Coronavirus, China, Australia, Report Says, Chinese Scientists Discussed, Weaponising Sars Coronaviruses, 5 Years Before Pandemic

Coronavirus, China

ऑस्ट्रेलियाई मीडिया का दावा: कोरोनावायरस पर 2015 से रिसर्च कर रहा है चीन, इसे जैविक हथियार की तरह इस्तेमाल करना चाहता था

ऑस्ट्रेलियाई मीडिया का चौंकाने वाला खुलासा: कोरोना वायरस पर 2015 से रिसर्च कर रहा है चीन, इसे जैविक हथियार की तरह उपयोग करना चाहती थी चीनी सेना #Coronavirus #China #Australia

09-05-2021 18:32:00

ऑस्ट्रेलियाई मीडिया का चौंकाने वाला खुलासा: कोरोना वायरस पर 2015 से रिसर्च कर रहा है चीन, इसे जैविक हथियार की तरह उपयोग करना चाहती थी चीनी सेना Coronavirus China Australia

कोरोना वायरस 2020 में अचानक नहीं आया, बल्कि इसकी तैयारी चीन 2015 से कर रहा था। चीन की सेना 6 साल पहले से कोविड-19 वायरस को जैविक हथियार की तरह इस्तेमाल करने की साजिश रच रही थी। ‘द वीकेंड ऑस्ट्रेलियन’ ने अपनी रिपोर्ट में ये खुलासा किया है। रिपोर्ट में चीन के एक रिसर्च पेपर को आधार बनाया गया है। इसमें कहा गया है कि चीन 6 साल पहले से सार्स वायरस की मदद से जैविक हथियार बनाने की कोशिश कर रहा था। | Report says Chinese scientists discussed weaponising SARS coronavirus es 5 years before pandemic , कोरोना वायरस पर 2015 से रिसर्च कर रहा है चीन, इसे जैविक हथियार की तरह उपयोग करना चाहती थी चीनी सेना

Report Says । Chinese Scientists Discussed । Weaponising SARS Coronaviruses । 5 Years Before PandemicAds से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐपऑस्ट्रेलियाई मीडिया का दावा:कोरोनावायरस पर 2015 से रिसर्च कर रहा है चीन, इसे जैविक हथियार की तरह इस्तेमाल करना चाहता था

फ्लाइंग सिख मिल्खा सिंह का 91 साल की उम्र में निधन CM ममता बनर्जी सुभेंदू अधिकारी के खिलाफ मामले में क्यों बदलना चाहती हैं जज? मिल्खा सिंह का कोविड संक्रमण से निधन - BBC News हिंदी

कैनबरा28 मिनट पहलेकॉपी लिंकरिपोर्ट में बताया गया है कि चीनी वैज्ञानिकों ने सार्स वायरस का उपयोग तीसरे विश्वियुद्ध में जैविक हथियार की तरह करने की बात कही है।कोरोना वायरस 2020 में अचानक नहीं आया, बल्कि इसकी तैयारी चीन 2015 से कर रहा था। चीन की सेना 6 साल पहले से कोविड-19 वायरस को जैविक हथियार की तरह इस्तेमाल करने की साजिश रच रही थी। ‘द वीकेंड ऑस्ट्रेलियन’ ने अपनी रिपोर्ट में ये खुलासा किया है। रिपोर्ट में चीन के एक रिसर्च पेपर को आधार बनाया गया है। इसमें कहा गया है कि चीन 6 साल पहले से सार्स वायरस की मदद से जैविक हथियार बनाने की कोशिश कर रहा था।

रिपोर्ट के मुताबिक चीनी वैज्ञानिक और हेल्थ ऑफिसर्स 2015 में ही कोरोना के अलग-अलग स्ट्रेन पर चर्चा कर रहे थे। उस समय चीनी वैज्ञानिकों ने कहा था कि तीसरे विश्वयुद्ध में इसे जैविक हथियार की तरह उपयोग किया जाएगा। इस बात पर भी चर्चा हुई थी कि इसमें हेरफेर करके इसे महामारी के तौर पर कैसे बदला जा सकता है। headtopics.com

हर बार जांच से पीछे हट जाता है चीनरिपोर्ट में इस बात पर भी सवाल उठाया गया है कि जब भी वायरस की जांच करने की बात आती है तो चीन पीछे हट जाता है। ऑस्ट्रेलियाई साइबर सिक्योरिटी एक्सपर्ट रॉबर्ट पॉटर ने बताया कि ये वायरस किसी चमगादड़ के मार्केट से नहीं फैल सकता। वह थ्योरी पूरी तरह से गलत है। चीनी रिसर्च पेपर पर गहरी स्टडी करने के बाद रॉबर्ट ने कहा- वह रिसर्च पेपर बिल्कुल सही है। हम चीन के रिसर्च पेपर पर अध्ययन करते रहते हैं। इससे पता चलता है कि चीनी वैज्ञानिक क्या सोच रहे हैं।

इस दावे में दम क्यों हो सकता हैऑस्ट्रेलियाई मीडिया की इस रिपोर्ट को खारिज नहीं किया जा सकता। पिछले साल अमेरिका के तब के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने कई बार सार्वजनिक तौर पर कोरोना को ‘चीनी वायरस’ कहा था। उन्होंने कहा था- यह चीन की लैब में तैयार किया गया और इसकी वजह से दुनिया का हेल्थ सेक्टर तबाह हो रहा है, कई देशों की इकोनॉमी इसे संभाल नहीं पाएंगी। ट्रम्प ने तो यहां तक कहा था कि अमेरिकी खुफिया एजेंसियों के पास इसके सबूत हैं और वक्त आने पर ये दुनिया के सामने रखे जाएंगे।

बहरहाल, ट्रम्प चुनाव हार गए और बाइडेन एडमिनिस्ट्रेशन ने अब तक इस बारे में सार्वजनिक तौर पर कुछ नहीं कहा। हालांकि, ब्लूमबर्ग ने पिछले दिनों एक रिपोर्ट में इस तरफ इशारा किया था कि अमेरिका इस मामले में बहुत तेजी और गंभीरता से जांच कर रहा है।दुनियाभर में तेजी से बढ़ रहा संक्रमण

दुनियाभर में कोरोना के मामले बढ़ते जा रहे हैं। बीते दिन दुनिया में 7.83 लाख नए केस आए। इस दौरान 13,022 लोगों की मौत हुई। कोरोना का कहर सबसे ज्यादा भारत और ब्राजील में देखा जा रहा है। शनिवार को दुनिया में हुई कुल मौतों के 47% मामले भारत और ब्राजील में रिकॉर्ड किए गए। भारत में 4,133 और ब्राजील में 2,091 लोगों की कोरोना की वजह से मौत हो गई। headtopics.com

दिल्ली सरकार ने मजदूरों को दिया बड़ा तोहफा, न्यूनतम वेतन बढ़ाया, 55 लाख को होगा फायदा मध्य प्रदेश : सोयाबीन बीजों का गहराया संकट, कृषि मंत्री बोले- किसान दूसरी फसल लगा लें उत्तराखंड : बीजेपी विधायक का कोविड कर्फ्यू चालान करने वाले पुलिसकर्मी का तबादला

अब तक 15.83 करोड़ केसदुनिया में कोरोना के अब तक 15.83 करोड़ से ज्यादा लोग कोरोना वायरस से संक्रमित हो चुके हैं। इनमें से 32.96 लाख से ज्यादा लोगों की मौत हो गई है जबकि 13.66 करोड़ लोगों ने कोरोना को मात दी है। फिलहाल 1.92 करोड़ लोगों का इलाज चल रहा है। इनमें 1.91 करोड़ लोगों में कोरोना के हल्के लक्षण हैं और 1.07 लाख लोगों की हालत गंभीर बनी हुई है।

और पढो: Dainik Bhaskar »

ऑपरेशन न्योतेबाज़: रेस्टोरेंट-पब-फॉर्म हाउस तोड़ रहे नियम, शराब से लेकर DJ के हैं इंतजाम

आज प्रधानमंत्री ने कहा कि कोरोना कम जरूर हुआ लेकिन रूप बदल रहा है. आज यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा, कोरोना कमजोर हुआ लेकिन खत्म नहीं हुआ है. देश-विदेश के मेडिकल एक्सपर्ट कह रहे हैं कि कोरोना लगातार नए रूप लेकर फैलना शुरु हो चुका है. लेकिन फिर भी हमारे देश में लापरवाहों की ऐसी भीड़ है जो कोरोना को न्योता दे रही है. कोरोना की उस तीसरी लहर के न्योतेबाजों को हमने अपने कैमरे में कैद किया है. एक स्टिंग ऑपरेशन महामारी से बचाने वाले नियमों की धज्जियां उड़ाकर वायरस को फैलाने वाली पार्टियां आयोजित करने वाले कैद हुए हैं. देखें ये रिपोर्ट.

whitespeaking New drama in india media to hide modi failure and now andh bhakts active. बिजलियां उस पर गिरें,बरसात होनी चाहिये, चीन की हर रात काली रात होनी चाहिये, आँख से आंखें मिलाने का नहीं अब वक़्त है, हाथ से कॉलर पकड़ कर बात होनी चाहिये, बिछ चुकी हैं अब बिसातें जंग के मैदान में, चाल कैसी भी चले वो,मात होनी चाहिये.. ©सौरभ श्रीवास्तव

चीन की हरकत ही इस तरह की विश्व पटल पर वह डोकलमम की हार की भारत से बदला ले सके 好可怜的印度人,除了造谣中伤以外,只能看着自己国家的人家一个一个的死去! Yahi satya hay. चीनी लोगो की आँखे छोटी है ये सब जानते थे लेकिन सोच इतनी छोटी हो सकती है ये किसी ने सोचा नही है चीन चढा़ई करना चालू कर दो Vito Power गया तेल लेने जब दूनिया ही नही रहेगी तो Vito power का क्या करेगे ये देश🤔

Enemy of humanity ipskabra यह इसी का screenshot है। Cyber security expert कब से molecular epidemiologist हो गए?! They must be boycotted by all. Civilised GLOBE must ignore China at least 10years for their demonic behaviour ipskabra it's very obvious and i don't know why world is not punishing or talking about the real culprit. Are all the countries under the debt of china and western media, the free one, not taking this issue or investigating. Common people of every country are innocent. Regards !

खुलासा: सोशल मीडिया पर प्रचार के लिए फर्जी अकाउंट का सहारा ले रहा चीनअक्सर ऐसा देखा जाता है चीन अपनी करतूत के कारण काफी किरकिरी कराता है। इस बार भी कुछ ऐसा ही है। इस बार पता चला है कि चीन Bjp bhi le rhi hai uspe ek report hojaye plzzz...the daily guardian pe India se seekh liya hai भारत में सबसे बड़ा सहारा चीन का तो फर्जी गांधी खानदान ही है।

सम्भव है। हर देश यही कर रहा है, हम मात्र चिंता करते रहते हैं। It means Modi ji alone is fighting China sponsered pandemic. All other are fighting with Modi Ji. Ye bilkul sach hai..Baad me pata chlega.. हमारे पास श्राप बम है, जा तुझे (चीन को) कीड़े पडेंगे। तुझे (चीनको) नरक मे भी जगह नही मिलेगी। और हम कर भी क्या सकते है?

बोलिए जो आपको बोलना है, हम तो कुछ नही बोलेंगे। vinodkumar_555 Chinese virus h ye Australian media to kr hi rhi h saare khulase .... tum bhi to ku6 kro Sivay iske फिर मोदी बचाओ मुद्दे लाओ की कसरत शुरू। अभी महामारी से छुटकारा कैसे मिले वो बताओ उस पर शोध करने का प्रयास करे इसमें कोई शक नहीं है , इसके पीछे चीन है ,इस सम्बंध में कुछ दिन पहले मेरे द्वारा आकड़ें भी प्रस्तुत किए गए थे ,किंतु आज की स्थिति में संयुक्त राष्ट्र इतना कमज़ोर है की इसके विरुद्ध कोई कदम ही नहीं उठा पा रहा , अब वक्त आ गया इसकी जगह एक नया मजबूत संगठन बनाया जाए PMOIndia BBCHindi

ipskabra Bio Weapon bna rha tha China wo v 2015 se 😳😳

#LadengeCoronaSe: विराट-इशांत ने लगवाया कोरोना का पहला टीका, सोशल मीडिया पर दी जानकारीLadengeCoronaSe: विराट-इशांत ने लगवाया कोरोना का पहला टीका, सोशल मीडिया पर दी जानकारी Coronavirus Pandemic CoronaVaccination imVkohli ImIshant

ipskabra Sir, it means we are in a state of war. 😐 ipskabra Don't believe dainikbhaskar पुरानी बातें छोड़िए अपडेट न्यूज़ क्या है वह बताओ तो सारे देश मिलकर चीन का क्या उखाड़ लिए ? विश्व स्तर पर चीन की ऐसी तैसी भी कोई नही कर पाया।। चाइना ने दुनिया को जो रास्ता दिखाया है वह मानव समाज के अंत की ओर ले जाता हैं आज पूरी दुनिया त्राहिमाम त्राहिमाम किये हुए है फिर भी अभी गुंजाइश है लेकिन यह मानव सभ्यता के अंत की शुरुआत है हाँ,मानव के लिए ये घातक जरूर है लेकिन फिर भी प्रकृति के लिए नहीं फिर भी धर्महीन समाज संकट है

हां तो कर लिया न उसने जैविक हथियार के रूप में इस्तेमाल तुमने उसका क्या उखाड़ लिया भोदुंओं ipskabra MeetUunngLee खुद को Lose Motion भी लग जाये तो AIIMS की खाट पकड़ लेते हैं वो फर्जी बाबा दलाल मीडिया के माध्यम से कारोना काल में भ्रांतिया फैला रहा हैं ईस पर FIR कब होगी NoMoreModi ResignModi

केंद्र का जवाब लीक होने पर SC नाराज: केंद्र से पूछा- सरकार का एफिडेविट हमारे पास सुबह 10 बजे आया, पर मीडिया को ये रात को कैसे मिल गयाचुनाव, कुंभ और ऑक्सीजन सप्लाई जैसे 21 मामलों पर सुप्रीम कोर्ट ने सोमवार को सुनवाई की। जस्टिस डीवाई चंद्रचूड़ ने इन मामलों पर सरकारी एफिडेविट मीडिया तक पहुंचने पर नाराजगी जाहिर की। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार ने रविवार देर रात ऐफिडेविट सुप्रीम कोर्ट पहुंचाया। सोमवार सुबह 10 बजे ये हमें मिला, लेकिन मीडिया के पास ये रात में ही पहुंच गया था। | Supreme Court's Hearing On Situation of Covid-19 in India; Discussion on kumbh mela 2021 & Assembly Elections in Various States, चुनाव, कुंभ और ऑक्सीजन सप्लाई जैसे 21 मामलों पर आज सुनवाई करेगी 3 सदस्यीय बैंच, केंद्र सरकार ने दाखिल किया शपथ पत्र Penalty lge

भोजपुरी अभिनेता रितेश पांडे ने की सगाई, तस्वीरें हो रहीं सोशल मीडिया पर वायरलरितेश पांडे के फैंस के लिए अब एक बड़ी खुशखबरी सामने आई है। उनके चहेते और भोजपुरी इंडस्ट्री के मोस्ट एलिजिबल बैचलर रितेश पांडे के घर जल्द ही शहनाइयां गूंजने वाली हैं। दरअसल रितेश पांडे ने सगाई कर ली है।

शिल्पा शेट्टी ने बताया कोविड से निपटने का तरीका: एक्ट्रेस ने लिखा- सोशल मीडिया से ब्रेक लेना ठीक है, यह लड़ाई हममें से किसी के लिए आसान नहीं हैशिल्पा शेट्टी का कहना है कि कोरोना के कारण बने ताजा हालात के बीच सोशल मीडिया से ब्रेक लेना ठीक है। उन्होंने सोमवार को अपनी सोशल मीडिया पोस्ट में लिखा, 'आपके आसपास जो हो रहा है, अगर आप उससे व्याकुल हैं तो सोशल मीडिया से ब्रेक लेना ठीक है। उन सभी के लिए जो कोविड-19 से जूझ रहे किसी इंसान के साथ हैं या दूसरों के लिए जरूरत के संसाधन जुटाने में मदद कर रहे हैं। मैं समझती हूं कि यह लड़ाई हममें से किसी के ल... | Shilpa Shetty Shares The Idea For Dealing With COVID-19, Says- Battle is not easy for any of us; शिल्पा शेट्टी का कहना है कि कोरोना के कारण बने ताजा हालात के बीच सोशल मीडिया से ब्रेक लेना ठीक है।