Coronavirus, Coronadeaths, Oxygenshortage, Death Of Oxygen Shortage, Corona Virus, Modi Govt, Corona Vaccine, Covid 19, Columns News İn Hindi, Opinion News İn Hindi, Opinion Hindi News

Coronavirus, Coronadeaths

ऑक्सीजन की कमी से मौत: मौलिक सवाल और अधूरे जवाब

ऑक्सीजन की कमी से मौत: मौलिक सवाल और अधूरे जवाब #Coronavirus #Coronadeaths #OxygenShortage

27-07-2021 04:57:00

ऑक्सीजन की कमी से मौत: मौलिक सवाल और अधूरे जवाब Coronavirus Coronadeaths OxygenShortage

अवास्तविकतावाद भारत की राजनीतिक अर्थव्यवस्था का स्थायी तत्व है, जिसका अनुभव संसद के हर सत्र में किया जा सकता है।

तकनीकी रूप से सही (आखिरकार केंद्र सरकार केवल वही बताती है, जो राज्य रिपोर्ट करते हैं) और राजनीतिक रूप से विनाशकारी अभिव्यक्ति उदासीनता और संवेदनहीनता को ही दर्शाती है। नौकरशाही के कामकाज का स्तर यह है कि उसने आंकड़ा और सूचना तथा इन्कार योग्य एवं इन्कार के बीच के अंतर को मिटा दिया है। क्या कुछ शब्द मदद के लिए गुहार लगाने वाले लोगों की तीन महीनों की परेशान छवियों को छिपा सकते हैं? तथ्य यह भी है कि उस दौरान सरकार के कम से कम छह मंत्रालय ऑक्सीजन की आपूर्ति के लिए हाथ-पांव मार रहे थे। केंद्र और राज्य सरकारें दुखी लोगों के दुख के कारणों की पुष्टि करने से इन्कार क्यों कर रही हैं?

मौलाना कलीम सिद्दीक़ी कौन हैं जिन्हें यूपी एटीएस ने गिरफ़्तार किया है - BBC News हिंदी योगी सरकार का विस्तार: जितिन प्रसाद और छह राज्य मंत्रियों को मिली जगह - BBC Hindi इसराइल-फलस्तीन संघर्ष: जेनिन शहर के पास भारी लड़ाई, चार फलस्तीनियों की मौत - BBC Hindi

मामला सिर्फ कोविड से हुई मौतों का नहीं है। अध्ययनों के मुताबिक, देश में हर साल वायु प्रदूषण से पांच लाख से ज्यादा लोगों की जान जाती है। विगत 23 जुलाई को सांसद रोडमल नागर ने वायु प्रदूषण से होने वाली मौतों के बारे में लोकसभा में सवाल पूछा। सरकार का जवाब था, 'वायु प्रदूषण के कारण मृत्यु/बीमारी का सीधा संबंध स्थापित करने के लिए कोई निर्णायक आंकड़ा उपलब्ध नहीं है', हालांकि सरकार ने 124 शहरों को सूचीबद्ध किया, जहां प्रदूषण ने लगातार पांच वर्षों तक स्वीकृत मानदंडों का उल्लंघन किया। वर्ष 1998 में भी सरकार से वायु प्रदूषण से होने वाली मौतों के बारे में पूछा गया था। सरकार का जवाब था, 'वायु प्रदूषण और मौत के बीच सीधा संबंध स्थापित करने के लिए कोई निर्णायक आंकड़ा नहीं है।'

साफ है कि सरकारों का मानना है कि देश के नागरिक वायु प्रदूषण से सुरक्षित हैं। महामारी के दौरान हुई तबाही और संकट को देखते हुए सांसदों ने सार्वजनिक स्वास्थ्य देखभाल प्रणाली की वस्तुस्थिति जानने की कोशिश की है। लोकसभा सांसद अरविंद कुमार शर्मा और आलोक कुमार सुमन ने ग्रामीण क्षेत्रों में डॉक्टरों की कमी और उस संबंध में उठाए जा रहे कदमों के बारे में पूछा। इसके जवाब में सरकार ने खुलासा किया कि डॉक्टरों, डेन्टिस्टों से लेकर नर्सिंग और पैरा मेडिकल स्टाफ तक के 90,000 से अधिक स्वीकृत पद खाली हैं। लेकिन यह आंकड़ा ग्रामीण स्वास्थ्य सांख्यिकी मार्च, 2019 का है। इसलिए हमें नहीं पता कि वर्ष 2021 में क्या स्थिति है। headtopics.com

लोकसभा सदस्य टी एन प्रतापन और पांच अन्य ने 'देश के सरकारी अस्पतालों में बिस्तरों की कुल संख्या' के बारे में पूछा। इसका जवाब दिया गया, 'चूंकि स्वास्थ्य राज्य का विषय है, इसलिए मुख्य रूप से यह राज्य सरकारों/केंद्र शासित प्रदेशों की जिम्मेदारी है कि वे अपने अस्पतालों में जरूरतों और निधि की उपलब्धता के अनुसार बिस्तरों की संख्या बढ़ाने के प्रयास करें। इस संबंध में ऐसा कोई आंकड़ा केंद्रीय रूप से नहीं रखा जाता है।' मजे की बात यह है कि सरकार ने एक और सवाल का जवाब देते हुए खुलासा किया कि आइसोलेशन और आईसीयू बेड की क्षमता क्रमश: 18.21 लाख और 1.22 लाख थी! तो सरकार अस्पताल के बिस्तरों की संख्या क्यों नहीं जानती?

हाल ही में भारत ने ग्रामीण विद्युतीकरण का कार्य पूरा होने पर जश्न मनाया। सांसद भर्तृहरि महताब ने स्कूलों में विद्युतीकरण की स्थिति के बारे में पूछा जवाब था- 'एकीकृत जिला शिक्षा सूचना प्रणाली के अद्यतन संस्करण (2019-20) के मुताबिक, देश में 15,07,708 स्कूल हैं, जिनमें से 12,57,897 स्कूलों में बिजली है-देश भर के 2,49,811 स्कूलों में बिजली नहीं है।' शिक्षा केंद्रों में शत प्रतिशत विद्युतीकरण, प्रकाश की कमी और डिजिटल पढ़ाई की भव्य योजनाओं के बीच कोई कैसे सामंजस्य बिठा सकता है? जब आजीविका की बात आती है, तब बहाने और इन्कार की स्थिति और कठोर हो जाती है। सत्र के पहले ही दिन सांसदों ने सरकार से 'कोविड महामारी की दूसरी लहर के दौरान नौकरी से हटाए गए आकस्मिक/ठेका कर्मचारियों की संख्या' का ब्योरा देने के लिए कहा। सरकार द्वारा दिए गए लंबे जवाब में नई भर्तियों के लिए ईपीएफओ के माध्यम से आर्थिक सहायता से लेकर रिजर्व बैंक द्वारा विस्तारित कर्ज तक की पहल का जिक्र था, लेकिन रोजगार के नुकसान का कोई उल्लेख नहीं था। व्यवस्था में रोजगार के नुकसान को दर्ज करने के लिए कोई तंत्र ही नहीं है!

सूक्ष्म, लघु और मंझोले उद्योग (एमएसएमई) थोक में रोजगार देते हैं और उसकी अर्थव्यवस्था में 40 फीसदी जीवीए (सकल मूल्य वर्धन) की हिस्सेदारी है। सांसदों ने सरकार से उन एमएसएमई की संख्या का विवरण मांगा, जो बीमार या बंद हो गए और नौकरियों का नुकसान हुआ। इसके जवाब में सरकार ने कर्ज के विस्तार और पुनर्गठन के लिए रिजर्व बैंक द्वारा उठाए गए कदमों की सूची बताई, और यहां तक कि दो सर्वेक्षणों का हवाला भी दिया, जिनमें कहा गया था कि 88 प्रतिशत एमएसएमई महामारी से प्रभावित हुए थे। लेकिन इस जवाब से यह पता नहीं चला कि सरकार को इसकी जानकारी है कि कितने एमएसएमई प्रभावित हुए।

यह तब है, जब उद्योग आधार पोर्टल पर 102.32 लाख से अधिक एमएसएमई सूचीबद्ध हैं। विकास वह चीज है, जिसे आंकड़ों में मापा जा सकता है और जिसमें सुधार किया जा सकता है। कोई व्यवस्था या सिस्टम उस बुनियाद पर कैसे खड़ा रह सकता है, जिसमें महत्वपूर्ण सूचनाएं या तो मापी नहीं जातीं, या वे उपलब्ध नहीं है या फिर निराशाजनक रूप से पुरानी हैं? आंकड़ा और सूचना के बीच का अंतराल बहानों और अस्पष्टता को ही प्रोत्साहन देता है। क्या 21वीं सदी की एक आधुनिक अर्थव्यवस्था, जो डिजिटल अर्थव्यवस्था बनना चाहती है, आवंटन, परिणामों और जवाबदेही के बीच की व्यापक खाई को बर्दाश्त कर सकती है? headtopics.com

असम में जहां हुई हिंसा, वहां के एसपी सुशांत बिस्वा सरमा पर क्यों उठ रहे हैं सवाल - BBC News हिंदी गौरी लंकेश हत्या: आरोप तय करने के लिए आरोपियों को बेंगलुरु सेंट्रल जेल भेजने का आदेश भारत का मंगलयान: छह महीने के अंतरिक्ष मिशन ने पूरे किए सात साल - BBC Hindi

मानसून सत्र के पहले हफ्ते में इसकी एक अनूठी मिसाल सामने आई। सरकार ने संसद को सूचित किया कि 'राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों द्वारा विशेष रूप से ऑक्सीजन की कमी के कारण किसी की मौत की सूचना नहीं मिली है।' भारत की राजनीतिक अर्थव्यवस्था में कल्पनाशील अवास्तविकतावाद का इस्तेमाल शासन को परेशान करने वाली कमियां दूर करने के लिए किया जाता है।

विज्ञापनतकनीकी रूप से सही (आखिरकार केंद्र सरकार केवल वही बताती है, जो राज्य रिपोर्ट करते हैं) और राजनीतिक रूप से विनाशकारी अभिव्यक्ति उदासीनता और संवेदनहीनता को ही दर्शाती है। नौकरशाही के कामकाज का स्तर यह है कि उसने आंकड़ा और सूचना तथा इन्कार योग्य एवं इन्कार के बीच के अंतर को मिटा दिया है। क्या कुछ शब्द मदद के लिए गुहार लगाने वाले लोगों की तीन महीनों की परेशान छवियों को छिपा सकते हैं? तथ्य यह भी है कि उस दौरान सरकार के कम से कम छह मंत्रालय ऑक्सीजन की आपूर्ति के लिए हाथ-पांव मार रहे थे। केंद्र और राज्य सरकारें दुखी लोगों के दुख के कारणों की पुष्टि करने से इन्कार क्यों कर रही हैं?

मामला सिर्फ कोविड से हुई मौतों का नहीं है। अध्ययनों के मुताबिक, देश में हर साल वायु प्रदूषण से पांच लाख से ज्यादा लोगों की जान जाती है। विगत 23 जुलाई को सांसद रोडमल नागर ने वायु प्रदूषण से होने वाली मौतों के बारे में लोकसभा में सवाल पूछा। सरकार का जवाब था, 'वायु प्रदूषण के कारण मृत्यु/बीमारी का सीधा संबंध स्थापित करने के लिए कोई निर्णायक आंकड़ा उपलब्ध नहीं है', हालांकि सरकार ने 124 शहरों को सूचीबद्ध किया, जहां प्रदूषण ने लगातार पांच वर्षों तक स्वीकृत मानदंडों का उल्लंघन किया। वर्ष 1998 में भी सरकार से वायु प्रदूषण से होने वाली मौतों के बारे में पूछा गया था। सरकार का जवाब था, 'वायु प्रदूषण और मौत के बीच सीधा संबंध स्थापित करने के लिए कोई निर्णायक आंकड़ा नहीं है।'

साफ है कि सरकारों का मानना है कि देश के नागरिक वायु प्रदूषण से सुरक्षित हैं। महामारी के दौरान हुई तबाही और संकट को देखते हुए सांसदों ने सार्वजनिक स्वास्थ्य देखभाल प्रणाली की वस्तुस्थिति जानने की कोशिश की है। लोकसभा सांसद अरविंद कुमार शर्मा और आलोक कुमार सुमन ने ग्रामीण क्षेत्रों में डॉक्टरों की कमी और उस संबंध में उठाए जा रहे कदमों के बारे में पूछा। इसके जवाब में सरकार ने खुलासा किया कि डॉक्टरों, डेन्टिस्टों से लेकर नर्सिंग और पैरा मेडिकल स्टाफ तक के 90,000 से अधिक स्वीकृत पद खाली हैं। लेकिन यह आंकड़ा ग्रामीण स्वास्थ्य सांख्यिकी मार्च, 2019 का है। इसलिए हमें नहीं पता कि वर्ष 2021 में क्या स्थिति है। headtopics.com

लोकसभा सदस्य टी एन प्रतापन और पांच अन्य ने 'देश के सरकारी अस्पतालों में बिस्तरों की कुल संख्या' के बारे में पूछा। इसका जवाब दिया गया, 'चूंकि स्वास्थ्य राज्य का विषय है, इसलिए मुख्य रूप से यह राज्य सरकारों/केंद्र शासित प्रदेशों की जिम्मेदारी है कि वे अपने अस्पतालों में जरूरतों और निधि की उपलब्धता के अनुसार बिस्तरों की संख्या बढ़ाने के प्रयास करें। इस संबंध में ऐसा कोई आंकड़ा केंद्रीय रूप से नहीं रखा जाता है।' मजे की बात यह है कि सरकार ने एक और सवाल का जवाब देते हुए खुलासा किया कि आइसोलेशन और आईसीयू बेड की क्षमता क्रमश: 18.21 लाख और 1.22 लाख थी! तो सरकार अस्पताल के बिस्तरों की संख्या क्यों नहीं जानती?

हाल ही में भारत ने ग्रामीण विद्युतीकरण का कार्य पूरा होने पर जश्न मनाया। सांसद भर्तृहरि महताब ने स्कूलों में विद्युतीकरण की स्थिति के बारे में पूछा जवाब था- 'एकीकृत जिला शिक्षा सूचना प्रणाली के अद्यतन संस्करण (2019-20) के मुताबिक, देश में 15,07,708 स्कूल हैं, जिनमें से 12,57,897 स्कूलों में बिजली है-देश भर के 2,49,811 स्कूलों में बिजली नहीं है।' शिक्षा केंद्रों में शत प्रतिशत विद्युतीकरण, प्रकाश की कमी और डिजिटल पढ़ाई की भव्य योजनाओं के बीच कोई कैसे सामंजस्य बिठा सकता है? जब आजीविका की बात आती है, तब बहाने और इन्कार की स्थिति और कठोर हो जाती है। सत्र के पहले ही दिन सांसदों ने सरकार से 'कोविड महामारी की दूसरी लहर के दौरान नौकरी से हटाए गए आकस्मिक/ठेका कर्मचारियों की संख्या' का ब्योरा देने के लिए कहा। सरकार द्वारा दिए गए लंबे जवाब में नई भर्तियों के लिए ईपीएफओ के माध्यम से आर्थिक सहायता से लेकर रिजर्व बैंक द्वारा विस्तारित कर्ज तक की पहल का जिक्र था, लेकिन रोजगार के नुकसान का कोई उल्लेख नहीं था। व्यवस्था में रोजगार के नुकसान को दर्ज करने के लिए कोई तंत्र ही नहीं है!

यूपी: क्या योगी आदित्यनाथ का लगातार पिछली सरकारों को कोसना जनता को फुसलाने का प्रयास है 65 घंटे में 24 मीटिंग- अमेरिकी दौरे पर फिर दिखा पीएम मोदी का टाइम मैनेजमेंट, हर पल को बनाया फलदायी योगी आदित्यनाथ का कैबिनेट विस्तार आज, UP चुनाव से पहले कम से कम 6 नए मंत्री बनाए जाएंगे : सूत्र

सूक्ष्म, लघु और मंझोले उद्योग (एमएसएमई) थोक में रोजगार देते हैं और उसकी अर्थव्यवस्था में 40 फीसदी जीवीए (सकल मूल्य वर्धन) की हिस्सेदारी है। सांसदों ने सरकार से उन एमएसएमई की संख्या का विवरण मांगा, जो बीमार या बंद हो गए और नौकरियों का नुकसान हुआ। इसके जवाब में सरकार ने कर्ज के विस्तार और पुनर्गठन के लिए रिजर्व बैंक द्वारा उठाए गए कदमों की सूची बताई, और यहां तक कि दो सर्वेक्षणों का हवाला भी दिया, जिनमें कहा गया था कि 88 प्रतिशत एमएसएमई महामारी से प्रभावित हुए थे। लेकिन इस जवाब से यह पता नहीं चला कि सरकार को इसकी जानकारी है कि कितने एमएसएमई प्रभावित हुए।

यह तब है, जब उद्योग आधार पोर्टल पर 102.32 लाख से अधिक एमएसएमई सूचीबद्ध हैं। विकास वह चीज है, जिसे आंकड़ों में मापा जा सकता है और जिसमें सुधार किया जा सकता है। कोई व्यवस्था या सिस्टम उस बुनियाद पर कैसे खड़ा रह सकता है, जिसमें महत्वपूर्ण सूचनाएं या तो मापी नहीं जातीं, या वे उपलब्ध नहीं है या फिर निराशाजनक रूप से पुरानी हैं? आंकड़ा और सूचना के बीच का अंतराल बहानों और अस्पष्टता को ही प्रोत्साहन देता है। क्या 21वीं सदी की एक आधुनिक अर्थव्यवस्था, जो डिजिटल अर्थव्यवस्था बनना चाहती है, आवंटन, परिणामों और जवाबदेही के बीच की व्यापक खाई को बर्दाश्त कर सकती है?

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?हांखबर की भाषा और शीर्षक से आप संतुष्ट हैं?हांखबर के प्रस्तुतिकरण से आप संतुष्ट हैं?हांखबर में और अधिक सुधार की आवश्यकता है? और पढो: Amar Ujala »

अंतरराष्ट्रीय मंच से पहले भी कई बार मोदी ने उठाया आतंकवाद का मुद्दा, देखें ये रिपोर्ट

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को संयुक्त राष्ट्र महासभा को संबोधित किया. इस दौरान पीएम मोदी ने कहा कि आज विश्व के सामने Regressive Thinking और Extremism का खतरा बढ़ता जा रहा है. पीएम मोदी ने पाकिस्तान का नाम लिए बगैर ये भी कहा कि Regressive Thinking के साथ जो देश आतंकवाद का पॉलिटिकल टूल के रूप में इस्तेमाल कर रहे हैं. उन्हें ये समझना होगा कि आतंकवाद उनके लिए भी उतना ही बड़ा खतरा है. लेकिन ऐसा पहली बार नहीं है जब पीएम मोदी ने अंतरराष्ट्रीय मंच से आंतकवाद का मुद्दा उठाया हो. देखें

गायकवाड़ राजघराने से ज्योतिरादित्य की पत्नी प्रियदर्शनी, नेपाल के राणा वंश से मां माधवी सिंधिया |Love Stories of Scindia Family: केन्द्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया (Jyotiraditya Scindia) और उनके पिता माधवराव सिंधिया (Madhav Rao Scindia) ग्वालियर के सिंधिया राजघराने (Scindia Royal Family) के वो दो राजकुमार हैं...जिन्होंने अपनी पसंद की लड़की को जीवनसाथी बनाया...दोनों ही की पत्नियां खुद भी शाही घरानों से संबंध रखती हैं, बावजूद इसके सिंधिया घराने की इन दो प्रेम कहानियों में ये एक सबको खुश कर गई तो दूसरी प्रेम कहानी (Love Story) ने अपनों को अपनों से अलग कर दिया...जनसत्ता की इस खास रिपोर्ट में एक नजर सिंधिया परिवार की इन्हीं दोनों प्रेम कहानियों पर...

मैरी कॉम ने जीत से की शुरुआत, 4-1 से जीता मैच - BBC Hindiइस मुक़ाबले में मेरी कॉम ने अपने चिर-परिचित अंदाज़ में धमाकेदार ढंग से 4-1 से पहले मैच को अपने नाम कर लिया है. फेकू का निशाना गलत निकला। एक मौका मुझे मिले तो दिखाऊं मै तो एयरगन से धागे से बंधी सुई को हवा में हिलाके भी सूट कर देता हूं। जासूस रंडवा फेकू पार्टी के हाथ में सत्ता देने वाले अंधभक्त माफी करने के लायक नहीं है।

केरल हाईकोर्ट ने अल्पसंख्यक आरक्षण रद्द करने की मांग वाली हिंदुत्ववादी संगठन की याचिका ख़ारिज कीहिंदू सेवाकेंद्रम नाम के एक संगठन की केरल हाईकोर्ट में याचिका दायर कर ये मांग की थी कि यदि मुस्लिम, लैटिन कैथोलिक, ईसाई नादर और अनुसूचित जाति का कोई व्यक्ति ईसाई धर्म के किसी भी संप्रदाय में परिवर्तित होता है तो उसे पिछड़ा वर्ग में न गिना जाए. अदालत ने याचिका ख़ारिज करने के साथ-साथ याचिकाकर्ता पर 25,000 रुपये का जुर्माना भी लगाया है. Good

Tokyo Olympic: बॉक्सर मैरी कॉम बोलीं- 'ओलंपिक गोल्ड की कमी है, यही लेने टोक्यो आई हूं'भारत की स्टार बॉक्सर मैरी कॉम (Mary Kom) टोक्यो में महिला बॉक्सिंग (Women Boxing) में भारत का प्रतिनिधित्व कर रही हैं. शनिवार को ओलंपिक (Olympic) में भारत को वेटलिफ्टर मीराबाई चानू (Mirabai Chanu) ने सिल्वर मेडल दिलाया. MangteC BoriaMajumdar I'm waiting for this moment. All the very best. India wants gold 🥇 in boxing 🥊 MangteC BoriaMajumdar MangteC BoriaMajumdar डायलॉग मारना अलग बात है गोल्ड मेडल जीतना अलग।

तीसरी लहर की तैयारी: कोरोना से बचाव में प्रोटीन की जरूरत, पर 73% भारतीयों में इसकी कमी; जानिए रिकवरी के लिए ये क्यों है जरूरीदेश के 16 शहरों में हुए एक सर्वे के मुताबिक 73% भारतीयों में प्रोटीन की कमी है और 93% लोगों को इसकी जानकारी भी नहीं है। जबकि कोरोना काल में प्रोटीन की ज्यादा जरूरत है। संक्रमण के बाद कमजोर हो चुकी मांसपेशियों और रोगों से लड़ने वाले इम्यून सिस्टम के लिए एक्सपर्ट प्रोटीन लेने की सलाह दे रहे हैं। प्रोटीन की कमी होने पर मरीज थकान, कमजोरी, चलने-फिरने में दिक्कत और अनिद्रा से जूझ रहे हैं। | national protein week why protein is important and what happens when excess protein takes

कारगिल विजय दिवस : राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद खराब मौसम की वजह से द्रास नहीं जा सकेKargil Vijay Diwas News : प्रेसिडेंट कोविंद 2019 में भी बैड वेदर के कारण द्रास नहीं जा पाए थे. तब उन्होंने बादामीबाग में सेना के 15 कोर मुख्यालय में एक युद्ध स्मारक पर शहीदों को श्रद्धांजलि दी थी. वहीं वर्ष 2020 में महामारी के कारण समारोह आयोजित नहीं किया गया था.