रेस के किसी भी फैसले में उनकी कोई भूमिका न पर्दे के पीछे है और न ही पर्दे के बाहर। प.बंगाल चुनाव के नतीजों के बाद दो मई को उन्होंने जो घोषणा की थी वह पूरी तरह उस पर कायम हैं और अब जब भी कोई फैसला लेंगे तो उसकी सार्वजनिक घोषणा करेंगे। पीके ने कहा कि आगे राजनीति में सक्रिय होंगे या नहीं होंगे इसका अभी तक उन्होंने कोई फैसला नहीं किया है।

विज्ञापनउधर कांग्रेस सूत्रों का कहना है कि पीके पार्टी में शामिल होंगे या नहीं ये उन्हें और कांग्रेस नेतृत्व को तय करना है, लेकिन कांग्रेस नेतृत्व ने अनौपचारिक तौर पर पीके से राय मशविरा करना शुरु कर दिया है। जिसकी झलक पार्टी संगठन में होने वाले बदलाव के फैसलों में देखी जा सकती है।

Punjab New CM: सुनील जाखड़, सिद्धू या फिर कोई और? पंजाब CM पद की रेस में ये नाम चल रहे सबसे आगे Exclsuive: दिल्ली पुलिस, R&AW और CIA के सीक्रेट ऑपरेश में मारे गए थे 600 आतंकी बीजेपी को सिर्फ तीन बातों से मतलब- हिंदू, मुस्लिम और पाकिस्तान: अभिषेक बनर्जी

पंजाब में मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिदंर सिंह और नवनियुक्त प्रदेश अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू के बीच के विवाद का फिलहाल पटाक्षेप हो गया है और उत्तराखंड में पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत को अगले चुनाव में मुख्यमंत्री का चेहरा बनाने के साथ ही उनके हिसाब से संगठन की पूरी टीम बना दी गई है।अब राजस्थान में अशोक गहलोत और सचिन पायलट के बीच सुलह संवाद कराने और राज्य मंत्रिमंडल के विस्तार और फेरबदल की कवायद चल रही है। जल्दी ही राजस्थान से भी कांग्रेस को लेकर नेतृत्व की तरफ से निर्णायक कदम उठाए जाने की खबरें मिल सकती हैं। इसके फौरन बाद उत्तर प्रदेश को लेकर भी कोई बड़ा फैसला हो सकता है। पार्टी सूत्रों का कहना है कि यहां या तो प्रदेश अध्यक्ष अजय कुमार लल्लू को बदला जाएगा या फिर उनके समानांतर किसी बड़े चेहरे को उत्तराखंड की तर्ज पर चुनाव प्रचार अभियान समिति का अध्यक्ष बनाकर मुख्यमंत्री का चेहरा बनाया जा सकता है और साथ ही कुछ कार्यकारी अध्यक्ष भी बनाए जा सकते हैं।

वैसे भी कांग्रेस अब एक बड़े बदलाव के दौर में प्रवेश कर चुकी है। दस जनपथ के एक बेहद भरोसेमंद सूत्र के मुताबिक अगर कभी भी पीके विधिवत पार्टी में शामिल हुए तो वह कांग्रेस अध्यक्ष के राजनीतिक सलाहकार की भूमिका में होंगे और आगे उन्हें राज्यसभा में भी भेजा जा सकता है। मुमकिन है कि पंजाब से उन्हें राज्यसभा में भेजा जाए या फिर तमिलनाडु से कांग्रेस उन्हें डीएमके के सहयोग से राज्यसभा में भेजे, क्योंकि प्रशांत किशोर ने इस बार ममता बनर्जी के साथ साथ डीएमके के चुनाव प्रचार अभियान और रणनीति का काम संभाला था और द्रमुक प्रमुख एम के स्टालिन से उनके अच्छे रिश्ते हैं। लेकिन पीके इस तरह की अटकलों को पूरी तरह बेबुनियाद बताते हैं।

पार्टी संगठन में संभावित बदलाव की जानकारी देने वाले सूत्रों का कहना है कि कांग्रेस ने जिस तरह पंजाब, उत्तराखंड और मणिपुर में कार्यकारी अध्यक्ष बनाए हैं और उत्तर प्रदेश में भी ऐसा करने की तैयारी है। मुमकिन है कि राष्ट्रीय स्तर पर भी पार्टी के संगठन को गति देने के लिए कांग्रेस में कुछ कार्यकारी अध्यक्ष या उपाध्यक्ष बनाए जा सकते हैं। सूत्रों के मुताबिक इनकी संख्या कम से कम चार से पांच हो सकती है जिनमें एक ब्राह्रण, एक पिछड़ा, एक दलित एक मुस्लिम और एक महिला को शामिल किया जाएगा। यह जानकारी देने वाले दस जनपथ के बेहद करीबी कांग्रेसी सूत्रों का कहना है कि राहुल गांधी चाहते हैं कि पीके विधिवत कांग्रेस में शामिल होकर पार्टी को मजबूत करने में उनकी मदद करें। राहुल को इस मुद्दे पर अपनी बहन और कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी का समर्थन भी प्राप्त है। लेकिन कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी का असमंजस है कि प्रशांत किशोर की कार्यशैली पार्टी के तमाम वरिष्ठ नेताओं को असहज कर सकती है। इसलिए सोनिया फिलहाल कांग्रेस को मजबूत करने के लिए पीके की भूमिका को धीरे-धीरे बढ़ाना चाहती हैं। उनका मानना है कि जब पीके के प्रयासों से कांग्रेस का ग्राफ बढ़ने लगे और राहुल गांधी की पार्टी और जनता पर पकड़ मजबूत होने लगे उस समय प्रशांत किशोर को पार्टी में कोई बड़ी भूमिका देनी चाहिए। उधर कांग्रेस के साथ 2017 में जुड़े पीके इस बार हर कदम फूंक-फूंक कर रखना चाहते हैं। उन्होंने अभी अपनी आगे की भूमिका पर कोई भी फैसला नहीं लिया है। अगले साल मार्च में होने वाले पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों में पीके किसी भी तरह की भूमिका निभाना नहीं चाहते हैं। वैसे भी वह चुनावी रणनीतिकार का अपना व्यवसायिक काम पूरी तरह छोड़ चुके हैं और राजनीति में आने या न आने का अंतिम फैसला उन्होंने नहीं किया है।

दस जनपथ के करीबी सूत्रों का यह भी कहना है कि पीके के कांग्रेस में शामिल होने की चर्चाएं भले ही अब चल रही हों लेकिन प्रशांत किशोर को 2017 में खुद कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने पार्टी में शामिल होकर राहुल गांधी को मजबूत करने के लिए बड़ी जिम्मेदारी निभाने का प्रस्ताव दिया था। लेकिन प्रशांत किशोर ने बेहद विनम्रता से यह कहा था अभी उनका राजनीति में सीधे आने का काई इरादा नहीं है और समय आने पर वह इस पर जरूर विचार करेंगे। यह उन दिनों की बात है जब पीके ने उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनावों में कांग्रेस के चुनाव प्रचार अभियान और रणनीति बनाने का काम संभाला था। यह अलग बात है कि पीके जिस रणनीति के तहत कांग्रेस का चुनाव अभियान चलाना चाहते थे, कांग्रेस के नेता तंत्र ने उसे चलने नहीं दिया और फिर जो हुआ वह सबके सामने है।

उन दिनों पीके से एक मुलाकात में मैने कहा था कि कांग्रेस के दिग्गज नेता ऐसा चक्रव्यूह रचेंगे कि उसमें अभिमन्यु की तरह फंसने का खतरा है। तब प्रशांत किशोर ने कहा था कि उन्हें कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी,उपाध्यक्ष राहुल गांधी और प्रियंका गांधी तीनों का भरोसा और विश्वास हासिल है, इसलिए उनके साथ ऐसा नहीं होगा। लेकिन आखिर में वही हुआ और उस झटके से बाहर निकलने में पीके को करीब तीन साल लगे। चुनावी रणनीतिकार के रूप में पीके अपने को कई बार साबित कर चुके हैं। उत्तर प्रदेश के एक अपवाद को छोड़कर उन्होंने हर राज्य में जहां भी काम संभाला अपनी कामयाबी के झंडे गाड़े। उनके आलोचक कहते हैं कि पीके हमेशा जीतने वाले का ही हाथ थामते हैं और सफल होते हैं, लेकिन ये अर्धसत्य है। पूर्ण सत्य ये है कि 2014 अगर देश ने नरेंद्र मोदी को जीतता हुआ देखना शुरु किया तो उसके पीछे पीके की चुनाव प्रचार अभियान की रणनीति का भी योगदान था। 2015 में नरेंद्र मोदी की तूफानी आंधी के मुकाबले बिहार में नीतीश लालू की जोड़ी की जीत पीके की प्रचार अभियान रणनीति का बड़ा योगदान था।

इसी तरह अगर दूसरी बार दिल्ली में अरविंद केजरीवाल और पश्चिम बंगाल में तीसरी बार ममता बनर्जी अपनी सरकार के सत्ता विरोधी रुझान (एंटी इन्कंबेंसी) को अपने पक्ष में बदल सके और नरेंद्र मोदी और अमित शाह के नेतृत्व में भाजपा की आक्रामक चुनावी रणनीति के सामने टिके रहे तो उसमें भी प्रशांत किशोर के योगदान को कम करके नहीं आंका जा सकता। इसलिए पीके के अब अपनी योग्यता और क्षमता साबित करने के लिए किसी और परीक्षण की जरूरत नहीं रह गई है और सफल चुनावी रणनीतिकार के रूप में वह देश के नंबर एक ब्रांड बन चुके हैं। शायद इसलिए वह किसी जल्दबाजी में नहीं हैं और अपना फैसला बहुत ही सोच समझ कर लेना चाहते हैं।

लेकिन सवाल ये भी है कि अगर प्रशांत किशोर के साथ कांग्रेस के तीनों सर्वोच्च नेता सोनिया गांधी, राहुल गांधी और प्रियंका गांधी ने एक साथ बात की है तो जाहिर है यह बातचीत मौसम और खान पान पर तो नहीं हुई होगी। निश्चित रूप से इसका राजनीतिक एजंडा होगा और इसी पर बात हुई होगी। लेकिन क्योंकि इस मुलाकात के बारे में न तो कांग्रेस की तरफ से कोई अधिकृत जानकारी आई और न ही पीके ने कोई जानकारी दी है। जो भी खबरें मीडिया में अब तक आई हैं वह महज अनुमान या सूत्रों के हवाले से ही आई हैं और उनमें ज्यादातर का सार यही है कि प्रशांत किशोर कांग्रेस में शामिल हो सकते हैं और उन्हें कोई बड़ी जिम्मेदारी यानी कांग्रेस अध्यक्ष के राजनीतिक सलाहकार या सचिव जैसी भूमिका दी जा सकती है। यह भूमिका वो है जो कभी कांग्रेस के दिवंगत नेता अहमद पटेल और उसके पहले जितेंद्र प्रसाद के पास वर्षों तक रही है।

सवाल है कि अगर पीके कांग्रेस में शामिल होते हैं और उन्हें अहमद पटेल या जितेंद्र प्रसाद जैसी भूमिका मिलती है तो क्या कांग्रेस के तमाम दिग्गज नेता जिन्हें जी-23 भी कहा जाता है,और देश भर में फैले कांग्रेस संगठन के पदाधिकारी और कार्यकर्ता इस सहजता से स्वीकार करेंगे। क्योंकि जब से यह खबरें मीडिया में आ रही हैं तमाम कांग्रेसियों में बेचैनी और उत्सुकता दोनों है। जो मठाधीश हैं उन्हें डर है कि पार्टी के भीतर सत्ता के सूत्र उनके हाथ से खिसक जाएंगे। ऐसे ही एक मझोले कद के कांग्रेस नेता जो उत्तर प्रदेश से आते हैं लेकिन पार्टी से द्वारा खासे लाभान्वित हो चुके हैं, की प्रतिक्रिया है कि अगर पीके को ही पार्टी चलानी है तो उन्हें फिर कांग्रेस अध्यक्ष ही क्यों नहीं बना दिया जाता। इस नेता का कहना है कि जिस दिन पीके के कांग्रेस में शामिल होने और उन्हें अहमद पटेल की भूमिका देने का ऐलान होगा उस दिन वह यह बयान दे देंगे कि पीके को कांग्रेस अध्यक्ष ही बना दिया जाए।

लेकिन दूसरी तरफ जो कांग्रेसी किसी भी तरह पार्टी को मजबूत देखना चाहते हैं, उन्हें लगता है कि पार्टी में पिछले चालीस सालों से काबिज मौजूदा नेताओं की जमात थक चुकी है। इसलिए जैसे भी हो चाहे पीके कुछ करिश्मा करें या कोई और कांग्रेस को मजबूत होना चाहिए और उसकी सत्ता वापसी होनी चाहिए। इन जमीनी कार्यकर्ताओं को इससे कोई मतलब नहीं है कि कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी या राहुल गांधी के सलाहकार एपी की जगह पीके हो जाएं लेकिन कांग्रेस आगे बढ़नी चाहिए। पश्चिमी उत्तर प्रदेश के बागपत जिले से आने वाले एक जमीनी कांग्रेसी कार्यकर्ता का कहना है कि जब बीमारी ज्यादा बढ़ जाती है तो इलाज के लिए विदेशों से भी डाक्टर और विशेषज्ञ बुलाए जाते हैं। इसलिए अगर कांग्रेस को स्वस्थ करने और सत्ता में लाने के लिए पार्टी नेतृत्व पीके जैसे सफल विशेषज्ञ को जिम्मेदारी देता है तो यह बहुत अच्छी बात होगी।कुल मिलाकर प्रशांत किशोर कांग्रेस में शामिल भले ही न हुए हों लेकिन उनका असर कांग्रेस और कांग्रेसियों पर साफ दिखाई पड़ रहा है।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?हांखबर की भाषा और शीर्षक से आप संतुष्ट हैं?हांखबर के प्रस्तुतिकरण से आप संतुष्ट हैं?हांखबर में और अधिक सुधार की आवश्यकता है? और पढो: Amar Ujala »

अलका लांबा के बोल: पति की संपत्ति हड़पने वाली, बाजारू औरत और न जाने क्या-क्या सुनना पड़ा, पर पॉलिटिक्स में डटी रही

मैं महिला थी इसलिए सदन में बाजारू कहा गया, मैं महिला थी इसलिए पति की संपत्ति हड़पने वाली कहा गया, मैं सिंगल मदर हूं, इसलिए दुनिया के सामने मातृत्व का सबूत देना पड़ता है, पुरुषों से भरी राजनीति से तंग आई तो घर में खुद को सिकोड़ने की कोशिश भी की, लेकिन पार्टी ने मुझे घर में रहने नहीं दिया और फिर से कांग्रेस में सक्रिय हुई। पिछले 27 सालों से राजनीति में सक्रिय अलका लांबा ने ये बातें भास्कर वुमन से सा... | अलका लांबा राजनीति में एक बड़ा नाम हैं, लेकिन यहां तक पहुंचने का सफर कांटों से भरा रहा। आज बात अलका लांबा के निजी और राजनीतिक सफर की।

PrashantKishor INCIndia RahulGandhi MamataOfficial VinodAgnihotri7 जब पीके इतने समर्थवान हे जो गधे को भी चुनाव जिताने की छमता रखते हे खुद ही क्यों नही सभी 548 सीटें जीतकर प्रधानमंत्री बन जाएं PrashantKishor INCIndia RahulGandhi MamataOfficial VinodAgnihotri7 राजनीति का पहला सबक है झूठ बोलना जो बहुत अच्छे से सीख लिया.... ' गुड़ खाए, गुलगुले से परहेज करे ' देखना कहीं कुमार विश्वास की तरह राजनैतिक अछूत न बन जाना... कांग्रेस की सदस्यता लेने में क्या समस्या है?

PrashantKishor INCIndia RahulGandhi MamataOfficial VinodAgnihotri7 पीके अगर अच्छा रणनीतिकार होता तो मोदी सरकार 2019 में पुनः न आती, तब पीके कांग्रेस का रणनीति कार था ! योगी 2017 में यूपी न जीतते, तब पीके कांग्रेस का यूपी में रणनीति कार था! बिल्ली के भाग्य से छीका टूटा, बंगाल में TMC जीत गई, सिर्फ इत्तेफाक है, पीके की रणनीति नही

PrashantKishor INCIndia RahulGandhi MamataOfficial VinodAgnihotri7 Dalaal se raajniti nahi hogi...dalaali hoti rahegi. PrashantKishor INCIndia RahulGandhi MamataOfficial VinodAgnihotri7 Meenakshi Lekhi: 'Pegasus सिर्फ़ आतंकवादी, माओवादी लेफ्टियेस पर इस्तमाल करने के लिए है।' चाकू से सब्ज़ी काटने Operation और Murder तक होता है। Drone से बाड़ की तस्वीरें, लोगो पर निगाहें और Bom के हमले तक होते हैं तो Pegasus से भी क्या-क्या हो सकता है?

दिल्ली के तरह लखनऊ घेरने के एलान के साथ किसानों का मिशन उत्तर प्रदेश का आगाजउत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में अब किसान संगठनों ने भी अपनी ताल ठोंक दी है। आज लखनऊ में संयुक्त किसान मोर्चा के नेताओं ने उत्तर प्रदेश में किसान आंदोलन को और तेज करने का एलान किया। इसके साथ भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने दिल्ली की तरह उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ घेरने का भी एलान किया है।

हैदराबादः गृह मंत्री के काफिले को रास्ता देने के लिए दो एंबुलेंसों को रोकातेलंगाना की राजधानी हैदराबाद में गृह मंत्री के काफिले को रास्ता देने के लिए दो एंबुलेंसों को रोक दिया गया। वीआईपी काफिले की वजह से एंबुलेंस को रोकने का वीडियो सामने आने पर लोगों ने हैदराबाद ट्रैफिक पुलिस को आड़े हाथों लिया।

गाजियाबाद के मोदीनगर में युवक की गला रेतकर हत्या, गन्ने के खेत में मिला शवगाजियाबाद के मोदीनगर की कादराबाद चौकी क्षेत्र रोरी ग्राम की रेलवे क्रॉसिंग के पास गन्ने के खेत में 25 वर्षीय सुशील भारद्वाज का शव मिला. वह कृष्णापुरी मोदीनगर के रहने वाले थे. इसकी सूचना किसान श्याम पाल ने पुलिस को फोन करके दी. पुलिस ने मौके पर पहुंचकर शव को कब्जे में लेकर पोस्टमॉर्टम के लिए जिला अस्पताल भेज दिया है. TanseemHaider शव की शिनाख्त हो गयी है शव को पोस्टमार्टम हेतु भिजवाया गया है , थाना मोदीनगर पर अभियोग पंजीकृत कर घटना के अनावरण हेतु टीमे गठित की गई है ।

UP: गन्ने के खेत में बैठे अजगर ने निगला हिरण का बच्चा, ग्रामीणों के उड़े होशग्रामीणों द्वारा मिली जानकारी के आधार पर मौके पर पहुंचे दुधवा टाइगर रिजर्व और वन विभाग के अधिकारियों कर्मचारियों ने देखा तो गन्ने के खेत में करीब डेढ़ कुंतल वजन का अजगर एक हिरण के बच्चे को निगल कर बैठा हुआ था. LIKE SUBSCRIBE AND SHARE WEDDELL SEAL via YouTube After reading this news, Now I can end my weekend and sleep calmly....😴 WONDERFUL

'गांव-गांव श्मशान घाट बनवाएंगे', Nitish के मंत्री के बयान पर बवालबिहार में शमशान को लेकर सियासी शोर तेज हो रहा है. सरकार और विपक्ष इस मसले पर आमने सामने है. दरअसल, बिहार सरकार में मंत्री सम्राट चौधरी ने बयान दिया है कि हम हर गांव में श्मशान बनाएंगे. नीतीश के मंत्री ने आगे कहा कि लोग कब्रिस्तान बनाते हैं और श्मशान भूल जाते हैं. लेकिन हम 85 प्रतिशत आबादी को भूल जाएं, ये हो नहीं सकता. वहीं इस बयान पर विपक्ष हमला करने से नहीं चूका. आरजेडी विधायक मुकेश रौशन ने कहा कि जहां अस्पताल की जरूरत है, वहां सरकार श्मसान बनाने की कोशिश कर रही है. आरजेडी विधायक ने कहा कि हम बिहार में श्मशान नहीं बनाने देंगे. देखिए ये वीडियो. Mukhiya ji maalamaal ho jayenge बहुत खूब भाई और कुछ हो न हो पर ये सोच तो सब काम ठीक कर देगी। जिंदगी भर पेट खाना,रहने के लिए जगह और बिमारी के लिए अस्पताल और पढ़ाई के लिए स्कूल बनाने की जरूरत नहीं। मरने पर सही जगह वाह।

PM मोदी के अनुकूल नहीं चल रहे CM योगी की सरकार- बोले VIP के सहनीवीआईपी चीफ मुकेश सहनी का यह बयान सियासी तौर पर खासा मायने रखता है। ऐसा इसलिए, क्योंकि बिहार में एनडीए गठबंधन (BJP + JDU + VIP) में उनकी पार्टी भी हिस्सा है। 'डकैतो॔ का क्या काम ?' *** ओबीसी के साथ अन्याय है