इसराइल-फलस्तीन संघर्ष: जेनिन शहर के पास भारी लड़ाई, चार फलस्तीनियों की मौत - BBC Hindi

इसराइल-फलस्तीन संघर्ष: जेनिन शहर के पास भारी लड़ाई, चार फलस्तीनियों की मौत

26-09-2021 14:08:00

इसराइल-फलस्तीन संघर्ष: जेनिन शहर के पास भारी लड़ाई, चार फलस्तीनियों की मौत

इसराइल के प्रधानमंत्री नफ़्ताली बेनेट ने इस बारे में बताया कि उनके सुरक्षा बलों ने हमला करने जा रहे हमास के आतंकवादियों के ख़िलाफ़ एक अभियान चलाया.

5:27मोदी की मौजूदगी मेें हुई क्वॉड बैठक पर चीनी मीडिया क्या कह रहा?Getty ImagesCopyright: Getty Imagesअमेरिका, जापान, भारत और ऑस्ट्रेलिया के नेताओं ने क्वॉड शिखर सम्मेलन के तहत बीते शुक्रवार को बैठक की थी. क्वॉड समूह देशों के नेताओं की यह पहली व्यक्तिगत मुलाक़ात थी.

राजस्थान: पाकिस्तान की जीत पर खुशी मनाने वाली शिक्षिका को नौकरी से निकाला, FIR दर्ज - BBC Hindi Nigeria ने लॉन्च की खुद की डिजिटल करेंसी eNaira, ऐसा करने वाला बना पहला अफ्रीकी देश ट्विटर पर ट्रेंडिंग मुकुल रोहतगी: न आर्यन ने ड्रग्स ली, न उनसे कुछ मिला तो जेल में क्यों, यूजर्स बोले- ये सदी का सबसे बड़ा सवाल

ग्लोबल टाइम्स ने इस मुलाक़ात को चीन के संदर्भ में रेखांकित किया है.ग्लोबल टाइम्स के मुताबिक़, शुक्रवार को वॉशिंगटन में क्वॉड देशों ने चीन को ‘रोकने’ के लिए आपसी संबंधों की मज़बूती के लिए बैठक की.लेकिन जानकारों का कहना है कि बैठक के दौरान अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने अपने अनुवाद उपकरण में ख़राबी की शिकायत की. यह उभरते हुए चीन-विरोधी गुट के भविष्य का सूचक भी था. अमेरिका की घटती क्षमता और वैश्विक परिस्थितियों में आए बदलाव के कारण चीन विरोधी यह गुट किसी भी तरह से कारगर साबित नहीं होगा.

वॉशिंगटन पोस्ट की रिपोर्ट के मुताबिक़, शुक्रवार को हुई क्वॉड देशों की इस बैठक की उद्घोषणा में मुख्य रूप से वैक्सीन, जलवायु, तकनीकी और अंतरिक्ष सहयोग सहित दूसरे अन्य मुद्दों का ज़िक्र किया गया. पत्रकारों ने चीन या बीजिंग जैसे शब्द नहीं सुने लेकिन क्वॉड ‘समूह के ज़्यादातर एजेंडे का सब-टेक्स्ट चीन’ था. headtopics.com

Getty ImagesCopyright: Getty Imagesअमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने कहा कि क्वॉड समूह के देश मौजूदा समय में"कोविड से लेकर जलवायु की चुनौतियों और उभरती प्रौद्योगिकी से जुड़ी प्रमुख चुनौतियों का सामना करने के लिए एक मंच पर आ रहे हैं."उन्होंने बैठक की शुरुआत में कहा, “हम जानते हैं कि हमें हमारा लक्ष्य कैसे प्राप्त करना है और इसके लिए हम हर चुनौती के लिए तैयार भी हैं."

ऑस्ट्रेलिया के प्रधानमंत्री स्कॉट मॉरिसन ने बाइडन की टिप्पणी को ही दोहराते हुए कहा,"हम एक स्वतंत्र हिंद-प्रशांत क्षेत्र में विश्वास करते हैं, क्योंकि यही एक मज़बूत, स्थिर और समृद्ध क्षेत्र प्रदान कर सकता है."जापान के प्रधानमंत्री योशिहिदे सुगा ने भी इस बैठक में भाग लिया. उन्होंने कहा कि क्वॉड चार देशों की"एक अति महत्वपूर्ण" पहल है"जो समान मौलिक मूल्यों को साझा करते हैं और क़ानून के शासन के आधार पर हिंद-प्रशांत क्षेत्र में एक स्वतंत्र और खुले अंतरराष्ट्रीय व्यवस्था को साकार करने के लिए सहयोग करते हैं."

चाइना फ़ॉरेन अफ़ेयर्स यूनिवर्सिटी में इंस्टिट्यूट ऑफ़ इंटरनेशनल रिलेशन्स में प्रोफ़ेसर ली हैडोंगे ने ग्लोबल टाइम्स से कहा, हालांकि इन चारों देशों के नेताओं ने चीन को लेकर कुछ नहीं कहा और ना ही उन्होंने ज़ाहिर तौर पर चीन के साथ मौजूदा गतिरोध का ज़िक्र किया लेकिन इस शिखर सम्मेलन का एजेंडा चीन पर ही केंद्रित था. यह एक ऐसी पहल है, जिसका उद्देश्य विशेष रूप से पश्चिमी प्रशांत क्षेत्र में सहयोग के बैनर तले विवादों और टकराव को बढ़ाना है.

Getty ImagesCopyright: Getty Imagesउन्होंने कहा कि वीक्सीन की आपूर्ति पर सहयोग और महामारी से निपटने के उपायों जैसे मुद्दों की आड़ में अमेरिका समेत क्वॉड के अन्य तीन देश अपने असली उद्देश्य को छिपाना चाहते हैं. ऐसा करके वे अंतरराष्ट्रीय समर्थन हासिल करना चाहते हैं लेकिन चीन और अंतरराष्ट्रीय समुदाय ने इस तरह की निम्न-स्तरीय रणनीति देखी है. headtopics.com

सुकर्णो की बेटी ने बदला धर्म: इंडोनेशिया के पूर्व राष्‍ट्रपति की बेटी सुकमावती ने 70वें बर्थडे पर इस्‍लाम छोड़ा, हिंदू धर्म अपनाया पाकिस्तान की जीत का जश्न मनाने वाले कश्मीरी छात्रों पर यूएपीए के तहत केस दर्ज - BBC Hindi भास्कर LIVE अपडेट्स: सबमरीन की गोपनीय जानकारी लीक करने के आरोप में नेवी कमांडर और दो रिटायर्ड अफसर अरेस्ट

ली के मुतबिक़, अमेरिका क्वॉड के चारों सदस्यों के बीच एकजुटता और समन्वय दिखाना चाहता है क्योंकि वह चीन के साथ प्रतिस्पर्धा को बढ़ाने की कोशिश कर रहा है.ली ने कहा,"चीन और अमेरिका के बीच पहले से ही तनावपूर्ण प्रतिस्पर्धा है. ऐसे में बाइडन, चीन के साथ टकराव से बचना चाहते हैं और चीन के ख़िलाफ़ उकसावे की कार्रवाई कर रहे हैं. लेकिन तथ्य यह है कि वह नाजुक स्थिति को संभालने में असमर्थ है."

Getty ImagesCopyright: Getty Imagesअमेरिकी मीडिया के मुताबिक़, चार देशों के नेताओं के बीच हुई इस बैठक में अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकन भी शामिल हुए.ली कहते है कि ब्लिंकन की उपस्थिति ने यह दिखा दिया है कि वह ब्लिंकन ही हैं जो क्वाड समूह को आगे बढ़ा रहे हैं.

शिन्हुआ विश्वविद्यालय में अंतरराष्ट्रीय सुरक्षा के फेलो सुन चेंगहाओ के मुताबिक़ ने ग्लोबल टाइम्स से कहा है कि चीन का बिल्कुल उल्लेख नहीं होना भी क्वॉड देशों के बीच के गतिरोध को प्रदर्शित करता है. हो सकता है कि वे सभी देश चीन के उदय को न चाहने के समान विचार वाले हों लेकिन चीन के प्रति उनकी नीतियां एक-दूसरे से अलग हो सकती हैं.

हालांकि शिखर सम्मेलन काफी सार्थक बताया गया लेकिन बैठक के दौरान जो बाइडन ने अपने एक कर्मचारी से कहा कि उनका अनुवादक उपकरण काम नहीं कर रहा है. यह बात उन्होंने माइक पर कही, जिसे अन्य नेताओं ने सुना भी.सुन के मुताबिक़, क्वाड शिखर सम्मेलन बाइडन प्रशासन का नवीनतम क़दम है लेकिन अलग-अलग सहयोगियों के साथ, अलग-अलग गठबंधनों का अच्छा असर नहीं होगा क्योंकि अमेरिका का ध्यान केंद्रित नहीं है. इसने उसके सहयोगियों के बीच असंतोष को बढ़ाया भी है. headtopics.com

क्वाड शिखर सम्मेलन से पहले ही अमेरिका ने ब्रिटेन और ऑस्ट्रेलिया के साथ ऑकस डील की घोषणा की थी. इस पर फ्रांस ने नाराज़गी जतायी और अपने राजदूतों को इन सहयोगी देशों से वापस बुला लिया था.विश्लेषकों का कहना है कि ऑकस ने क्वाड शिखर सम्मेलन पर असर तो ज़रूर डाला है क्योंकि जापान और भारत ऑकस में साझेदार नहीं है जबकि ऑस्ट्रेलिया है.

और पढो: BBC News Hindi »

Aryan Khan Case: क्या आर्यन खान ड्रग केस का पॉलिटिकल ट्रायल हो रहा है? देखें दंगल

मुंबई ड्रग केस में शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान की जमानत याचिका पर बॉम्बे हाईकोर्ट में सुनवाई चल रही है. सबसे बड़ा सवाल ये है कि क्या आज आर्यन खान को जमानत मिलेगी? इसका जवाब तो आज अदालत से मिल ही जाएगा, लेकिन सवाल एक और है कि क्या आर्यन खान ड्रग केस का पॉलिटिकल ट्रायल हो रहा है? ये सवाल इस नाते है कि सियासत का एक धड़ा आर्यन खान और उनके पिता शाहरुख खान के पक्ष में खड़ा हो गया है। इस केस की जांच कर रहे नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो के अफसरों पर साजिश, भ्रष्टाचार और वसूली तक के आरोप लग चुके हैं. देखें दंगल का ये एपिसोड.

what the hell is going on where is human rights is they are for only China ठीक है Terorist state Israel. Israel should stop Imperialism at the cost of human life अल्लाह ताला फिलिस्तीन यू की मदद करें और इसराइल यो को या तो अक्ल दे या नेस्तनाबूद कर दे। terrorist_israil Very good तालिबानियों के कारण जब अफगानी नागरिक मारे जा रहे थे, तब बीबीसी ने इतना छाती नहीं पिटा था, जितना फिलीस्तीन पर पिट रही है।

Ye sahi chal raha hai... Israel knows how to deal with Jihaadis. IndiaWantsBSPGovt इजराइल फिर से एक्शन मोड में आ गया।

राहुल गांधी से चर्चा के बाद पंजाब कैबिनेट के मंत्रियों के नाम तय : सूत्रपंजाब में मुख्‍यमंत्री चरणजीत सिंह चन्‍नी ने अपने मंत्रिमंडल के लिए नामों को अंतिम रूप दे दिया है. सूत्रों के मुताबिक, चन्‍नी ने राहुल गांधी के साथ मिलकर के पंजाब कैबिनेट के मंत्रियों  के नाम तय किए हैं. कैबिनेट में बदलाव को  लेकरबातचीत के लिए चन्‍नी तीन बार दिल्‍ली आए थे. कितना भी सीएम बना लो गुलामी नहीं जाएगी क्या राहुल गांधी कांग्रेस के अध्यक्ष हैं या पंजाब के प्रदेश अध्यक्ष आखिर क्यों उनसे पूछ कर कैबिनेट का विस्तार किया जाएगा यह एक गुलामी वाली सोच है

अब भारतीय हिन्दु जिनके अम्मा-अम्मी धर्म परिवर्तन करके मुसलमान बन गये थे उनके नालायक औलाद यही से बैठे-बैठे आनलाइन इजरायल पर हमला करेंगे 😂 Ye Philistines wale mante kyo nhi hai मारो सालो hare tiddo को। 72 हूर के पास भेजो ये उनका अंदरूनी मामला है। वैसे भी आतंक किसी भी सूरत में अस्वीकार्य है। किसी मुसलमान को लगता है, कि इजरायल पर सभी मुस्लिम देशों को हमला कर देना चाहिए। तो उन्हें सबसे पहले मस्जिदें ढहाने वाले, दाढ़ी कटवाने वाले, हज न जाने देने वाले चीन पर सबसे पहले ऐसी हिम्मत दिखानी चाहिए।

शहीद लिखा करो bbc के गुर्गों वो मरे नहीं बल्कि जिंदा है. Well done IDF. 💪 Keep going, there is no place for terrorism in this world. सभी मुस्लिम मुल्कों को मिलकर इसराइल पर हमला कर देना चाहिए , Bus thode din. Woh din door nahi jab jaws us drakht ke paiche apne aap ko chopayege.. More to come

बाइडेन के किस्से, मोदी के ठहाके...व्हाइट हाउस में दिखी दोनों नेताओं की जबरदस्त बॉन्डिंगमोदी-बाइडेन की मुलाकात के कई ऐसे पल रहे जिन्हें देख साफ महसूस किया जा सका कि भारत-अमेरिका के रिश्ते नए अध्याय की ओर बढ़ रहे हैं. इसकी शुरुआत तो तभी हो गई जब पीएम मोदी ने व्हाइट हाउस में दस्तक दी और राष्ट्रपति जो बाइडेन ने काफी गर्मजोशी से उनका स्वागत किया. FEKU is working very hard to make 130 crores jobless at the earliest possible ... bolo FEKU keejay .. FEKU is brining 5 trillion US$ from US .. US$ easily available in US .. what an invention FEKU.. अख़बार में आएगा कल फ़्रंट पेज पर Ye kab hua .. apka hi chenal dekh rha tha

Phir bhi israel be qusoor hoga.. Israel terrorist attacks on muslims in Palestin POTUS UN UN_HRC UNHumanRights विदेशी खबरो से हमे क्या. बंद करो ये बीबीसी

मोदी और जापान के पीएम सुगा ने स्वतंत्र, खुले हिंद-प्रशांत क्षेत्र के लिए प्रतिबद्धता जताईविदेश सचिव हर्षवर्द्धन श्रृंगला ने कहा, ‘चीन के बड़े वैश्विक ताकत के रूप में उभरने के मुद्दे पर बातचीत हुई।’ दोनों प्रधानमंत्रियों ने भारत-जापान के बीच बढ़ते आर्थिक संपर्क का भी स्वागत किया। narendramodi,myogiadityanath RahulGandhi ,priyankagandhi,सोनिया गांधी का राहुल और प्रियंका वाड्रा प्रेम कांग्रेस को ले डूबा।नरेन्द्र मोदी का अमित शाह प्रेम बीजेपी को ले डूबेगा।मोदी जी का अमित शाह प्रेम दिल्ली बंगाल चुनाव ले डूबा।2024 के चुनाव में इनको गटर में फेक देना होगा।

ममता बनर्जी के घर के बाहर प्रदर्शन, भाजपा सांसद पर दर्ज हुआ केसममता बनर्जी के घर के बाहर शव रखकर प्रदर्शन करने के आरोप में बंगाल पुलिस ने भाजपा सांसद अर्जुन सिंह, राज्य इकाई के अध्यक्ष सुकांत मजूमदार, ज्योतिर्मय सिंह महतो और प्रियंका टिबरेवाल समेत कई नेताओं के खिलाफ केस दर्ज किया गया है। BJP के राज्य Assam में Police जवानों ने गोली मारकर 2 वियक्तियो की हत्या की। मामला ज़मीन विवाद का है और कोर्ट में केस चल रहा है। Didi को आताताई कहने वाले जरा अपने गिरेबान में भी झाँके।

धर्मांतरण के आरोपी मौलाना कलीम सिद्दीकी के समर्थन में उतरे ओवैसीधर्मांतरण के आरोप में गिरफ्तार मौलाना कलीम सिद्दीकी के सपोर्ट में अब ओवैसी उतर आए हैं। उन्होंने मौलाना के समर्थन में ट्वीट करते हुए कहा कि अपने धर्म का प्रचार अपराध नहीं है।

महंत की मौत के 16 राजदार: नरेंद्र गिरि के शिष्य और सेवादार CBI के रडार पर, मठ से जुड़े नेता और पुलिस अफसर भी जांच के दायरे मेंअखाड़ा परिषद के अध्यक्ष महंत नरेंद्र गिरि की संदिग्ध हालात में हुई मौत की गुत्थी सुलझाने के लिए CBI महंत से जुड़े 16 किरदारों की कुंडली खंगालने में जुट गई है। इनमें महंत के कथित उत्तराधिकारी बलवीर गिरि से लेकर उनके शिष्य आनंद गिरि तक का नाम शामिल है। साथ ही पुलिस के कुछ अफसर और कुछ राजनेता भी CBI की जांच सूची में हैं। | CBI will solve the mystery of the death of Narendra Giri in Prayagraj, the crime scene will be recreated; You will get answers to each question : प्रयागराज में नरेंद्र गिरि की मौत की गुत्थी सुलझाएगी CBI, क्राइम सीन किया जाएगा रिक्रिएट; मिलेंगे एक-एक सवाल के जवाब जो भी है जल्द से जल्द जांच शुरू करे सीबीआई और electronic मीडिया को दूर रखे साधु संतो का भी ये लोग तमाशा बना रहे है बस सच सामने आना चाहय देश यही चाहता है Ek sache Hindu mahant ko marney waley hinduTalibani h.