Sudarshannews, Supremecourtofındia, Udarshan Tv, Sudarshan Tv Upsc Jihad, Sudarshan Tv Case, Sudarshan Tv Bindas Bol, Sudarshan Tv Served Notice, Suresh Chavhanke, उच्चतम न्यायालय, सुदर्शन टीवी, कार्यक्रम संहिता का उल्लंघन

Sudarshannews, Supremecourtofındia

कार्यक्रम संहिता के उल्लंघन के लिए सुदर्शन टीवी को कारण बताओ नोटिस, केंद्र ने न्यायालय को बताया

केंद्र ने बुधवार को उच्चतम न्यायालय को सूचित किया कि उसने सुदर्शन टीवी के ‘बिन्दास बोल’ कार्यक्रम को पहली नजर में कार्यक्रम

23-09-2020 20:08:00

कार्यक्रम संहिता के उल्लंघन के लिए सुदर्शन टीवी को कारण बताओ नोटिस, केंद्र ने न्यायालय को बताया SudarshanNews SupremeCourtOfIndia

केंद्र ने बुधवार को उच्चतम न्यायालय को सूचित किया कि उसने सुदर्शन टीवी के ‘बिन्दास बोल’ कार्यक्रम को पहली नजर में कार्यक्रम

ख़बर सुनेंकेंद्र ने बुधवार को उच्चतम न्यायालय को सूचित किया कि उसने सुदर्शन टीवी को ‘बिन्दास बोल’ कार्यक्रम के लिए कारण बताओ नोटिस जारी किया है। केंद्र ने कहा कि उसने ‘बिन्दास बोल’ कार्यक्रम को पहली नजर में कार्यक्रम संहिता का उल्लंघन करने वाला पाया है। शीर्ष अदालत ने कहा कि इस कारण बताओ नोटिस के आलोक में चैनल के खिलाफ सरकार की कार्रवाई न्यायालय के आदेश के दायरे में होगी।

हाईकोर्ट ने यूपी में गौ हत्या निरोधक कानून के दुरुपयोग पर जताई चिंता, कही ये बड़ी बात... हाथरस केस में कल फैसला सुनाएगा सुप्रीम कोर्ट, इन तीन अहम मुद्दों को करेगा तय.. शिवसेना-बीजेपी की लड़ाई मोहरों के बूते लड़ी जा रही है? - BBC News हिंदी

न्यायमूर्ति धनंजय वाई चंद्रचूड़, न्यायमूर्ति इन्दु मल्होत्रा और न्यायमूर्ति के एम जोसेफ की पीठ को सॉलिसीटर जनरल तुषार मेहता ने यह जानकारी दी और कहा कि सुदर्शन टीवी को कारण बताओ नोटिस का जवाब 28 सितंबर तक देना है और जवाब नहीं मिलने पर उसके खिलाफ एकपक्षीय निर्णय लिया जाएगा।

पीठ ने अपने आदेश में कहा, 'आज सुनवाई के दौरान सॉलिसीटर जनरल तुषार मेहता ने बताया कि केंद्र सरकार ने केबल टेलीविजन नेटवर्क्स (नियमन) कानून, 1995 की धारा 20 (3) में प्रदत्त अधिकार का इस्तेमाल करते हुये सुदर्शन न्यूज को 23 सितंबर को कारण बताओ नोटिस जारी किया है।'

आदेश में आगे कहा गया है कि चूंकि इस नोटिस का जवाब 28 सितंबर तक देना है, मेहता ने पेश मामले की सुनवाई स्थगित करने का अनुरोध किया है ताकि केन्द्र सरकार इस मामले में सुविचारित दृष्टिकोण अपना सके।न्यायालय ने कहा कि चूंकि नोटिस जारी कर दिया गया है, इसलिए सुनवाई पांच अक्टूबर के लिये स्थगित की जा रही है। पीठ ने कहा, 'नोटिस के साथ कानून के अनुसार निबटा जायेगा और केन्द्र सरकार इस नोटिस के नतीजे के बारे में न्यायालय में एक रिपोर्ट पेश करेगी।'

पीठ ने कहा कि इस कार्यक्रम की शेष कड़ियों के प्रसारण पर रोक लगाने संबंधी 15 सितंबर का आदेश अगले आदेश तक प्रभावी रहेगा। मेहता ने वीडियो कॉन्फ्रेंस से मामले की संक्षिप्त सुनवाई के दौरान कहा कि कार्यक्रम संहिता के उल्लंघन के बारे में सुदर्शन टीवी को भेजे गये चार पन्ने के कारण बताओ नोटिस का लिखित जवाब मांगा गया है।

यह नोटिस केबल टेलीविजन नेटवर्क कानून, 1995 के तहत आज ही दिया गया है। सरकार के अनुसार इस कार्यक्रम में दर्शाये गये तथ्य पहली नजर में कार्यक्रम संहिता के अनुरूप नहीं हैं। पीठ ने टिप्पणी की कि अगर इस मामले की सुनवाई नहीं हो रही होती तो इसकी सारी कड़ियों का प्रसारण हो गया होता।

इससे पहले, सुनवाई शुरू होते ही न्यायालय ने इसमें हस्तक्षेप के लिए आवेदन करने वालों से कहा कि वे लिखित दलीलें पेश करें। न्यायालय ने 21 सितंबर को नौकरशाही में मुस्लिमों की कथित घुसपैठ के बारे में सुदर्शन टीवी के कार्यक्रम ‘बिन्दास बोल’ को नियंत्रित करने के स्वरूप को लेकर काफी माथापच्ची की थी और कहा था कि वह बोलने की आजादी में कटौती नहीं करना चाहता है क्योंकि यह ‘विदेशी फंडिंग’ और ‘आरक्षण’ से जुड़े मुद्दों का जनहित का कार्यक्रम है।

Madhya Pradesh bypolls: ज्‍योतिरादित्‍य सिधिंया बोले, कमलनाथ और दिग्विजय मध्‍य प्रदेश के 'सबसे बड़े गद्दार' ऑस्ट्रेलियाई दौरे पर केएल राहुल, मोहम्मद सिराज भारतीय टीम में, रोहित बाहर - BBC News हिंदी भाजपा सांसद ने की चिराग पासवान की तारीफ, सहयोगी नीतीश कुमार का सबसे बड़ा सिरदर्द

न्यायालय नफरत फैलाने वाले भाषण जैसे कई मुद्दों को लेकर दायर याचिका पर सुनवाई के दौरान पहले ही ‘यूपीएससी जिहाद’ की कड़ियों के प्रसारण पर रोक लगा चुका है। परंतु वह इस बात से नाराज है कि चैनल ने अपने हलफनामे में एक अंग्रेजी समाचार चैनल के उन दो कार्यक्रमों का क्यों उल्लेख किया जो ‘हिन्दू आतंकवाद’ के बारे में थे।

पीठ ने सुदर्शन न्यूज चैनल से सवाल किया था, 'आपने अंग्रेजी न्यूज चैनल के कार्यक्रमों के बारे में क्यों कहा। आपसे किसने कार्यक्रम के बारे में राय मांगी थी।' चैनल के प्रधान संपादक सुरेश चव्हाण के अधिवक्ता विष्णु शंकर जैन ने कहा कि उनके हलफनामे में ‘हिन्दू आतंकवाद’ पर अंग्रेजी चैनल के कार्यक्रम का जिक्र है क्योंकि उनसे पहले पूछा गया था कि ‘यूपीएससी जिहाद’ कड़ियों में क्यों मुस्लिम व्यक्तियों को टोपी और हरा रंग धारण किये दिखाया गया है।

पीठ ने सवाल किया था, 'क्या इसका मतलब यह है कि हर बार जब न्यायाधीश सवाल पूछेंगे तो आप अपना दृष्टिकोण बतायेंगे? अगर यही मामला है तो न्यायाधीश सवाल पूछना बंद कर देंगे। आपसे उन सभी सवालों का जवाब दाखिल करने की अपेक्षा नहीं की जाती है, जो न्यायाधीश पूछते हैं। न्यायाधीश तो बेहतर जानकारी प्राप्त करने लिये सवाल करते हैं।'

केंद्र ने बुधवार को उच्चतम न्यायालय को सूचित किया कि उसने सुदर्शन टीवी को ‘बिन्दास बोल’ कार्यक्रम के लिए कारण बताओ नोटिस जारी किया है। केंद्र ने कहा कि उसने ‘बिन्दास बोल’ कार्यक्रम को पहली नजर में कार्यक्रम संहिता का उल्लंघन करने वाला पाया है। शीर्ष अदालत ने कहा कि इस कारण बताओ नोटिस के आलोक में चैनल के खिलाफ सरकार की कार्रवाई न्यायालय के आदेश के दायरे में होगी।

विज्ञापनन्यायमूर्ति धनंजय वाई चंद्रचूड़, न्यायमूर्ति इन्दु मल्होत्रा और न्यायमूर्ति के एम जोसेफ की पीठ को सॉलिसीटर जनरल तुषार मेहता ने यह जानकारी दी और कहा कि सुदर्शन टीवी को कारण बताओ नोटिस का जवाब 28 सितंबर तक देना है और जवाब नहीं मिलने पर उसके खिलाफ एकपक्षीय निर्णय लिया जाएगा।

पीठ ने अपने आदेश में कहा, 'आज सुनवाई के दौरान सॉलिसीटर जनरल तुषार मेहता ने बताया कि केंद्र सरकार ने केबल टेलीविजन नेटवर्क्स (नियमन) कानून, 1995 की धारा 20 (3) में प्रदत्त अधिकार का इस्तेमाल करते हुये सुदर्शन न्यूज को 23 सितंबर को कारण बताओ नोटिस जारी किया है।'

2002 Gujarat Riots Investigation : एसआइटी की नौ घंटे की पूछताछ में मोदी ने नहीं पी थी एक कप चाय भी 2002 गुजरात दंगों की जांच के लिए बनी SIT के चीफ रहे राघवन का दावा- 9 घंटे चली पूछताछ के दौरान मोदी ने एक कप चाय भी नहीं ली थी कुमार मंगलम की बेटी अनन्या को रेस्त्रां ने 3 घंटे इंतजार कराया, फिर बाहर निकाल दिया

आदेश में आगे कहा गया है कि चूंकि इस नोटिस का जवाब 28 सितंबर तक देना है, मेहता ने पेश मामले की सुनवाई स्थगित करने का अनुरोध किया है ताकि केन्द्र सरकार इस मामले में सुविचारित दृष्टिकोण अपना सके।न्यायालय ने कहा कि चूंकि नोटिस जारी कर दिया गया है, इसलिए सुनवाई पांच अक्टूबर के लिये स्थगित की जा रही है। पीठ ने कहा, 'नोटिस के साथ कानून के अनुसार निबटा जायेगा और केन्द्र सरकार इस नोटिस के नतीजे के बारे में न्यायालय में एक रिपोर्ट पेश करेगी।'

पीठ ने कहा कि इस कार्यक्रम की शेष कड़ियों के प्रसारण पर रोक लगाने संबंधी 15 सितंबर का आदेश अगले आदेश तक प्रभावी रहेगा। मेहता ने वीडियो कॉन्फ्रेंस से मामले की संक्षिप्त सुनवाई के दौरान कहा कि कार्यक्रम संहिता के उल्लंघन के बारे में सुदर्शन टीवी को भेजे गये चार पन्ने के कारण बताओ नोटिस का लिखित जवाब मांगा गया है।

यह नोटिस केबल टेलीविजन नेटवर्क कानून, 1995 के तहत आज ही दिया गया है। सरकार के अनुसार इस कार्यक्रम में दर्शाये गये तथ्य पहली नजर में कार्यक्रम संहिता के अनुरूप नहीं हैं। पीठ ने टिप्पणी की कि अगर इस मामले की सुनवाई नहीं हो रही होती तो इसकी सारी कड़ियों का प्रसारण हो गया होता।

इससे पहले, सुनवाई शुरू होते ही न्यायालय ने इसमें हस्तक्षेप के लिए आवेदन करने वालों से कहा कि वे लिखित दलीलें पेश करें। न्यायालय ने 21 सितंबर को नौकरशाही में मुस्लिमों की कथित घुसपैठ के बारे में सुदर्शन टीवी के कार्यक्रम ‘बिन्दास बोल’ को नियंत्रित करने के स्वरूप को लेकर काफी माथापच्ची की थी और कहा था कि वह बोलने की आजादी में कटौती नहीं करना चाहता है क्योंकि यह ‘विदेशी फंडिंग’ और ‘आरक्षण’ से जुड़े मुद्दों का जनहित का कार्यक्रम है।

न्यायालय नफरत फैलाने वाले भाषण जैसे कई मुद्दों को लेकर दायर याचिका पर सुनवाई के दौरान पहले ही ‘यूपीएससी जिहाद’ की कड़ियों के प्रसारण पर रोक लगा चुका है। परंतु वह इस बात से नाराज है कि चैनल ने अपने हलफनामे में एक अंग्रेजी समाचार चैनल के उन दो कार्यक्रमों का क्यों उल्लेख किया जो ‘हिन्दू आतंकवाद’ के बारे में थे।

पीठ ने सुदर्शन न्यूज चैनल से सवाल किया था, 'आपने अंग्रेजी न्यूज चैनल के कार्यक्रमों के बारे में क्यों कहा। आपसे किसने कार्यक्रम के बारे में राय मांगी थी।' चैनल के प्रधान संपादक सुरेश चव्हाण के अधिवक्ता विष्णु शंकर जैन ने कहा कि उनके हलफनामे में ‘हिन्दू आतंकवाद’ पर अंग्रेजी चैनल के कार्यक्रम का जिक्र है क्योंकि उनसे पहले पूछा गया था कि ‘यूपीएससी जिहाद’ कड़ियों में क्यों मुस्लिम व्यक्तियों को टोपी और हरा रंग धारण किये दिखाया गया है।

और पढो: Amar Ujala »

Bihar Election 2020: पहले चरण की वोटिंग से पहले क्या सोचती है बिहार की जनता? देखें श्वेतपत्र

बिहार में चुनाव है, इसलिए हर तरफ वादों की बौछार है. चुनावों की दो तस्वीरें होती हैं. एक वो तस्वीर होती है, जिसे सत्ता पक्ष दिखाना चाहता है, दूसरी तस्वीर वो होती है, जो हकीकत में जमीन पर नजर आती है. गांव से शहर तक लोगों के लिए वे मुद्दे कौन से हैं, जो निर्णाय होगें? कोरोना की जिम्मेदारियों ने रूप रंग बदल लिया लेकिन चुनावी मैदान के तेवर नहीं बदले. नवरात्रि के कठिन उपवास के दौरान भी पीएम मोदी चुनावी मैदान में एनडीए का रथ हांकते रहे. देखिए चुनाव में क्या है बिहार की जनता का मूड, श्वेतपत्र में, श्वेता के साथ.

शहाबुद्दीन को सजा दिलाने वाले IPS एस के सिंघल को बिहार के DGP का प्रभारसिंघल 1996 में तब सुर्खियों में आए थे जब उन पर सीवान में डॉन-राजनेता शहाबुद्दीन ने हमला किया था. उस दौरान वह वहां पुलिस अधीक्षक के तौर पर तैनात थे. 2007 में एक विशेष अदालत ने शहाबुद्दीन को एसके सिंघल पर हमले के मामले में 10 साल की सजा सुनाई थी. भेदभाव वाली मानसिकता है शाहबुद्दीन को सजा दिलाना क्या कोई उपलब्धि है।

कृषि विधेयकों को लेकर एक्शन में भाजपा, किसानों को साधने के लिए बनाया प्लानMSP के मुद्दे पर गलतफहमियों को दूर करने के लिए भाजपा किसानों तक पहुंचने की व्यापक योजना तैयार कर रही है AgricultureBills BJP

जम्मू-कश्मीर को लेकर तुर्की के राष्ट्रपति के भड़काऊ बोल, भारत ने दिया करारा जवाबजम्मू-कश्मीर को लेकर तुर्की के राष्ट्रपति के भड़काऊ बोल, भारत ने दिया करारा जवाब UNGA UNGA2020 Turkey JammuKashmir ArmenianGenocide yad hai abhi tak!

PM मोदी का मुख्यमंत्रियों को सुझाव, 7 दिन का कार्यक्रम बनाएं और प्रतिदिन 1 घंटा देंदेश में अब तक सामने आए कुल कोरोना के मामलों का 65.5 फीसद और इससे होने मौतों का 77 फीसद इन्हीं राज्यों में सीमित है। महाराष्ट्र कर्नाटक आंध्रप्रदेश उत्तरप्रदेश और तमिलनाडु में पिछले एक हफ्ते में औसत प्रतिदिन कोरोना के नए मामलों में कमी आई है। narendramodi PMOIndia BJP4India be safe out there 🙏 narendramodi narendramodi PMOIndia BJP4India राजस्थान के टीएसपी जिलो में 8 से 20 वर्षों से नॉन टीएसपी के जो शिक्षक कार्यरत हैं उनका शीघ्र अति शीघ्र नॉन टीएसपी जिलों में समायोजन कर उनके साथ न्याय करना चाहिए lआपके चैनल के माध्यम से हम यह आवाज उठाना चाहते हैं l🙏🙏🙏 plz narendramodi PMOIndia BJP4India Sabse pehle Kisan virodhi bill sarkaar bapis lay ya Kisano ki maange tatkaal maane. Nahi to Kisan corona ki chapett may aa jayga. Sarkaar khel na shamjhe aane bale elections may tare nazar aa jayenge sarkaar ko.

SBI देगा घर के बुजुर्गों को ज्यादा मुनाफा, 30 सितंबर तक के लिए मौकाबीते कुछ सालों में एफडी पर मिलने वाला ब्याज लगातार कम हो रहा है. इस वजह से बुजुर्गों को एफडी पर मुनाफे में भी कटौती हुई है. speakup SSC_Scorecard_with_Rank ✓Conduct Central & State Govt Job Exams in a Fair & Time Bound Manner ✓Include Rank & Waiting List ✓Increase Vacancies ✓Timely Results ✓No Delay for Joining Letter ✓Make Reforms in Recruitment Policy SSCreforms NoJobNoVote

'ये देश के कानून को चिढ़ा रहे', करण जौहर के वीडियो पर बोले सिरसासुशांत सिंह राजपूत की मौत मामले की जांच अब बॉलीवुड के राज खोलती नजर आ रही है. ड्रग्स मामले में आज दीपिका पादुकोण का नाम सामने आ गया है. वहीं, बॉलीवुड को लेकर भी बयानबाजी शुरू हो गई है. कुछ समय पहले अकाली दल के नेता मनजिंदर सिंह सिरसा ने बॉलीवुड स्टार्स के ड्रग्स कनेक्शन की जांच की मांग की थी. उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को चिट्ठी लिखी थी. देखें करण जौहर की पार्टी की वीडियो पर क्या बोले मनजिंदर सिंह सिरसा. Jai maharastra Shiv Sena hariyana Punjab bolo news about Paris or something else MP Plus dinner sunny