Coronavirus, Covidfear, Up, Delhi, कोरोनावायरस, कोविडकाभय, यूपी, दिल्ली

Coronavirus, Covidfear

उत्तर प्रदेशः कोरोना संक्रमित होने के शक़ में युवती को बस से बाहर फेंकने का आरोप, मौत

उत्तर प्रदेशः कोरोना संक्रमित होने के शक़ में युवती को बस से बाहर फेंकने का आरोप, मौत #Coronavirus #CovidFear #UP #Delhi #कोरोनावायरस #कोविडकाभय #यूपी #दिल्ली

05-07-2020 03:30:00

उत्तर प्रदेशः कोरोना संक्रमित होने के शक़ में युवती को बस से बाहर फेंकने का आरोप, मौत Coronavirus CovidFear UP Delhi कोरोनावायरस कोविडकाभय यूपी दिल्ली

घटना 15 जून की है, जब अपनी मां के साथ रोडवेज़ बस से नोएडा से शिकोहाबाद जा रही 19 वर्षीय युवती रास्ते में थकान और गर्मी से बेहोश हो गई. परिजनों का आरोप है कि बस ड्राइवर और कंडक्टर ने कोरोना संक्रमित होने के संदेह में उसे बस से बाहर फेंक दिया, जिसके बाद उसकी मौत हो गई.

नोएडाःउत्तर प्रदेश के मथुरा जिले में कोरोना संक्रमित होने के संदेह में एक युवती को कथित तौर पर बस से बाहर फेंकने के बाद उसकी मौत हो गई.इंडियन एक्सप्रेसकी रिपोर्ट के मुताबिक, दिल्ली के पटपड़गंज इलाके की रहने वाली 19 साल की अंशिका की पिछले महीने मौत हो गई थी.

बेरूत धमाके के बाद लेबनान के प्रधानमंत्री दे रहे हैं इस्तीफ़ा? सचिन पायलट की श‍िकायतें दूर करने के लिए कांग्रेस की 3 सदस्यीय कमेटी में प्रियंका गांधी, अहमद पटेल और केसी वेणुगोपाल गहलोत विवाद पर पहली बार बोले पायलट- पद का लालच नहीं, मान-सम्मान की लड़ाई

अंशिका के परिवार का आरोप है कि कोरोना संक्रमित होने के शक में उसे बस से बाहर फेंक दिया गया, जिसके बाद उसकी मौत हो गई.पीड़ित परिवार का कहना है कि 15 जून को अंशिका अपनी मां के साथ यूपी रोडवेज बस से नोएडा से फिरोजाबाद जिले के शिकोहाबाद जा रही थी कि यात्रा के दौरान गर्मी और थकान की वजह से वह बेहोश हो गई.

इसके बाद बस के ड्राइवर और कंडक्टर को उसके कोरोना संक्रमित होने का संदेह हुआ, जिसे लेकर उनका विवाद भी हुआ और बाद में मथुरा टोल प्लाजा के पास अंशिका को बस से बाहर फेंक दिया गया.परिवार का कहना है कि इसी खींचतान के दौरान अंशिका को दिल का दौरा पड़ा और उसकी मौत हो गई.

उधर, मथुरा पुलिस का कहना है कि पीड़िता को सामान्य यात्री की तरह बस से बाहर उतारा गया था और झड़प के किसी तरह के सबूत नहीं मिले हैं.मांट थाने के एसएचओ भीम सिंह ने बताया, ‘पीड़िता के परिवार ने पुलिस से संपर्क किया और हमने जिला अस्पताल में मृतका का पोस्टमार्टम कराया. मौत की वजह दिल का दौरा है, जो प्राकृतिक कारण है और इस आधार पर एफआईआर दर्ज नहीं की जा सकती. हालांकि पीड़िता का स्वास्थ्य ठीक नहीं होने की वजह से कोरोना वायरस को लेकर डर था लेकिन बस ड्राइवर ने उसे टोल प्लाजा के पास उतार दिया ताकि वह किसी अन्य साधन से जा सके.’

अंशिका के पिता सुशील कुमार पटपड़गंज में सिक्योरिटी गार्ड का काम करते हैं. उनका कहना है कि दिल्ली में कोरोना के बढ़ रहे मामलों के मद्देनज़र परिवार ने अंशिका को मां के साथ अपने घर शिकोहाबाद भेजने का फैसला किया था.15 जून को दोपहर लगभग दो बजे अंशिका और उसकी मां सर्वेश देवी नोएडा सेक्टर 37 से यूपी रोडवेज की बस में सवार हुईं. उसी दिन दोपहर 4.20 बजे मृतका के भाई शिव को फोन कर बताया गया कि अंशिका की मौत हो गई है.

शिव ने कहा, ‘जब वह बस में सवार हुई थी, तब बिल्कुल ठीक थी. उसमें किसी तरह का लक्षण नहीं था, उसे पहले से केवल किडनी में पथरी की शिकायत थी. हमें लगा था कि ऐसे में उसका घर पर रहना ही ठीक होगा. सफर के दौरान गर्मी और थकान से वह बेहोश हो गई थी. पूरी बस ने ऐसे बर्ताव किया, जैसे उसे कोरोना हो. बस ड्राइवर और कंडक्टर ने उन्हें प्रताड़ित करना शुरू कर दिया और बस से बाहर फेंकने की धमकी दी. मथुरा टोल प्लाजा के पास उन्होंने अंशिका को कंबल में लपेटा और बस से बाहर फेंक दिया.’

शिव ने कहा, ‘वह इस तरह का बर्ताव सह नहीं पाई और उन्हें दिल का दौरा पड़ गया. मैं एफआईआर कराने गया लेकिन पुलिस ने कहा कि मौत प्राकृतिक कारण से हुई है लेकिन सच यह है कि बस स्टाफ के बुरे व्यवहार की वजह से उसे दिल का दौरा पड़ा. अगर आप कोरोना के शक की वजह से किसी को बस से बाहर फेंक देंगे, तो इससे उस पर प्रभाव तो पड़ेगा ही.’

दिल्ली: वेंटिलेटर सपोर्ट पर पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी, कुछ ही देर पहले हुई सफल ब्रेन सर्जरी सचिन पायलट ने कहा, 'मुद्दे वैचारिक थे और उन्हें उठाना जरूरी था' सुशांत केस में हरकत में आई सीबीआई, ईडी की जांच ने भी पकड़ी रफ्तार

डॉक्टर का कहना है कि ऑटोप्सी रिपोर्ट से पता चला है कि अंशिका के दिल का आकार सामान्य की तुलना में बड़ा था, जो युवाओं में दिल का दौरा पड़ने का कारण बन सकता है.शिव कहते हैं, ‘हम चाहते हैं कि इस मामले में एफआईआर दर्ज की जाए ताकि इसके लिए जिम्मेदार लोगों को पकड़ा जा सके. वह परिवार की एकलौती बेटी थी और ये नाइंसाफी सह सकने जैसी नहीं है.’

और पढो: द वायर हिंदी »

हमारे देश में कैसा मारना ईसकी कोई कमी नही कैसे भी मार सकते है,कोरोना संक्रमण जरुरी नही है! 😢😢

LIVE: अरुणाचल प्रदेश के ईटानगर में छह जुलाई से एक हफ्ते के लिए लॉकडाउनअरुणाचल प्रदेश के ईटानगर में छह जुलाई से एक हफ्ते के लिए लॉकडाउन Coronavirus सभी ख़बरों के लिए क्लिक करें:

चीन से तनाव के बीच नरेंद्र मोदी के लेह दौरे के क्या हैं मायनेभारत चीन सीमा विवाद के बीच प्रधानमंत्री का लेह दौरे को किस परिप्रेक्ष्य में देखना चाहिए? क्या ये सुरक्षा से जुड़ा मामला है या चीन के लिए भी इसमें संदेश छिपा है. JAI HO VIJAY HO China ke saath-saath BBC ki v gand fatti..... विकास दुबे को बचाना है

PUBG गेम के चक्कर में पिताजी के खाते से गायब कर दिए 16 लाख रुपयेआपको जानकर हैरानी होगी कि पबजी मोबाइल गेम (PUBG Mobile) खेलने में एक 17 साल के बच्चे ने पिताजी के बैंक अकाउंट से एक-दो लाख नहीं Why UPRERAofficial is not issuing RC against mahagungroup MahagunIndia? - mahagungroup is not delivering my flat which I booked in 2014. - RERA order is in my(buyer) favour and due date has already passed. CeoNoida Noida RERA myogiadityanath noidaext Ineedhelp GAJAB KA NASHA HAI , KABHI LAGA KE DEKHO!! यानि नालायक लोगों की कमी नहीं है ?

पाकिस्तान में बड़ा हादसा, बस-ट्रेन की टक्कर में 19 सिख श्रद्धालुओं की मौत, आठ घायलपाकिस्तान में बड़ा हादसा, बस-ट्रेन की टक्कर में 19 सिख श्रद्धालुओं की मौत, आठ घायल Pakistan Sikhpilgrims bustraincollision trainaccident ImranKhanPTI ImranKhanPTI अबकी बार पाकिस्तान कश्मीर के लिए युद्ध की धमकी न दे वरना कश्मीर तो होगा पर पाकिस्तान नहीं होगा.. हर हर महादेव🙏🏻🙏🏻 ImranKhanPTI दुखद है।

बिहार में फिर बरपा आसमान से कहर, आकाशीय बिजली से 15 लोगों की मौतपटना न्यूज़: बिहार में आकाशीय बिजली (lightning strikes) का कहर जारी है। शनिवार को भी राज्य के अलग-अलग जिलों में आकाशीय बिजली की चपेट में आने से 15 लोगों की मौत (15 people die again due to sky lightning) हो गई। सीएम नीतीश (CM Nitish kumar) ने लोगों से सावधानी बरतने की अपील की है। ये सब सिर्फ बिहार में ही क्यो हो रहा है?

VIDEO: दिल्ली दंगों के लिए विदेश से आया पैसा, जाकिर नाइक से कनेक्शन? दिल्ली के दंगों की जांच में दिल्ली पुलिस को कुछ चौंकाने वाली जानकारी मिली है. इसके मुताबिक दंगे के आरोपियों ने पैसा जुटाने के लिए भगोड़े जाकिर नाइक से भी मुलाकात की थी. दंगे के आरोपियों के पास सिंगापुर और सऊदी अरब से भी पैसा आया था. देखें वीडियो. कुछ भी बकचोदी कर देता है ये मीडिया ..... कानपुर के हिस्ट्रीशीटर विकास दुबे की सम्पत्ति को नीलाम करके क्या योगी जी शहीद पुलिस कर्मियों के परिवार को एक एक करोड़ देंगे ? सवाल तो बनता है ? अगर CAA आन्दोलनकारियों से सरकारी सम्पत्ति के नुकसान की भरपाई की जा सकती है तो पुलिसकर्मियों के जान की कीमत क्यों सरकार दें KapilMishra_IND को छोड़कर सबका कनेक्शन होगा 🙄 पाकिस्तान का भी कनेक्शन निकल आएगा चुनाव आते आते ।।