Mehboobamufti, Mehbooba Mufti, Jammu Kashmir Cm Mehbooba Mufti, Mehbooba Mufti Yogi Adityanath, Up Cm Yogi Adityanath, महबूबा मुफ्ती, जम्मू कश्मीर महबूबा मुफ्ती

Mehboobamufti, Mehbooba Mufti

कश्मीर में जमीन दिलाने पर बोलीं महबूबा- CM योगी पहले UP के बेघरों को घर दिलाएं

जवानों पर महबूबा मुफ्ती ने फिर दिया विवादित बयान #mehboobamufti (@sunilJbhat)

16-09-2021 16:01:00

जवानों पर महबूबा मुफ्ती ने फिर दिया विवादित बयान mehboobamufti (sunilJbhat)

जम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री और पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती ( Mehbooba Mufti ) ने गुरुवार को उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर हमला बोला है.

यूपी सीएम योगी पर बरसीं महबूबाउत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर महबूबा मुफ्ती ने जमकर हमला बोला. उन्होंने कहा, ''यूपी के सीएम कह रहे हैं कि अब लोगों को जम्मू-कश्मीर में प्लॉट्स उपलब्ध करवाए जाएंगे. जम्मू-कश्मीर में प्लॉट्स देने से पहले उन्हें उत्तर प्रदेश में बेघर लोगों को घर मुहैया करवाने चाहिए. साथ ही उन्हें भूखे लोगों को खाना भी उपलब्ध करवाना चाहिए.'' बता दें कि महबूबा मुफ्ती लगातार केंद्र सरकार और बीजेपी नेताओं पर बरसती रही हैं. हाल ही में उन्होंने तालिबान के जरिए से केंद्र सरकार पर निशाना साधा था. मुफ्ती ने कहा था कि तालिबान ने अमेरिका को भागने पर मजबूर किया. हमारे सब्र का इम्तेहान मत लो. जिस दिन सब्र का इम्तेहान टूटेगा, आप भी नहीं रहोगे. मिट जाओगे.

चर्चा: नमाज पढ़ रहे लोगों के सामने लगे 'जय श्री राम' के नारे, भड़कीं स्वरा भास्कर बोलीं- हिंदू होने पर हूं शर्मिंदा 'कृषि नीति पर पुनर्चिंतन की जरूरत' : किसान के फसल जलाने के VIDEO पर बोले वरुण गांधी शाहरुख़ के बेटे आर्यन ख़ान को ज़मानत क्यों नहीं मिल पा रही है? - BBC News हिंदी

जवानों पर महबूबा का विवादित बयानपीडीपी चीफ महबूबा मुफ्ती ने पुंछ जिले के मेंढर सेक्टर में पार्टी कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए विवादित बयान दिया. मुफ्ती ने कहा, ''साल 2002 में मुफ्ती मोहम्मद सईद के जम्मू-कश्मीर का मुख्यमंत्री बनने से पहले, सुरक्षा बल के जवान बुजुर्गों की तलाशी के बहाने से उनकी टोपी उतार देते थे. सर्च के समय जवान हमारी लड़कियों के चादर को छीन लेते थे. मिलिटेंट्स रात में लोगों के घरों में जाते थे और फिर अगले दिन सुबह सुरक्षा बल के जवान आम आदमियों के घर में जाकर मिलिटेंट्स के बारे में पूछताछ करके प्रताड़ित करते थे. इसके बाद जब मुफ्ती मोहम्मद सईद मुख्यमंत्री बने, तब यह सब प्रताड़ना खत्म हो सकी.''

किसान मुद्दे पर महबूबा ने दी थी सरकार को नसीहतपिछले दिनों महबूबा मुफ्ती ने केंद्र सरकार से किसानों के मुद्दों पर नसीहत देते हुए ध्यान केंद्रित करने को कहा था. उन्होंने कहा था कि तालिबान भारत में नहीं, बल्कि अफगानिस्तान में है. सरकार का फोकस किसानों के मुद्दे होने चाहिए. पुंछ के सूरनकोटे इलाके में पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती ने पत्रकारों से बात करते हुए कहा था कि पिछले कई महीनों से किसान धरने पर बैठे हुए हैं. सरकार का मुख्य फोकस किसानों के मुद्दे पर होना चाहिए. headtopics.com

Live TV और पढो: आज तक »

लखीमपुर में जहां हिंसा हुई वहां बनेगा स्मारक: दिल्ली गुरुद्वारा कमेटी अध्यक्ष बोले- किसानों की मूर्ति लगाकर पत्थरों पर लिखेंगे जुल्म की गाथा, ताकि पीढ़ियां याद रखें

दिल्ली सिख गुरुद्वारा मैनेजमेंट कमेटी ने उत्तर प्रदेश के लखीमपुर में उसी स्थान पर किसानों का स्मारक बनवाने का ऐलान किया है, जहां 3 अक्टूबर को हिंसा हुई थी। यह ऐलान मंगलवार को तिकुनिया में हुए अंतिम अरदास में किया गया। तिकुनिया में चार किसान और एक पत्रकार का स्मारक बनेगा। किसान आंदोलन के एक साल के भीतर यह तीसरा स्मारक होगा, जिसे बनाने का ऐलान किया गया है। | Conversation with Manjinder Sirsa, who announced the farmer memorial: Said - where the massacre took place, the saga of atrocities will be written on the stones by placing the idols of the five; One crore rupees will be spent on the memorial किसान स्मारक की घोषणा करने वाले मनजिंदर सिरसा से बातचीत : बोले- जहां कत्लेआम हुआ, वहीं पांचों की मूर्ति लगाकर पत्थरों पर लिखेंगे जुल्म की गाथा; स्मारक पर खर्च होंगे एक करोड़ रुपये

sunilJbhat Mehbooba said right

महबूबा की केंद्र को नसीहत- तालिबान भारत में नहीं, किसान पर फोकस करे सरकारजम्मू-कश्मीर की पूर्व मुख्यमंत्री और पीडीपी प्रमुख महबूबा मुफ्ती ( Mehbooba Mufti ) ने केंद्र सरकार से किसानों के मुद्दों (Farmer Issues) पर ध्यान केंद्रित करने को कहा है. लेकिन फोकस चुनाव और अब्बाजान पर है

योगी- मोदी- अखिलेश: 'अब्बाजान' के बाद अब कानून व्यवस्था पर वार- पलटवार - BBC News हिंदीउत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और पूर्व सीएम अखिलेश यादव के बीच मंगलवार को क़ानून-व्यवस्था को लेकर वार-पलटवार. मुख्यमंत्री की दो दिन पुरानी टिप्पणी का भी ज़िक्र. Great respected father of nation Great महात्मा गाँधी जी को नमन Non violence are key of devlopment मुल्ला-यम ने खेली थी जो रम्मी.. वो निकली, अक्ललेस की अम्मी। BigBreking अलीगढ़ का नाम अब नहीं बदला जाएगा क्योंकि अलीगढ़ से उनके अब्बा_जान का पुराना नाता है ।

यूएनएचआरसी प्रमुख ने यूएपीए और जम्मू कश्मीर में संचार सेवाओं पर अस्थायी पाबंदी की आलोचना कीसंयुक्त राष्ट्र की मानवाधिकार उच्चायुक्त मिशेल बेशलेट ने कहा कि जम्मू कश्मीर में भारतीय अधिकारियों द्वारा सार्वजनिक सभाओं और संचार सेवाओं पर बार-बार पाबंदी लगाए जाने का सिलसिला जारी है, जबकि सैकड़ों लोग अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता के अपने अधिकार का प्रयोग करने के लिए हिरासत में हैं. साथ ही पत्रकारों को लगातार बढ़ते दबाव का सामना करना पड़ता है.

'झूठ का अंतरराष्ट्रीय प्रशिक्षण केंद्र खोल ले BJP', अखिलेश यादव का योगी सरकार पर हमलाभारतीय जनता पार्टी (BJP) पर बरसते हुए अखिलेश यादव ने कहा कि बीजेपी को झूठ बोलने का अंतरराष्ट्रीय प्रशिक्षण केंद्र खोलना चाहिए. उन्होंने कहा कि अगर समाजवादी नेता ये ट्रेंनिंग सेंटर खोलते हैं तो उन्हें मुफ्त में जमीन देंगे. तुम्हारे शासन में तो खुद तुम टोंटी चुरा लाये किसके किसके घर टोटी चोरी हुई हिम्मत है तो ये वाले पोस्टर लगवाओ। भाजपाइयों पब्लिक चप्पल ले के दौड़ाएगी...!!

RSS-BJP पर दिए बयान को लेकर राहुल गांधी पर FIR की तैयारीभोपाल। संघ और हिंदू देवी-देवताओं पर दिए बयान को लेकर राहुल गांधी पर अब कानूनी कार्रवाई की तलवार लटकने लगी है। मध्यप्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने राहुल के आरएसएस पर दिए बयान को लेकर नाराजगी जाहिर करते हुए कहा कि राहुल गांधी पर एफआईआर कराने को लेकर वह कानूनी विशेषज्ञों से राय ले रहे है। गृहमंत्री ने राहुल गांधी को इच्छाधारी हिन्दू बताते हुए कहा कि वह अपनी सुविधानुसार टोपी और टीका लगाकर धार्मिक पर्यटन करते है और फिर संघ को लेकर इस तरह के बयान देते है।

पाक की स्कूली किताबों पर विवाद, महिलाओं की घरेलू छवि पर मचा बवालपाकिस्तान में इमरान खान सरकार पर इन दिनों लैंगिक भेदभाव का आरोप लग रहा है। आरोप है कि जिन किताबों को सरकार ने नए पाठ्यक्रमों में शामिल किया है, उसमें बच्चियों को हिजाब पहने दिखाया गया है। खेलों से दूर रखा गया है। ये लड़कियों को लड़कों से कमतर दिखाने का प्रयास है।