ओमिक्रॉन Vs डेल्टा: कौन है ज्यादा खतरनाक वैरिएंट, किस पर वैक्सीन का कितना असर, किससे मौत का खतरा ज्यादा? जानें सब कुछ

ओमिक्रॉन Vs डेल्टा:कौन है ज्यादा खतरनाक वैरिएंट, किस पर वैक्सीन का कितना असर, किससे मौत का खतरा ज्यादा? जानें सब कुछ #Omicron #covid19 #pandemic #southafrica #Unitedstates #Covidvariant #OmicronmoredangerousthanDelta

Omicron, Covid 19

02-12-2021 17:55:00

ओमिक्रॉन Vs डेल्टा:कौन है ज्यादा खतरनाक वैरिएंट, किस पर वैक्सीन का कितना असर, किससे मौत का खतरा ज्यादा? जानें सब कुछ Omicron covid19 pandemic southafrica Unitedstates Covidvariant Omicron moredangerousthanDelta

दक्षिण अफ्रीका में पाए गए कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन ने देश में दस्तक दे दी है। 2 दिसंबर को कर्नाटक में दो ओमिक्रॉन केस पाए जाने की स्वास्थ्य मंत्रालय ने पुष्टि कर दी है। 24 नवंबर को साउथ अफ्रीका में पाए जाने के महज एक हफ्ते के अंदर ही अब ओमिक्रॉन भारत, अमेरिका, ब्रिटेन समेत दुनिया के 29 देशों में दस्तक दे चुका है। | Omicron Vs Delta Variant Comparison Update; How different and dangerous is Corona's new variant Omicron from Delta दोनों वैरिएंट के सबसे पहले कहां मिले केस? किसमें कितना म्यूटेशन? किस पर कितनी असरदार है वैक्सीन?

ओमिक्रॉन Vs डेल्टा:कौन है ज्यादा खतरनाक वैरिएंट, किस पर वैक्सीन का कितना असर, किससे मौत का खतरा ज्यादा? जानें सब कुछ4 घंटे पहलेलेखक: अभिषेक पाण्डेयकॉपी लिंकवीडियोदक्षिण अफ्रीका में पाए गए कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन ने देश में दस्तक दे दी है। 2 दिसंबर को कर्नाटक में दो ओमिक्रॉन केस पाए जाने की स्वास्थ्य मंत्रालय ने पुष्टि कर दी है। 24 नवंबर को साउथ अफ्रीका में पाए जाने के महज एक हफ्ते के अंदर ही अब ओमिक्रॉन भारत, अमेरिका, ब्रिटेन समेत दुनिया के 29 देशों में दस्तक दे चुका है।

कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन को लेकर दुनिया भर के वैज्ञानिक रिसर्च में जुट गए हैं। वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन (WHO) द्वारा तेजी से फैलने में सक्षम कोरोना के इस नए वैरिएंट (B.1.1.529) को वैरिएंट ऑफ कंसर्न घोषित किए जाने के बाद से ही दुनिया में चिंता की नई लहर पैदा हो गई है। ओमिक्रॉन को दुनिया भर में तहलका मचाने वाले डेल्टा वैरिएंट से भी अधिक तेजी से फैलने वाला वैरिएंट कहा जा रहा है। इसकी वजह इसकी डेल्टा से भी तेज म्यूटेशन की क्षमता है।

आइए जानते हैं कि कोरोना का नया वैरिएंट ओमिक्रॉन दुनिया को परेशान कर चुके डेल्टा से कितना अलग और खतरनाक है? क्यों डेल्टा से भी ज्यादा ताकतवर माना जा रहा है ओमिक्रॉन?दोनों वैरिएंट के केस सबसे पहले कहां मिले?डेल्टा वैरिएंट सबसे पहले अक्टूबर 2020 में भारत में सामने आया था, लेकिन इसने भारत में कहर कुछ महीनों के बाद अप्रैल 2021 में मचाया, जिससे देश में कोरोना की दूसरी लहर आई। डेल्टा न केवल भारत बल्कि अमेरिका, ब्रिटेन समेत दुनिया के 163 देशों तक फैल चुका है। येल मेडिसिन की रिपोर्ट के मुताबिक डेल्टा वैरिएंट अभी कोरोना का सबसे प्रबल वैरिएंट है, जो वर्तमान में दुनिया भर के कुल कोरोना केसेज में से 99 फीसदी के लिए जिम्मेदार है। headtopics.com

दिल्ली में गणतंत्र दिवस के बीटिंग रिट्रीट समारोह में बजेगा कुमाऊं का लोकगीत

ओमिक्रॉन का पहला केस 24 नवंबर 2021 को साउथ अफ्रीका में मिला। WHO के मुताबिक ओमिक्रॉन के पहले ज्ञात संक्रमण का सैंपल 9 नवंबर 2021 को लिया गया था। पहल केस मिलने के महज एक हफ्ते के अंदर ही ओमिक्रॉन भारत बोत्सवाना, हॉन्ग कॉन्ग, इजराइल, ब्रिटेन, जर्मनी, नीदरलैंड समेत दुनिया के 25 देशों में फैल चुका है।

किसमें कितना म्यूटेशन?शुरुआती रिपोर्ट्स के मुताबिक, ओमिक्रॉन दुनिया में कहर बरपा चुके डेल्टा वैरिएंट से कहीं ज्यादा तेजी से म्यूटेशन करने वाला वैरिएंट है।ओमिक्रॉन में कुल 50 म्यूटेशन हो चुके हैं, जिनमें से 30 म्यूटेशन तो उसके स्पाइक प्रोटीन में हुए हैं। स्पाइक प्रोटीन के जरिए ही कोरोना वायरस इंसानी शरीर में प्रवेश के रास्ते खोलता है। इसकी तुलना में डेल्टा के S प्रोटीन में 18 म्यूटेशन हुए थे।

ओमिक्रॉन के रिसेप्टर बाइंडिंग डोमेन में भी 10 म्यूटेशन हो चुके हैं, जबकि डेल्टा वैरिएंट में केवल 2 ही म्यूटेशन हुए थे। रिसेप्टर बाइंडिंग डोमेन वायरस का वह हिस्सा है जो इंसान के शरीर के सेल से सबसे पहले संपर्क में आता है।किस पर कितनी असरदार है वैक्सीन?

आखिरकार अमेरिका के साथ परमाणु वार्ता के लिए तैयार हो ही गया ईरान, दुनिया के सभी बड़े देशों की रहेगी निगाह

लैंसेट की एक हालिया रिसर्च में सामने आया है कि अप्रैल-मई 2021 में भारत में कोविड की दूसरी लहर के लिए जिम्मेदार डेल्टा वैरिएंट पर कोविशील्ड वैक्सीन काफी प्रभावी रही थी। इस रिसर्च के मुताबिक पूरी तरह वैक्सीनेटेड लोगों पर वैक्सीन की एफिकेसी 63 फीसदी रही, जबकि डेल्टा से होने वाली मध्यम से गंभीर बीमारी के खिलाफ वैक्सीन की एफिकेसी 81 फीसदी रही। headtopics.com

वहीं, ओमिक्रॉन पर मौजूदा वैक्सीनों के असर को लेकर फिलहाल कोई रिसर्च मौजूद नहीं है, लेकिन इस वैरिएंट के स्पाइक प्रोटीन में 30 से अधिक म्यूटेशन की वजह से इस पर मौजूदा वैक्सीनों के बहुत कम प्रभावी रहने या एकदम ही बेअसर रहने की आशंका है। अधिकतर वैक्सीन स्पाइक प्रोटीन के खिलाफ ही एंटीबॉडीज तैयार करती हैं, लेकिन ओमिक्रॉन के स्पाइक प्रोटीन में तेज म्यूटेशन की क्षमता से मौजूदा वैक्सीन इसके खिलाफ बेअसर हो सकती हैं। हालांकि ओमिक्रॉन पर मौजूदा वैक्सीन की एफिकेसी के आकलन को लेकर रिसर्च जारी है और इस नए वैरिएंट पर वैक्सीन कितनी कारगर होगी, इसके बारे में कुछ दिनों में पता चल पाएगा।

कौन कितना खतरनाक?कोई वायरस कितना खतरनाक है, इसको पता लगाने का एक तरीका ये है कि वो कितनी तेजी से फैल रहा है। वायरस की इस क्षमता को R वैल्यू कहा जाता है। कोरोना के शुरुआती स्ट्रेन की R वैल्यू 2-3 थी, जबकि डेल्टा वैरिएंट की R वैल्यू 6-7 थी। इसका मतलब ये है कि डेल्टा वैरिएंट से संक्रमित एक व्यक्ति इस वायरस को 6-7 व्यक्तियों में फैला सकता है।

कोरोना के चलते लोगों पर दवाएं हो रहीं बेअसर, लोगों की जान जाने का यह भी कारण; अमेरिकी रिसर्च में वैज्ञानिकों ने जताई चिंता

वहीं, ओमिक्रॉन की R वैल्यू डेल्टा से करीब छह गुना अधिक मानी जा रही है, जिसका मतलब है कि ओमिक्रॉन से संक्रमित अकेला मरीज ही इस वायरस को 35-45 लोगों में फैला सकता है। अब तक ओमिक्रॉन 19 देशों में फैल चुका है। डेल्टा से अधिक संक्रामक क्षमता के कारण इसे कहीं अधिक खतरनाक माना जा रहा है।

किसमें मौत का कितना खतरा?अक्टूबर 2021 में आई कनाडा की एक स्टडी के मुताबिक, पिछले सभी वैरिएंट की तुलना में डेल्टा वैरिएंट से हॉस्पिटलाइजेशन का खतरा 108 फीसदी, ICU में जाने का खतरा 235 फीसदी और मौत का खतरा 133 फीसदी बढ़ गया।अभी ओमिक्रॉन से किसी की मौत का मामला सामने नहीं आया है, लेकिन ओमिक्रॉन की संक्रामक क्षमता दुनिया भर में लाखों लोगों की मौत की वजह बने डेल्टा से कहीं अधिक है। यही वजह है कि विशेषज्ञ इस बात पर चिंता जता रहे हैं कि ओमिक्रॉन अगर फैला तो न केवल गंभीर रूप से बीमारों बल्कि मौतों का आंकड़ा भी डेल्टा से अधिक हो सकता है। headtopics.com

दोनों के लक्षणों में क्या है अंतर?कुछ एक्सपर्ट्स का मानना है कि ओमिक्रॉन के लक्षण डेल्टा से कुछ अलग हो सकते हैं - जैसे ओमिक्रॉन में स्वाद या गंध नहीं जाती है, जबकि डेल्टा में ऐसा होता है। हालांकि निश्चित रूप से ऐसा कहना अभी जल्दबाजी होगी।वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन (WHO) का कहना है कि फिलहाल इस बात का कोई सबूत नहीं है कि ओमिक्रोन के लक्षण कोरोना के पहले के वैरिएंट से अलग हैं। मतलब स्वाद और गंध जाने को छोड़कर डेल्टा और ओमिक्रॉन के प्रमुख लक्षण: जैसे-गले में खराश, बुखार, थकान और सिरदर्द, एक जैसे ही हैं।

और पढो: Dainik Bhaskar »
J&K पुलिस के जवान का रैप देख हैरान हुए मिथुन चक्रवर्ती-परिणीति चोपड़ा, इंटरनेट पर वायरल हुआ VIDEO भास्कर LIVE अपडेट्स: गोल्डन बॉय नीरज चोपड़ा परम विशिष्ट सेवा मेडल से सम्मानित होंगे, 384 लोगों को मिलेगा वीरता पुरस्कार अमेजन पर MP के गृहमंत्री का एक्शन: तिरंगा छपा जूता बेचा जा रहा था, नरोत्तम मिश्रा बोले- बर्दाश्त नहीं; कंपनी मालिक बेजोस पर FIR के आदेश एलान: इस साल 384 लोगों को वीरता पुरस्कार, ओलंपिक गोल्ड जीतने वाले नीरज चोपड़ा को परम विशिष्ट सेवा मेडल सियासत: आरपीएन सिंह के भाजपा में जाने से बिफरी कांग्रेस, कहा- हम जो युद्ध लड़ रहे हैं वो कायरों के लिए नहीं है Congress नेता RPN Singh का इस्तीफा, BJP में होंगे शामिल, स्वामी प्रसाद मौर्य के खिलाफ लड़ेंगे चुनाव?

Aaj ka Agenda|AajTak LIVE| ओमिक्रॉन से कोरोना खत्म समझना एक बड़ी भूल है ? #CORONA| #OMICRON|

Aaj ka Agenda|AajTak LIVE| ओमिक्रॉन से कोरोना खत्म समझना एक बड़ी भूल है ? #CORONA| #OMICRON| और पढो >>

न ओमिक्रान, न डेल्टा वैरिएंट देश के लिए सबसे खतरनाक वैरिएंटर रावण शैतान सेना (RSS) वैरिएंट और इसका मुखिया। इसको जड़ से नष्ट करने की वैक्सीन की जरूरत है। schooledump WelfareTribal शिक्षक_भर्ती में पद_वृद्धि के लिए 🇮🇳✊🇮🇳 Indersinghsjp CMMadhyaPradesh ChouhanShivraj BJP4MP OBCARMYCHIEF NEYU4INDIA 10_दिसंबर_की_क्रांति अभी बाकी है ! 🇮🇳✊🇮🇳👇🇮🇳

schooledump WelfareTribal CMMadhyaPradesh ChouhanShivraj ' हमारी मांगे पूरी करो, 🇮🇳✊🇮🇳 वर्ग-1एवं वर्ग-2 के रिक्त पदों में वृद्धि करो !' पद_वृद्धि_नहीं_तो_भाजपा_को_वोट_नहीं सबसे पहले JM_Scindia विदेशी नागरिकों का आना रोको

Omicron Alert: देश में कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन की एंट्री, कर्नाटक में मिले दो मामले Omicron Alert: देश में कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन की एंट्री, कर्नाटक में मिले दो मामले Omicron Varient Covid19 Karnataka mansukhmandviya MoHFW_INDIA mansukhmandviya MoHFW_INDIA कर्नाटक सरकार को कड़ी सुरक्षा व्यवस्था बहाल करना चाहिए ताकि वायरस को तेजी से वायरल होनें से रोका जाए। इसें मज़ाक में कतई न लें , नहीं तो बहुत जल्दी विकराल रूप धारण कर लेगा. सज़ग रहे , सतर्क रहें mansukhmandviya MoHFW_INDIA

जिसका डर था वही हुआ, ओमिक्रॉन की भारत में एंट्री: बेंगलुरु में दो ओमिक्रॉन संक्रमित मिले; संपर्क में आए 6 लोग भी पॉजिटिवकोरोना का नया वैरिएंट ओमिक्रॉन भारत में भी पहुंच गया है। देश में इसके पहले दो मरीज कर्नाटक में मिले हैं। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने इसकी पुष्टि की है। | Coronavirus Outbreak India Cases LIVE Updates; Latest Coronavirus Counts, Charts And Maps and More on Dainik Bhaskar (दैनिक भास्कर) Govt is taking in light way, if a single child get effected, President rule must inforce. DocVatsa बस समझो घोड़े बंधने वाले है😂🇮🇳

मुजफ्फरपुर में मोतियाबिंद के ऑपरेशन में गड़बड़ी, 65 में से 15 लोगों की निकालनी पड़ी आंखजानकारी के लिए बता दें कि बीते 22 नवंबर को मुजफ्फरपुर के आई हॉस्पिटल में 65 लोगों का मोतियाबिंद का ऑपरेशन हुआ था. जिसमें ज्यादातर लोगों की आंखों में इंफेक्शन हो गया.

भारत में भी ओमिक्रॉन की दस्तक, पहली बार मिले दो मामले - BBC News हिंदीस्वास्थ्य मंत्रालय ने बताया कि बीती रात INSACOG ने कर्नाटक में कोरोना वायरस के ओमिक्रॉन वेरिएंट से संक्रमण के दो मामलों की पुष्टि की है. Now corona to all public please be aware of that 😐 इस बार मैं थाली नहीं बजाऊंगा, पहले ही बता रहा हूँ 😐 म्यूटेशन के बारेमें अधूरी जानकारी देकर लोगोंको भ्रमित किया जारहा है। अधिकांश म्यूटेशन जिस जीवमें होतेहैं उसकेलिए हानिकारक होतेहैं लेकिन यह सत्य लोगोंको बताया नहीं जारहा। वाइरस में बहुतज्यादा म्यूटेशन स्वयं इस वायरस के लिए घातक हैं। पूरी संभावना है कि यह स्वयं अपनी मौत मर जायेगा।

जिसका डर था वही हुआ, ओमिक्रॉन की भारत में एंट्री: बेंगलुरू में दो विदेशी ओमिक्रॉन संक्रमित मिले; सरकार ने कहा- डेल्टा से 5 गुना ज्यादा खतरनाककोरोना का नया वैरिएंट ओमिक्रॉन भारत में भी पहुंच गया है। देश में इसके पहले दो मरीज बेंगलुरू में मिले हैं। इनमें एक की उम्र 46 और दूसरे की 66 साल है। ये दोनों विदेशी हैं। हेल्थ मिनिस्ट्री के जॉइंट सेक्रेटरी लव अग्रवाल ने गुरुवार को इसकी जानकारी दी। उन्होंने कहा कि कोरोना के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन के तेजी से फैलने की आशंका है। यह डेल्टा से 5 गुना तक ज्यादा संक्रामक हो सकता है। अब तक ओमिक्रॉन के 29 देशो... | Coronavirus Outbreak India Cases LIVE Updates; Latest Coronavirus Counts, Charts And Maps and More on Dainik Bhaskar (दैनिक भास्कर) ओमिक्रोन्न को बुलाने के लिए ही तो इंटरनेशनल फ्लाइट स्टार्ट हुई थी।

घबराएं नहीं, भारत में ओमिक्रॉन के मामले सामने आने के बाद केंद्र की अपील : 5 बातेंपिछले कुछ दिनों से दुनिया भर में हड़कंप मचा रहे कोरोना वायरस के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन ने आख‍िरकार भारत में भी दस्‍तक दे ही दी. कर्नाटक में इसके दो मरीज सामने आए हैं. स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय ने गुरुवार को प्रेस कॉन्‍फ्रेंस कर इसकी जानकारी दी. दोनों में से एक मरीज की उम्र 66 साल है जबकि दूसरे की 46 साल. दोनों में ही फिलहाल कोई गंभीर लक्षण नहीं दिख रहे. क्या हर एक छोटे बड़े शहरों में ऑमिक्रॉन की जांच हो सकती है? क्या सिर्फ वायरल लोड से इसका पता चल जाएगा या जीनोम सिक्वेंसिंग आवश्यक है? 11 और 20 नवम्बर को आए थे... तो इन्हें भारत में ही हुआ है... PMOIndia केन्द्र सरकार को लापरवाही से बचना चाहिए। ऐसा पहली बार नहीं हो रहा, सरकार को सबक लेना चाहिए था।