उत्तर कोरिया: तीन हज़ार रुपये का एक किलो केला, खाने को तरस रहे हैं लोग - BBC News हिंदी

किम जोंग उन ने माना, उत्तर कोरिया में खाने को तरस रहे हैं लोग

17-06-2021 18:23:00

किम जोंग उन ने माना, उत्तर कोरिया में खाने को तरस रहे हैं लोग

उत्तर कोरिया में खाने के सामान की भारी कमी हो गई है. इस बारे में पहले से ख़बरें आ रही हैं मगर अब पहली बार किम जोंग उन ने भी इस बात को स्वीकार किया है. क्यों हैं वहाँ ये हालत?

इसके अलावा उत्तर कोरिया अंतरराष्ट्रीय प्रतिबंधों से भी जूझ रहा है जो उसके परमाणु कार्यक्रमों की वजह से लगाए गए थे.किम जोंग उन ने देश की सत्ताधारी वर्कर्स पार्टी की महत्वपूर्ण सेंट्रल कमिटी की बैठक में देश में खाने की किल्लत की स्थिति पर चर्चा की जो इस सप्ताह राजधानी प्योंगयांग में शुरू हुई.

MP News: कोरोना जांच में घटिया टेस्ट किट का इस्तेमाल, कांग्रेस ने लगाया घोटाले का आरोप बरमुडा बना ओलंपिक में गोल्ड जीतने वाला दुनिया का सबसे छोटा देश - BBC Hindi आईएमएफ़ ने घटाया भारत की आर्थिक वृद्धि दर का अनुमान - BBC Hindi

उत्तर कोरिया में कृषि उत्पादन में कमी आई है मगर किम ने बैठक में कहा कि पिछले एक साल से तुलना करने पर देश का औद्योगिक उत्पादन बढ़ा है.बैठक में अमेरिका और दक्षिण कोरिया के साथ संबंधों पर भी चर्चा होनी थी पर अभी उसका ब्यौरा नहीं दिया गया है.किम ने इस साल अप्रैल में भी माना था कि उनका देश कठिनाईयों से गुज़र रहा है जो कि एक दुर्लभ बात समझी गई थी.

उन्होंने तब अधिकारियों से कहा था कि अपनी जनता को मुश्किलों से थोड़ी सी भी राहत देने के लिए फिर से एक 'मुश्किल मार्च' (The Arduous March) शुरू किया जाए.इस शब्द का इस्तेमाल उत्तर कोरिया में 90 के दशक में किया गया था जब देश भारी अकाल से जूझ रहा था. तब सोवियत संघ के विघटन के बाद उत्तर कोरिया को मदद मिलनी बंद हो गई थी. headtopics.com

उस अकाल के दौर में भुखमरी से कितने लोगों की मौत हुई इसकी स्पष्ट जानकारी तो नहीं है, मगर समझा जाता है कि ये संख्या 30 लाख के आस-पास रही होगी.क्या है किम जोंग-उन की स्वीकारोक्ति का मतलब? - विश्लेषणलॉरा बिकरबीबीसीसंवाददाता, सोलकिम जोंग उन सार्वजनिक रूप से देश में खाने की कमी की बात स्वीकार करें, ये बहुत ही असामान्य बात है. मगर ये वही नेता हैं जो पहले ही मान चुके हैं कि उनकी आर्थिक योजनाएँ नाकाम हो चुकी हैं.

किम के सामने समस्या ये है कि जब उन्होंने अपने पिता से सत्ता हासिल की थी, तो उन्होंने लोगों से एक संपन्न भविष्य का वायदा किया था. उन्होंने उनसे कहा कि उनकी खाने की टेबल पर मांसाहारी खाना होगा और घर में बिजली. मगर ये हुआ नहीं. अब वो लोगों को ये जताना चाह रहे हैं कि उन्हें अभी और सख़्ती के लिए तैयार रहना चाहिए.

वो अभी जो संकट है उसे कोरोना महामारी से जोड़ने की भी कोशिश कर रहे हैं. सरकारी मीडिया के अनुसार उन्होंने पार्टी के अधिकारियों से ये कहा कि दुनिया भर में स्थिति "बद से बदतर" होती जा रही है.अब उत्तर कोरिया में जो हालात हैं, और वहाँ जिस प्रकार से बाहर से आने वाली जानकारियों को रोकने की कोशिश की जाती है, उससे वो ये तस्वीर दिखा सकते हैं कि मुश्किलें केवल उनके देश में ही नहीं बल्कि हर जगह है.

उन्होंने कोरोना को हराने के प्रयासों को भी लंबी जंग का नाम दिया है. इससे ये संकेत मिलता है कि सीमा बहुत जल्दी नहीं खुलने वाली, यानी बाहर से लोगों के आने पर जारी रोक अभी लगी रहेगी.और बहुत सारी राहत संस्थाओं की सबसे बड़ी चिंता यही है. सीमा सील होने की वजह से वहाँ खाने के सामान और दवाओं को पहुँचाना मुश्किल होता है. रोक की वजह से ज़्यादातर ग़ैर-सरकारी संस्थाओं को देश से निकलना पड़ा क्योंकि उन्हें सामान पहुंचाने और कर्मचारियों की आवाजाही में दिक्कत आ रही थी. headtopics.com

'केवल हम ही बचे हैं' : हिमाचल भूस्खलन में बचे लोगों का VIDEO आया सामने, देखकर रौंगटे खड़े हो जाएंगे राकेश अस्थाना बने दिल्ली पुलिस के नए कमिश्नर, गुजरात कैडर के हैं IPS रवीश कुमार का प्राइम टाइम : केंद्र क्यों नहीं रोक पाया मिजोरम-असम का टकराव वीडियो - हिन्दी न्यूज़ वीडियो एनडीटीवी ख़बर

उत्तर कोरिया हमेशा से ये भी कहता रहा है वहाँ सबको आत्मनिर्भर बनना चाहिए. ऐसे में उसने अपने आपको सबसे अलग-थलग कर लिया है और इस बात की संभावना कम ही है कि वो मदद माँगेगा.अब आगे भी अगर वो अंतरराष्ट्रीय सहायता से परहेज़ करता रहा, तो हो सकता है कि उसकी कीमत वहाँ के लोगों को चुकानी पड़ेगी.

आप ये भी देख सकते हैं -वीडियो कैप्शन,किम जोंग ने अब किसके ख़िलाफ़ छेड़ी जंग?वीडियो कैप्शन,जो बाइडन पर भड़के किम जोंग उन, अमेरिका को दी चेतावनी और पढो: BBC News Hindi »

जानिए UP Cabinet Expansion में किन-किन समीकरणों का रखा जा सकता है ध्यान? देखें शंखनाद

संगठन की ओर से 25,26 और 30 जुलाई की तारीख का प्रस्ताव भी दिया गया है. जिस पर योगी आदित्यनाथ फैसला करेंगे .जाहिर सी बात है कि मंत्रिमंडल विस्तार में उन सारे समीकरण को ध्यान में रखा जाएगा, जिसे साधकर यूपी में जीत की राह आसान हो सके. संजय निषाद के सांसद बेटे प्रवीण निषाद को मोदी कैबिनेट में शामिल किए जाने की चर्चा थी,लेकिन उन्हें जगह नहीं मिली तो अब निषाद वोटों को जोड़े रखने के लिए संजय निषाद कैबिनेट में शामिल किए जा सकते हैं. निषाद समाज के अलावा राजभर समाज पर भी योगी सरकार की नजर है, जिसका पूर्वांचल में काफी दबदबा है. देखें वीडियो.

कोई बात नहीं है ....... हम भारत वाले भी तुम्हारे साथ पाईप लाईन में है बस 2024 में फिर से एक बार और जुमले वाले प्रचार मंत्री को आ जाने दो ..... इंडिया से मंगवा लो 15 रुपये किलो मे दे देंगे बीबीसी ने क्या आजतक कोरिया के बारे में कोई अच्छी खबर लिखी, इस अमेरिकी तोते ने क्या लिखा कि अगर किम बम और मिसाइल नहीं बनाता तो आज वह भी सनकी ट्रम्प द्वारा इराक की भांति बर्वाद हो चुका होता।

Aditya Birla sun life insurance is a fraud company and looting the people through their insurance policies. I request to all Indians not to purchase the insurance policies of Aditya Birla sun life insurance. Otherwise, you have to weep for your decision. 👆🏻👆🏻👆🏻👆🏻👆🏻👆🏻👆🏻👆🏻 PUBGMobile BGMI battlegroundmobileindia

same in India now केला खा के कौन महान बना है आज तक Modiji bhijwa denge tension nakko re !!!! एक हमारा वाला है सब बर्बाद करके भी नही मान रहा की उसने कुछ गलत किया है बस अपनी तारीफ खुद से करता है और अपनी तारीफ सुनना पसंद करता है Chalo maan to liya humara wala to ye bhi nhi krta एक गधा यहां भी कोरिया वाले दिन ला रहा है धीरे-२

कोविड-19 और उत्तर प्रदेश: साक्षात नरक में वो छह सप्ताह...कोरोना महामारी की घातक दूसरी लहर के दौरान जहां जनता तमाम संकटों से जूझ रही थी, वहीं योगी आदित्यनाथ की सरकार एक अलग वास्तविकता की तस्वीर पेश कर रही थी. अरे !!!! द वायर को योगी सरकार से डर नही लगता क्या? इतनी बड़ी ख़बर 😜😂 2015 की फोटो भी myogiadityanath को बदनाम नही कर सकी। उत्तरप्रदेश से आधी जनसँख्या वाले महाराष्ट्र में मौतीं कई संख्या एक लाख के पार, यह toolkitgang के लिए स्वर्ग है!

चीन 🇨🇳तिसरा महाशक्तिशाली देश है तो भारत 🇮🇳चोथा महाशक्तिशाली देश है जैसे अमेरिका🇺🇸 पहला महाशक्तिशाली देश है तो रुस दुसरा महाशक्तिशाली देश है ये सभी को समझ लेना है अच्छी तरह से 🦁🦁🇮🇳जय हिन्द जय भारत 🇮🇳❤️🦁 सभी दुनिया की महाशक्तिया और सुपर पावर देश है और सबसे शक्तिशाली देश है इसके ही बराबर महंगाई अपने वाले भी करेंगे

Ek kilo kela 😝😝😝 . Aisa bhi hota kya बीबीसी से दरख्वास्त है खाने की व्यवस्था कराई जाय। मोदी भी उसी रास्ते पर चल रहे है Petrol 60 Rs Petrol 105 Rs *Per liter .

UP University Degree: उत्तर प्रदेश राज्य विश्वविद्यालयों के छात्रों को डाक से मिलेगी डिग्रीUP University Degree राज्यपाल जो कि सभी राज्य विश्वविद्यालयों की चांसलर भी हैं ने दो राज्य विश्वविद्यालयों लखनऊ विश्वविद्यालय और भटखंडे म्यूजिक इंस्टीट्यूट डीम्ड यूनिवर्सिटी के साथ एक ऑनलाइन समीक्षा बैठक के दौरान कहा कि विश्वविद्यालयों को अपने छात्र-छात्राओं को उनकी डिग्री उनके घर पर डाक से भेजनी चाहिए।

उत्‍तर कोरियाई तानाशाह किम जोंग उन का वजन घटा, स्‍वास्‍थ्‍य को लेकर एकबार फि‍र अटकलें तेजउत्तर कोरियाई तानाशाह किम जोंग उन के स्वास्थ्य को लेकर अकसर लगाई जाने वाली अटकलों को फिर से हवा मिली है। समाचार एजेंसी एपी की रिपोर्ट के मुताबिक किम जोंग उन का वजन लगभग 10 से 20 किलोग्राम तक कम हो गया है। 500 किलो से 490 होगया तो कौनसा पहाड़ टूट गया। हां, 50 किलो का 40 रहजाता तो चिंता की बात होती।

दस्तक: उत्तर प्रदेश में हजारों युवा सब इंस्पेक्टर की ट्रेनिंग लेने के बावजूद क्यों बेरोजगार?हमारे देश में पांच साल में सरकारों को दोबारा चुनने का मौका मिल जाता है, तय वक्त में मुख्यमंत्री, मंत्री, विधायक सब शपथ भी ले लेते हैं. लेकिन यहां उत्तर प्रदेश में हजारों युवाओं को सब इंस्पेक्टर की भर्ती में आवेदन के पांच साल बाद भी ट्रेनिंग लेने के बावजूद ना तो नियुक्ति मिल पाई है और ना ही सैलरी. ये नौजवानों ने सब इंस्पेक्टर बनने के लिए 2016 में आवेदन दिया था, 2018 में चयनित हुए और 2019 में सब इंस्पेक्टर बनने की ट्रेनिंग भी ले ली, लेकिन अब 2021 के छह महीने बीतने जा रहे हैं लेकिन अब तक नियुक्ति नहीं मिली. देखें दस्तक. SwetaSinghAT झारखंड में बेरोजगारी चरम सीमा पे है।२०१६ jtet वाले नियुक्ति की मांग कर रहें है।यहां के युवा परेशान है।वादा करके मुकर जाना कोई हेमंत सरकार से सीखे।कृपया करके यहां के बेरोजगारी pe logon ka ध्यान केंद्रित करे।ट्वीट पे ट्वीट हो रहा है।कोई ध्यान देने वाला नही है। SwetaSinghAT They Lack Loyalty SwetaSinghAT upsi_2016_नियुक्त

उत्तर प्रदेश: धीरे-धीरे अखिलेश यादव ने 'बुआ' मायावती की परेशानी बढ़ानी शुरू दी हैबसपा प्रमुख मायावती ने सुबह-सुबह दो ट्वीट किए, जिसमें उनकी पीड़ा साफ नज़र आती है। इस ट्वीट में मायावती ने अपने लहजे में उप्र के कोने-कोने से आ रहा संदेश सन् 2022 में यूपी की सत्ता में आयेंगे भैयाजी श्री yadavakhilesh मायावती की परेशानी बढ़ानी शुरू 👉कर 👈दी है इस को लिखना भूल गए है आप 😂😂 अब आप ही ऐसा करोगे तो हम में क्या ज्ञान आयेग😂😂👉 कर👈

क्या मायावती और बर्खास्त BSP विधायकों के बीच गलतफहमी पैदा कर रहे हैं सतीश चंद्र मिश्रा?यूपी में बहुजन समाज पार्टी टूट की कगार पर है. 18 में से 11 विधायकों को पार्टी विरोधी गतिविधियों के लिए बर्खास्त किए जाने के बाद इनमें से पांच विधायकों ने मंगलवार को लखनऊ में समाजवादी पार्टी के नेता अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) से मुलाकात की. AmanKayamHai_ अखिलेश जी को उत्तर प्रदेश की जनता बहुत अच्छी तरीके से सबक सिखाने के लिए तैयार है अगर विधायक गए हैं तो यूं समझिए गा उनके स्वयं का वोट गया हैं ,बीएसपी का वोटर सिर्फ बीएसपी को ही वोट देता है✌ AmanKayamHai_ Good job