किसान नेताओं ने किसान आंदोलन स्थगित करने की घोषणा की - BBC Hindi

किसान नेताओं ने किसान आंदोलन ख़त्म करने की घोषणा की

09-12-2021 12:10:00

किसान नेताओं ने किसान आंदोलन ख़त्म करने की घोषणा की

एक साल से ज़्यादा समय से किसान आंदोलन चल रहा था. किसान नेताओं ने कहा है कि वे 11 दिसंबर से अपने घर लौटेंगे.

8:06छत्तीसगढ़ में अपने ही विभाग के ख़िलाफ़ सड़कों पर क्यों उतरे सैकड़ों पुलिसकर्मीआलोक प्रकाश पुतुल, रायपुर से बीबीसी हिंदी के लिएBASTAR JUNCTION/BBCCopyright: BASTAR JUNCTION/BBCछत्तीसगढ़ के माओवाद प्रभावित बीजापुर ज़िले में, पुलिसकर्मियों द्वारा परिजनों के साथ कथित मारपीट के विरोध में पुलिस विभाग के ही सहायक आरक्षक सड़कों पर उतर आए हैं.

UP Election 2022: कैबिनेट मंत्री अनुराग ठाकुर का तंज, 10 मार्च को अखिलेश यादव कहेंगे- ईवीएम बेवफा है

ज़िले के अलग-अलग थानों में एक हज़ार से अधिक पुलिसकर्मियों ने अपने हथियार थाने में जमा करवा दिए हैं और विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं.होमगार्ड और गोपनीय सैनिक भी इस प्रदर्शन में शामिल हैं.BASTAR JUNCTION/BBCCopyright: BASTAR JUNCTION/BBCप्रदर्शन कर रहे एक सहायक आरक्षक ने बीबीसी से कहा, “माओवादी मोर्चे पर हमें हमेशा आगे रखा जाता है. सबसे ज़्यादा शहादत हमारी होती है. लेकिन जब हमारे परिवार की महिलाएँ और बच्चे, हमारी मांगों को लेकर रायपुर पहुँचते हैं तो उनके साथ जानवरों जैसा व्यवहार किया जाता है, उनके साथ मारपीट की जाती है. अब इसे बर्दाश्त नहीं किया जाएगा.”

एक अन्य सहायक आरक्षक ने कहा, “अगर हमारी मांगें नहीं मानी गईं तो हम अपनी नौकरी छोड़ने के लिए भी तैयार हैं.”हालांकि, ज़िले के पुलिस अधीक्षक कमलोचन कश्यप का कहना है कि सहायक आरक्षकों की मांग को लेकर राज्य सरकार ने एक कमेटी भी बना दी है. वे ख़ुद भी सहायक आरक्षकों को समझा रहे हैं कि वे अपने काम पर लौट आएँ. headtopics.com

लेकिन गुरुवार को भी बीजापुर ज़िला मुख्यालय में सैकड़ों सहायक आरक्षक, होमगार्ड और गोपनीय सैनिक प्रदर्शन स्थल पर जमे हुए हैं.BASTAR JUNCTION/BBCCopyright: BASTAR JUNCTION/BBCमहिलाओं का विरोध प्रदर्शनअसल में सोमवार को सहायक आरक्षकों के परिजन बड़ी संख्या में रायपुर पहुंचे थे. इनमें अधिकांश महिलाएं थीं.

राजस्थान : गवर्नर कलराज मिश्रा का ट्विटर अकाउंट हैक, अरबी भाषा में किया गया ट्वीट

सहायक आरक्षकों की वेतन वृद्धि, पदोन्नति, पेंशन जैसी मांगों को लेकर पुलिस मुख्यालय पहुंची.इन महिलाओं का आरोप है कि उन पर पुलिस ने लाठी चार्ज किया और उनके साथ दुर्व्यवहार किया और आधी रात को सोई हुई महिलाओं के साथ भी मार-पीट की गई.BASTAR JUNCTION/BBCCopyright: BASTAR JUNCTION/BBC

अगले दिन एक प्रतिनिधिमंडल ने पुलिस महानिदेशक अशोक जुनेजा से भी मुलाकात की, जहां पुलिस महानिदेशक ने उनकी मांग पर विचार करने का आश्वासन दिया.लेकिन प्रदर्शनकारी महिलाओं ने मंगलवार की रात रायपुर-जगदलपुर मार्ग जाम कर दिया और मांग रखी कि उनकी मांगों को लेकर सरकार लिखित में जवाब दे.

इसके बाद राज्य के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने एडीजी हिमांशु गुप्ता की अध्यक्षता में एक कमेटी बनाने की घोषणा करते हुए, सहायक आरक्षकों से संबंधित मुद्दों पर रिपोर्ट पेश करने के निर्देश दिए.इस बीच जब प्रदर्शनकारी महिलाएं बीजापुर पहुंची तो उन्होंने अपने साथ हुए कथित दुर्व्यवहार और मारपीट की ख़बर साझा की. headtopics.com

शाहजहांपुर : नींद पूरी न होने पर चालक ने ट्रेन चलाने से किया इनकार, सोकर उठने पर चले चक्के

इसके बाद बुधवार को देखते ही देखते अलग-अलग थानों में सहायक आरक्षकों का जमावड़ा शुरु हो गया.प्रदर्शनकारी आरक्षकों का दावा है कि भोपालपटनम, मिरतूर, मोदकपाल, बासागुड़ा समेत कम से कम 20 थानों में 1200 से अधिक सहायक आरक्षकों ने थाने में अपने हथियार जमा कर दिए और जगह-जगह प्रदर्शन किया है.

हालांकि, ज़िले के पुलिस अधीक्षक कमलोचन कश्यप ने प्रदर्शनकारी सहायक आरक्षकों से मिल कर उन्हें समझाने की कोशिश की.लेकिन प्रदर्शनकारी पुलिसकर्मियों ने पुलिस अधीक्षक के काम पर लौटने के निर्देश को मानने से इंकार कर दिया.

और पढो: BBC News Hindi »

युवाओं से चुनावी वादे! इस बार युवा करेंगे किसका बेड़ा पार? देखें 10तक

आज हम सबसे पहले बात करेंगे उन युवाओं की जिनकी चर्चा सबसे ज्यादा चुनावी घोषणा पत्रों में होती हैं. चुनाव आते हैं तो लाखों में नौकरियां देने के वादे ऐसे होते हैं, जैसे सरकार बनने पर पकड़-पकड़कर एक एक युवा को नौकरी दे देंगे. लेकिन सच्चाई यही है कि हर दल के घोषणा पत्र में युवाओं के लिए किए वादे सिर्फ चुनावी हैं. यूपी में 18 से 30 साल के जिन 3 करोड़ 89 लाख युवाओं की मुट्ठी में सत्ता बनाने-बिगाड़ने की ताकत है, क्या उन युवाओं की वाकई दल सुनते हैं? देखें 10तक.

सत्य शिखर पार्टी की सरकार में देशद्रोहियों को त्वरित मृत्यु दंड अनिवार्य, मोदी योगी अन्य रक्षा व प्रतिकार में विफल अगर विदेशी फंडिंग होगी, तो इनको करना ही पड़ेगा आंदोलन दुबारा। किसान हैं जीत कर लौटे हैं विधायक सांसद थोड़ी है जो बिक जाते । जय किसान मोदी पर विश्वास करना अपने पैर पर कुल्हाड़ी मारने के बराबर है

2 करोड़ नौकरी प्रतिवर्ष बुलेट ट्रेन 100 स्मार्टसिटी क्योटो लागत से डेढ़ गुना MSP वगैरह वगैरह... सब सुन रक्खा है न किसानों ने 🤣 😢 २०२२ चुनाव जीतने की ओर पहला क़दम _YogendraYadav किसानों को भड़काने का काम कर रहे है । बीबीसी वालों को मसाला मिलना बंद हुआ किसी दोषी को सजा नही होगी सब बरी हो जायेंगे

पाक ने बांग्लादेश को हरा भारत की बराबरी की, शाकिब ने कपिल देव को छोड़ा पीछेबांग्लादेश की पहली पारी सिर्फ 87 रनों पर सिमट गईी। करियर का चौथा टेस्ट खेल रहे साजिद खान ने 42 रन देकर 8 विकेट लिए। बांग्लादेश को फॉलोऑन के लिए मजबूर होना पड़ा और दूसरी पारी में टीम 205 रनों के स्कोर पर सिमट गई।

यूपी में महिलाओं के लिए कांग्रेस का घोषणा पत्र जारी, प्रियंका ने की वादों की बौछारलखनऊ। कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने बुधवार को उत्तर प्रदेश में आगामी विधानसभा चुनाव के मद्देनजर महिलाओं के लिए कांग्रेस का अलग घोषणा पत्र जारी किया है।

राकेश टिकैत की दो टूक- संयुक्त किसान मोर्चा ही लेगा आंदोलन खत्म करने का आखिरी फैसलासंयुक्त किसान मोर्चा की मंगलवार को हुई बैठक के बाद कयास लगाए जा रहे हैं कि एक साल से चल रहा किसान आंदोलन जल्द ही समाप्त होने की कगार पर है. लेकिन राकेश टिकैत के बयान के बाद आंदोलन के भविष्य से धुंध छटती नजर नहीं आ रही है. RakeshTikaitBKU कुछ तो शर्म करो देश हीत में सोचो RakeshTikaitBKU अब तो बोलेगा इज़्ज़त जो बचानी है, संयुक्त किसान मोर्चा ने इसको साईड कर दिया है, सरकार से बात करने के लिए जो कमेटी बनी है उसमें इस नमूने का नाम नही है। RakeshTikaitBKU Nautanki PM ke samne kar

कभी भी खत्म हो सकता है किसान आंदोलन, पढ़िये राकेश टिकैत समेत 2 किसान नेताओं का ताजा बयानFarmers Protest End News संयुक्त किसान मोर्चा के यूपी गेट प्रवक्ता जगतार सिंह बाजवा ने कहा कि पांच सदस्यीय कमेटी सरकार के साथ समन्वय बनाए है। आंदोलन के समापन की तिथि और तरीका संयुक्त किसान मोर्चा ही तय करेगा।

छेड़छाड़ से तंग छात्रा ने खुद को आग लगाई: जबलपुर में 11वीं की स्टूडेंट 90% झुलसी; बोली- मनचलों ने जिंदगी बर्बाद की, पुलिस ने भी सुनी नहींजबलपुर में छेड़छाड़ से परेशान छात्रा ने मंगलवार को खुद को आग लगा ली। वह 90 % झुलस गई है। खुद को आग लगाने से पहले छात्रा ने सुसाइड नोट भी लिखा है। इसमें अनुराग चौधरी, वरुण, आशा, तन्वी केवट और ममता केवट को दोषी ठहराया है। उसने लिखा- इन लोगों ने मेरी जिंदगी बर्बाद कर दी। मेरी शिकायत पुलिस ने भी नहीं सुनी। सॉरी पापा- मुझे माफ कर देना। पुलिस ने 4 आरोपियों को पकड़ लिया है। वहीं, मुख्य आरोपी अनुराग चौधरी फर... | जबलपुर में 11वीं की छात्रा 90 % झुलसी, सुसाइड नोट में लिखा- मनचलों ने जिंदगी बर्बाद कर दी jabalpurpolice vinashkari_ jabalpurpolice In awara kutto ko unke maa baap ghar me kyu bandh k nahi rakhte hai un kutto ko jala dena tha jabalpurpolice Sarm aani chahiye aisi police aur aise log jo betiyo ko presan karte he in sabhi ko kari saja honi chaiye

फर्जीवाड़े की खुली पोल तो शख्स ने 3 बच्चे-पत्नी की हत्या की, खुद की भी जान दीशख्स की हरकत के बारे में उसके बॉस को पता चल गया था. बॉस ने उसके खिलाफ पुलिस में शिकायत की धमकी दी और कहा कि गिरफ्तारी के बाद वह बच्चों से अलग हो जाएगा.