India, Uttarpradesh, Ayodhya, Ramtemple, Ram Mandir, Ram Mandir Complete Date, Jab We Met, Nripendra Mishra, Ayodhya Ram Mandir December 2023, Ram Mandir Update, Ayodhya Ram Mandir News, राम मंदिर अपडेट, कब तक बन जाएगा राम मंदिर, अयोध्या राम मंदिर न्यूज

India, Uttarpradesh

कितने सालों तक सही रहेगा राम मंदिर का ढांचा और कब से होंगे दर्शन? 'जब वी मेट' में नृपेंद्र मिश्रा ने दिया जवाब

राम मंदिर ट्रस्ट के चेयरमैन नृपेंद्र मिश्रा ने कहा, ''दिसंबर, 2023 तक श्रद्धालुओं को मंदिर का दर्शन करने का अवसर मिल सकेगा #India #UttarPradesh #Ayodhya #RamTemple

22-10-2021 20:14:00

राम मंदिर ट्रस्ट के चेयरमैन नृपेंद्र मिश्रा ने कहा, ''दिसंबर, 2023 तक श्रद्धालुओं को मंदिर का दर्शन करने का अवसर मिल सकेगा India UttarPradesh Ayodhya RamTemple

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के पूर्व प्रधान सचिव और राम मंदिर ट्रस्ट के चेयरमैन नृपेंद्र मिश्रा ने कहा, ''दिसंबर, 2023 तक श्रद्धालुओं को मंदिर का दर्शन करने का अवसर मिल सकेगा. मंदिर का निर्माण उसी के अनुसार चल रहा है.''

कितने सालों तक पूरी तरह सुरक्षित रहेगा राम मंदिर का ढांचा?राम मंदिर निर्माण के दौरान स्टील का इस्तेमाल बिल्कुल भी नहीं किया जाएगा. साथ ही सीमेंट को भी कम-से-कम ही इस्तेमाल में लाया जाएगा. नृपेंद्र मिश्रा ने इसकी जानकारी देते हुए कहा, ''स्टील का बिल्कुल भी इस्तेमाल नहीं होना था. सीमेंट का कम-से-कम इस्तेमाल होना तय हुआ था. ऐसे में सीमेंट को 20 फीसदी से कम रखा गया और बाकी चीजों में फ्लाई ऐश, अन्य कैमिकल्स और मिट्टी को लिया गया. हम राम मंदिर के एक हजार साल चलने के लिए प्लानिंग बना रहे हैं. जो भी हमारे मंदिर हैं जोकि 500-800 साल पुराने हैं. उनका परीक्षण किया गया और उसके बाद राम मंदिर को लेकर फैसला लिया गया.''

उत्तर प्रदेश की 'ग़रीबी' की चर्चा चुनाव में क्यों नहीं हो रही? - BBC News हिंदी 'अयोध्या-काशी जारी है, मथुरा की तैयारी है', UP चुनाव से पहले हिन्दुत्व एजेंडे पर लौटी BJP उत्तर प्रदेश के डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य बोले-मथुरा की तैयारी, छिड़ी बहस - BBC News हिंदी

एक दिन में लाखों भक्तों के आने की संभावनानृपेंद्र मिश्रा ने बताया कि अनुमान लगाया गया कि रामनवमी के दिन एक दिन में पांच से सात लाख तक लोग दर्शन करेंगे. इस हिसाब से एक सेकंड में सात लोगों को दर्शन करना होगा. यही चुनौती है कि एक सेकंड में कैसे लोगों को संतोष होगा कि उन्हें अच्छे दर्शन मिले हैं. इसके लिए तकनीक का सहारा लिया जा रहा है. पूरी अयोध्या में स्क्रीन लगाई जाएंगी, जहां से मंदिर का दर्शन होगा. पूरे अयोध्या में स्क्रीन पर लोगों को दर्शन मिलता रहेगा. इसके अलावा वैज्ञानिक कोशिश करेंगे कि सूर्य की किरणों को एक जगह लाएं और दोपहर 12 बजे रामलला के माथे पर वह किरणे पड़ें.

'मंदिर को बनाने में जितनी भी चुनौती आ सकती थी, आई'राम मंदिर ट्रस्ट के चेयरमैन ने आगे कहा कि मंदिर निर्माण के शुरुआत में एक चर्चा चली कि क्या हम पुराने जमाने के लाइम स्टोन का इस्तेमाल करें. इस पर एक्सपर्ट्स ने कहा कि लाइम स्टोन उस समय के लिए था, जब कुछ और विकल्प नहीं था. अब हमारे पास कई विकल्प हैं, जिनका इस्तेमाल किया जा सकता है और उन चीजों का इस्तेमाल हो रहा है. नृपेंद्र मिश्रा ने बताया कि इस मंदिर को बनाने में जितनी भी चुनौती आ सकती है, वह कदम-कदम पर आती रही हैं. headtopics.com

Live TV और पढो: आज तक »

इतिहास में पहली बार ट्रेन से चला प्याज: 220 टन लाल प्याज किसान व्यापारियों ने सीधे असम भेजा, 1836km का सफर करेगा

राजस्थान के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है जब यहां होने वाली प्याज को ट्रेन से किसी दूसरे राज्य में भेजा गया है। पहली बार अलवर की प्याज रेल से असम भेजा गया है। पूरे प्रदेश में इससे पहले कभी भी प्याज को मालगाड़ी से ट्रांसपोर्ट नहीं किया गया। किसान रेल के जरिए किसानों की उपज को भेजने की उत्तर पश्चिम रेलवे ने यह शुरुआत की है। | उत्तर पश्चिम रेलवे के क्षेत्र में किसान रेल की अलवर से शुरूआत, 220 टन प्याज अलवर से असम भेजी

kirtikashyap_64 Hi ❤️ मतबल राम मंदिर निर्माण भी कभीका गुजरात CMO सम्भाल रहा योगी VHP संघ किसी पर विश्वास नही! या मोदी की निजि सम्पद्धा!!

फ़र्रूख़ाबाद में बौद्ध तीर्थ क्षेत्र के मंदिर से झंडा उतारने पर विवाद, तोड़फोड़ के बाद तनावउत्तर प्रदेश के फर्रुखाबाद जिले का मामला. बुधवार दोपहर धम्म यात्रा के दौरान बौद्ध अनुयायियों में शामिल कुछ अराजक तत्व संकिसा बौद्ध तीर्थ क्षेत्र में विवादित टीले पर स्थित बिसारी देवी मंदिर पर चढ़े और वहां लगा भगवा झंडा नीचे फेंककर उस पर पंचशील ध्वज लगा दिया. पीएम चादर चढ़ाता है इसके दंगाई भक्त दुसरे धर्मों के धार्मिक स्थल पर दंगा, तोड़ फोड़ करते फिरते हैं। इसका चादर चढ़ाना जरूरी नहीं है इसका अपनें अंड भक्तों को रोकना ज्यादा जरूरी है। 🏹🏹🏹 RedicalHindutva HateCrime hindutvafascism सब जानते हैं कि आज के विश्व के चौथे‌ सबसे बड़े बौद्ध धर्म को उसकी जन्म स्थली/कर्मस्थली से समाप्त करने वाले‌ धूर्त पोंगापाखंडी ही थे‌,जिन्होंने बौद्ध मठों पर कब्जा कर उनको मंदिरो‌ पर बदल‌ दिया? meghnad141120 RamdasAthawale Profdilipmandal. WamanCMeshram हमारी sencitivity high हो चुकी है।

तालिबान का दुनिया को आश्वासन, उसकी जमीन का दूसरे देशों के खिलाफ नहीं होगा इस्तेमाल15 अगस्त 2021 को काबुल पर तालिबान का कब्जा होने के बाद भारत के साथ उसके प्रतिनिधियों की यह दूसरी मुलाकात है। इसके पहले दोहा में भारत के राजदूत दीपक मित्तल ने तालिबान के राजनीतिक दल के मुखिया शेर मुहम्मद अब्बास स्टेनकजई से मुलाकात की थी। देखे कब तक टिकते है जुबान पर,दुनिया का अनुभव तो कुछ और ही कहता है,सावधानी सतर्कता मे हर्जा क्या है

सुप्रीम कोर्ट ने आसाराम के बेटे को फर्लो दिए जाने का हाईकोर्ट का फ़ैसला ख़ारिज कियागुजरात हाईकोर्ट ने 24 जून 2021 को आसाराम के बेटे नारायण साई को दो हफ्तों के लिए फर्लो दिया था, लेकिन सुप्रीम कोर्ट ने अगस्त में इस पर रोक लगा दी थी, जिसे राज्य ने चुनौती दी थी. सूरत की दो बहनों द्वारा नारायण साई के ख़िलाफ़ दर्ज मामले में अदालत ने 2019 में साई को बलात्कार दोषी ठहराते हुए उम्रक़ैद की सज़ा सुनाई थी.

लोभ का बंधन - परमात्मा के न्याय में विश्वास का समाप्त हो जानालोभ का अर्थ है परमात्मा के न्याय में विश्वास का समाप्त हो जाना। लोभ मनुष्य को गुणों और धर्म से दूर करता है। जब प्रगति की इच्छा स्वाभाविक न रहकर व्यसन बन जाती है तो लोभ की परिभाषा बन जाती है। परमात्मा के न्याय में विश्वास अर्थात प्रेम व संतोष को आत्मसात कर तथा लोभ व अहंकार को त्याग कर विश्व बंधुत्व के तहत और प्रकृति-धरती के अनुकूल समानता के अधिकार को प्रश्रय देकर जीव मात्र के अधिकारों की रक्षा करने के दायित्व को निभाना और धैर्य-पूर्वक व संतोष-पूर्वक जीवनयापन करना ।

कीर्तिमान: पहले टीके से 100 करोड़वें टीके तक का सफरनामा, देश को कैसे मिली यह कामयाबी?कीर्तिमान: पहले टीके से 100 करोड़वें टीके तक का सफरनामा, देश को कैसे मिली यह कामयाबी? VaccineCentury VaccinationIn India AmarUjala समस्त देशवासियों को हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं एवं नर्सिंग स्टाफ डॉक्टर सभी का हार्दिक धन्यवाद जिनके अथक प्रयास एवं कठोर परिश्रम से यह 100 करोड़ का आंकड़ा पूर्ण हुआ है

मध्य प्रदेश के सरकारी कर्मचारियों को दीवाली का तोहफा, अगले महीने से मिलेगा बढ़ा हुआ भत्ता20 प्रतिशत महंगाई भत्ता होने के बावजूद मध्यप्रदेश के सरकारी कर्मियों को केंद्र सरकार के कर्मियों से करीब 11% कम भत्ता मिलेगा। हालांकि पहले यह अंतर 16 प्रतिशत का था।