कलावा बांध कर आतंक फैलाने आया था कसाब, मारा जाता तो हिंदू के रूप में होती पहचान

Mumbaiattack, Rakesh Maria, Mumbai Attack, Kasab, Hindu Terror Attack, Lashkar-E-Taiba, Mumbai Police, राकेश मारिया, कसाब, लश्कर ए तैयबा, हिंदू आतंकी हमला, मुंबई पुलिस, Rakesh Maria Book, India News In Hindi

26 नवंबर, 2008 के मुंबई हमले से पाकिस्तानी आतंकी संगठन लश्कर-ए-ताइबा न केवल भारत की व्यावसायिक राजधानी को दहलाना चाहता था

Mumbaiattack, Rakesh Maria

18.2.2020

26 नवंबर, 2008 के मुंबई हमले से पाकिस्तानी आतंकी संगठन लश्कर-ए-ताइबा न केवल भारत की व्यावसायिक राजधानी को दहलाना चाहता था बल्कि इसके लिए ‘हिंदू आतंकवाद’ को जिम्मेदार ठहराना चाहता था। CPMumbaiPolice MumbaiPolice OfficeofUT ImranKhanPTI MumbaiAttack

26 नवंबर, 2008 के मुंबई हमले से पाकिस्तानी आतंकी संगठन लश्कर-ए-ताइबा न केवल भारत की व्यावसायिक राजधानी को दहलाना चाहता था

बल्कि इसके लिए ‘हिंदू आतंकवाद’ को जिम्मेदार ठहराना चाहता था। अगर आतंकी अजमल आमिर कसाब उस दिन मारा जाता तो दुनिया के सामने उसकी पहचान बंगलूरू निवासी समीर दिनेश चौधरी के रूप से जाहिर होती। यही नहीं, उसे हिंदू साबित करने के लिए उसके हाथ में कलावा भी बांधा था। यह सनसनीखेज दावा मुंबई पुलिस कमिश्नर रहे राकेश मारिया ने अपनी किताब ‘लेट मी से इट नाऊ’ में किया है। मारिया ने लिखा, कसाब के कब्जे से जो पहचान पत्र मिला उसमें उसका नाम समीर दिनेश चौधरी नाम लिखा था। लश्कर की साजिश सफल होती तो सारे अखबारों और चैनलों पर ‘हिंदू आतंकवाद’ की खबर चलती। कहा जाता कि हिंदू आतंकियों ने मुंबई पर हमला किया। बंगलूरू में कसाब के फर्जी पते पर उसके परिवार और पड़ोसियों के घर चैनलों की लाइन लग जाती, लेकिन साजिश पर पानी फिर गया और समीर पाकिस्तान के फरीदकोट का कसाब निकला। इन आतंकियों के पास हैदराबाद के अरुणोदय कॉलेज परिचय पत्र था। क्या यह कांग्रेस और आईएसआई की संयुक्त योजना थी : भाजपा वहीं, भाजपा ने मुंबई के पूर्व पुलिस आयुक्त राकेश मारिया की नई किताब में किए गए दावे को लेकर मंगलवार को कांग्रेस पर हमला बोला और कहा कि इससे सवाल पैदा होता है कि क्या भगवा आतंकवाद की साजिश कांग्रेस और पाकिस्तानी आईएसआई की संयुक्त योजना थी। भाजपा प्रवक्ता जीवीएल नरसिम्हा राव ने मारिया के दावे पर कांग्रेस को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि इस्लामिक आतंकवाद के इतिहास में पहली बार अपराधियों ने अपनी पहचान के बारे में लोगों को गुमराह करने का प्रयास किया। उन्होंने कहा, यह गंभीर सवाल उठाता है, क्या भगवा आतंकवाद की साजिश कांग्रेस और पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई की संयुक्त योजना थी। लगभग उसी समय, 'संप्रग ने भगवा आतंकवाद की बात की और राहुल गांधी ने अमेरिकी राजनयिकों से कहा कि भारत में पैदा हुए समूह इस्लामिक आतंकी समूह की अपेक्षा बड़ा खतरा हैं।’ उन्होंने कांग्रेस से जवाब मांगते हुए कहा कि पार्टी को इस पर सफाई देनी चाहिए और स्पष्ट करना चाहिए कि क्या आईएसआई कांग्रेस के नेतृत्व वाले संप्रग का विस्तारित हिस्सा थी। मुंबई पुलिस रोक रही थी, केंद्रीय एजेंसियों ने तस्वीर जारी की थी हमले के दौरान कलाई पर कलावा बांधे छत्रपति शिवाजी टर्मिनस स्टेशन के सीसीटीवी कैमरे में हुए नजर आ रहे कसाब की तस्वीर सार्वजनिक हुई थी। इसे लेकर मारिया ने बताया कि मुंबई पुलिस पूरे प्रयास कर रही थी कि यह तस्वीर लीक न हो। ऐसा होने पर भ्रम की स्थितियां पैदा हो सकती थीं। लेकिन ‘केंद्रीय एजेंसियों’ ने इस तस्वीर को जारी कर दिया। भगौड़ा दाउद जेल में खत्म करना चाहता था कसाब को उन्होंने पुस्तक में दावा किया कि पाकिस्तान की बदनाम खुफिया एजेंसी आईएसआई और लश्कर नहीं चाहते थे कि कोई आतंकी जीवित पकड़ा जाए। वे कसाब को जेल में खत्म करना चाहते थे ताकि हमले का उनसे कोई लिंक साबित करने का मौका भारत को न मिले। उन्हाेंने यह काम भारत से भगौड़े आतंकी दाउद को सौंपा। दाउद ने इसके लिए अपनी गैंग की मदद लेने की कोशिश की, लेकिन वह सफल नहीं हो सका। मानता था भारत में मुसलमानों को नमाज नहीं पढ़ने देते कसाब मानता था कि भारत में आम मुसलमान बुरे हालात में हैं। उन्हें नमाज नहीं पढ़ने दी जाती, मस्जिदों में ताले लगा दिए जाते हैं। मारिया के अनुसार जब वह क्राइम ब्रांच के लॉकअप में था और आसपास मौजूद मस्जिदों से पांच वक्त नमाज की आवाज उस तक पहुंचती तो उसे लगता कि यह उसका वहम है। जबकि मारिया को यह जानकारी हुई, तो उन्हाेंने जांच अधिकारी रमेश महाले सहित कुछ पुलिसकर्मियों के साथ कसाब को पुलिस की गाड़ी में मेट्रो सिनेमा के पास मौजूद मस्जिद में नमाज के समय भेजा। तब उसे मालूम हुआ कि पाकिस्तान में उसे भारत के बारे में झूठ बताया गया। चोरी चकारी के लिए लश्कर से जुड़ा था मारिया के अनुसार फरीदकोट पाकिस्तान का रहने वाला कसाब लूट के मकसद से लश्कर से जुड़ा था। कसाब और उसका दोस्त मुजफ्फर खान केवल लूटपाट करना चाहते थे, उन्हें जिहाद से मतलब नहीं था। उसे तीन चरण की ट्रेनिंग के बाद सवा लाख रुपये देकर परिवार से मिलने की छुट्टी दी गई। ये पैसे कसाब ने बहन की शादी के लिए परिवार को दिए थे। भाजपा ने उठाए कांग्रेस पर सवाल सार मुंबई के पूर्व पुलिस आयुक्त राकेश मारिया ने पुस्तक ‘लेट मी से इट नाऊ’ में बताया है कि हाथ में कलावा बांध और भारतीय पहचान पत्रों के साथ लश्कर ने उन्हें हिंदू आतंकी साबित करने का षड़यंत्र रचा था। विस्तार बल्कि इसके लिए ‘हिंदू आतंकवाद’ को जिम्मेदार ठहराना चाहता था। अगर आतंकी अजमल आमिर कसाब उस दिन मारा जाता तो दुनिया के सामने उसकी पहचान बंगलूरू निवासी समीर दिनेश चौधरी के रूप से जाहिर होती। यही नहीं, उसे हिंदू साबित करने के लिए उसके हाथ में कलावा भी बांधा था। यह सनसनीखेज दावा मुंबई पुलिस कमिश्नर रहे राकेश मारिया ने अपनी किताब ‘लेट मी से इट नाऊ’ में किया है। विज्ञापन मारिया ने लिखा, कसाब के कब्जे से जो पहचान पत्र मिला उसमें उसका नाम समीर दिनेश चौधरी नाम लिखा था। लश्कर की साजिश सफल होती तो सारे अखबारों और चैनलों पर ‘हिंदू आतंकवाद’ की खबर चलती। कहा जाता कि हिंदू आतंकियों ने मुंबई पर हमला किया। बंगलूरू में कसाब के फर्जी पते पर उसके परिवार और पड़ोसियों के घर चैनलों की लाइन लग जाती, लेकिन साजिश पर पानी फिर गया और समीर पाकिस्तान के फरीदकोट का कसाब निकला। इन आतंकियों के पास हैदराबाद के अरुणोदय कॉलेज परिचय पत्र था। क्या यह कांग्रेस और आईएसआई की संयुक्त योजना थी : भाजपा वहीं, भाजपा ने मुंबई के पूर्व पुलिस आयुक्त राकेश मारिया की नई किताब में किए गए दावे को लेकर मंगलवार को कांग्रेस पर हमला बोला और कहा कि इससे सवाल पैदा होता है कि क्या भगवा आतंकवाद की साजिश कांग्रेस और पाकिस्तानी आईएसआई की संयुक्त योजना थी। भाजपा प्रवक्ता जीवीएल नरसिम्हा राव ने मारिया के दावे पर कांग्रेस को आड़े हाथों लेते हुए कहा कि इस्लामिक आतंकवाद के इतिहास में पहली बार अपराधियों ने अपनी पहचान के बारे में लोगों को गुमराह करने का प्रयास किया। उन्होंने कहा, यह गंभीर सवाल उठाता है, क्या भगवा आतंकवाद की साजिश कांग्रेस और पाकिस्तानी खुफिया एजेंसी आईएसआई की संयुक्त योजना थी। लगभग उसी समय, 'संप्रग ने भगवा आतंकवाद की बात की और राहुल गांधी ने अमेरिकी राजनयिकों से कहा कि भारत में पैदा हुए समूह इस्लामिक आतंकी समूह की अपेक्षा बड़ा खतरा हैं।’ उन्होंने कांग्रेस से जवाब मांगते हुए कहा कि पार्टी को इस पर सफाई देनी चाहिए और स्पष्ट करना चाहिए कि क्या आईएसआई कांग्रेस के नेतृत्व वाले संप्रग का विस्तारित हिस्सा थी। मुंबई पुलिस रोक रही थी, केंद्रीय एजेंसियों ने तस्वीर जारी की थी हमले के दौरान कलाई पर कलावा बांधे छत्रपति शिवाजी टर्मिनस स्टेशन के सीसीटीवी कैमरे में हुए नजर आ रहे कसाब की तस्वीर सार्वजनिक हुई थी। इसे लेकर मारिया ने बताया कि मुंबई पुलिस पूरे प्रयास कर रही थी कि यह तस्वीर लीक न हो। ऐसा होने पर भ्रम की स्थितियां पैदा हो सकती थीं। लेकिन ‘केंद्रीय एजेंसियों’ ने इस तस्वीर को जारी कर दिया। भगौड़ा दाउद जेल में खत्म करना चाहता था कसाब को उन्होंने पुस्तक में दावा किया कि पाकिस्तान की बदनाम खुफिया एजेंसी आईएसआई और लश्कर नहीं चाहते थे कि कोई आतंकी जीवित पकड़ा जाए। वे कसाब को जेल में खत्म करना चाहते थे ताकि हमले का उनसे कोई लिंक साबित करने का मौका भारत को न मिले। उन्हाेंने यह काम भारत से भगौड़े आतंकी दाउद को सौंपा। दाउद ने इसके लिए अपनी गैंग की मदद लेने की कोशिश की, लेकिन वह सफल नहीं हो सका। मानता था भारत में मुसलमानों को नमाज नहीं पढ़ने देते कसाब मानता था कि भारत में आम मुसलमान बुरे हालात में हैं। उन्हें नमाज नहीं पढ़ने दी जाती, मस्जिदों में ताले लगा दिए जाते हैं। मारिया के अनुसार जब वह क्राइम ब्रांच के लॉकअप में था और आसपास मौजूद मस्जिदों से पांच वक्त नमाज की आवाज उस तक पहुंचती तो उसे लगता कि यह उसका वहम है। जबकि मारिया को यह जानकारी हुई, तो उन्हाेंने जांच अधिकारी रमेश महाले सहित कुछ पुलिसकर्मियों के साथ कसाब को पुलिस की गाड़ी में मेट्रो सिनेमा के पास मौजूद मस्जिद में नमाज के समय भेजा। तब उसे मालूम हुआ कि पाकिस्तान में उसे भारत के बारे में झूठ बताया गया। चोरी चकारी के लिए लश्कर से जुड़ा था मारिया के अनुसार फरीदकोट पाकिस्तान का रहने वाला कसाब लूट के मकसद से लश्कर से जुड़ा था। कसाब और उसका दोस्त मुजफ्फर खान केवल लूटपाट करना चाहते थे, उन्हें जिहाद से मतलब नहीं था। उसे तीन चरण की ट्रेनिंग के बाद सवा लाख रुपये देकर परिवार से मिलने की छुट्टी दी गई। ये पैसे कसाब ने बहन की शादी के लिए परिवार को दिए थे। भाजपा ने उठाए कांग्रेस पर सवाल मारिया को यह सब तब बोलना था जब वह पुलिस कमिश्नर थे। मेरे ख्याल से कांग्रेस और यूपीए द्वारा गहरी साजिश रची गई थी। झूठ और फरेब का एक नमूना हमने तब देखा जब चिदंबरम साहब के कहने पर हिंदू आतंकवाद का बखेड़ा खड़ा करने की कोशिश हुई। कांग्रेस ने देश को गुमराह करने की कोशिश की। इसका खामियाजा उसे 2014 औऱ 2019 में भुगतना पड़ा। - पीयूष गोयल, केंद्रीय मंत्री संघ को जोड़ने की साजिश थी। आईएसआई की साजिश कामयाब नहीं हो सकी, लेकिन कुछ बुद्धिजीवियों ने मुंबई हमले को आरएसएस से जोड़ने की कोशिश की। ऐसे लोगों को कांग्रेस नेताओं का समर्थन हासिल था। - राममाधव, महासचिव भाजपा विज्ञापन आगे पढ़ें विज्ञापन और पढो: Amar Ujala

कोरोना वायरस: इटली में 10 हज़ार से ज़्यादा लोगों की मौत- LIVE - BBC Hindi



कोरोना वायरस: दुनिया भर में 30 हज़ार से ज़्यादा लोगों की मौत- LIVE - BBC Hindi

यूक्रेन में फंसे भारतीय छात्रों को सता रहा कोरोना का डर, अमर उजाला से साझा किया दर्द



कोरोना वायरस: जब Twinkle ने पूछा, 'क्या सच में 25 करोड़ रुपये देने जा रहे हैं', तो Akshay ने दिया ये जवाब

आनंद विहार पर भयानक मंजर, बदइंतजामी के बीच घर जाने को हजारों लोग उमड़े



कोरोना के बीच सियासी हमले शुरू, सिसोदिया ने BJP पर टुच्ची राजनीति का आरोप लगाया

कोरोना से जंग के लिए पीएम ने बनाया फंड, देशवासियों से की अंशदान की अपील



CPMumbaiPolice MumbaiPolice OfficeofUT ImranKhanPTI Planning kitee deep thee ye socho ki Ajij Barnee ne to keetab hee leekh dee thee 26/11 RSS ki sajeesh.. agar socho Kasaab jinda na pakda jata to Congress ne jaise Samjhouta aur Malegaon me Hindus ko fansaya Mumbai me fansaa detee.. CPMumbaiPolice MumbaiPolice OfficeofUT ImranKhanPTI

कसाब के हाथ में कलावा, कैसे 26/11 को 'हिंदू आतंक' बताने की थी साजिशपूरा प्लान तैयार था, सब प्लान के मुताबिक चल रहा था, प्लान को हिट बनाने वाले तैयार बैठे थे लेकिन वो सब उस बहादुरी से मात खा गए जिसमें जान की परवाह ना करते हुए मुंबई पुलिस के कॉन्सटेबल तुकाराम ओंबले ने मुंबई हमले के दस आतंकवादियों में एक अजमल कसाब की एके-47 से 40 गोलियां सीने पर खाईं और इसके बाद भी उसे छोड़ा नहीं. 2008 में नवंबर की उस रात अजमल कसाब जिंदा पकड़ा गया था. ये बात एक बार फिर हम आपको इसलिए बता रहे हैं क्योंकि छब्बीस ग्यारह के मुंबई हमले को लेकर नए विस्फोटक खुलासे हुए हैं. ये खुलासे मुंबई हमले की जांच करने वाले और इस हमले में एकमात्र ज़िंदा पकड़े गए आतंकी अजमल कसाब का इंटेरोगेशन करने वाले चर्चित पुलिस अधिकारी राकेश मारिया ने अपनी किताब में किए हैं. मुंबई के पूर्व पुलिस कमिश्नर राकेश मारिया ने अपनी किताब Let Me Say It Now में मुंबई हमले की जांच के हवाले से जो लिखा है उसके दावे बहुत ही विस्फोटक हैं. क्योंकि उन्होंने ये बात बताई है कि अगर अजमल कसाब पकड़ा ना जाता तो वो बंगलुरू का समीर चौधरी बनकर ही मारा जाता. sardanarohit gopimaniar जिस दृढ इच्छा शक्ति से मोदी सरकार ने धारा ३७०, राम मंदिर , तीन तलाक़ , नागरिकता कानून पास करके देश को बड़ी समस्याओं से मुक्ति दिलाई वह अत्यंत प्रशंशनीय है अब जनसख्या नियंत्रण, यूनिफार्म सिविल कोड भी देश हित में पास कराये जाएँ, क्योंकि मोदी से ही उम्मीद भी है 🙂🙂 sardanarohit gopimaniar Meanwhile 😉😀😂 sardanarohit gopimaniar स्वागत😊😊 इतनी तैयारी तो कोरोना वायरस से निपटने के लिये स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने भी न कि होगी, जबकि करनी चाहिए। झोपड़ी/ढक दें, विकास दिखा दें/ पत्रकार/लगे रहें , काम पे😢😢 जयहिन्द। जयश्री राम। वन्देमातरम।

शाहीन बाग के प्रदर्शनकारियों से जगह बदलने के लिए सुप्रीम कोर्ट के मध्यस्थ करेंगे बातचीतसुनवाई के दौरान सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि इस तरह रोड को बंद करके प्रदर्शन करने का आइडिया किसी को भी आएगा, बेहतर होगा कि प्रदर्शन को किसी अन्य स्थान पर शिफ्ट किया जाए. साथ ही सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले पर बातचीत के लिए संजय हेगड़े और साधना रामचंद्रन नियुक्त किया है. जय भोलेनाथ NidhiKNDTV They are sitting on Link Road as we watched in a ndtv presentation by sanket , three main road could be opened without any doubt or disturbing the agitation. The problem is only those shops which had been compelled to be closed . NidhiKNDTV May I request sanket to post the map of Shaheen bagh area so ppl could able to know the actual position of the blocked roads n the place /road where the agitation has been going on .

गुजरात: पीएम मोदी के गृह राज्य में सेना के जवान के घोड़ी चढ़ने पर बवालआरोप है कि अन्य समुदाय के एक समूह ने दूल्हे के घोड़े पर सवार होने पर इतनी नाराजगी जाहिर की पूरी बारात को ही टारगेट किया गया।

हरियाणा के पूर्व मंत्री चौधरी खुर्शीद अहमद का निधन, फरीदाबाद में चल रहा था इलाजपूर्व मंत्री चौधरी खुर्शीद अहमद के निधन से नूंह के विधायक के परिवार में शोक की लहर दौड़ गई है। 🙏🏼🌹RIP🌹🙏🏼 انا للہ و انا الیہ راجعون Jay shree Ram

सुप्रीम कोर्ट के फैसले में 10 महिलाओं के जज्बे का हवाला; काबुल में मेजर मिताली ने आतंकी हमले से जूझ रहे लोगों को बचाया था, अभिनंदन को मिंटी ने गाइड किया थासुप्रीम कोर्ट ने गुरुवार को महिलाओं को सेना में स्थाई कमीशन देने का फैसला सुनाया, मार्च 2010 में हाईकोर्ट ने भी यही फैसला दिया था कारगिल युद्ध के दौरान वॉर जोन में हेलिकॉप्टर उड़ाने वालीं गुंजन सक्सेना का भी कोर्ट में जिक्र हुआ | Stories of women soldiers bravery used in argument over grant permanent commision to women सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को महिलाओं को सेना में स्थाई कमीशन देने का फैसला सुनाया। न जाने कितने किसानों ने आत्महत्या की है ...... इन किसानों के लिए सुप्रीम कोर्ट कुछ नही बोलता .....ना ही मीडिया कभी कुछ करता .... मीडिया तो तैमूर को दिखाना ज्यादा पसंद करता है indiannavy IAF_MCC adgpi DefenceMinIndia rajnathsingh हमारी छोरियां कै छोरों से कम है क्या!! ✊✊✊✊👌👌👌👌👌 indiannavy IAF_MCC adgpi DefenceMinIndia rajnathsingh 🙏🇮🇳🙏

केंद्र के समर्थन में आए कांग्रेस MP, सिंघवी बोले- जरुरी था ब्रिटिश MP का निर्वासनजम्मू-कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा देने वाले अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधान निरस्त होने का लेबर पार्टी की सांसद डेब्बी अब्राहम्स ने विरोध किया था। उन्होंने इस कदम के खिलाफ सरकार की खूब आलोचना की।



कोरोना वायरस: ब्रिटिश पीएम बोरिस जॉनसन संक्रमित- LIVE - BBC Hindi

कोरोना से जंग: धोनी का योगदान 1 लाख, फैंस भड़के- ये कैसा दान?

कोरोना को ग़रीबों ने नहीं, अमीरों ने फैलाया

कोरोना वायरस: मोदी सरकार की घोषणाएं ऊंट के मुंह में ज़ीरे समान- नज़रिया

दिल्ली-एनसीआर से उत्तर प्रदेश आने वाले लोगों के लिए यूपी सरकार ने किया 200 बसों का इंतजाम

लॉकडाउन में फैंस को बड़ा तोहफा, फिर टेलीकास्ट होगी रामायण, जानें कब-कहां देख पाएंगे?

कोरोना वायरस: दक्षिण कोरिया ने जो किया वो दुनिया के लिए मिसाल

टिप्पणी लिखें

Thank you for your comment.
Please try again later.

ताज़ा खबर

समाचार

19 फरवरी 2020, बुधवार समाचार

पिछली खबर

फिल्म इंडस्ट्री हमेशा सत्ताधारियों के साथ रही है: नसीरुद्दीन शाह

अगली खबर

शरजील के लैपटॉप में छुपा था दिल्ली ठप करने का प्लान, चार्जशीट का बना आधार
कोरोना वायरस: इटली में 10 हज़ार से ज़्यादा लोगों की मौत- LIVE - BBC Hindi कोरोना वायरस: दुनिया भर में 30 हज़ार से ज़्यादा लोगों की मौत- LIVE - BBC Hindi यूक्रेन में फंसे भारतीय छात्रों को सता रहा कोरोना का डर, अमर उजाला से साझा किया दर्द कोरोना वायरस: जब Twinkle ने पूछा, 'क्या सच में 25 करोड़ रुपये देने जा रहे हैं', तो Akshay ने दिया ये जवाब आनंद विहार पर भयानक मंजर, बदइंतजामी के बीच घर जाने को हजारों लोग उमड़े कोरोना के बीच सियासी हमले शुरू, सिसोदिया ने BJP पर टुच्ची राजनीति का आरोप लगाया कोरोना से जंग के लिए पीएम ने बनाया फंड, देशवासियों से की अंशदान की अपील LIVE: पलायन करने वालों से CM केजरीवाल की अपील- सारा इंतजाम है, जहां हैं, वहीं रहें फैंस पूछ रहे 688 करोड़ नेटवर्थ वाले भारतीय कप्तान कोहली कोरोना के खिलाफ जंग में कहां हैं? दिल्ली में कोरोना के खतरे के बीच हजारों की संख्या में लोग पहुंचे बस अड्डे, विपक्षी नेताओं ने सरकार पर बोला हमला कोरोना का कहर देख भावुक हुए 25 करोड़ दान देने वाले अक्षय, कहा- मां-बाप को मरने के लिए नहीं छोड़ सकते कोरोना से लड़ाई के लिए बच्चों ने तोड़ दी अपनी गुल्लक, Video देख खुद को भावुक होने से रोक नहीं पाएंगे
कोरोना वायरस: ब्रिटिश पीएम बोरिस जॉनसन संक्रमित- LIVE - BBC Hindi कोरोना से जंग: धोनी का योगदान 1 लाख, फैंस भड़के- ये कैसा दान? कोरोना को ग़रीबों ने नहीं, अमीरों ने फैलाया कोरोना वायरस: मोदी सरकार की घोषणाएं ऊंट के मुंह में ज़ीरे समान- नज़रिया दिल्ली-एनसीआर से उत्तर प्रदेश आने वाले लोगों के लिए यूपी सरकार ने किया 200 बसों का इंतजाम लॉकडाउन में फैंस को बड़ा तोहफा, फिर टेलीकास्ट होगी रामायण, जानें कब-कहां देख पाएंगे? कोरोना वायरस: दक्षिण कोरिया ने जो किया वो दुनिया के लिए मिसाल कोरोना के खिलाफ जंग: मदद के लिए सबसे आगे आए अक्षय कुमार, पीएम केयर्स फंड में दिए 25 करोड़ कोरोना: अमरीका में एक लाख से ज़्यादा मामले- LIVE - BBC Hindi कोरोना: मदद को आगे आए अक्षय कुमार, पीएम रिलीफ फंड में दिए 25 करोड़ लॉकडाउन के दौर में दरिंदगी, 9 दोस्तों ने मिलकर नाबालिग लड़की से किया गैंगरेप मरीजों और हेल्थ वर्कर्स के लिए टाटा ट्रस्ट और समूह कुल 1500 करोड़ खर्च करेगा, देश के किसी भी कॉर्पोरेट की ओर से कोरोना पर सबसे बड़ी मदद