Cjıramana, Judicialsystem, Supremecourt, Cjı Nv Ramana, Indian Judicial System, Colonial, Unusable For People

Cjıramana, Judicialsystem

कानूनी ढांचे पर छलका CJI का दर्द: चीफ जस्टिस रमना बोले- देश में अब भी गुलामी के दौर की न्याय व्यवस्था, यह भारत के हिसाब से ठीक नहीं

कानूनी ढांचे पर छलका CJI का दर्द: चीफ जस्टिस रमना बोले- देश में अब भी गुलामी के दौर की न्याय व्यवस्था, यह भारत के हिसाब से ठीक नहीं #CJIRamana #JudicialSystem

18-09-2021 18:55:00

कानूनी ढांचे पर छलका CJI का दर्द: चीफ जस्टिस रमना बोले- देश में अब भी गुलामी के दौर की न्याय व्यवस्था, यह भारत के हिसाब से ठीक नहीं CJIRamana JudicialSystem

देश की न्याय व्यवस्था पर मुख्य न्यायाधीश (CJI) एनवी रमना ने चिंता जाहिर की है। कर्नाटक स्टेट बार काउंसिल के जस्टिस एमएम शांतनगौदर को श्रद्धांजलि देने पहुंचे CJI ने कहा कि देश में अब भी गुलामी के दौर की न्याय व्यवस्था कायम है। शायद देश की जनता के लिए यह ठीक नहीं है। CJI ने कानून प्रणाली का भारतीयकरण करने की बात पर जोर दिया। CJI ने कहा कि भारत की समस्याओं पर अदालतों की वर्तमान कार्यशैली फिट नहीं बैठ... | Supreme Court, CJI NV Ramana, Indian judicial system, colonial , unusable for people

कानूनी ढांचे पर छलका CJI का दर्द:चीफ जस्टिस रमना बोले- देश में अब भी गुलामी के दौर की न्याय व्यवस्था, यह भारत के हिसाब से ठीक नहींनई दिल्ली39 मिनट पहलेकॉपी लिंकदेश की न्याय व्यवस्था पर मुख्य न्यायाधीश (CJI) एनवी रमना ने चिंता जाहिर की है। कर्नाटक स्टेट बार काउंसिल के जस्टिस एमएम शांतनगौदर को श्रद्धांजलि देने पहुंचे CJI ने कहा कि देश में अब भी गुलामी के दौर की न्याय व्यवस्था कायम है। शायद देश की जनता के लिए यह ठीक नहीं है। CJI ने कानून प्रणाली का भारतीयकरण करने की बात पर जोर दिया। CJI ने कहा कि भारत की समस्याओं पर अदालतों की वर्तमान कार्यशैली फिट नहीं बैठती है।

आर्यन ख़ान मामला: नवाब मलिक के आरोपों पर समीर वानखेड़े ने दी सफ़ाई, दुबई जाने से किया इनकार - BBC Hindi वानखेड़े को नवाब मलिक की चुनौती- सालभर में जाएगी नौकरी, जाना होगा जेल, NCB अफसर ने दीं शुभकामनाएं VIDEO: चलती ट्रेन में चढ़ने की कोशिश कर रही थी महिला, फिसलकर गिरी, लेडी कॉन्स्टेबल ने यूं बचाई जान

अंग्रेजी में कार्यवाही नहीं समझ पाते ग्रामीणबार एंड बेंच के मुताबिक CJI रमना ने कहा कि ग्रामीण इलाकों के लोग इंग्लिश में होने वाली कानूनी कार्यवाही को नहीं समझ पाते हैं। इसलिए उन्हें ज्यादा पैसे बर्बाद करने पड़ते हैं। उन्होंने कहा कि आम आदमी को कोर्ट और जज से डर नहीं लगना चाहिए।

कोर्ट की कार्यवाही पारदर्शी होनी चाहिएरमना ने कहा कि किसी भी न्याय व्यवस्था में सबसे महत्वपूर्ण स्थान मुकदमा दायर करने वाले व्यक्ति का होता है। कोर्ट की कार्यवाही पारदर्शी और जवाबदेही भरी होनी चाहिए। जजों और वकीलों का कर्तव्य है कि वे ऐसा माहौल तैयार करें जो आरामदायक हो। headtopics.com

जस्टिस शांतनगौदर को याद कियाजस्टिस रमना ने जस्टिस शांतनगौदर को याद किया। उन्होंने कहा कि जस्टिस शांतनगौदर आम लोगों की जरूरतों को समझते थे। उन्होंने जस्टिस शांतनगौदर के परिवार के प्रति संवेदना व्यक्त की।CJI ने कहा कि जस्टिस शांतनगौदर का देश की न्यायपालिका में अहम योगदान है।

देश ने लोगों का ध्यान रखने वाला जज खो दियामुख्य न्यायाधीश ने कहा कि देश ने आम आदमी के हित का ध्यान रखने वाला जज खो दिया। वह प्रैक्टिस करते समय गरीबों और वंचितों के मामलों को उठाने में रुचि दिखाते थे। उनका फैसला सामान्य और प्रैक्टिकल होता था। वह सुनवाई के लिए हमेशा तैयार रहते थे। उनका सेंस ऑफ ह्यूमर भी लाजवाब था।

और पढो: Dainik Bhaskar »

'स्पेशल बच्चों' की दीदी: कोई शर्ट के बटन खोलकर स्कर्ट उतारती है तो कोई बाल खींचता है, पर मुझे गुस्सा नहीं आता, प्यार से बदलती हूं जिंदगी

‘मैं क्लास में घुसी और उस स्टूडेंट ने अपनी शर्ट के बटन खोलने शुरू कर दिए। स्कूल प्रशासन से पूछा कि ये बच्ची ऐसा क्यों करती हैं? जवाब मिला अब ये सेक्स एडिक्ट हो गई। इसके साथ कई बार रेप हुआ है। अब ये किसी भी लड़का या लड़की को देखती है तो शर्ट के बटन या स्कर्ट उतारने लगती है। वो मासूम सी बच्ची 15 साल से कम थी। उसकी हालत देखकर मुझे मंटो की कहानी ‘खोल दो’ की सकीना याद आ जाती। पर उस कई बार रेप हुई बच्ची... | दिवांशी छेतीजा स्पेशल नीड्स बच्चों को पढ़ाने का काम करती हैं। इन बच्चों को पढ़ाना चुनौती भरा है, लेकिन पेशेंस के साथ पढ़ाने से इनकी जिंदगी में पॉजिटिव चेंज लाया जा सकता है।

दुःख की बात है कि सर्वोच्च न्यायालय को सच्चाई समझने में 72 साल लगे। देश के मुख्य न्यायाधिश द्वारा आज के भारतीय कानूनी ढांचे को गुलामी के दौर वाली न्यायव्यव्स्था बताना सरकार की कार्यप्रणाली पर सवालिया निशान लगाने सहित जनता के लिये भी परेशानी का सबब है।यक्ष प्रश्न यह हैकि पीडित देशवासी को निर्धारित समय पर न्याय कब उप्लब्ध होगा?जिसका कि वह हकदार है।

कालजेनियम हटाने की हिम्मत नहीं है तो चूप रहना ही बेहतर है जिसके लिए मुकदमा है उसी की भाषा में वकील को तर्क न्यायपालिका को फैसला सुनाना चाहिए जस्टिस एन. वी. रमना ने बहुत सही बात कही है। वर्तमान न्याय व्यवस्था में न्याय देरी से मिलता है यह न्याय की हत्या के समान है। न्यायिक प्रक्रिया में बहस व निर्णय अंग्रेजी में होने से सामान्य व्यक्ति न्यायिक व्यवस्था से जुड़ नहीं पाता, ना ही इससे अपनापन महसूस कर पाता। narendramodi

खुद पहल करे. शुरवात करे . सुधर हो जायगा. सरकार से बात करे. ये बात भी माननीय ने भी अंग्रेजी में ही बोला होगा।, बाकी बात ये कि ये सब ठीक कौन करेगा। , समस्या तो पता है, लेकिन हल भी तो बताना होगा। पूरी न्याय पालिका आपके हाथ में है। फिर भी आप ऐसी बात बोलते है, तो सोचिये आम आदमी का क्या होता होगा, वो क्या बोलता होगा। बोलिये मत काम कीजिये। व्यवस्था को सुधारिये। गरजने वाले बादल बरसते नही। गरजिये नही बरसिये।

आम आदमी ने अपना जज को दिया। सी जे आई राजनीतिक, सामाजिक, धार्मिक, न्यायिक, चारों चेतना एकत्र हो भारत हित में काम करने लगें तो भारत पूरे विश्व का नेतृत्व बहुत शीघ्र करने लगेगा।। मतलब संविधान बदला जायेगा?

प्रधानमंत्री मोदी के तोहफों की नीलामी, नीरज चोपड़ा के भाले की 1.5 करोड़ रुपये की बोलीप्रधानमंत्री मोदी के जन्मदिन के मौके पर उनको मिले उपहारों की नीलामी की गई। नीरज चोपड़ा के भाले की बोली 1.5 करोड़ की लगी तो वहीं लवलीना के बॉक्सिंग ग्लव्स की नीलामी 1.9 करोड़ में हुई। उनको तो आदत है नीलाम करने की आ गया भटकाव का एक और तरीक़ा

AshwiniUpadhyay सर कुछ करें then why don't u repeal PMOIndia HMOIndia barcouncilindia क्यो बार काउंसिल इस बात सही मिनिस्ट्री से सम्पर्क करती? पूरा देश बर्बाद हो गया? Indian penal code और crpc बहोत जूना कानून है? लोगो का विश्वास उठ गया? rashtrapatibhvn VPSecretariat sambitswaraj JPNadda OfficeofJPNadda gauravbh

Right CJIRamana गुलामी के समय का पहेरवेश भी बदल पाये तो भी लगेगा कि बदलाव की शुरुआत हुई है. सरहानीय बात सराहनीय कदम की आकांक्षा AshwiniUpadhyay ISupportAshwiniUpadhyay fully From ❤️ एक एक कदम से कुछ नहीं होगा लम्बी छलांग लगाने से काम बनेगा भारत को हिन्दू राष्ट्र घोषित करो भारत के हर निवासी को हिन्दू घोषित करो जय श्री राम ।

गुलामी से बद्दतर स्थिति ये दोगले नेताओ ने कर दी है देश मे , 🇮🇳🇮🇳🇮🇳 Bilkul sahi,..... Kab hoga yehi dekhna hai

सौरव गांगुली ने दी विराट कोहली के टी20 टीम की कप्तानी छोड़ने की घोषणा पर प्रतिक्रियासौरव गांगुली ने कहा विराट कोहली भारतीय क्रिकेट की असली धरोहर हैं और वह टीम के काफी अच्छे से आगे लेकर आए हैं। वह क्रिकेट का तीनों ही फार्मेट में सबसे सफल कप्तान हैं। उन्होंने यह फैसला भविष्य की योजना ध्यान में रखते हुए लिया है। India captan Rohit sharma is best captan

AshwiniUpadhyay सबसे कठिन सवाल है कि जब माननीय सुप्रीम कोर्ट का फैसला सभी माननीय अदालतो मे नजीर बनता है तब उसे समान पोडितो के हितार्थ समान वर्ग पर समान रूप मे लागू क्यो नही किया जातासर,,,फिर से वैसे ही मामले मे माननीय अदालत का समय बर्बाद करने वालो को सजा क्यो नही मिलती सर।। मेरी प्रोपर्टी देहरादून में हे , एक जज और प्रॉपर्टी डीलर दे नही रहे किस के पास जाए ………..CJIRamana Judicial JudicialSystem

मीलॉर्ड आप ही शुरुआत करदो कोर्ट 10-6 तक काम करेगी छुट्टी कम कर दीजिये गर्मी सर्दी की AshwiniUpadhyay Har CJI yeh bhakgobhi karta hai dukh jatata hai paise kamata hai bhag jaata hai. AshwiniUpadhyay विलंब से मिला न्याय किसी अन्याय से कम नही होता सर।। सुद्र्ढ कार्ययोजना बनाकर न्याय प़्रक्रिया को और बेहतर किया जा सकता है,,सर।।

AshwiniUpadhyay मोदी सरकार ने बदलाव की कोशिश की थी, पर इन्हीं लोगों ने उसे दखलंदाजी बताकर ना सफल कर दिया. CJIRamana दु:ख जताने के बजाय सरकार से मिलकर बदलाव कर सके तो देश याद रखेगा NijiSachiv यही बात तो अजीत भारती भी कह रहे हैं अपनी भाषा में, तो आप कृपया कर उनके खिलाफ लगे हुए आरोप और मुकदमा चलाने की अनुमति को खारिज कर दीजिए क्योंकि न करने पर इससे फैसलालय की प्रतिष्ठा ही कम होगी

AshwiniUpadhyay तो इस न्याय व्यवस्था को आखिर बदलेगा कौन PM बेबस, CJI बेबस, विपक्ष भी बेबस अजीब विडम्बना है यह देखिए, एक और मिलोड भावुक हो गए NijiSachiv आपके अवमानना वाला केस इन्ही के पास आये तब ज्यादा भावुक होंगे istandwithajeetbharati यही बात कितने दिनों से AshwiniUpadhyay जी कह रहे हैं लेकिन आज तक हेडलाइन न बन सकी और चीफ जस्टिस रमना जी ने कहा तो हर तरफ चर्चा है। लेकिन मेरी मानना है कि AshwiniUpadhyay जी ये आपके प्रयास का ही नतीजा है।

CJI बोले, नहीं चल पाएगी अंग्रेजों के जमाने की न्याय व्यवस्था, अब भारतीयकरण जरूरी हैचीफ जस्टिस ऑफ इंडिया एनवी रमना ने कहा कि भारत की न्याय व्यवस्था बहुत पुरानी है और समय के हिसाब से अब इसमें परिवर्तन की जरूरत है। इसका भारतीयकरण जरूरी हो गया है। Milod ko ye gyan Kab hua? आज तीन बर्षो से झारखंड स्थानीय नीति का केस मुख्य न्यायाधीश महोदय के यहां रजिस्टर है , इतने महत्वपूर्ण विषय की सुनवाई नहीं हो पा रही है AdvSaurabhKr माननीय अभी राज्यसभा की कोई सीट खाली नहीं है अपने कार्य पर ध्यान दें।

AshwiniUpadhyay तो मैं चेंज करूँ इसको AshwiniUpadhyay बदलेगा कौन AshwiniUpadhyay राजनीतिक पार्टियां क्यों नहीं समझती हैं हमारे देश का कानून हमारी भाषा में होना चाहिए न कि जो भाषा दूसरे दे गये तभी गांव गरीब और किसान का विकास संभव हैं नहीं तो बस राजनीति के लिए अलावा गांव गरीब और किसान को किसी राजनीतिक पार्टी से कोई मतलब नहीं हैं सत्ता प्यारी हैं।

AshwiniUpadhyay बहुत अच्छी बात छेडी Sahi h hr desh ki law unke apne anusar h but bharat me unke law dusre deso ke anusar jisse sirf amiro ko fayda h gareeb to ab bhi gulam hi h ये कैसा संविधान और कानून है जो एक तरफ कहता है देश की 70 % आबादी ग्रामीण है और माननीय सुप्रीम कोर्ट का एक भी फैसला कोई नहीं समझ पता क्युकी ग्रामीण परिवेश में हिंदी समझ वाले लोग ही रहते है अजीब ग्रन्थ थोप दिया जनता पर

Hon'ble Chief Justice sir, Staff posted in different District Court of Jharkhand needs your kind attention,kindly dispose applications for mutual transfer pending for 5 years in Jharkhand High Court.staffs are not mentally fit,many staffs facing difficulties,kindly look into this Isko thik karne ka vyavastha kijiye Ye baat sab jaanta hai 😠

जय हो

PM मोदी के जन्मदिन पर उनके उपहारों की नीलामी: नीरज चोपड़ा के भाले पर अभी तक लगी 1 करोड़ 20 लाख रुपए की बोली, हॉकी टीम की स्टिक खरीदने का भी मौकाआज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 71 बरस के हो गए। उनके जन्मदिन के मौके पर मिनिस्ट्री ऑफ कल्चर PM को मिले उपहारों का ऑनलाइन ऑक्शन (ई-ऑक्शन) कर रही है। ऑनलाइन ऑक्शन 17 सितंबर से 7 अक्टूबर तक चलेगा। इस ऑक्शन में करीब 1300 आइटम होंगे, उनमें से एक ओलिंपिक गोल्ड मेडलिस्ट नीरज चोपड़ा का जेवलिन भी शामिल है, जिसका बेस प्राइस 1 करोड़ रखा गया है। इनमें और भी बहुत से मोमेंटो होंगे जो प्रधानमंत्री ने पिछले दो सालों... | Neeraj Chopra, prime minister narendra modi, Narendra Modi Birthday News, Prime Minister of India, Narendra Damodardas Modi, modi birthday narendramodi Neeraj_chopra1 ,भक्तो की किडनी भी निकाम कर दो। narendramodi Neeraj_chopra1 17सितंबर_बेरोजगार_दिवस_है यही नारा अब रोजगार है! NationalUnemploymentDay राष्ट्रीय_बेरोजगार_दिवस narendramodi 👎अखंड_पनौती_दिवस PMOIndia HappyBdayModiji WorldFekuDay राष्ट्रीय_महंगाई_दिवस narendramodi Neeraj_chopra1 सब कुछ बेंच देगा मोदी_रोजगार_दो NationalUnemploymentDay राष्ट्रीय_बेरोजगार_दिवस

2000 % सही बात है शुरुआत तो कीजिए/ सरकार को बोलिए सुधार लाएं With folding hands I urge you to kindly hear the three Farm Laws... PMOIndia कौन बदलेगा

नरेंद्र मोदी के जन्मदिन पर देश भर में बीजेपी की क्या है तैयारी - BBC News हिंदीपीएम मोदी का जन्मदिन मनाने के लिए बीजेपी ने 20 दिन के एक राष्ट्रव्यापी अभियान की योजना बनाई है. जानिए क्या कुछ करना चाहती है पार्टी. NationalUnemploymentDay राष्ट्रीय_बेरोजगार_दिवस राष्ट्रीय_बेरोजगार_दिवस राष्ट्रीय_बेरोजगार_दिवस मनाने की तैयारी है

आर्थिक पतन के कगार पर अफगानिस्तान, नकदी संकट ने बढ़ाई तालिबान सरकार की मुश्किलेंअफ़ग़ानिस्तान पर तालिबान का कब्ज़ा हुए अब एक महीने का वक़्त हो गया है। इस बीच अफगानिस्तान में कैश की भारी किल्लत है और फिलहाल तालिबान के सामने सबसे बड़ी चुनौती सामने मुंह बाये खड़े आर्थिक संकट का समाधान खोजना है।