Pm Narendra Modi, Coronavirus, Coronavirus Deaths, Coronavirus Vaccine, Finance Minister Nirmala Sitharaman, Farmers, Covid-19, Lockdown İn İndia, वित्‍त मंत्री निर्मला सीतारमण, किसान, कोरोना वायरस, भारत में कोरोना वायरस, कोविड-19, लॉकडाउन, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

Pm Narendra Modi, Coronavirus

किसानों के लिए पांचों उंगलियां घी में और मुंह में शहद का मौका है ये!

लंबे समय से किसानों के हित में जिन सुधारों को किये जाने की मांग की जा रही थी, उन सुधारों को कोरोना काल में मोदी सरकार ने कर दिया है. पढ़ें वरिष्ठ पत्रकार ब्रजेश कुमार सिंह का ब्लॉग... @brajeshksingh

15-05-2020 20:59:00

लंबे समय से किसान ों के हित में जिन सुधारों को किये जाने की मांग की जा रही थी, उन सुधारों को कोरोना काल में मोदी सरकार ने कर दिया है. पढ़ें वरिष्ठ पत्रकार ब्रजेश कुमार सिंह का ब्लॉग... brajeshksingh

लंबे समय से किसान ों के हित में जिन सुधारों को किये जाने की मांग की जा रही थी, उन सुधारों को कोरोना काल में मोदी सरकार ने कर दिया है. इससे आने वाले वर्षों में किसान ों की आर्थिक सेहत ठीक होगी और वो तकनीक, नई सुविधाओं और नये नियमों को अपने हक में इस्तेमाल कर अपना मुनाफा भी बढ़ा सकेंगे. | News in Hindi - हिंदी न्यूज़, समाचार, लेटेस्ट-ब्रेकिंग न्यूज़ इन हिंदी

शेयर करें:वित्‍त मंत्री निर्मला सीतारमण ने आज किसानों के लिए बड़ा ऐलान किया है.वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण और उनके जूनियर मंत्री अनुराग ठाकुर ने किसानों, मछुआरों और पशुपालकों पर बड़ा और सकारात्मक असर डालने वाली बड़ी घोषणाएं आज कीं. एक तरफ जहां किसानों को उनकी फसल का उचित मूल्य मिल सके और इसके लिए उन्हें अपनी फसल को अपनी इच्छा के हिसाब से किसी को भी बेचने का अधिकार दिया गया है, तो दूसरी तरफ आवश्यक वस्तु अधिनियम में भी सुधार की तैयारी है, ताकि अनाज से लेकर तिलहन तक की अधिकतम मात्रा रखने के संबंध में जारी प्रतिबंध खत्म हो सके. एक राज्य से दूसरे राज्य में भी खाद्यान्नों का व्यापार अबाध ढंग से हो सकता है. यही नहीं, किसान अब अपनी फसल के लिए फूड प्रौसेसिंग इकाइयों, बड़े व्यापारियों और निर्यातकों से भी आसानी से समझौता कर सकते हैं और खेती में आने वाले खर्च के लिए वो इनकी मदद भी ले सकते हैं. इस व्यवस्था में उनकी तैयार होने वाली फसल के लिए भी रेडिमेड ग्राहक पहले से मौजूद रहेगा और वो भी पहले से दोनों के बीच हुई तय कीमत के मुताबिक.

कोरोना: 46 घंटे की ट्रेन यात्रा, सिर्फ दो बार खाना और तीन बार पानी ट्रंप ने फिर की मोदी की तारीफ, बोले- भारत के पीएम सज्जन व्यक्ति, मुझे हैं पसंद पूर्व प्रधानमंत्री महातिर को समर्थकों संग पार्टी से बाहर निकाला गया, संसद सत्र में विपक्षियों के साथ बैठे थे

कृषि क्षेत्र पर बारीक नजर रखने वाले लोग ये मानते हैं कि सरकार के इन फैसलों का दूरगामी परिणाम होगा, खास तौर पर आवश्यक वस्तु अधिनियम में बदलाव, एपीएमसी के जरिये बिक्री की अनिवार्यता को खत्म करना और किसानों को खेती के मामले में निजी क्षेत्र के लोगों से करार करने या फिर उनसे आर्थिक समझौते करने की इजाजत देने से.

देश के सर्वश्रेष्ठ मैनेजमेंट संस्थान आईआईएम अहमदाबाद के प्रोफेसर सतीश देवधर का मानना है कि किसानों को कृषि उत्पाद बाजार समिति यानी एपीएमसी के चंगुल से मुक्ति दिलाना बहुत जरूरी था. देवधर के मुताबिक एपीएमसी में मुट्ठी भर बड़े आढतिये ये तय कर लेते थे कि किसानों को उनकी फसल का क्या मूल्य देना है. किसानों के पास विकल्प नहीं थे. नई व्यवस्था में, जहां किसानों को रियल टाइम पर देश के अलग-अलग बाजारों में किसी भी कृषि उत्पाद का क्या भाव या मूल्य मिल रहा है, इसकी जानकारी अपने मोबाइल पर मिल सकती है. ऐस में वो अपने नजदीक के एपीएमसी में अपनी फसल को क्यों सस्ते में बेचने को मजबूर हों. अब किसान अपनी मर्जी के मुताबिक अपनी फसल को कही भी और किसी को भी बेचने के लिए स्वतंत्र हैं, जो बेहतर कदम है.

आईआईएम अहमदाबाद के प्रोफेसर सतीश देवधर का मानना है कि किसानों को कृषि उत्पाद बाजार समिति यानी एपीएमसी के चंगुल से मुक्ति दिलाना बहुत जरूरी था.इसी तरह आवश्यक वस्तु अधिनियम के दायरे से अनाज, तिलहन जैसे तमाम कृषि उत्पादों को बाहर निकालना भी विशेषज्ञ अच्छा कदम ही मान रहे हैं. प्रोफेसर देवधर का मानना है कि ये व्यवस्था तब की गई थी, जब देश में आवश्यक वस्तुओं की कमी थी, फसलें कम होती थीं, वैश्वीकरण का जमाना नहीं था और सरकार डर के मारे सामानों का संग्रह नही होने देती थी, उस दौर में जहां अनाज बेचने वाले बनिये समाज के सबसे बड़े खलनायक माने जाते थे, मदर इंडिया फिल्म के बनिये की तरह. देवधर के मुताबिक, जिस समय किसी सामान का उत्पादन नहीं होता है, उस समय अगर स्टॉकिस्ट और बड़े आढतिये उन सामानों को अपने पास संग्रह कर रखते हैं, तो बाजार अर्थव्यवस्था के मुताबिक उसकी कीमत कोई बढ़ेगी नहीं, बल्कि वस्तुओं की प्रचुर उपलबध्ता के कारण उसका मूल्य या भाव कम ही होगा. इसके उलट अभी तक की व्यवस्था में किसानों को किसी साल अपनी फसल सड़क पर फेकनी पड़ती थी, तो किसी साल डर के मारे कम उगाने से मुनाफा कमाने की गुंजाइश नहीं रहती थी.

न्यूनतम समर्थन मूल्य यानी एमएसपी का रोना रोने को भी विशेषज्ञ ठीक नहीं मानते. इतिहास गवाह है कि सरकारें न्यूनतम समर्थन मूल्य की घोषणा तो कर देती हैं, लेकिन अगर पूरी फसल को खुद खरीदती ही नहीं हैं, तो फिर उस न्यूनतम समर्थन मूल्य के होने का क्या अर्थ है. उल्टे इससे होता ये है किसान सरकारी खरीद का इंतजार करते-करते अपनी फसल खराब कर लेते हैं और बाद में निराश होकर औने-पौने दाम पर अपनी फसल बेचने को व्यापारियों को मजबूर हो जाते हैं. इससे बेहतर तो यही है कि किसान अपनी फसल का बेहतर मूल्य हासिल करने के लिए एडवांस में ही कांट्रैक्ट फार्मिंग के लिए जाएं, जैसा कि हिमाचल प्रदेश के सेब उगाने वाले किसान करते हैं. पहले ही करार के तहत उन्हें ये पता होता है कि उन्हें अपनी सेब का क्या मूल्य हासिल होने वाला है, जहां से बेहतर प्रस्ताव मिलता है, उस व्यापारी को अपना उत्पाद दे देते हैं. विशेषज्ञों का मानना है कि सरकार अगर सप्लाई चेन को ठीक कर दे और किसानों को अपने उत्पाद बेचने के लिए जरूरी बुनियादी संसाधन और तकनीकी प्लेटफार्म मुहैया करा दे तो किसान अपना काम खुद कर सकता है.

सरकार की भी यही सोच है और इसलिए कृषि क्षेत्र में आधारभूत ढांचा बढ़ाने पर भी जोर साफ दिख रहा है. प्रधानमंत्री मोदी तो लंबे समय से इसकी वकालत करते ही रहे हैं, उनके प्रधान सचिव पीके मिश्रा को भी इसका भली-भांति अंदाजा है, जो आईएएस की अपनी नियमित नौकरी के आखिरी पड़ाव पर देश के कृषि सचिव के तौर पर ही 2008 में रिटायर हुए थे और उस समय भी किसानों को उनकी फसल का उचित मूल्य मिले, इसके लिए खास व्‍यवस्‍था बनाने पर जोर दिया था. यही वजह है कि चाहे कृषि क्षेत्र में सप्लाई चेन को ठीक करने के लिए जरूरी आधारभूत ढांचा खड़ा करने की बात हो या फिर उत्पाद को बाजार तक पहुंचाने के लिए पहले उसे ढंग से रखना हो, सरकार ने एक लाख करोड़ रुपये का प्रावधान इसके लिए कर दिया है. कोरोना काल में देश की ज्यादातर नदियां साफ-सुथरी हो गई हैं. ऐसे में भारत की सबसे पवित्र नदी का दर्जा हासिल रखने वाली गंगा के दोनों किनारों पर औषधीय गुणों वाले पेड़ों का ग्रीन कवर बन सकता है अगर चार हजार करोड़ रुपये का ढंग से इस्तेमाल हो गया तो. इससे भी बड़ी तादाद में किसानों को फायदा होगा.भारत से समुद्री किनारों पर रहने वाले मछुआरों के जीवन में बड़ा बदलाव आ सकता है अगर प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना को ढंग से लागू कर दिया गया तो, जिस पर कुल बीस हजार करोड़ रुपये खर्च होने वाले हैं. गुजरात के मुख्यमंत्री के तौर पर नरेंद्र मोदी ने सागरखेड़ योजना ऐसे ही मछुआरों के जीवन स्तर को बेहतर करने के लिए शुरु की थी और अब वही योजना और उन्नत होकर पूरे देश के मछुआरों के कल्याण के लिए लागू होने जा रही है, जब वो देश के पीएम हैं.

दस हजार करोड़ रुपये माइक्रो फूड इंटरप्राइजेज को प्रोत्साहित करने के लिए खर्च होने वाले हैं यानी किसी शहर या जिले की सबसे मशहूर खाने-पीने की चीज देश भर में अपनी छाप छोड़ सकती है, माइक्रो से ग्लोबल हो सकती है. अगर बिहार के संदर्भ में ही देखा जाए तो मिथिलांचन इलाके में पैदा होने वाले मखाने से लेकर सिलांव का खाजा तक लोकल से ग्लोबल की राह पर आगे बढ़ सकता है अपने खास टेस्ट को, क्वालिटी मानकों को ठीक करते हुए और मार्केटिंग की चाशनी के साथ.

भाई हो तो ऐसा! अक्षय ने बहन को संक्रमण से बचाने के लिए बुक करा ली मुंबई-दिल्ली की पूरी फ्लाइट छत्तीसगढ़ के पूर्व मुख्यमंत्री अजीत जोगी का निधन, लंबे समय से थे बीमार मोदी सरकार 2.0 के एक साल : हिंदुत्व के पथ पर दौड़ता रथ, कोरोना वायरस ने लगाया ब्रेक

आज हुई घोषणाओं का सीधा असर पशुपालन उद्योग पर भी पड़ने वाला है. राष्ट्रीय पशु बीमारी नियंत्रण कार्यक्रम को लांच किया जा रहा है, जिस पर कुल मिलाकर 13343 करोड़ रुपये खर्च करने की योजना है. स्वाभाविक है कि पशुओं को होने वाली मुंह और पैर की बीमारी अगर इससे ठीक हो जाती है, तो उसका सीधा असर उनसे होने वाले फायदे पर पड़ेगा. अगर उदाहरण से समझा जाए, तो गाय और भैंसों में अगर ये बीमारी दूर हो जाती है, तो उनसे मिलने वाले दूध की मात्रा सीधे-सीधे बढ़ सकती है, जिसका सीधा फायदा किसानों को ही होगा.

देश की डेयरी इंडस्ट्री के लिए भी आज का दिन बेहतर साबित हुआ है. गाय और भैंस जैसे पशुओं की सेहत ठीक होने से इस उद्योग को तो फायदा होगा ही, एनिमल हसबैंड्री इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलपमेंट फंड का भी उसे सीधा फायदा होगा. मोदी सरकार इसके तहत 15000 करोड़ रुपये का विशेष फंड बनाने जा रही है. इस फंड का फायदा उठाकर देश की तमाम डेयरी अपनी प्रोसेसिंग क्षमता को बढ़ा सकती हैं. अगर डेयरी की प्रोसेसिंग क्षमता बढ़ती है, तो इसका सीधा असर रोजगार पर पड़ेगा, ज्यादा लोगों को काम मिलेगा.

दूध के उत्पादन के मामले में भारत दुनिया में सिरमौर है और भारत में दूध से बनने वाले तमाम उत्पादों की मार्केटिंग करने वाली सहकारी क्षेत्र की सबसे बड़ी संस्था है गुजरात मिल्क मार्केटिंग कोऑपरेटिव फेडरेशन यानी जीसीएमएमएफ. जीसीएमएमएफ के एमडी आर एस सोढ़ी बताते हैं कि अगर भारत में मिल्क प्रौसेसिंग की क्षमता बढ़ती है, तो इससे देश के ग्रामीण क्षेत्रों में बिना कृषि पर निर्भरता के बड़े पैमाने पर रोजगार के अवसर सृजित किये जा सकते हैं. सोढ़ी का मानना है कि मिल्क प्रोसेसिंग का मोटा अर्थशास्त्र ये है कि हर एक लाख लीटर की मिल्क प्रोसेसिंग से करीब छह हजार लोगों को रोजगार मिलता है, पांच हजार लोग ग्रामीण क्षेत्र में तो एक हजार लोग शहरी क्षेत्र में रोजगार पाते हैं.

सोढ़ी का मानना है विशेष फंड का फायदा उठाकर तेजी से मिल्क प्रोसेसिंग कैपेसिटी को बढ़ाया जा सकता है और कोरोना बाद के दौर में जहां लाखों मजदूर अपने गांवों में पहुंचे हुए हैं, उन्हें वहीं पर तेजी से रोजगार भी मुहैया कराया जा सकता है. आसानी से तीस लाख लोगों को ग्रामीण क्षेत्रों में इस तरह से रोजगार दिया जा सकता है.

डेयरी सेक्टर के लिए एक और अच्छी खबर वित्त मंत्री ने दी है. वो ये कि सरकार डेयरी सेक्टर में काम करने वाली सहकारी समितियों को दिये गये कर्ज में दो फीसदी ब्याज का भार खुद वहन करेगी, यानी अगर किसी दूध सहकारी संस्था ने सात फीसदी की दर से ब्याज ले रखा है, तो उसे पांच फीसदी ब्याज के हिसाब से ही रकम चुकानी होगी, दो फीसदी का बोझ इस वित्त वर्ष के दौरान खुद केंद्र सरकार वहन करेगी. ऐसा इसलिए किया जा रहा है क्योंकि कोरोना की वजह से हुए लॉकडाउन में दूध की मांग राष्ट्रीय स्तर पर बीस से पचीस फीसदी कम हो गई है और इससे किसानों को कोई नुकसान नहीं हो, इसके लिए सरकार ने ये विशेष प्रावधान किया है. इसकी वजह से करीब पांच हजार करोड़ रुपये ज्यादा सहकारी संस्थाओं के हाथ में आएंगे और जिसका फायदा देश के करीब दो करोड़ किसानों को होगा, जो सहकारी दूध मंडलियों से जुड़े हुए हैं.

हालांकि मजे की बात ये है कि लॉकडाउन में भी अगर आप अपना सप्लाई चेन ठीक रखें और इसे बेहतर ढंग से मैनेज कर सकें तो आप लॉकडाउन का भी फायदा उठा सकते हैं. जीसीएमएमएफ ने ये रास्ता भी दिखाया है. इस संस्था के एमडी आरएस सोढी के मुताबिक पचास दिन के लॉकडाउन में अमूल ने पैंतीस लाख लीटर ज्यादा दूध किसानों से लिया है, क्योंकि लॉकडाउन की वजह से घरों में बंद लोग ज्यादा दूध का इस्तेमाल करने लगे हैं. इसकी वजह से जीसीएमएमएफ ने पचास दिन में आठ सौ करोड़ रुपये का अतिरिक्त दूध किसानों से खरीदा है और इस दौरान कुल मिलाकर छह हजार करोड़ रुपये नकद में किसानों को दिया गया है उनकी दूध की कीमत के तौर पर.

कोरोना के दौर में बिहार में चुनाव की आहट, प्रवासी मज़दूर बने बड़ा मुद्दा Covid-19 Pandemic: मुंबई में कोरोना वायरस के कारण मुश्किल हालात, ICU के 99 फीसदी बेड भरे सांसद प्रज्ञा ठाकुर के पोस्टर लगे, लिखा- गुमशुदा की तलाश, कोरोना महामारी में भोपाल की जनता परेशान

जीसीएमएमएफ संस्था के एमडी आरएस सोढी के मुताबिक 50 दिन के लॉकडाउन में अमूल ने पैंतीस लाख लीटर ज्यादा दूध किसानों से लिया है.ये उदाहरण बताता है कि अगर कोरोना जैसी मुसीबत भी आ जाए, तो ग्रामीण अर्थव्यवस्था का एक बड़ा हिस्सा अप्रभावित रह सकता है और गांव के किसान अपना दूध बेचकर ज्यादा मुनाफा कमा सकते हैं. विशेष फंड की मदद से न सिर्फ मिल्क प्रोसेसिंग की क्षमता बढ़ेगी, बल्कि पशुओं को दी जाने वाली खली का निर्माण करने वाली फैक्ट्रियों की तादाद भी बढ़ेगी, जिसका फायदा किसानों को ही होगा, वो अपनी गायों और भैसों से ज्यादा दूध हासिल कर पाएंगे.

वित्त मंत्री की आज की घोषणाओं में एक और खास बात रही. वो ये कि मधुमक्खी पालन के लिए करीब पांच सौ करोड़ रुपये की व्यवस्था करने का. दूसरी घोषणाओं और योजनाओं की तुलना में ये घोषणा और इससे संबंधित योजना छोटी है. लेकिन इसके परिणाम दूरगामी होंगे. दरअसल ज्यादातर लोग इसे महज शहद उत्पादन से जोड़कर देखते हैं, लेकिन इसका दायरा बड़ा है.

ज्यादातर लोगों को ये पता नहीं कि किसी भी फसल को बेहतर करने में, चाहे वो सरसों की फसल हो या फिर नारियल, लीची, सेब जैसे फल या फिर ज्यादात सब्जियां, उनकी बेहतर पैदावार में मधुमक्खियों की बड़ी भूमिका होती है. इन फसलों में क्रॉस पॉलिनेशन का काम ये मधुमक्खियां ही करती हैं, जिसकी वजह से इनसे हासिल होने वाला उत्पाद बेहतर होता है. शायद इसीलिए मशहूर वैज्ञानिक अल्बर्ट आइंस्टीन ने कहा था कि अगर धरती से मधुमक्खियां खत्म हो गईं, तो अगले पांच साल में मानव सभ्यता भी खत्म हो जाएगी.

सरकार की पांच सौ करोड़ रुपये की इस योजना का फायदा दो लाख से भी अधिक किसानों को हो सकता है. ध्यान रहे कि मधुमक्खियों से शहद प्राप्त होता है, ये तो सब जानते हैं, लेकिन इनसे हासिल होने वाले बाकी उत्पाद तो शहद से भी महंगे हैं.केवीआईसी के अध्यक्ष विनय कुमार सक्सेना मधुमक्खी पालन को लगातार बढ़ावा दे रहे हैं.

केवीआईसी के अध्यक्ष विनय कुमार सक्सेना तो पिछले दो साल से मधुमक्खी पालन के अभियान को बढ़ावा देने में लगे हैं.खादी और ग्रामोद्योग आयोग यानी केवीआईसी के अध्यक्ष विनय कुमार सक्सेना तो पिछले दो साल से मधुमक्खी पालन के अभियान को बढ़ावा देने में लगे हैं. जम्मू-कश्मीर के कुपवाड़ा से लेकर बिहार तक वो लगातार किसानों को हनीबी बॉक्स बांट रहे हैं, जो उसकी असली कीमत के दसवें हिस्से में यानी महज चार सौ रुपये में किसानों को दी जाती है. सक्सेना के मुताबिक मधुमक्खियों से प्राप्त होने वाला शहद तो चार सौ से छह सौ रुपये प्रति किलोग्राम के हिसाब से बिक जाता है, लेकिन उनके छत्ते से हासिल होने वाला वैक्स तो छह सौ से आठ सौ रुपये किलो तक बिकता है, जिसका इस्तेमाल ब्यूटी पार्लर में महिलाओं की त्वचा चमकाने में होता है. यही नहीं, शहद के बॉक्स में, जो दाने पोलन के तौर पर गिर जाते हैं, उनका भाव 1200 से 1300 रुपये प्रति किलोग्राम का होता है.

विनय कुमार सक्सेना जम्मू-कश्मीर के कुपवाड़ा से लेकर बिहार तक किसानों को हनीबी बॉक्स बांट रहे हैं.लेकिन मधुमक्खी पालन के फायदे यही खत्म नहीं होते. चांदी की कीमत के आधे जैसा भाव रॉय जेली का मिलता है, जो बीस से पचीस हजार रुपये प्रति किलोग्राम के हिसाब से बिकती है. सबसे बड़ी बात, उस बी वेनम का भाव एक करोड़ रुपये प्रति किलोग्राम है, जो मधु मक्खियों से ही हासिल होता है, सोने से भी दोगुना भाव है इसका. इस पदार्थ का इस्तेमाल कैंसर की दवा बनाने के लिए होता है. यानी आम तो आम गुठलियों के दाम, वो भी डबल गोल्ड की कीमत जैसे. उम्मीद यही की जानी चाहिए कि कोरोना काल में किये जा रहे इन बड़े आर्थिक सुधारों से किसान की पांचों उंगलियां घी में होंगी, शहद के इतने बड़े फायदे सुनकर मुंह में शहद तो अपने आप आ जाएगा.

और पढो: News18 India »

brajeshksingh AC may baytk problem sol nhi hotay man us k liy road pay akar daykna pdta hay brajeshksingh Kisan is only votebank for every party. Wanha bhedchaal me hi vote mil jaate hai. brajeshksingh brajeshksingh Pata nahi kin kisanon ke liye hota hai. Kitne kisan to lakho me khelte hai. brajeshksingh वाह रे मीडिया! जब लोग ही नही बचेंगे तो घी और शहद की गजक बना लेना।

brajeshksingh Sir, मैं एक दिव्यांग गरीब स्टूडेंट हु। मैं बिहार (भागलपुर)का रहनेवाला हु। मैं कोलकाता मे इंटरवियू देने आया था। lockdown के कारण यहाँ घर नहीं जा सका हु । मेरे पास पैसा भी नहीं है खाने का सर् कृपया मुझे घर जाने का कोई रास्ता बताइये। 😭😭🙏🙏🙏9123136582... brajeshksingh इसी लिए कोरोना काल में मज़दूर रोज़ बिना रुके बिना खाए पिए बिना सवारी के पैदल ही अपने घर को जा रहे हैं रास्ते में पुलिस से पिटाते पटरियों पे कटते हुए

brajeshksingh Kitna karj maaf hua batana Kaya bijli free hue kisano ke ye bhe batana Khaad par kitne daam Kam hue brajeshksingh Iss time jab unko jarurat hai toh karz deke chutiya bana rhi sarkar. They r working liking moneylender iss desh pe sab ka adhikar kyu ki desh ke logo ne hi aapko hamare desh ki saare resources pe control dia hai aur ye sarkar usse business samjh ks chala rhi hai

brajeshksingh middleclass brajeshksingh जब एक पशु चिकित्सको की कमी दूर नहीं होगी कितने ही करोड़ रुपए खर्च करदो कोई फायदा नहीं होगा। किसानों को उनके पशुओं के सही उपचार और सही टीकाकरण की जरूरत है, और डॉक्टर के आधे से ज्यादा पद खाली पड़े है। पशुचिकित्सा_अधिकारी_भर्ती_जल्द_कराओ brajeshksingh कागजो से ज़मीन पे आ जाये जितना जल्दी तो बेहतर होगा, अब आत्मनिर्भर बनने के लिये विरोध नहीं है प्रस्ताव है.... मोदीजी है तो सब कुछ मुमकिन है

brajeshksingh Hahaha, kaam wali bai, saali baby sitter, puppet. brajeshksingh JNU wali hai ye

अजित डोभाल के नेतृत्व में भारत को एक और कामयाबी, म्यांमार ने सौंपे 22 उग्रवादीअजित डोभाल के नेतृत्व में भारत को एक और कामयाबी, म्यांमार ने सौंपे 22 उग्रवादी Myanmar InsurgentinNortheast AjitDoval NSA PMOIndia PMOIndia हिंदुस्तान की हवाओ में इतना, हिन्दुत्व घोल देंगें कि, हर जगह से श्रीराम नाम की खुशबु आयेगी..!! 🚩!! जय श्री राम !!🚩 i_support_sudhir_chaudhary ISupportSudhitChaudhary PMOIndia ये समय लेने का नहीं है, वही रहने दो, बल्कि अपने यहां से 50-100 उनके यहां भेज दो. 🙏🙏 अच्छी बात है पर अभी सीमाओं को भी अपने कंट्रोल मे लेना भी बहुत जरूरी है

पूर्व MLA और जेजेपी नेता सतविंदर राणा शराब तस्‍करी में गिरफ्तार, हरियाणा MLA हॉस्‍टल में छापाहरियाणा के पूर्व विधायक और जजपा नेता सतविंदर राणा को शराब तस्‍करी में गिरफ्तार किया गया है। उनको चंडीगढ़ में हरियाणा एमएलए हॉस्‍टल से गिरफ्तार किया गया।

पाकिस्तान और ईरान में बढ़ा तनाव, बलूचिस्तान पर आपस में भिड़ेपाकिस्तानी सेना के छह जवानों की हमले में मौत के बाद ईरान और पाकिस्तानी सेना प्रमुखों की बातचीत. यह वर्चस्व की लड़ाई हैं। Iraan sahi bol rha h भारत को मूकदर्शक नहीं बनना चाहिए। ईरान की सेना का मदद करें साथ ही बलूचिस्तान में अपनी सेना उतारे और बलूचिस्तान में हो रहे जुल्मों का हिसाब ले पाकिस्तानी सेना से।

देश में पहली बार ऑनलाइन नेशनल चैंपियनशिप, इनाम में मिलेगा मास्क और सैनिटाइजरदेश में पहली बार ऑनलाइन नेशनल चैंपियनशिप, इनाम में मिलेगा मास्क और सैनिटाइजर KirenRijiju RijijuOffice WushuChampionship OnlineWushu Covid19Lockdown

लॉकडाउन में छूट को लेकर दिल्ली के सीएम ने केंद्र के पाले में डाली गेंददिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि हम 17 मई के बाद लॉकडाउन में रियायतें देने पर अपना प्रस्ताव शाम तक केंद्र के पास भेजना चाहते हैं lockdown ArvindKejriwal ArvindKejriwal ArvindKejriwal ये खुद संघी भोंपू है इसका हर मैच फिक्स होता है। ArvindKejriwal यह किसी काम का मुख्यमंत्री नहीं है सारे काम केंद्र करेगी तो यह क्या करेगा फ्री बांटना आता है बांग्लादेशियों को पाकिस्तानियों को जो भारत में रहते हैं ArvindKejriwal What state will be owning in this or is this completely owned by center HMOIndia & PMOIndia Considering Eid, do they see chance of mass gathering & have they requested additional forces from center to ensure no gathering? Though its law&order but should be requested by state.

मोबाइल के बाद एसेसरीज बाजार में एंट्री को तैयार itel, लाइनअप में हैं ये प्रोडक्ट्सआईटेल के इतिहास को देखा जाए तो कंपनी के सभी फोन बजट में ही रहे हैं। ऐसे में उम्मीद है कि कंपनी के एसेसरीज भी किफायती होंगे।

चीन के साथ सरहद पर तनाव को लेकर पीएम मोदी का 'मूड ठीक नहीं' है: ट्रंप कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी का केंद्र सरकार को सुझाव- खजाने का ताला खोलिए और जरूरतमंदों को राहत दीजिए मोदी सरकार में मध्यम वर्ग क्या ताली और थाली ही बजाएगा? सोनिया गांधी की डिमांड- प्रवासी मजदूरों के लिए खजाना खोले मोदी सरकार कोविड-19 जैसे लक्षण दिखने पर भाजपा प्रवक्ता संबित पात्रा अस्पताल में भर्ती भारत-चीन विवाद पर बोले अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अच्छे मूड में नहीं... खबरदार: पुलवामा पार्ट-2 में पाकिस्तान की भूमिका का विश्लेषण 35 हजार लोगों के हिस्से का अनाज चट कर सकता 4 करोड़ टिड्डियों का दल, कई राज्यों में फैला है आतंक BJP नेता राजीव बिंदल तक पहुंचे PPE Kit घोटाले के तार, तो बिफरे कुमार विश्वास - 'भारत माता के नारे तो यह जानवर भी... ' दिल्ली: AAP विधायक प्रकाश जारवाल की जमानत अर्जी कोर्ट से खारिज पटना में RJD ने की मार्च निकालने की कोशिश, सोशल डिस्टैसिंग की उड़ीं धज्जियां