कर्नाटक में ऑक्सीजन की कमी से 12 लोगों की मौत की जाँच के आदेश - BBC News हिंदी

कर्नाटक में ऑक्सीजन की कमी से 12 लोगों की मौत की जाँच के आदेश

5 घंटो पहले

कर्नाटक में ऑक्सीजन की कमी से 12 लोगों की मौत की जाँच के आदेश

कर्नाटक में मैसुरू से 60 किलोमीटर दूर चामराजनगर में मेडिकल ऑक्सीजन के लो प्रेशर की वजह से एक अस्पताल में भर्ती 12 मरीज़ों की मौत हो गई है.

समाप्तकेंद्र की ओर से राज्य को 800 टन ऑक्सीजन दी गई है. राज्य सरकार की ओर से इसकी सप्लाई का प्रबंधन हाथ में लेने के बाद पहली बार इस तरह का हादसा सामने आया है.इमेज स्रोत,Anurag Basavrajचामराजनगर इंस्टीट्यूट ऑफ़ मेडिकल साइसेंज के डीन डॉ. जीएम संजीव ने कहा, "इंस्टीट्यूट के अस्पताल में रात 12 बजे से तड़के दो बजे तक ऑक्सीजन का प्रेशर कम था. यहाँ ऑक्सीजन पर 122 मरीज़ थे. इनमें से जिन 12 कोविड मरीज़ों की मौत हुई है, वे और भी दूसरी गंभीर बीमारियों से जूझ रहे थे. हमने ज़रूरी ऑक्सीजन लेवल को बरक़रार रखने की काफ़ी कोशिश की, लेकिन सुबह तक 12 मरीज़ों की मौत हो गई."

पश्चिम बंगाल में BJP की हार का बिहार में साइड इफेक्ट, शुरू हुई सियासत 'बंगाल की बेटी' ममता के लिए नेशनल लेवल पर विपक्ष का चेहरा बनना क्या आसान है? कोरोना में इस्तेमाल होने वाली मेडिकल डिवाइस और दवाओं से कस्टम ड्यूटी हटी, GST भी नहीं लगेगा

उन्होंने कहा, "इनके अलावा कुछ ग़ैर-कोविड मरीज़ों की भी मौत हुई है, उनकी दूसरी वजहें रही हैं. ये मरीज़ ऑक्सीजन पर नहीं थे."'ऑक्सीजन की कमी ने पूरे परिवार को बर्बाद कर दिया'इंस्टीट्यूट के नज़दीक एक गाँव के रहने वाले राजन्ना ने रिपोर्टरों से कहा, "मेरे भांजे ने मुझे रात साढ़े बारह बजे फ़ोन कर बताया कि अस्पताल में ऑक्सीजन की दिक़्क़त है. उसने मुझे मैसेज भी किया. हम जल्दी से यहाँ आए. लेकिन हमें अंदर घुसने नहीं दिया गया. इसके बाद मैंने उसे फ़ोन किया. और फिर मैसेज भी किया. लेकिन उसने कोई जवाब नहीं दिया. जब मैसेज का जवाब नहीं आया तो हमें लगा कि वह गुज़र चुका है."

इमेज स्रोत,Anurag Basavrajराजन्ना ने अपने भांजे की मौत पर दुख जताते हुए कहा, "वह मेरी बड़ी बहन का बेटा था. उनका इकलौता बेटा. दो महीने पहले ही उसकी शादी हुई थी. ऑक्सीजन न मिलने से पूरा परिवार बर्बाद हो गया."डॉ. संजीव ने कहा कि जिस वक़्त यह हादसा हुआ, उस वक़्त ऑक्सीजन की सप्लाई पर्याप्त नहीं थी. headtopics.com

उन्होंने कहा, "हर 35 मिनट या इसके आसपास हमें 10 ऑक्सीजन सिलेंडरों की ज़रूरत पड़ती है. लेकिन ऑक्सीजन की डिलीवरी में देर हुई. रात 12 बजे से लेकर तड़के दो बजे तक ऑक्सीजन के प्रेशर में कमी आ गई."उन्होंने कहा, "आधी रात तक हमारे पास 40 ऑक्सीजन सिलेंडर पहुँच चुके थे. दो घंटे के बाद और 80 सिलेंडर आ गए. उस दिन हमें 200 सिलेंडर मिले थे. इस वक़्त हमारे पास स्टॉक में 50 सिलेंडर हैं. हमें जल्दी ही और ज़्यादा सिलेंडरों की ज़रूरत पड़ेगी. दरअसल लॉजिस्टिक से जुड़ी दिक़्क़तों की वजह से हमारे पास जल्दी सिलेंडर नहीं आ पाए. हमारे पास ऑक्सीजन मैसुरू प्लांट से आती है."

इमेज स्रोत,Anurag Basavrajमैसुरू में दो ऑक्सीजन प्लांट हैं. यहीं से चामराजनगर के लिए भी सप्लाई होती है. चामराजनगर में ऑक्सीजन की सप्लाई बेल्लारी से भी होती है. संयोग से यह सप्लाई ज़िले में सोमवार सुबह ही पहुँची है.राज्य के प्राथमिक शिक्षा मंत्री सुरेश कुमार के पास चामराजनगर ज़िले का प्रभार है.

उन्होंने पत्रकारों से कहा, "हमें पता है मैसुरू में ऑक्सीजन की काफ़ी मांग है लेकिन इसका मतलब तो यह नहीं होना चाहिए कि चामराजनगर को इसकी सप्लाई न की जाए."सुरेश कुमार ने बीबीसी हिंदी से कहा, "जो हुआ वह बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है. मैं स्वास्थ्य मंत्री डॉ. के सुधाकर के साथ तुरंत चामराजनगर पहुँच रहा हूँ. मैंने डॉक्टरो से हर मरीज़ की ऑडिट रिपोर्ट मांगी है. मैंने उनसे मारे गए हरेक मरीज़ को हुई दूसरी बीमारियों के अलावा और ऑक्सीजन के कम प्रेशर का ब्योरा मांगा है. मैंने उनसे पूछा है कि 12 बजे से दो बजे और फिर इसके बाद कितने मरीज़ों की मौत हुई."

और पढो: BBC News Hindi »

एक न‍िर्भीक और बेबाक आवाज का अंत, अलविदा रोहित सरदाना

टेलिविज़न के सबसे बेखौफ़ एंकर रोहित सरदाना का आज (शुक्रवार) को हार्ट अटैक से निधन हो गया. उनकी पत्रकारिता के स्टाइल हर कोई फैन था. रोहित कुछ दिनों पहले कोरोना से संक्रमित हुए थे. लेकिन उससे वो निकल रहे थे और सक्रिय थे. नोएडा के मैट्रो अस्पताल में रोहित का इलाज चल रहा था. देखें वीडियो.

हमे समझ मे नही आ रहा लोग मर रहे और पिट रहे ये विडियो वायरल हो रहे तो वहाँ का लोकल मीडिया क्या झक मार रहा है या दीदी और वामपंथियों पत्रकार की सेटिंग हो गई अब पिटते रहो हम कुछ नही दिखायेगे न देखने देखे तो बंगाल की सच्चाई है क्या और क्यो मीडिया नही बताता है ऑक्सीजन और दवाइयों की कमी के कारण हुई और हो रही “मौतों” के लिए सरकारों” और जवाबदार नेताओं के ख़िलाफ़ “हत्या” का मुक़दमा दर्ज होना चाहिये.