Karnataka, Cyber Crime Sleuths, Rs 290 Crore, Money Laundering Scam. Accused Held

Karnataka, Cyber Crime Sleuths

कर्नाटक: ज्यादा ब्याज का लालच देकर लोगों से ठगे 290 करोड़, सामने आया 'चीनी कनेक्शन'

पुलिस ने इस मामले में दो चीनी नागरिक समेत 9 लोगों को गिरफ्तार किया

13-06-2021 08:16:00

पुलिस ने इस मामले में दो चीनी नागरिक समेत 9 लोगों को गिरफ्तार किया

कर्नाटक पुलिस ने 290 करोड़ रुपये से ज्यादा के घोटाले का खुलासा किया है. इस मामले में चीन का कनेक्शन भी सामने आया है. पुलिस ने इस मामले में दो चीनी नागरिक समेत 9 लोगों को गिरफ्तार किया है और बाकियों की तलाश भी की जा रही है.

स्टोरी हाइलाइट्सदो चीनी नागरिक समेत 9 आरोपी गिरफ्तारकेरल के कारोबारी को मास्टरमाइंड माना जा रहामास्टरमाइंड के चीनी हवाला ऑपरेटरों से संबंधकर्नाटक पुलिस ने शनिवार को 290 करोड़ रुपये से ज्यादा के धोखाधड़ी का पर्दाफाश किया है. पुलिस के मुताबिक, इन्वेस्टमेंट पर ज्यादा ब्याज का लालच देकर लोगों से मोबाइल ऐप के जरिए ठगी की गई. इस मामले में पुलिस ने दो चीनी नागरिक समेत 9 लोगों को गिरफ्तार किया है.

अफ़ग़ानिस्तानः काबुल में राष्ट्रपति भवन के पास ज़बरदस्त धमाका - BBC Hindi वडनगर रेलवे स्टेशन कैसा लगा, लोग खुश हैं या नहीं...जब पीएम ने अपने गांव का जाना हाल सारा अली खान की कटी नाक, बोलीं- सॉरी अम्मा अब्बा, वीडियो देख परेशान हुए फैंस

पुलिस ने बताया कि शेल कंपनियों के जरिए इस घोटाले को अंजाम दिया गया. ये मामला मनी लॉन्ड्रिंग से जुड़ा है. इस मामले का संदिग्ध आरोपी केरल का एक कारोबारी है, जिसके चीनी 'हवाला' कारोबारियों से संबंध हैं.सीआईडी की साइबर क्राइम डिविजन ने बताया कि इस मामले में दो चीनी नागरिक, दो तिब्बती और 5 अन्य लोगों को गिरफ्तार किया है, जो इन शेल कंपनियों में डायरेक्ट के तौर पर काम कर रहे थे. कुछ और आरोपियों की तलाश की जा रही है.

पुलिस ने बताया कि आरोपियों ने 'Powerbank' नाम से एक ऐप बनाई थी, जो गूगल प्ले स्टोर पर मौजूद थी. इस ऐप के जरिए लोगों को इन्वेस्टमेंट पर ज्यादा ब्याज का लालच दिया जाता था. लोगों ने ज्यादा ब्याज के चक्कर में इस ऐप में इन्वेस्ट करना शुरू किया, लेकिन आरोपियों ने न तो ब्याज दिया और न ही उनकी रकम लौटाई. इस मामले में आईटी एक्ट और आईपीसी की धारा-420 (धोखाधड़ी) के तहत केस दर्ज कर लिया गया है. headtopics.com

ऐप पर 15 दिन में पैसे डबल होने का लालच देकर 250 करोड़ की ठगी, 50 लाख लोग कर चुके थे डाउनलोडसाइबर पुलिस की ओर से एक प्रेस रिलीज जारी कर बताया गया कि केरल के एक कारोबारी अनीस अहमद को इस पूरी जालसाजी का मास्टरमाइंड माना जा रहा है. जांद के दौरान पता चला कि अनीस के चीनी हवाला ऑपरेटरों से करीबी संबध थे. उसने बुल फिंट टेक्नोलॉजीस, एचएंडएस वेंचर्स और क्लिफोर्ड वेंटर्स नाम से शेल कंपनियां खोलीं और ठगी गई रकम को यहां ट्रांसफर कर दिया. पुलिस के मुताबिक, अनीस ने चीनी महिला से ही शादी की है और उसकी पढ़ाई भी चीन में ही हुई है.

साइबर क्राइम डिविजन का कहना है कि आरोपी ने लोगों से इन्वेस्टमेंट पर ज्यादा रिटर्न का वादा किया था और इसके लिए पॉवर बैंक समेत कई ऐप बनाई गईं. जिस दिन अनीस अहमद ने ज्यादा रिटर्न का वादा किया था, उस दिन इन्वेस्टमेंट में असामान्य बढ़ोतरी देखी गई. इसके बाद गूगल प्ले स्टोर और दूसरी वेबसाइट से ऐसे ऐप्स को हटा दिया गया. जांच में पता चला कि इस पूरी धोखाधड़ी में आरोपियों के बैंक अकाउंट में 290 करोड़ रुपये से ज्यादा की रकम आई. हालांकि, इनमें से ज्यादातर रकम क्राइम ब्रांच ने फ्रीज कर ली है.

प्रेस रिलीज में बताया गया है कि भारत में चीनी हैंडलर्स के पास बड़ी संख्या में शेल कंपनियां और बैंक अकाउंट हैं. चीनी नागरिकों की ओर से लालच दिया जाता है, जिसके जाल में कई निर्दोष भारतीय और तिब्बती नागरिक फंस जाते हैं और उनके लिए शेल कंपनियां और बैंक अकाउंट खोल लेते हैं.

Live TV और पढो: आज तक »

खबरदार: बढ़ती जा रही है Assam-Mizoram में तनातनी, एक-दूसरे के खिलाफ एक्शन मोड में दोनों राज्य

असम और मिजोरम बॉर्डर पर 26 जुलाई को हुई हिंसक झड़प अब दोनों राज्य सरकारों के बीच नाक की लड़ाई बन चुकी है. दोनों राज्यों की पुलिस अब एक-दूसरे के खिलाफ एक्शन मोड में हैं. असम पुलिस ने शुक्रवार को मिजोरम पुलिस के अधिकारियों को समन किया तो मिजोरम पुलिस ने असम के मुख्यमंत्री हिमंता बिस्वा सरमा के खिलाफ FIR दर्ज कर ली. इस मामले में हिमंता सरमा के अलावा असम पुलिस के 4 वरिष्ठ अधिकारियों और दो ब्यूरोक्रेट्स को भी आरोपी बनाया गया है. FIR में असम पुलिस के 200 अज्ञात जवानो को भी आरोपी बनाया गया है. देकें वीडियो.

चीनी कनेक्शन के अलावा हो सकता है पप्पू का भी कोई कनेक्शन हो

क्या है Uttar Pradesh का जाति समीकरण, ज‍िसपर ट‍िकी है BJP की सियासी बिसातउत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की पार्टी के शीर्ष नेताओं से हुई मुलाकातों के मायने बहुत बड़े है क्योंकि एक साथ कई घटनाक्रम बीजेपी के अंदर चल रहे हैं. अगले साल उत्तर प्रदेश में चुनाव है. योगी दिल्ली में हैं और बीजेपी उत्तर प्रदेश के जाति समीकरण को चुनावी मिशन के हिसाब से साधने में जुट गई है. देखिए क्या है बीजेपी की तैयारी.

अमेरिका ने कहा: हिंद-प्रशांत में संकट ला सकती है चीनी आक्रामकताअमेरिका के रक्षा मंत्री लॉयड ऑस्टिन ने चीन को एक बढ़ती हुई चुनौती बताते हुए कहा है कि हिंद-प्रशांत क्षेत्र में बीजिंग

MP में पिछले महीने 1.7 लाख मौतें: मई में मौतों का आंकड़ा पिछले साल के मुकाबले 4 गुना ज्यादा; ये सरकारी डेटा CRS का है जो हर मौत का हिसाब रखता हैमध्य प्रदेश में इस साल मई में 1.6 लाख से ज्यादा मौतें हुई हैं। पहली बार सरकारी डेटा में दर्ज इन मौतों का हिसाब मिला है। जन्म-मृत्यु का हिसाब रखने वाले सिविल रजिस्ट्रेशन सिस्टम (सीआरएस) के सरकारी डेटा के मुताबिक इस साल मई में मौतों का आंकड़ा पिछले सालों के मुकाबले 4 गुना ज्यादा है। | In the official data of CRS, 34 thousand deaths are recorded in May 2020 in Madhya Pradesh and 31 thousand in May 2019. Surely, 90-95% of these 'excess deaths' are due to Covid_19 only those have not been shown so far due to malafide intention by MP_MyGov. .

बिहार में कोरोना: छह महीने में छह करोड़ लोगों के टीकाकरण का लक्ष्य, दिशानिर्देश जारीबिहार में कोरोना: छह महीने में छह करोड़ लोगों के टीकाकरण का लक्ष्य, दिशानिर्देश जारी LadengeCoronaSe Coronavirus Covid19 CoronaVaccine OxygenCrisis OxygenShortage PMOIndia MoHFW_INDIA ICMRDELHI Bihar NitishKumar PMOIndia MoHFW_INDIA ICMRDELHI NitishKumar सुना है एक मुगल बादशाह ने अपनी बादशाहत बचाने के लिए मुगलो के 'शाही बरतन ' बेच दिये थे....इस बात का सरकारी‌ कंपनियों के निजीकरण से कोई संबंध नही है stopprivatisation

चीन में 'अमीरों के दिखावे' पर फूटा लोगों का गुस्सा - BBC News हिंदीचीन में लोगों की आय के बीच अंतर बड़ी दिक्कत बनने लगा है. कम कमाई वाले लोगों को अमीरों का दिखावा रास नहीं आता.

'लगता है मोदी के दिमागी सॉफ्टवेयर में कोई वायरस आ चुका है...',पीएम मोदी का जो पुराना वीडियो दिग्विजय सिंह ने शेयर किया है, उसमें ऑडियंस मोदी-मोदी के नारे लगा रही है, इस पर दिग्विजय ने कहा है- 'मोदी मोदी मोदी ..... नारे लगाने वाले अंध भक्तों अब कहां हो? कहां छिपे हो?' लगता है हैग हो गया