Uttarakhand, Char Dham Yatra, High Court Lifts Ban, Corona

Uttarakhand, Char Dham Yatra

उत्तराखंड हाई कोर्ट ने हटाया चार धाम यात्रा से प्रतिबंध, कोरोना को लेकर रखीं ये शर्तें

उत्तराखंड हाई कोर्ट ने हटाया चार धाम यात्रा से प्रतिबंध, कोरोना को लेकर रखीं ये शर्तें-

16-09-2021 14:06:00

उत्तराखंड हाई कोर्ट ने हटाया चार धाम यात्रा से प्रतिबंध, कोरोना को लेकर रखीं ये शर्तें-

बद्रीनाथ धाम में 1200 भक्त या यात्रियों, केदारनाथ धाम में 800, गंगोत्री में 600 और यमनोत्री धाम में कुल 400 यात्रियों के जाने की अनुमति दी है। कोर्ट ने हर यात्री को कोराना की नेगेटिव रिपोर्ट और दो वैक्सीन का सर्टिफिकेट साथ लेकर जाने को कहा है।

उत्तराखंड सरकारकी ओर से पेश महाधिवक्ता ने कहा कि कोरोना अब नियंत्रण में है। लिहाजा यात्रा से रोक हटाई जाए। उन्होंने कोर्ट को आश्वस्त किया कि यात्रा के लिए सरकार नई एसओपी जारी करेगी। कोर्ट के फैसले के अनुसार यात्रा के दौरान भक्त कुंडों में स्नान नहीं कर सकेंगे। कोर्ट का कहना है कि इससे संक्रमण के फैलने की रफ्तार तेज हो सकती है।

आर्यन ख़ान मामला: नवाब मलिक के आरोपों पर समीर वानखेड़े ने दी सफ़ाई, दुबई जाने से किया इनकार - BBC Hindi भारत को टी-20 वर्ल्ड कप में कौन मान रहे हैं ख़िताब का प्रबल दावेदार - BBC News हिंदी क्रूज ड्रग्स केस : दो घंटे की पूछताछ के बाद अनन्या पांडे NCB दफ्तर से निकलीं

हाईकोर्ट ने 26 जून को कोरोना के चलते चारधाम यात्रा पर रोक लगा दी थी। सरकार ने इस आदेश के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में एसएलपी दायर की थी, लेकिन बाद में इसे वापस ले लिया गया था। पुस्कर धामी की सरकार ने 10 सितंबर को हाईकोर्ट में प्रार्थनापत्र देकर सुप्रीम कोर्ट से एसएलपी वापस लेने और राज्य में कोरोना के कम मामले आने का हवाला देकर चारधाम यात्रा पर लगी रोक को हटाने की मांग की थी।

गौरतलब है कि चारधाम यात्रा को लेकर प्रदेश में राजनीतिक माहौल भी गरम होने लगा था। कांग्रेस ने राज्य सरकार की मंशा पर सवाल खड़े कर उसे घेरने की कोशिश की थी। पार्टी का कहना है कि सरकार जिस तरीके से चार धाम यात्रा के परिपेक्ष में निर्णय ले रही है वह सरकार के गैर जिम्मेदाराना निर्णय है। सरकार चारधाम यात्रा को संचालित नहीं करना चाहती है। पार्टी की मांग थी कि चारधाम यात्रा पर सरकार को तत्काल प्रभाव से खोलना चाहिए क्योंकि चारधाम यात्रा पर पर्वतीय और मैदानी क्षेत्र की जीविका निर्भर करती है। headtopics.com

उधर, मामले से जुड़े लोगों का कहना है कि उत्तराखंड में टूरिज्म ही लोगों की आयका मुख्य जरिया है। चार धाम यात्रा पर रोक लगने से हजारों लोगों के सामने रोजी रोटी का संकट खड़ा होने लगा है। यात्रा खुलने से इनकी आजीविका चलेगी। लोग सरकार से लगातार यात्रा खोलने को कह रहे थे।

और पढो: Jansatta »

दैनिक भास्कर से बोलीं कश्मीर की बेटी श्रद्धा बिंद्रू: मैं दुनिया को बताना चाहती हूं कि कश्मीर हमारा है, कोई डरा-धमकाकर हमारे हौसले को पस्त नहीं कर सकता

‘तुम सिर्फ शरीर को मार सकते हो, मेरे पिता की आत्मा को नहीं। अगर हिम्मत है तो सामने आओ, तुम लोग केवल पत्थर फेंक सकते हो या पीछे से गोली चला सकते हो। मैंने हिंदू होते हुए भी कुरान पढ़ी है। कुरान कहती है कि शरीर का जो चोला है, यह तो बदल जाएगा, लेकिन इंसान का जो जज्बा है, वह कहीं नहीं जाएगा। माखनलाल बिंद्रू इसी जज्बे में हमेशा जिंदा रहेंगे।’ यह कहना है आतंकियों को सरेआम ललकारने वालीं श्रीनगर में कश्मीर... | वुमन भास्कर ने श्रद्धा बिंद्रू से बात की। उन्होंने कश्मीर और कश्मीरियत का हवाला देते हुए कहा-हम इसी मिट्‌टी में पैदा हुए हैं, हमें इससे प्यार है। हमारे पिता ने भी इसी के लिए जान दी।

पाकिस्तान सुप्रीम कोर्ट ने पत्रकारों पर हो रहे हमले को लेकर इस्लामाबाद पुलिस को लगाई फटकारपाकिस्तान में पत्रकारों पर हो रहे हमले को लेकर वहां की सुप्रीम कोर्ट ने इस्लामाबाद पुलिस को फटकार लगाई है। एक मामले की सुनवाई करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने यह टिप्पणी की। बता दें कि यहां पर पत्रकारों पर हमले की घटनाएं लगातार बढ़ रही हैं।

एनसीएलएटी: पूर्व चेयरमैन चीमा ने अपना कार्यकाल घटाने को सुप्रीम कोर्ट में दी चुनौती, सुनवाई आजएनसीएलएटी: पूर्व चेयरमैन चीमा ने अपना कार्यकाल घटाने को सुप्रीम कोर्ट में दी चुनौती, सुनवाई आज NCLAT Chairman SupremeCourt AshokIqbalCheema भाई सो जा 😬 'पता नही ये कैसे हुआ' ये वाक्य दर्शाता है कि केंद्र सरकार अपने को कानून से ऊपर समझती है

UP: किसानों को साधने में जुटी योगी सरकार, 18 सितंबर को आयोजित करेगी किसान सम्मेलन'किसान कल्याण सम्मेलन’ नाम से आयोजित सम्मेलन में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, यूपी प्रभारी राधा मोहन सिंह, प्रदेश अध्यक्ष स्वतंत्र देव सिंह शामिल होंगे. लखनऊ के आशियाना में स्मृति उपवन पार्क में आयोजित सम्मेलन में प्रदेश के सभी विधानसभाओं से किसानों को बुलाया जाएगा. senshilpi भाजपा कार्यकर्ता सम्मेलन ... लोगो दिखाया जाएगा किसान सम्मेलन ... मिडियाने असली किसान सम्मेलन नही दिखाया ... ये सुबह से दिखाया जाएगा ... senshilpi पहले अडानी अमबानी की चाटना तो बंद करो, तब किसानों की बात करना

जो बाइडेन की अध्यक्षता में 24 सितंबर को QUAD की मीटिंग, चीन को क्यों लगी मिर्ची?एक बार फिर चीन ने अपना विरोध जाहिर कर दिया है. चीन को हमेशा से ही दर्द रहा है कि उसे QUAD का हिस्सा नहीं बनाया गया. वहीं उसने पूरी दुनिया के सामने ये भी दिखाने की कोशिश है कि QUAD के जरिए उसके खिलाफ साजिश रची जाती है. अब जब फिर वो मीटिंग होने जा रही है तो चीन को मिर्ची लगी है.

Bihar: हाजीपुर में किनारों को काट रही उफनाई गंगा, भरभराकर नदी में ऐसे समा रहे घरगंगा को जीवनदायिनी कहा जाता है, लेकिन गंगा की ये लहरें कयामत भी ला सकती हैं. इसकी बानगी मिली बिहार के हाजीपुर में. यहां भीषण बाढ़ के बाद अब गंगा की लहरें किनारों को काट रही हैं. किनारों की जमीन गंगा में समा ही रही है. किनारे पर बने घर भरभराकर गंगा में समा रहे हैं. किनारों पर खड़े मजबूत पेड़ों को भी गंगा अपनी आगोश में ले रही हैं. गंगा की लहरों की आफत सिर्फ पेड़ों पर ही नहीं आई है, बल्कि किनारे बने मकान की दीवारों में दरार नजर आ रही हैं. ये दरार धीरे धीरे बड़ी हो रही हैं तो क्या ये मकान भी गंगा में समा जाएंगे. गंगी के खौफनाक कटाव में दर्जनों मकान और पेड़ समा गए. देखें ये वीडियो.

सुप्रीम कोर्ट पर 'अपमानजनक' टिप्पणी को लेकर यूट्यूबर अजीत भारती पर होगी अवमानना कार्यवाही'डू पॉलिटिक्स' नाम का यूट्यूब चैनल चलाने वाले अजीत भारती के एक वीडियो में शीर्ष अदालत और इसके न्यायाधीशों को लेकर 'आपत्तिजनक' टिप्पणियों को लेकर अटॉर्नी जनरल केके वेणुगोपाल ने आपराधिक अवमानना ​​​​कार्यवाही शुरू करने की सहमति दी है. उन्होंने कहा कि यह न्यायपालिका के लिए बेहद अपमानजनक है और इसका मक़सद स्पष्ट रूप से अदालतों को बदनाम करना है. पहले जांच हो ,बादमे अवमानना का केस दायर करो ।क्यों की जजों की भर्ती जब इलेगल होती है तो कोर्ट की , काय की अवमानना !