Bkus Rakesh Tikait, Rakesh Tikait, Narendra Singh Tomar, Agriculture Minister, Yogi Government, Farmer Proest İn Up, Up Ganna Kisan, Farmer Protest, Up Polls 2022, Farmer Protest News İn Hindi, बीकेयू राकेश टिकैत, टिकैट बनाम योगी

Bkus Rakesh Tikait, Rakesh Tikait

कान खोल सुन ले सरकार, 10 साल तक प्रदर्शन को हैं तैयार- राकेश टिकैत ने किया साफ; कृषि मंत्री ने कहा.....

कान खोल सुन ले सरकार, 10 साल तक प्रदर्शन को हैं तैयार- राकेश टिकैत ने किया साफ; कृषि मंत्री ने कहा- आंदोलन का रास्ता छोड़ें, हम बात को राजी

26-09-2021 20:30:00

कान खोल सुन ले सरकार, 10 साल तक प्रदर्शन को हैं तैयार- राकेश टिकैत ने किया साफ; कृषि मंत्री ने कहा- आंदोलन का रास्ता छोड़ें, हम बात को राजी

केंद्र सरकार पर हमला बोलते हुए किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा कि उन्होंने गलत जगह पंगा लिया है। अगर उन्हें इन किसानों के मूड के बारे में पता होता तो वे इन काले कानून को नहीं लाते। ये किसान इस सरकार को झुकने के लिए बाध्य कर देंगे।

किसान नेता राकेश टिकैत ने केंद्र सरकार को चेतावनी देते हुए कहा कि सरकार को किसी भी हाल में तीनों कृषि कानूनों को वापस लेना ही होगा, वहीं केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने किसानों से धरना छोड़ कर वार्ता का रास्ता अपनाने की अपील की है। (एक्सप्रेस फोटो)

महिलाओं के अधिकार के लिए आज भी डटे हैं : UP में 40% टिकट महिलाओं को देने पर राहुल गांधी अमरिंदर स‍िंह बनाएंगे नई पार्टी, कहा - पंजाब चुनाव में बीजेपी से सीटों के समझौते को तैयार प्रियंका लड़की हैं, लड़ सकती हैं

बीते 10 महीने से दिल्ली की सीमाओं पर किसानों का आंदोलन जारी है। प्रदर्शनकारी किसान केंद्र सरकार द्वारा पारित किए गए तीनों कानूनों को वापस लेने की मांग कर रहे हैं। किसान आंदोलन का प्रमुख चेहरा बन चुके किसान नेता राकेश टिकैत ने सरकार को चेतावनी देते हुए कहा है कि यह सरकार कान खोल कर सुन ले, हम दस साल तक भी प्रदर्शन करने को तैयार हैं। वहीं कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने एक बार फिर किसानों से आंदोलन का रास्ता छोड़ने की अपील करते हुए कहा है कि वे बात करने को तैयार हैं।

रविवार को हरियाणा के पानीपत में आयोजित किसान महापंचायत में किसान नेता राकेश टिकैत ने कहा कि आंदोलन को दस महीने हो गए। सरकार को कान खोलकर सुन लेना चाहिए कि अगर हमें दस वर्षों तक आंदोलन करना पड़े तो हम तैयार हैं। केंद्र को इन कानूनों को वापस लेना ही होगा। राकेश टिकैत ने यह भी कहा कि अगर उनकी मांग नहीं मानी जाती है तो किसान आंदोलन को और तेज करेंगे। उन्होंने किसानों से कहा कि आप अपने ट्रैक्टर तैयार रखें इनकी दिल्ली में कभी भी जरूरत पड़ सकती है। headtopics.com

इसके अलावा राकेश टिकैत ने कहा कि अगर वर्तमान सरकार ने इन कानूनों को वापस नहीं लिया तो आने वाली सरकारों को यह कानून वापस लेना ही होगा। जिन लोगों को देश पर शासन करना है उन्हें इन कानूनों को वापस लेना पड़ेगा। हम इन कानूनों को लागू नहीं होने देंगे और हम अपना आंदोलन जारी रखेंगे। अगर किसान दस महीने से अपने घर नहीं लौटे हैं तो दस वर्षों तक भी आंदोलन कर सकते हैं, लेकिन इन कानूनों को लागू नहीं होने देंगे।

केंद्र सरकार पर हमला बोलते हुएकिसान नेता राकेश टिकैतने यह भी कहा कि उन्होंने गलत जगह पंगा लिया है। अगर उन्हें इन किसानों के मूड के बारे में पता होता तो वे इन काले कानून को नहीं लाते। ये किसान इस सरकार को झुकने के लिए बाध्य कर देंगे। इस दौरान राकेश टिकैत ने युवा किसानों से अपील की कि वे इन कानूनों के विरोध में चल रहे आंदोलन को मजबूती देने में सोशल मीडिया का पूरा इस्तेमाल करें। उन्होंने कहा कि आंदोलन को बदनाम करने के लिए जो दुष्प्रचार फैलाया जा रहा है उनका विरोध करने की जिम्मेदारी आप युवाओं पर है।

वहीं केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने एक बार फिर से किसान संगठनों से धरना ख़त्म करने की अपील की। केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर ने कहा कि मैं किसानों से आग्रह करता हूं कि वो आंदोलन छोड़कर वार्ता का रास्ता अपनाएं। सरकार उनके द्वारा बताई गई आपत्ति पर विचार करने के लिए तैयार है और इससे पहले भी कई बार बात हो चुकी है और इसके बाद भी उन्हें लगता है कि कोई बात बची है तो सरकार उस पर जरूर बात करेगी।

गौरतलब है कि दिल्ली की सीमा पर चल रहे किसान आंदोलन को लगभग 10 महीने का समय हो चुका है। इतने दिन बीत जाने के बावजूद अभी तक कोई ठोस समाधान नहीं निकल पाया है। जनवरी महीने के बाद से ही किसान संगठनों और केंद्र सरकार के बीच कोई बातचीत नहीं हुई है। केंद्र सरकार ने आखिरी मीटिंग में तीनों कानूनों को डेढ़ साल तक निलंबित करने का प्रस्ताव भी दिया था लेकिन किसान संगठनों ने इसे नामंजूर कर दिया था। प्रदर्शनकारी किसान अभी भी तीनों कानूनों की वापसी और न्यूनतम समर्थन मूल्य पर क़ानूनी गारंटी की मांग को लेकर अड़े हुए हैं। ( headtopics.com

शिल्पा शेट्टी और राज कुंद्रा ने शर्लिन चोपड़ा के खिलाफ दाखिल किया 50 करोड़ का मानहानि का केस बड़े लोगों पर कीचड़ उछालने में सबको मजा आता है...आर्यन के समर्थन में जावेद अख्‍तर Nalin Kumar Kateel: कर्नाटक बीजेपी चीफ का विवादित बयान, बोले- नशे के आदी और ड्रग तस्कर हैं राहुल गांधी

भाषा इनपुट्स के साथ और पढो: Jansatta »

सियासी बवाल के बीच राहुल गांधी का दिल्ली से लखीमपुर का सफर, देखें टाइमलाइन

लखीमपुर खीरी में चार किसानों समेत आठ लोगों की मौत के बाद का विवाद अबतक शांत नहीं हुआ है. लखनऊ एयरपोर्ट पर धरने के बाद आखिरकार राहुल गांधी को वहां से बाहर निकलने दिया गया है. एयरपोर्ट पर राहुल अपनी गाड़ी से जाएंगे या प्रशासन की गाड़ियों से इस पर विवाद हुआ था. अब राहुल गांधी और प्रियंका गांधी सीतापुर से लखीमपुर खीरी के लिए रवाना हुए और लखीमपुर में मृतक किसानों के परिवार से मिलने पहुंच चुके हैं. देखें राहुल गांधी के दिल्ली से लखीमपुर के सफर की पूरी टाइमलाइन.

RakeshTikaitBKU जी, आप भी ध्यान से सुने, RahulGandhi की बुद्धि ने INCIndia को बर्बाद कर दिया और अब आप की भी फजीहत कराने को पूरा समर्थन दे दिया है, अब आप थोड़ा विचार कर लें । कांग्रेस से 1947 से 2014 तक का हिसाब भी ले के तो देखें । कांग्रेस का रस्ता अब कब्रिस्तान की ओर है 🟣 मोदी अम्बानी अदानी मुर्दाबाद

पंजाब: चीमा ने चन्नी मंत्रिमंडल पर उठाए सवाल, बोले- दागियों को दोबारा मिली सरकार में जगहपंजाब: चीमा ने चन्नी मंत्रिमंडल पर उठाए सवाल, बोले- दागियों को दोबारा मिली सरकार में जगह PunjabCongress PunjabPolitics

अमेरिकी राष्ट्रपति ने मोदी को दी 'अपनी' कुर्सी, बाइडेन ने बताई शादी वाली बातशुक्रवार को पीएम मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडेन के बीच व्हाइट हाउस में मुलाकात हुई। इस मुलाकत के समय दोनों नेता पूरी गर्मजोशी से मिले। इस दौरान भारत-अमेरिका के बीच संबंध और मजबूत करने के साथ-साथ व्यापार बढ़ाने पर दोनों नेताओं ने चर्चा की।

योगी सरकार का विस्तार: जितिन प्रसाद और छह राज्य मंत्रियों को मिली जगह - BBC Hindiउत्तर प्रदेश में योगी आदित्यनाथ की सरकार ने कैबिनेट में विस्तार किया है. इसी साल कांग्रेस छोड़कर बीजेपी में शामिल होने वाले जितिन प्रसाद को योगी मंत्रिमंडल में कैबिनेट मंत्री के रूप में जगह मिली है. start_MP_teachers_transfer_portal म.प्र.शिक्षा विभाग की भेदभाव पूर्ण ट्रांसफर नीति देश के इतिहास में पहली ऐसी नीतिहै जिसमें प्राथमिकता का आधार सिफारिशी पत्र है जिससे हजारों शिक्षक वंचित हो गये कृपया समानता से पुनः पोर्टल चालू करें narendramodi ChouhanShivraj OfficeOfKNath चुनाव आने वाला है लगता ? क्या नरेंद्र मोदी को हटाकर नितिन गडकरी को देश का प्रधानमंत्री बनाना चाहिए.

आतंकी सरकार की पैरवी कर खुद को बताया आतंक से पीड़ित, देखें इमरान की दोमुंही चालअफगानिस्तान का बच्चा-बच्चा कहता है कि उनके मुल्क में जो कोहराम मचा वो पाकिस्तान की पैदाइश है. अफगानी आतंकियों को पालने पोसने से लेकर उन्हें ट्रेनिंग, पैसा, और पनाह सबकुछ पाकिस्तान ने दिया और आखिरकार अफगानिस्तान के भविष्य पर एक बार फिर कालिख पोतने में कामयाब हो गया. पाकिस्तान और उसके पीएम इमरान खान की इस चालबाजी को पूरी दुनिया जानती और समझती है फिर भी इमरान बड़ी बेशर्मी से कहते फिरते हैं कि उनका मुल्क आतंकवाद से पीड़ित है. शनिवार को संयुक्त राष्ट्र महासभा को पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने संबोधित किया. देखें वीडियो. KeshavPrasadMi6 रात दिन आतंकवादीयो के लिए भीख में चव्वनी मांग कर पेट पालने वाले तेरी औकात दुनिया जान चुकी है ! सबका हेडमास्टर तू ही है और उसका स्कूल तेरे घर के आंगन में ही है दुनिया जान चुकी है UN में पाकिस्तान को आखरी चेतावनी पीओके खली करो। मोदी है तो मुमकिन है पाकिस्तान परस्त लिब्रेंडू और कांग्रेसी चमचों कब समझ लेना चाहिए मोदी क्या चीज है

Global Citizen Live: सरकार को भरोसेमंद साथी मानें तो गरीबी से लड़ाई संभव- प्रधानमंत्री मोदीGlobal Citizen Live प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गरीबी को खत्म करने के लिए सरकारों को भरोसेमंद साथी के तौर पर देखने की बात कही। उन्होंने कहा कि सरकार वह भरोसेमंद साथी है जो उन्हें गरीबी के दुष्चक्र को हमेशा तोड़ने के लिए सक्षम बुनियादी ढांचा देंगे।

उत्तराखंड सरकार ने चेताया- आबादी में तेज़ वृद्धि से हो रहा जनसांख्यिकीय परिवर्तनउत्तराखंड सरकार का ये बयान भाजपा नेता अजेंद्र अजय द्वारा मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी को हाल ही में लिखे गए एक पत्र के बाद आया है, जिसमें उन्होंने आरोप लगाया था कि एक विशेष समुदाय के लोग न केवल अपने पूजा स्थल बना रहे हैं, बल्कि कुछ क्षेत्रों में ज़मीन भी ख़रीद रहे हैं, जिससे राज्य के मूल निवासियों का पलायन हो रहा है. WTF! How can a government brand people as criminals and antisocial just because they are Muslims?