एप्पल का पेगासस के ख़िलाफ़ अदालत जाना भारत सरकार के लिए शर्मिंदगी का सबब बन सकता है

एप्पल का पेगासस के ख़िलाफ़ मुक़दमा भारत सरकार के लिए शर्मिंदगी का सबब बन सकता है #Apple #Pegasus #Lawsuit #एप्पल #पेगासस #मुकदमा

Apple, Pegasus

28-11-2021 08:30:00

एप्पल का पेगासस के ख़िलाफ़ मुक़दमा भारत सरकार के लिए शर्मिंदगी का सबब बन सकता है Apple Pegasus Lawsuit एप्पल पेगासस मुकदमा

वॉट्सऐप या फेसबुक के उलट एप्पल विवादित नहीं है और मोदी सरकार द्वारा इसे काफी ऊंचे पायदान पर रखा जाता है. इस पृष्ठभूमि में अब तक पेगासस के इस्तेमाल को नकारती आई भारत सरकार के लिए एप्पल के ऑपरेटिंग सिस्टम में हुई सेंधमारी के संबंध में कंपनी के निष्कर्षों को नकारना बहुत मुश्किल होगा.

द्वारा चल रही जांच पर गंभीर असर होगा. यह कदम, जो कुछ भी हुआ उसकी व्यापकता को दिखाता है- कि भारत और अन्य जगहों पर सैन्य ग्रेड के सर्विलांस स्पायवेयर का इस्तेमाल असल में विपक्षी नेताओं, कार्यकर्ताओं, पत्रकारों, न्यायाधीशों आदि को अवैध रूप से ट्रैक करने के लिए किया गया था.

अखिल भारतीय सेवाओं के नियमों में न किए जाएं कोई बदलाव, भूपेश बघेल ने प्रधानमंत्री को पत्र लिखा

इससे भी महत्वपूर्ण बात यह है कि एप्पल ने भारत (और द वायर के पत्रकारों) समेत विभिन्न देशों के संक्रमित आईफोन्स में पेगासस के निशान ढूंढने के लिए टोरंटो विश्वविद्यालय की सिटीजन लैब और एमनेस्टी टेक द्वारा इस्तेमाल तरीकों को विश्वसनीयता प्रदान की है.कंपनी के बयान में कहा गया, ‘एप्पल साइबर सर्विलांस के दुरुपयोग और पीड़ितों की सुरक्षा के लिए बेहतरीन काम करने के लिए सिटिजन लैब और एमनेस्टी टेक जैसे समूहों की सराहना करता है. इस तरह के प्रयासों को मजबूत करने के लिए एप्पल साइबर सर्विलांस रिसर्च कर रहे संगठनों को एक करोड़ डॉलर का योगदान देगा और साथ में इस मुकदमे से हुए नुकसान की भी क्षतिपूर्ति करेगा.’

सिटिजन लैब और एमनेस्टी टेक द्वारा अपनाए गए प्रोटोकॉल और तरीकों का समर्थन करके एप्पल ने सुप्रीम कोर्ट कमेटी के किसी भी तकनीकी सदस्य के लिए उनसे गंभीरता से सवाल करने को लगभग असंभव बना दिया है.असल में, एप्पल ने इस मामले में अपना काम कर दिया है और संभव है कि कैलिफोर्निया की एक अदालत, जहां वॉट्सऐप पहले से ही 2019 में अपने सिस्टम में सेंध लगाने के लिए एनएसओ के खिलाफ मामला लड़ रहा है, में अपने निष्कर्ष प्रस्तुत करे. headtopics.com

संयोग से वॉट्सऐप ने हाल ही में एक महत्वपूर्ण लड़ाई जीती है, जहां एकअमेरिकी अपीलीय अदालत ने कहाकि निजी इजरायली सर्विलांस कंपनी को अमेरिकी अदालतों में विदेशी सरकारों को मिलने वाली सिविल मुकदमेबाजी से छूट नहीं मिलेगी.2019 के इस वॉट्सऐप सेंध को इसको लेकर हुआ मुक़दमे की निश्चित तौर पर भारत सरकार द्वारा गंभीरता से जांच नहीं की गई थी.

उत्पल पर्रिकर ने बीजेपी छोड़ी, अब निर्दलीय उम्मीदवार के तौर पर लड़ेंगे चुनाव

पेगासस के इस्तेमाल को लेकर कई न्यायालयों द्वारा जांच की पृष्ठभूमि में एप्पल के अदालत जाने से भारत जिम्मेदारी से जवाब देने के लिए बाध्य है. अब तक भारत सरकार इस बात से इनकार करती रही है कि भारतीय नागरिकों के खिलाफ पेगासस का इस्तेमाल किया गया था. मोदी सरकार ने सिटिजन लैब और एमनेस्टी टेक के इस्तेमाल के तरीके पर भी सवाल उठाए हैं.

इसलिए, एप्पल की इस पर सहमति बहुत महत्वपूर्ण है.वॉट्सऐप या उसके मालिक फेसबुक के उलट एप्पल विवादित नहीं है और मोदी सरकार द्वारा इसे काफी ऊंचे पायदान पर रखा गया है. वास्तव में बीत पांच सालों में आईफोन बनाने के लिए भारत में एप्पल के निवेश को सरकार ने भारत की बड़ी आत्मनिर्भर पहल बताया है, जिससे चीनी मोबाइल इलेक्ट्रॉनिक्स पर निर्भरता कम हो रही है. पूर्व आईटी मंत्री रविशंकर प्रसाद ने एप्पल द्वारा आईफोन निर्माण तंत्र के एक बड़े हिस्से को चीन से दूर कर भारत लाने के लिए कंपनी की बहुत सराहना की थी.

इस पृष्ठभूमि में भारत सरकार के लिए पेगासस स्पायवेयर द्वारा अपने ऑपरेटिंग सिस्टम के बड़े पैमाने पर हुई सेंधमारी के संबंध में एप्पल के निष्कर्षों को नकारना बहुत मुश्किल होगा.अब यह भारत में पेगासस सर्विलेंस की जांच कर रही सुप्रीम कोर्ट की समिति और लोकुर आयोग पर निर्भर करता है कि वे एप्पल के शीर्ष अधिकारियों को गवाही देने के लिए बुलाएं. अगर एप्पल के अधिकारी कहते हैं कि भारत में पेगासस का इस्तेमाल हुआ है तो यह मोदी सरकार के लिए बेहद शर्मनाक होगा. headtopics.com

राजस्थान: कर्ज नहीं चुका पाने वाले किसानों की जमीन नीलाम किए जाने के खिलाफ प्रदर्शन

कुछ महीने पहले मैंने भारत में एप्पल के एक अधिकारी से पूछा था कि कंपनी पेगासस द्वारा इसकी प्राइवेसी की ब्रांडिंग को लगा भारी झटका कैसे बर्दाश्त कर सकती है. एप्पल ने, भले ही कुछ देर से, पर जवाब देना चुना है. अदालत जाकर एप्पल अपनी वैश्विक ब्रांड छवि को बचा रहा है, जो काफी हद तक लाखों आईफोन ग्राहकों को दी जाने वाली प्राइवेसी के बलबूते पर निर्मित है.

एप्पल ने दिखाया है कि ग्राहकों की सुरक्षा सर्वोपरि है, भले ही यह उन कुछ सरकारों को शर्मिंदा करे, जिनके साथ वे व्यापार कर रहे हैं. यही एकमात्र सकारात्मक बात है.(इस लेख को अंग्रेज़ी में पढ़ने के लिएयहां क्लिक करें.)

और पढो: द वायर हिंदी »

सुकेश चंद्रशेखर केस: 'महाठग' के चक्कर में नप गई पूरी जेल! देखें वारदात

फोर्टिस हेल्थकेयर के पूर्व प्रवर्तक शिविंदर मोहन सिंह की पत्नी अदिति सिंह समेत कुछ अमीर लोगों को ठगने के आरोपी महाठग सुकेश चंद्रशेखर का मामला तूल पकड़ता जा रहा है. अब इस मामले में रोहिणी जेल के मुलाज़िमों का नाम भी सामने आया है. जेल के सात मुलाज़िम और अफ़सर तो पहले ही सुकेश की मदद कर भ्रष्टाचार फैलाने के इल्ज़ाम में सलाखों के पीछे जा चुके हैं, नई ख़बर ये है कि जेल के 82 और मुलाज़िम अब दिल्ली पुलिस की रडार पर आ चुके हैं. इन सभी पर इल्ज़ाम है कि इन्होंने सिक्कों की खनक के सामने अपना ईमान गिरवी रख कर रोहिणी जेल में बंद जालसाज़ सुकेश चंद्रशेखर को जेल में हर वो सुविधा मुहैया करवाई, जो आज़ादी की ज़िंदगी में किसी आम आदमी को नहीं बल्कि रईसों को नसीब होती है. देखें वारदात.

नाक ही नहीं है तो शर्मिन्दगी कैसी साहब।

कोरोना के नए वैरियंट के कारण भारत का दक्षिण अफ्रीका दौरे पर मंडराए संकट के बादलसाउथ अफ़्रीका में इस सप्ताह कोविड-19 का नया प्रकार सामने आया है। साउथ अफ़्रीका को यात्रा करने वालों के लिए यूके की लाल सूची में जोड़ा जाना है और अन्य देशों से यात्रा प्रतिबंध भी लगने की उम्मीद है।

दो सरकारी बैंकों के निजीकरण के लिए क़ानून लाएगी मोदी सरकार: रिपोर्ट - BBC Hindiवित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने साल 2021-22 का बजट पेश करने के दौरान सरकार की विनिवेश अभियान के तहत सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के निजीकरण की घोषणा की थी. पता नही पंक्चर बनाने वालों को बैंकों के निजीकरण से क्या दिकत है...बाकी ये निर्णय बहुत ही अच्छे है चाहे पिछली सरकार ने किए या वर्तमान कर रही है इस से प्रतिभाओं को रोजगार मिलेंगे 👍 जो आरक्षण की भेंट चढ़ जाती थी 👍 और कर्मचारी सरकारी लाभ उठा पाएंगे 😂🤣 क्या वो बैंक SBI और PNB हैं।

संसद के शीतकालीन सत्र से पहले सर्वदलीय बैठक, क्या है सरकार के सामने चुनौती?नई दिल्ली। संसद का शीतकालीन सत्र सुचारू रूप से चलाने के उद्देश्य से लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला 29 नवंबर को संसद में विभिन्न राजनीतिक दलों के नेताओं के साथ बैठक की अध्यक्षता करेंगे। बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी समेत सत्ता पक्ष और विपक्ष के बड़े नेताओं के शामिल होने की संभावना है।

'पाप का घड़ा फूटने वाला है' : नवाब मलिक के 'फंसाने की साजिश' के आरोप पर BJPमलिक ने आरोप लगाया था कि महाराष्ट्र के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख की तरह कुछ लोग उन्हें झूठे मामले में फंसाने की कोशिश कर रहे हैं. Yes, lekin bjp ka OnlyMSPCanSaveFarmers FarmersProtest Karm ka fal to milta hi hai एकदम बराबर, भंगारसेठ तयार रहो

कोविड-19 के नए स्वरूप ‘ओमीक्रॉन’ के डर से दुनिया के देशों ने लगाईं यात्रा पाबंदियांविश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) की एक समिति ने कोरोना वायरस के नए स्वरूप को ‘ओमीक्रॉन’ नाम दिया है और इसे ‘बेहद संक्रामक चिंताजनक स्वरूप’ क़रार दिया है. इस वायरस की सबसे पहले जानकारी 24 नवंबर को दक्षिण अफ्रीका में मिली. इससे संक्रमण के मामले बोत्स्वाना, बेल्जियम, हांगकांग और इज़रायल में भी मिले हैं. उoप्रo में त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव 8 माह पूर्व अप्रैल 2021 में संपन्न हुआ था जिसमें लगे 10,000 प्रांतीय रक्षक दल के पीआरडी जवानों नें ड्यूटी किया था जिसका मानदेय अभी तक नहीं मिला l युवा_कल्याण विभाग व सरकार से निवेदन है कि भुगतान करने की कृपा करें❗

International Flights Resume: कोरोना के नए वैरिएंट के खतरे के बीच 15 दिसंबर से शुरू होंगी अंतरराष्ट्रीय उड़ानें, केंद्र सरकार का बड़ा फैसलाInternational Flights Resume: कोरोना के नए वैरिएंट के खतरे के बीच 15 दिसंबर से शुरू होंगी अंतरराष्ट्रीय उड़ानें, केंद्र सरकार का बड़ा फैसला InternationalFlightsResumes civilaviation