कभी भी खत्म हो सकता है किसान आंदोलन, पढ़िये राकेश टिकैत समेत 2 किसान नेताओं का ताजा बयान

कभी भी खत्म हो सकता है किसान आंदोलन, पढ़िये राकेश टिकैत समेत 2 किसान नेताओं का ताजा बयान... #KisanAndolan #FarmersProtest #RakeshTikait

Kisanandolan, Farmersprotest

09-12-2021 07:15:00

कभी भी खत्म हो सकता है किसान आंदोलन, पढ़िये राकेश टिकैत समेत 2 किसान नेताओं का ताजा बयान... KisanAndolan FarmersProtest RakeshTikait

Farmers Protest End News संयुक्त किसान मोर्चा के यूपी गेट प्रवक्ता जगतार सिंह बाजवा ने कहा कि पांच सदस्यीय कमेटी सरकार के साथ समन्वय बनाए है। आंदोलन के समापन की तिथि और तरीका संयुक्त किसान मोर्चा ही तय करेगा।

न्यूनतम समर्थन मूल्य सहित आधा दर्जन अन्य मांगों को लेकर बृहस्पतिवार को भी दिल्ली-यूपी के गाजीपुर बार्डर पर प्रदर्शन जारी है। बावजूद इसके यहां सन्नाटा पसरा हुआ है। किसान प्रदर्शनकारियों की संख्या 100 से भी कम है और सामान लदे और खाली ट्रक खड़े हैं। वहीं, भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत ने कहा कि सरकार और किसान संगठन समाधान की ओर जा रहे हैं। इससे लग रहा है कि समाधान हो जाएगा।

उन्होंने कहा कि सरकार से बातचीत होगी। सरकार कुछ जवाब लिखित में देगी और कुछ मौखिक होंगे। वहीं, संयुक्त किसान मोर्चा के यूपी गेट प्रवक्ता जगतार सिंह बाजवा ने कहा कि पांच सदस्यीय कमेटी सरकार के साथ समन्वय बनाए है। आंदोलन के समापन की तिथि और तरीका संयुक्त किसान मोर्चा ही तय करेगा।

खाली व सामान लदे ट्रक दिखेयूपी गेट पर बुधवार को सन्नाटा पसरा रहा। मंच के पीछे की सड़क बिल्कुल खाली दिखी। तंबू भी खाली रहे, उनमें सन्नाटा पसरा रहा। वहीं, पंजाब से आया ट्रक खड़ा रहा। सामान लदा ट्रक भी खड़ा रहा। बताया गया कि पंजाब के प्रदर्शनकारियों की वापसी शुरू हो गई है। उनके सामान ले जाने के लिए ट्रक आए हैं। कई प्रदर्शनकारी अपना सामान बांधते देखे गए। headtopics.com

बेकार गई चाहर की फिफ्टी: आखिरी ओवर तक चले रोमांचक मुकाबले में 4 रन से हारा भारत, साउथ अफ्रीका ने 3-0 से सीरीज जीती

यह भी पढ़ेंउधर, सोनीपत में कृषि कानूनों के विरोध में चल रहे प्रदर्शन में शामिल एक किसान ने बुधवार दोपहर केजीपी-केएमपी के जीरो प्वाइंट के पुल से नीचे जीटी रोड पर कूदकर आत्महत्या कर ली। उसके जहर खाने की भी आशंका जताई जा रही है। पुलिस ने पोस्टमार्टम कराकर शव स्वजन को सौंप दिया है। जांच के लिए विसरा भेजा गया है। साथी किसानों ने उसके सरकारी नीतियों के विरोध में आत्महत्या करने की बात कही है, जबकि पुलिस इसको हादसा मान रही है।

यह भी पढ़ेंप्रदर्शन में भाग लेने गोहाना क्षेत्र के गांव न्यात का किसान धर्मपाल आया हुआ था। वह कई महीने से प्रदर्शन स्थल पर ही रह रहा था। वह किसान यूनियन का सक्रिय सदस्य था। बुधवार दोपहर में वह केजीपी-केएमपी के जीरो प्वाइंट के पुल के पास बैठा हुआ था। उसके साथ में कई अन्य किसान भी थे। वह उनसे दूर जाकर काफी देर तक बैठा रहा।

और पढो: Dainik jagran »

UP के चुनावी रण में Kairana बना हथियार, पूरब के बाद अब पश्चिम पर नजर, देखें दंगल

यूपी में प्रचार युद्ध आज अपने चरम पर जा पहुंचा जब अमित शाह यूपी सियासत के हॉट सीट कैराना की गलियों में जा पहुंचे. घर घर लोगों को प्रचार का पर्चा बांटा. पलायन करने के बाद वापस कैराना लौटे लोगों से मुलाकात की और कहा कि योगी राज में अब किसी को किसी भी तरीके का डर नहीं है, जबकि 2017 से पहले ऐसा नहीं था. साफ है कि अमित शाह ने कैराना को हथियार बनाकर पश्चिमी यूपी में आरपार की जंग छेड़ दी है. अखिलेश ने भी प्रेस कॉन्फ्रेस करके बीजेपी के खिलाफ हमला बोला और वादों की झड़ी लगाई. तो वहीं ओवैसी ने भी एक नया मोर्चा बनाकर यूपी की जंग को और दिलचस्प बना दिया है. देखें इसी मुद्दे पर दंगल. और पढो >>

राकेश टिकैत की दो टूक- संयुक्त किसान मोर्चा ही लेगा आंदोलन खत्म करने का आखिरी फैसलासंयुक्त किसान मोर्चा की मंगलवार को हुई बैठक के बाद कयास लगाए जा रहे हैं कि एक साल से चल रहा किसान आंदोलन जल्द ही समाप्त होने की कगार पर है. लेकिन राकेश टिकैत के बयान के बाद आंदोलन के भविष्य से धुंध छटती नजर नहीं आ रही है. RakeshTikaitBKU कुछ तो शर्म करो देश हीत में सोचो RakeshTikaitBKU अब तो बोलेगा इज़्ज़त जो बचानी है, संयुक्त किसान मोर्चा ने इसको साईड कर दिया है, सरकार से बात करने के लिए जो कमेटी बनी है उसमें इस नमूने का नाम नही है। RakeshTikaitBKU Nautanki PM ke samne kar

किसान संगठन आंदोलन ख़त्म करेंगे या नहीं फ़ैसला आज - BBC News हिंदीगृह मंत्रालय के प्रस्ताव को लेकर सिंघु बॉर्डर पर किसान संगठनों की मंगलवार को एक बैठक हुई थी. Msp ka bni khahe ka andolan khatam Msp main part of agriculture.. We need Msp अगर उन्होंने अपना तमाशा बंद कर दिया तो न्यूज़ वालों की दुकान चलेगी कैसे? आंदोलन बंद हुआ तो लीबरल पत्रकार बेरोजगार हो जाएंगे।

किसान आंदोलन पर फैसला आज: हाईपावर कमेटी की केंद्र से वार्ता खत्म; सिंघु बॉर्डर पर मीटिंग के लिए पहुंचे किसान नेतादिल्ली बॉर्डर पर चल रहे किसान आंदोलन को लेकर संयुक्त किसान मोर्चा आज अंतिम फैसला लेगा। मोर्चे की 5 मेंबरी हाईपावर कमेटी की सरकार से वार्ता खत्म हो चुकी हैै। इसके बाद सभी नेता मोर्चे की मीटिंग के लिए सिंघु बॉर्डर पहुंच गए हैं। | Farmers Protest Kisan Andolan News Update; Samyukta Kisan Morcha (SKM) meeting at Singhu border today as Reportedly To Call Off Protests | Farmers Protest Kisan Andolan Delhi Singhu Border Update दिल्ली बॉर्डर पर 377 दिन से चल रहे किसान आंदोलन पर आज अंतिम फैसला होगा।

लंबे इंतजार के बाद मान गए किसान, स्वीकार किया सरकार का प्रस्ताव, कल फिर होगी बैठकसंयुक्त किसान मोर्चा ने बुधवार को कहा कि सरकार के नए प्रस्ताव पर सहमति बन गई है, अब केंद्र की तरफ से औपचारिक संचार का इंतजार है।

भास्कर LIVE अपडेट्स: संयुक्त किसान मोर्चा की बैठक जारी; केंद्र सरकार के खिलाफ संघर्ष के लिए आगे की रणनीति बना रहे किसानसंयुक्त किसान मोर्चा (SKM) की अहम बैठक दिल्ली-हरियाणा के सिंघु बॉर्डर पर कजारिया कार्यालय में जारी है। इस बैठक में देशभर के किसान संगठनों के नेता शामिल हैं। सरकार द्वारा अभी तक किसानों की पांच सदस्य कमेटी से कोई संपर्क नहीं किए जाने के कारण यह मीटिंग बुलाई गई है। | Breaking News Headlines Today, Pictures, Videos and More From Dainik Bhaskar (दैनिक भास्कर), Coronavirus Vaccine and Omicron Coronavirus Variant RahulGandhi PMOIndia

किसान आंदोलन पर ऐलान कल: आज ही होना था फैसला, पर केस वापसी पर पेंच फंसा; किसान सरकार से ठोस आश्वासन चाहते हैंदिल्ली बॉर्डर पर चल रहा किसान आंदोलन कल यानी बुधवार को खत्म हो सकता है। सिंघु बॉर्डर पर मंगलवार को हुई संयुक्त किसान मोर्चा की बैठक भी इसी मुद्दे पर हुई थी। अब केस वापसी को लेकर एक पेंच फंस गया है। सरकार का कहना है कि आंदोलन खत्म करने के बाद केस वापसी का ऐलान करेंगे। दूसरी ओर, किसान चाहते हैं कि सरकार अभी इस पर ठोस आश्वासन दे। | दिल्ली बॉर्डर पर चल रहा किसान आंदोलन कल खत्म हो सकता है। संयुक्त किसान मोर्चा की तरफ से कल फिर मीटिंग बुलाई गई है। केंद्र सरकार की तरफ से केस रद्द करने को लेकर सहमति दे दी गई है।