Karnataka, Bhagatsingh, Uapa, कर्नाटक, भगतसिंह, यूएपीए

Karnataka, Bhagatsingh

कर्नाटक: भगत सिंह की किताब के चलते यूएपीए के तहत गिरफ़्तार आदिवासी पिता-पुत्र बरी

कर्नाटक: भगत सिंह की किताब के चलते यूएपीए के तहत गिरफ़्तार आदिवासी पिता-पुत्र बरी #Karnataka #BhagatSingh #UAPA #कर्नाटक #भगतसिंह #यूएपीए

23-10-2021 18:05:00

कर्नाटक : भगत सिंह की किताब के चलते यूएपीए के तहत गिरफ़्तार आदिवासी पिता-पुत्र बरी Karnataka BhagatSingh UAPA कर्नाटक भगतसिंह यूएपीए

मामला मंगलुरु का है, जहां साल 2012 में पत्रकारिता के छात्र विट्टला मेलेकुडिया और उनके पिता को गिरफ़्तार करते हुए उनके पास मिली किताबों आदि के आधार पर उन पर यूएपीए के तहत राजद्रोह और आतंकवाद के आरोप लगाए गए थे. एक ज़िला अदालत ने उन्हें बरी करते हुए कहा कि पुलिस कोई भी सबूत देने में विफल रही. भगत सिंह की किताबें या अख़बार पढ़ना क़ानून के तहत वर्जित नहीं हैं.

नई दिल्ली:देश की एक अदालत द्वारा एक और बार यह दोहराते हुए कि किसी साहित्य का बरामद होना प्रतिबंधित संगठन के साथ कोई सीधा संबंध साबित नहीं करता है, कर्नाटक की एक जिला अदालत ने एक आदिवासी युवक को बरी कर दिया, जिन्हें 2012 में कथित माओवादी संबंधों के आरोप में गिरफ्तार किया गया था.

लखनऊ में बेरोजगारी के मुद्दे पर छात्र संगठनों ने निकाला मार्च, पुलिस ने NDTV के कैमरे को बंद करने के लिए कहा पाकिस्तान की अर्थव्यवस्था का संकट और गहराया - BBC Hindi रूस ने अगर यूक्रेन पर हमला किया तो हम चुप नहीं बैठेंगे: अमेरिका - BBC Hindi

दक्षिण कन्नड़ के तृतीय अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश बीबी जकाती ने गुरुवार को पत्रकार विट्टला मेलेकुडिया और उनके पिता को माओवादियों से संबंध रखने के आरोप में गिरफ्तारी के नौ साल के बाद राजद्रोह के आरोपों से बरी कर दिया है.इंडियन एक्सप्रेसकी रिपोर्ट के अनुसार, विट्टला के छात्रावास के कमरे से जब्त की गई किताबों के आधार पर भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (माओवादी) के साथ संबंध रखने के आरोप में उस समय पत्रकारिता के इस 23 वर्षीय छात्र और उनके पिता लिंगप्पा मालेकुड़िया को गिरफ्तार किया गया था. दोनों पर गैरकानूनी गतिविधि (रोकथाम) अधिनियम (यूएपीए) के तहत राजद्रोह और आतंकवाद के आरोप लगाए गए थे.

इंडियन एक्सप्रेस की रिपोर्ट में बताया गया है कि उनके पास मिले कथित रूप से आपत्तिजनक साहित्य की सूची में भगत सिंह की एक किताब भी शामिल है, इसके अलावा उनके पास ‘जब तक कि उनके गांव को बुनियादी सुविधाएं नहीं पहुंचतीं, तब तक संसद चुनावों का बहिष्कार करने’ का एक पत्र और कुछ अख़बारों के लेखों की कतरनें मिली थीं. headtopics.com

32 साल के विट्टला अब एक प्रमुख कन्नड़ दैनिक के पत्रकार हैं और उनके 60 वर्षीय पिता दक्षिण कन्नड़ जिले के कुद्रेमुख राष्ट्रीय उद्यान के पास कुथलूर गांव में रहते हैं.यह देखते हुए कि पुलिस द्वारा जब्त की गई सामग्री आरोपी व्यक्तियों की ‘रोजमर्रा की आजीविका के लिए जरूरी’ लेख थे, अदालत ने कहा कि पुलिस पिता-पुत्र के किसी भी नक्सल लिंक को साबित करने में विफल रही है.

अदालत ने उनके खिलाफ राजद्रोह के आरोप को खारिज करते हुए कोर्ट ने कहा, ‘भगत सिंह की किताबें रखना कानून के तहत वर्जित नहीं है… ऐसे ही अखबारों को पढ़ना कानून के तहत निषेध नहीं है.’अदालत ने आगे कहा, ‘किसी भी गवाह ने यह नहीं कहा है कि आरोपी नंबर 6 और 7 ने राजद्रोह का अपराध किया है. यह दिखाने के लिए रिकॉर्ड में कोई सबूत नहीं है कि आरोपी नंबर 6 या 7 ने अपने शब्दों या संकेतों या दृश्य द्वारा या अन्यथा, घृणा या अवमानना ​​​​का प्रयास किया या सरकार के प्रति असंतोष भड़काने का प्रयास किया.

पुलिस को कथित तौर पर उनके एक वरिष्ठ अधिकारी से यह सूचना मिलने के बाद कि यह दोनों मालेकुड़िया कुद्रेमुख जंगलों में सक्रिय पांच वांछित नक्सलियों की सहायता कर रहे थे, 3 मार्च, 2012 को इन दोनों को उनके घर से गिरफ्तार किया गया था.बाद में उन पर आईपीसी के तहत आपराधिक साजिश, राजद्रोह और यूएपीए के तहत आतंकवाद का आरोप लगाए गए. गौरतलब है कि एफआईआर में जिन पांच ‘नक्सलियों’ के नाम दर्ज किए गए थे, उन्हें कभी गिरफ्तार नहीं किया गया.

इंडियन एक्सप्रेस से बात करते हुए विट्टला ने कहा, ‘मैं इस मामले में बरी होने पर बहुत खुश हूं. हमने नौ साल तक आरोपमुक्त होने के लिए कड़ा संघर्ष किया. हमें नक्सल चरमपंथी के तौर पर फंसाया गया था लेकिन चार्जशीट में इन आरोपों को साबित करने के लिए कुछ नहीं था. हमारी बेगुनाही साबित हो गई. headtopics.com

'एक विशेष व्‍यक्ति का दैवीय हक नहीं..' : प्रशांत किशोर ने राहुल गांधी पर कसा तंज प्रशांत किशोर ने फिर कांग्रेस नेतृत्व को निशाने पर लिया - BBC Hindi भारत में भी ओमिक्रॉन की दस्तक, पहली बार मिले दो मामले - BBC News हिंदी

उन्होंने आगे बताया, ‘हम हर सुनवाई में शामिल हुए. कोविड के दौरान भी हम कुछ दिन कोर्ट के बाहर खड़े रहते थे. सुनवाई के लिए अपने गांव से मैंगलोर जाना हमारे लिए बहुत मुश्किल था. हमें सुबह 11 बजे से पहले अदालत में पहुंचना होता था और हमारे गांव के पास से कोई बस नहीं थी.’

महामारी के दौरान उनके वकील दिनेश हेगड़े उलेपदी ने उन्हें वॉट्सऐप वीडियो कॉल के माध्यम से पर कुछ सुनवाई में शामिल होने में मदद की.मालेकुड़िया आदिवासी समुदाय, जो ज्यादातर वनोपज और कृषि पर निर्भर है, से आने वाले विट्टला आरोप लगने के समय मैंगलोर विश्वविद्यालय में पत्रकारिता स्नातक कार्यक्रम के दूसरे सेमेस्टर में थे. 90 दिनों की निर्धारित अवधि के अंदर इस मामले में आरोपपत्र दायर करने में पुलिस की विफलता के बाद पिता-पुत्र को जमानत मिलने से पहले उन्हें 2012 में लगभग चार महीने तक जेल में रखा गया था.

इस अवधि में विट्टला को अपनी परीक्षाएं देने के लिए विशेष अनुमति पाने के लिए अदालत दर अदालत भागना पड़ा. 2016 में पत्रकारिता का कोर्स पूरा करने वाले विट्टला ने कहा, ‘मुझे हथकड़ी लगाकर इम्तिहान दिलाने ले जाया गया था और इस बात को लेकर उस समय एक विवाद खड़ा हुआ था.’ अंततः 2018 में उन्हें एक कन्नड़ दैनिक में नौकरी मिली.

उनके वकील उलेपडी ने बताया कि पुलिस ने खुद अदालत में स्वीकार किया कि उनके द्वारा जब्त की गई सामग्री ‘घरेलू सामान’ था. उन्होंने बताया, ‘हमने जिला अदालत से बाइज्जत बरी किए जाने का निवेदन किया था, न कि केवल आरोपमुक्ति का. किसी को बाइज्जत बरी तब किया जाता है जब पुलिस ने झूठा मामला दर्ज करे और गिरफ्तार व्यक्ति के सम्मान को बहाल किया जाना हो. अभी जिला अदालत ने मेरे मुवक्किलों को केवल बरी किया है और हम उन्हें बाइज्जत बरी किए जाने के लिए उच्च न्यायालय का दरवाजा खटखटाएंगे.’ headtopics.com

दक्षिण कन्नड़ के तृतीय अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश बीबी जकाती ने दोनों आरोपियों को बरी करते हुए कहा कि पुलिस, यह दावा करने के बावजूद कि उनके पास से जब्त किए गए तीन मोबाइल फोन नक्सलियों के साथ उनके संबंध स्थापित कर सकते हैं, उनके खिलाफ कोई भी सबूत पेश करने में असफल रही.

अदालत ने कहा, ‘इन मोबाइलों का सीडीआर तैयार नहीं किया गया. मुकदमे के दौरान भी अभियोजन पक्ष ने जब्त किए गए मूल मोबाइल फोन्स आपत्तिजनक सबूत नहीं दिखाए… केवल आरोपियों की हिरासत या उनके कहने पर मोबाइल को जब्त करने से अभियोजन पक्ष के मामले में किसी भी तरह से मदद नहीं मिलेगी.’

अब 4 दिसंबर को संयुक्त किसान मोर्चे की बैठक में लिए जाएंगे महत्वपूर्ण निर्णय: ​राकेश टिकैत चन्नी साहब मुझे गंदी-गंदी गालियां दे रहे हैं: केजरीवाल - BBC Hindi अखिलेश जी किस चश्मे से देखते हो: अमित शाह - BBC Hindi

अदालत ने आगे जोड़ा कि जहां तक ​​चुनाव के बहिष्कार का आह्वान करने वाली चिट्ठी की बात है, तो ‘पत्रकारिता के एक छात्र’ ने ऐसा पत्र इसलिए लिखा ‘क्योंकि नेताओं ने कुथलूर गांव के आदिवासी लोगों की लंबे समय से की जा रही मांगों को पूरा नहीं किया था.’न्यायाधीश जकाती ने अपने आदेश में कहा, ‘इसे पढ़ने पर यह आसानी से कहा जा सकता है कि इस तरह के पत्रों में स्थानीय लोगों की मांगें हैं.’

कोर्ट का कहना था कि अभियोजन पक्ष के तेईस गवाह भी पुलिस के दावों का समर्थन नहीं कर सके. अदालत ने कहा कि यह साबित करने के लिए कोई प्रमाण नहीं है कि वे नक्सली समूह के सदस्य थे या उनकी गतिविधियों में नक्सलियों की सहायता कर रहे थे. और पढो: द वायर हिंदी »

दंगल: क्या अब्बाजान और चिलमजीवी ही यूपी चुनाव के मुद्दे हैं?

उत्तर प्रदेश में चुनाव का माहौल जैसे-जैसे गर्माता जा रहा है, नेताओं की जुबान तीखी होती जा रही है. समाजवादी पार्टी के प्रमुख अखिलेश यादव ने योगी सरकार को एक बार फिर चिलमजीवी कह के घेरा है. अखिलेश अक्सर चिलम फूंकने का आरोप लगाकर योगी आदित्यनाथ को घेरते रहे हैं. लेकिन चिलम के नाम पर अखिलेश को जवाब संत समाज की ओर से मिला है. कुछ साधु संतों ने इसे संतों का अपमान बताकर अखिलेश से माफी की मांग की है. आज दंगल में देखें क्या चिलम वाले बयान पर अखिलेश ने संतों की नाराजगी मोल ले ली है? और क्या 2022 के चुनाव में इसका असर पड़ेगा? देखें वीडियो.

girijeshadams इन्हें डर भगत सिंह के सितारों से ही तो है जिनका नारा था हर तरह के शोषण के खिलाफ तब तक संघर्ष रहे जब तक कि आदमी से आदमी का भेद ना खत्म हो जाती।

अफगानिस्तान में सैन्य अभियानों के लिए पाकिस्तानी एयरस्पेस का इस्तेमाल करने के समझौते के करीब अमेरिकाअमेरिकी प्रशासन ने शुक्रवार को सांसदों को सूचित किया कि उनका अफगानिस्तान में सैन्य और खुफिया अभियानों के संचालन के लिए पाकिस्तान से उसके हवाई क्षेत्र के इस्तेमाल के लिए पाकिस्तान के साथ एक समझौते को औपचारिक रूप देने के करीब है। अच्छा है अब ठुकाई का समय आ गया । और तालिबानों की ठुकाई भी पाकिस्तान ही करवायेगा । इसी बहाने एमरोन खान को कुछ भीख में मिल ही जायेगा ।।।

IPL 2022 के ऑक्शन में शामिल होने के लिए मैनचेस्टर यूनाइटेड के मालिक ने जताई दिलचस्पीबीसीसीआई को आईपीएल के अगले पांच साल के टेंडर में तकरीबन पांच अरब डॉलर की कमाई हो सकती है। वहीं आईपीएल 2022 के ऑक्शन में शामिल होने के लिए फुटबॉल क्लब मैनचेस्टर यूनाइटेड के मालिक ने भी दिलचस्पी जताई है।

भारत अमेरिका के संबंध विश्वास पर आधारित, इसमें दिनों-दिन आ रही मजबूती : तरणजीत सिंह संधूअमेरिका में भारत के राजदूत तरणजीत सिंह संधू ने कहा कि भारत और अमेरिका के बीच संबंध लगातार मजबूत होते जा रहे हैं। भारत और अमेरिका के बीच ना केवल रक्षा संबंध हैं वरन उनके स्वास्थ्य और फार्मा के क्षेत्र में भी रिश्ते बेहद गहरे हैं।

कैप्टन की 'पाक दोस्त के ISI लिंक' के आरोप पर अमरिंदर सिंह और पंजाब के गृह मंत्री में छिड़ी टि्वटर जंगपूर्व मुख्यमंत्री और राज्य गृह मंत्री के बीच ट्वीट्स की जंग तब छिड़ गई, जब उन्होंने कहा कि इस बात की जांच की जाएगी कि क्या सिंह से पिछले कई वर्षों से मुलाकात करती रहीं पाकिस्तानी पत्रकार के आईएसआई से संबंध हैं या नहीं? अब तो अलग पार्टी बनाने जा रहा है यह देखो कांग्रेस के नेता जरा सा भी कुछ कर देती है तो अलग पार्टी बना लेते हैं एकदम और बीजेपी ने कितने मुख्यमंत्री बदल दिए कैप्टन के पाकिस्तान स्थीत महीला मित्र की जांच होनी चाहिए। Government kya chali gyi ek dusre ke kapde utarne lage ye to 🤣🤣🤣

वार : असद्दुदीन ओवैसी बोले- सुप्रीम कोर्ट के दखल के बाद केंद्र ने टीका की नीति बदलीवार : असद्दुदीन ओवैसी बोले- सुप्रीम कोर्ट के दखल के बाद केंद्र ने टीका की नीति बदली LadengeCoronaSe Coronavirus Covid19 CoronaVaccine asadowaisi RahulGandhi asadowaisi RahulGandhi ओवैसी के बाप का क्या जाता है, जो मुंह में आया सो बक दिया, परिवार में भी जो जिम्मेदारी निभाता है, उसके खिलाफ सबसे अधिक नुक्ता-चीनी करने वाले गैर-जिम्मेदार ही होते हैं! asadowaisi RahulGandhi save_our_job_in_hp

'कृषि नीति पर पुनर्चिंतन की जरूरत' : किसान के फसल जलाने के VIDEO पर बोले वरुण गांधीवरूण गांधी ने शनिवार को एक किसान का वीडियो ट्वीट किया. जिसमें किसान ने 15 दिन तक भी धान की फसल नहीं खरीदे जाने पर उसमें आग लगा दी. आपका पत्ता साफ करने पर चिंतन और मंथन सब हो रहा है 😂 मोदी भक्त अब इन्हें गद्दार और देशद्रोही करार दे देंगे! इन का आवाज उठाने और किसान का साथ देने के लिए धन्यवाद! FarmersProtest_Martyrs PetrolDieselPriceHike lakhimpur_farmer_massacre कृषि नीति पर पुनर्चिंतन आज की सबसे बड़ी ज़रूरत है.