Kerala, Uttrakhand, Flood, Storm, Death, Crop, Westage

Kerala, Uttrakhand

कुदरत का कहर

कुदरत का कहर

20-10-2021 00:20:00

कुदरत का कहर

केरल और उत्तराखंड सहित देश के कई राज्यों से कुदरती कहर की जो तस्वीरें सामने आ रही हैं, वे रोंगटे खड़े कर देती हैं।

अरबों की संपत्ति का नुकसान हुआ, सो अलग। ऐसा भी नहीं है कि इस तरह की प्राकृतिक आपदा का सामना हमें पहली बार करना पड़ रहा है। लगातार बारिश से जान-माल के नुकसान की घटनाएं होती ही रही हैं। फर्क अब सिर्फ यह आया है कि पहले के मुकाबले ऐसी आपदाओं की तीव्रता कई गुना बढ़ गई है। इसलिए ये ज्यादा घातक साबित हो रही हैं। चिंता की बात तो यह है कि जब हमारे पास मौसम की चेतावनी देने वाला संपूर्ण और पुख्ता वैज्ञानिक तंत्र है, तब भी हम तबाही का मंजर देखने को मजबूर हैं। इस तबाही का एक बड़ा कारण यह है कि हम पिछली आपदाओं से कोई सबक नहीं ले रहे।

अखिलेश यादव से मिलने पहुंचे भीम आर्मी चीफ चंद्रशेखर, गठबंधन पर हो सकती है बात त्रिपुरा नगर निकाय चुनावों में बीजेपी का दबदबा, टीएमसी बना मुख्य विपक्षी दल - BBC Hindi CM Yogi Visit: देवरिया में बोले सीएम योगी आदित्यनाथ, टीईटी परीक्षा में धांधली करने वालों के घरों पर चलेगा बुलडोजर

भारत ही नहीं, दुनिया के ज्यादातर देश जलवायु संकट से जूझ रहे हैं। वैश्विक तापमान बढ़ने से मौसम चक्र भी गड़बड़ा गया है। पिछले कुछ सालों में तो भारी बारिश ने कई देशों में तबाही मचाई है। फ्रांस, जर्मनी सहित कई यूरोपीय देशों में हाल में जिस तरह की बारिश और बाढ़ आई, उसने सदियों पुराने रेकार्ड तोड़ डाले। यही सब हम अपने यहां भी देख रहे हैं।

हिमाचल प्रदेश और उत्तराखंड में बादल फटने की घटनाएं जिस तेजी से बढ़ी हैं, वह खतरे की घंटी है। बिजली गिरने की घटनाएं भी बढ़ी हैं। हर साल कई लोग इसके शिकार होते हैं। इसलिए जरूरी है कि हम इन कुदरती घटनाओं को हादसे से ज्यादा सबक के रूप में लें, तभी इनसे पार पा पाएंगे। गौरतलब है कि धरती का पर्यावरण बेहद खराब हो चुका है। धरती को बचाने के लिए पर्यावरण विज्ञानी चेतावनियां जारी कर रहे हैं। वनों के घटते क्षेत्रफल से लेकर समुद्रों के पिघलने की दर सबको डरा रही है। ऐसे में बड़ा सवाल यही है कि हम प्राकृतिक आपदाओं से निजात कैसे पाएं? headtopics.com

यह सही है कि प्राकृतिक आपदाओं की रफ्तार और तीव्रता बढ़ी है। लेकिन इससे भी ज्यादा गंभीर संकट यह खड़ा हो गया है कि मानव जनित समस्याएं इन्हें और उग्र बना दे रही हैं। उत्तराखंड और हिमाचल प्रदेश जैसे पहाड़ी राज्यों में जिस तरह से निर्माण गतिविधियां बढ़ी हैं, उससे भी संकट बढ़ा है। पहाड़ों में खनन और कटाई से लेकर दूसरी मशीनी गतिविधियां घातक ही साबित हुई हैं।

पहाड़ी इलाकों में बाढ़ और नदियों के उफान की घटनाओं के पीछे बड़ा कारण नदियों का प्रवाह रुक जाना है। पहाड़ों पर बहुमंजिला इमारतें बनाना कितना खतरनाक सिद्ध हुआ है, यह हमने देख ही लिया। केरल जैसे तटीय राज्यों में तटों के किनारे बढ़ता अतिक्रमण संकट का कारण बनता जा रहा है। सवाल यह है कि आखिर लोगों को नदियों के किनारे बड़े-बड़े निर्माण करने ही क्यों दिए जाते हैं। ऐसी आपदाओं का समाधान सिर्फ मुआवजा बांटने से नहीं होता, यह तो एक फौरी मदद भर होती है। कुदरत के कहर से मुक्ति पाने के लिए ऐसी ठोस नीतियों पर काम होना चाहिए जो लोगों को मरने से बचा सकें।

और पढो: Jansatta »

वारदात: तेज हो गई समीर-नवाब की तकरार, क्या है स्कूल सर्टिफिकेट की सच्चाई?

नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) के मुंबई के जोनल हेड समीर वानखेड़े के बर्थ सर्टिफिकेट और मैरिज सर्टिफिकेट के बाद महाराष्ट्र सरकार में मंत्री नवाब मलिक कथित रूप से उनके ये दो नए सर्टिफिकेट लेकर आए हैं. नवाब मलिक के मुताबिक समीर दादर के सेंट पॉल हाईस्कूल से प्राथमिक शिक्षा ली थी. इस सर्टिफिकेट में समीर वानखेड़े का नाम वानखेड़े समीर दाऊद लिखा है. यहां ये भी लिखा है कि छात्र की जाति और उपजाति तभी बताई जाए जब वो पिछड़े वर्ग, या अनुसूचचित जाति-जनजाति से आए. जबकि धर्म के कॉलम में लिखा है मुस्लिम. इसके बाद समीर वडाला के सेंट जॉसेफ हाईस्कूल में पढने गए. यहां के स्कूल लीविंग सर्टिफिकेट में समीर का नाम वानखेड़े समीर दाऊद लिखा है. और धर्म के कॉलम में लिखा है मुस्लिम. दरअसल नवाब मलिक समीर वानखेड़े को मुसलमान साबित करने के लिए इसलिए जुटे हैं क्योंकि अगर उनकी बात सही साबित हो गई तो समीर वानखेड़े के नौकरी खतरे में पड़ जाएगी. देखें वीडियो.

केरल में बारिश का कहर जारी, 10 बांध के लिए रेड अलर्ट, सबरीमला यात्रा रोकी गईकेरल के दो ज़िलों- कोट्टायम और इडुक्की में भारी बारिश और भूस्खलन की घटनाओं में रविवार तक 22 लोगों की मौत हो गई. ख़राब मौसम के कारण इडुक्की के पहाड़ी इलाकों में यात्रा पर प्रतिबंध लगा दिया गया है. भारत मौसम विज्ञान विभाग ने 20 से 24 अक्टूबर तक मौसम के और ख़राब होने का अनुमान लगाया है.

सड़कों पर सैलाब, Landslide में फंसे यात्री, देखें Uttarakhand में मौसम का कहरउत्तराखंड में भारी बारिश की वजह से 5 लोगों की मौत हो गई है. आज भी राज्य में अलर्ट है. उत्तराखंड में कुदरत के कहर को देखते हुए धामी सरकार अलर्ट है. देहरादून में सीएम पुष्कर सिंह धामी खुद ही मोर्चा संभालते हुए बीती रात स्टेट डिजास्टर कंट्रोल रुम पहुंच गए. अधिकारियों के साथ बात की, जिले में तैनात अधिकारियों को जरुरी निर्देश दिए. वहीं सीएम धामी को गृहमंत्री अमित शाह ने हर संभव मदद का भरोसा दिया. फिलहाल लोग बारिश थमने का इंतजार कर रहे हैं ताकि जिंदगी पटरी पर लौट सके. ज्यादा जानकारी के लिए देखें वीडियो. बहुत ही खूबसूरत नज़ारा मेरे गाँव का ❤️

Uttarakhand Disaster live Updates : उत्‍तराखंड में बारिश का कहर, कई लोगों की मौत, दर्जनों मकान जमींदोजUttarakhand Disaster live Updates उत्‍तराखंड में बीते 48 घंटे से हो रही बारिश ने कहर मचा दिया है। नैनीताल का संपर्क जहां देश-दुनिया से कट गया है वहीं भूस्‍खलन के कारण कई लोगों की मौत हो गई है कई मकान मलबे की चपेट में आकर जमींदोज हो गए हैं।

उत्तराखंड के चम्पावत में बारिश का कहर, बाढ़ में फंसे 2400 लोगों को किया गया रेस्क्यूचम्पावत। उत्तराखंड के चम्पावत में आफत की बारिश ने एक बार फिर से जहन में 2013 की यादें ताजा कर दी है। चम्पावत जिले के बीते दो दिनों से मूसलाधार बारिश हो रही है, जिसके चलते टनकपुर में शारदा नदी ने विकराल रूप धारण कर लिया है।

जारी है बारिश का कहर: उत्तराखंड में 5 लोगों की मौत, उफान में बह गया नदी का पुल; केरल में खोले गए बांध के गेटदेशभर में बारिश का कहर जारी है। उत्तराखंड से लेकर केरल तक भारी बारिश के चलते लोगों को काफी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। बाढ़ और भूस्खलन के चलते कई लोगों की जिंदगी खतरे में आ गई है। इसी बीच उत्तराखंड के बद्रीनाथ नेशनल हाईवे से एक वीडियो सामने आया है। | Uttarakhand Kerala Rain News Update; Badrinath National Highway Rescue Video Goes Viral| उत्तराखंड में 5 लोगों की मौत; बद्रीनाथ में पत्थरों के बीच फंसी कार को क्रेन से निकाला गया उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने भारी बारिश से प्रभावित इलाकों का हवाई सर्वेक्षण किया। बाद में उन्होंने रुद्रप्रयाग पहुंचकर नुकसान के आकलन की समीक्षा की। pushkardhami मेरे बेटे ने अपना एक यूट्यूब चैनल बनाया है। *Facts With Shubh* अभी बह उम्र में बहुत छोटा है, आपसे निवेदन है कि आप सभी लोग, उसके चेनल को Subscribe जरूर करे, लिंक पंजाब पहले ही से भारी कर्ज़ में डूबा है। इस तरह की राजनीति से कर्ज और बढ़ेगा।अंततः चुकाना जनता को ही पड़ेगा

मानसून बाद बारिश का कहर: केरल में अब तक 26 की मौत, दक्षिण भारत से लेकर मप्र तक मुसीबत, जानिए देश के मौसम का हालमानसून बाद बारिश का कहर: केरल में अब तक 26 की मौत, दक्षिण भारत से लेकर मप्र तक मुसीबत, जानिए देश के मौसम का हाल Kerala Flood s kerala rains