इसराइल और यूएई की दोस्ती के मायने क्या हैं? ईरान की राह मुश्किल

ALERT- इसराइल और यूएई की दोस्ती के मायने क्या हैं? ईरान की राह मुश्किल

14-08-2020 07:09:00

ALERT- इसराइल और यूएई की दोस्ती के मायने क्या हैं? ईरान की राह मुश्किल

अब तक इसराइल के अरब देशों के साथ कोई राजनयिक संबंध नहीं रहे हैं. लेकिन ईरान से जुड़ी चिंताओं ने इन दोनों देशों के बीच अब एक 'अनौपचारिक संपर्क' को जन्म दिया है.

विदेश नीति की जीत?एक टीवी संबोधन में प्रधानमंत्री नेतन्याहू ने कहा कि उन्होंने 'वेस्ट बैंक पर कब्ज़ा करने की योजना' को फ़िलहाल स्थगित कर दिया है, लेकिन इस योजना से जुड़े दस्तावेज़ उनकी 'मेज़ पर रखे रहेंगे.'अगर इसराइल इस योजना पर अभी आगे बढ़ता तो वेस्ट बैंक के कुछ हिस्से आधिकारिक रूप से इसराइल के कब्ज़े में आ सकते थे.

डोनाल्ड ट्रंप बनाम जो बाइडन: ट्रंप ने कहा, भारत कोरोना से हुई मौतें छिपा रहा है - BBC News हिंदी Hathras Gangrape Case: कितने हैवान, कितनी निर्भया और कब तक? देखें खबरदार हाथरस गैंगरेप: निर्भया की मां बोलीं- सरकारें आती-जाती हैं, हकीकत नहीं बदल रही

दरअसल, वेस्ट बैंक में बनाई गईं यहूदी बस्तियों को लेकर इसराइल और फ़लस्तीनियों के बीच विवाद बना रहा है. वेस्ट बैंक की छोटी सी ज़मीन पर क़रीब 30 लाख लोग रहते हैं जिनमें 86 फ़ीसदी (लगभग 25 लाख) फ़लस्तीनी और 14 फ़ीसदी (4,27,800) इसराइली बस्तियों के लोग हैं.

अधिकतर इसराइली बस्तियाँ 70, 80 और 90 के दशक में बसाई गईं, लेकिन बीते 20 सालों में उनकी जनसंख्या दोगुनी हो चुकी है. वहीं फ़लस्तीनी अपने क़ब्ज़े वाले वेस्ट बैंक, पूर्वी यरूशलम और ग़ज़ा पट्टी को मिलाकर अपना एक देश बनाना चाहते हैं.प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहा

क्या है वेस्ट बैंक का पेंच, जिसके लिए दुनियाभर में होते हैं प्रदर्शनसंयुक्त अरब अमीरात से समझौते के बाद प्रधानमंत्री नेतन्याहू ने कहा कि 'यहूदिया और समारिया (वेस्ट बैंक के क्षेत्र) में अमरीकी सहयोग से हमारी संप्रभुता को लागू करने की मेरी योजना में कोई बदलाव नहीं आया है. मैं इसके लिए प्रतिबद्ध हूँ. यह बदला नहीं है. मैं आपको याद दिलाता हूँ कि मैंने ही इस मुद्दे को बतौर पीएम उठाया और मैं विश्वास दिलाता हूँ कि ये मुद्दा मेरी टेबल पर बना रहेगा.'

नेतन्याहू ने कहा है कि वो ऊर्जा, जल और पर्यावरण संरक्षण समेत कई अन्य क्षेत्रों में संयुक्त अरब अमीरात के साथ मिलकर काम करेंगे. साथ ही इसराइल कोरोना वायरस वैक्सीन विकसित करने में यूएई के साथ सहयोग करेगा.बताया गया है कि आने वाले हफ़्तों में इसराइल और संयुक्त अरब अमीरात के प्रतिनिधिमंडल निवेश, पर्यटन, सीधी उड़ानों, सुरक्षा, दूरसंचार, प्रौद्योगिकी, ऊर्जा, स्वास्थ्य, संस्कृति, पर्यावरण, पारस्परिक दूतावासों की स्थापना और अन्य क्षेत्रों में आपसदारी स्थापित करने के लिए द्विपक्षीय सौदों पर हस्ताक्षर करेंगे. यह कार्यक्रम अमरीकी में आयोजित होने की संभावना है.

प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहाइसराइल वेस्ट बैंक पर क्यों क़ब्ज़ा करना चाहता है?विश्लेषकों का विचार है कि इस समझौते का मतलब राष्ट्रपति ट्रंप के लिए 'एक विदेश नीति की जीत' हो सकता है, जो नवंबर में फिर से चुनाव में उतरने वाले हैं और प्रधानमंत्री नेतन्याहू को व्यक्तिगत रूप से बढ़ावा देंगे, जो कथित भ्रष्टाचार के मामले में मुक़दमे का सामना कर रहे हैं.

कोरोना वायरस महामारी के ख़िलाफ़ अपनी रणनीति के लिए ये दोनों नेता आलोचनाओं का सामना कर रहे हैं और इनकी साख ख़राब हुई है. साथ ही इसराइल में वेस्ट बैंक पर कब्ज़े के हिमायती लोगों ने प्रधानमंत्री नेतन्याहू की ताज़ा घोषणा पर ग़ुस्सा व्यक्त किया है.वहीं अमरीका में संयुक्त अरब अमीरात के राजदूत यूसेफ़ अल-ओतैबा ने कहा कि 'इसराइल के साथ समझौता एक कूटनीतिक जीत है. इससे अरब और इसराइल के संबंध निश्चित रूप से आगे बढ़ पाएंगे जिससे तनाव कम होगा और परिवर्तन की नई सकारात्मक ऊर्जा बनेगी.'

Hathras Gangrape Case: जिंदगी जंग हार गई हाथरस की बेटी! निर्भया कब तक? हाथरस में एक और दलित लड़की बनी शिकार, टेंपो चालक ने किया अगवा सीजन में पहली बार हैदराबाद की गेंदबाजी में दिखा दम, राशिद और भुवनेश्वर का चला जादू; दो हार के बाद पहला मैच जीता

ट्रंप के वरिष्ठ सलाहकार जेरेड कुशनर ने कहा है कि 'उन्हें नहीं लगता कि इसराइल अमरीकी के साथ चर्चा किए बिना वेस्ट बैंक पर कोई भी क़दम उठाएगा.' उन्होंने कहा कि उन्हें इसराइल और यूएई के बीच 'बहुत जल्दी' संपर्क स्थापित होने की उम्मीद है.इमेज कॉपीरइट

EPAबड़ा क़दम - पर कुछ सवाल बाकीबीबीसी के डिफ़ेंस संवाददाता जोनाथन मार्कस का नज़रिया है कि पूर्ण राजनयिक संबंधों की स्थापना; दूतावासों का आदान-प्रदान; और इसराइल-यूएई के बीच सामान्य व्यापार संबंध एक महत्वपूर्ण कूटनीतिक क़दम है, लेकिन इस बारे में अनिवार्य रूप से कुछ सवाल उठाते हैं.

क्या इस समझौते का पूरा वादा साकार हो पाएगा? और क्या अन्य खाड़ी देश भी इसी तरह का रास्ता अपना सकते हैं?यह देखना भी महत्वपूर्ण है कि इस समझौते में क्या नहीं है. यह फ़लस्तीनियों के सवाल को हल करने की व्यापक शांति योजना से दूर है जिसे राष्ट्रपति ट्रंप ने लंबे समय तक बढ़ावा दिया है. हालांकि, इसमें सभी पक्षों के लिए कुछ अल्पकालिक लाभ छिपे हैं.

मसलन, व्हाइट हाउस ने इसकी घोषणा पहले की और अब यह समझा जा रहा है कि यह राष्ट्रपति ट्रंप की मामूली ही सही, पर एक राजनयिक जीत है, वो भी ऐसे समय में जब उनके लिए आगामी राष्ट्रपति चुनाव बहुत आसान नहीं दिख रहा.इमेज कॉपीरइटEuropean Photopress Agencyप्रधानमंत्री नेतन्याहू संयुक्त अरब अमीरात के साथ इस 'शांति पहल' को कुछ इस तरह से देख सकते हैं कि अगर वे आगे इसराइल के आम चुनाव में भाग लेते हैं तो उनकी संभावना बढ़ सकती है.

संयुक्त अरब अमीरात के लिए, यह कहना कठिन है कि उन्हें इसका तात्कालिक लाभ क्या हैं.हालांकि, अमरीका के साथ उसके संबंध मज़बूत होंगे और इसराइल के साथ समझौते से उसे महत्वपूर्ण आर्थिक, सुरक्षा और वैज्ञानिक लाभ मिल सकते हैं.कुल मिलाकर यह एक ऐसा समझौता है जो संभावित रूप से पहले दिखाई देने की तुलना में अधिक या कम, दोनों तरह के नतीजे पेश कर सकता है. और जहाँ तक फ़लस्तीनियों का सवाल है, तो इस ख़बर को हताशा के अलावा किसी और तरह से देख पाना उनके लिए मुश्किल है, क्योंकि उन्हें फिर से एक ओर धक्का दिया गया है.

इमेज कॉपीरइटReutersकिसने क्या प्रतिक्रिया दी?यूके के प्रधानमंत्री बोरिस जॉनसन ने कहा है कि वेस्ट बैंक में कब्ज़े की कार्यवाही आगे ना बढ़े, यह अच्छी बात है और इसराइल-यूएई के इस समझौते से मध्य-पूर्व में शांति बहाल करने में मदद मिलेगी.मिस्र के राष्ट्रपति ने भी इस डील का स्वागत किया है, वहीं जॉर्डन के विदेश मंत्री अयमान सफ़ादी ने कहा है कि इस समझौते से रुकी हुए शांति समझौतों को आगे बढ़ाने में मदद मिलेगी.

LAC पर भारत ने द‍िखाए तेवर, चीन को सता रहा है हमले का डर बिहार में बोले तेजस्वी सूर्या- भारत के युवराज बेरोजगार, इसलिए कर रहे बेरोजगारी की बात किसानों को नहीं जलानी पड़ेगी पराली, केजरीवाल सरकार ला रही ये स्कीम

लेकिन फ़लस्तीन के एक वरिष्ठ अधिकारी, हनान अशरावी ने इस डील की यह कहते हुए निंदा की है कि 'यूएई इसराइल के साथ अपने गुप्त संबंधों और सौदों पर अब खुलकर सामने आ गया है.' उन्होंने प्रिंस मोहम्मद को कहा:"तुम्हारे ये 'दोस्त' बस कहीं तुम्हें बेच ना दें."

ईरान की तसनीम न्यूज़ एजेंसी के अनुसार, ईरान के रेवोलूश्नरी गार्ड्स ने इस समझौते को 'शर्मनाक' बताया है और ग़ज़ा और हमास में सक्रिय मिलिटेंट संगठनों ने भी इस डील को 'अपने लोगों की पीठ में छुरा घोपने जैसी हरक़त' करार दिया है. और पढो: BBC News Hindi »

कोरोना काल में हृदय रोग के मामले 20% बढ़े, लक्षणों को नजरअंदाज किया तो नौबत सर्जरी तक पहुंची; एक्सपर्ट से समझें, कैसे टाल सकते हैं सर्जरी

वर्ल्ड हार्ट फेडरेशन के मुताबिक, दुनियाभर में हर 3 में से एक मौत हृदय रोग के कारण हो रही है,कोरोना काल में एक्सपर्ट की सलाह, हार्ट डिसीज के लक्षण नजरअंदाज न करें, ये हालत को नाजुक बना सकते हैं | World Heart Day 2020: How to Minimize Operational Risk? All You Need To Know From Heart Expert

इस्राइल इस्लाम के लिए koldogro की तरह काम करेगा और एक दिन दुबई को कमजोर कर देगा कियो की इसके पीछे अमेरिका का पूरा हाथ रेहता है This is the bestest gift ever given to Pakistan🇵🇰 on its independence day PakistanZindabad 🤣🤘

इसराइल और संयुक्त अरब अमीरात के बीच ऐतिहासिक शांति समझौताअमरीका के राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने इसराइल और संयुक्त अरब अमीरात के बीच कूटनीतिक संबंध बहाल होने की घोषणा की है. इसराइल ने इसे 'ऐतिहासिक दिन' बताया है. अब इस बात पर दुनिया के मुल्लाओं की खुजानि शुरू हो जाएगी कि ऐसे कैसे शांति समझौता कर लिया । इश्लाम तो आतंक का दूसरा नाम है , शांति कैसे सम्भव हो सकती है ।। This is deep fear of Ottoman Empire UAE ka bhi din pura ho Gaya hai... yahoodi kisi ka nahi hota

मोदी सरकार के लिए कश्मीर में उम्मीद की नई किरण हैं शाह फैसलशाह फैसल (Shah Faesal) की प्रशासनिक पृष्ठभूमि भी है और छोटा ही सही राजनीतिक अनुभव भी. Article 370 हटाये जाने के बाद अगर शाह फैसल के अनभवों के कॉम्बो पैकेज का फायदा जम्मू-कश्मीर (Jammu Kashmir) के लोगों किसी रूप में मिलता है तो उनकी प्रतिभा का बेहतर इस्तेमाल हो सकेगा. Ghante ki ummed ....bsdka pakistan ka raag alapta tha ab promote krne me laga hai.... Paosa kya kya nahi karwa sakta 😭 Big Trust issue with him ! Bilkul nahi... Usko koi v kaam nahi dena chahiye. Warna ye pakistani agent ban k desh ko barbad karega. Shah Faisal ko bjp ki taraf se koi pad nahi milna chahiye. Ye pakistan premi hai. Ye saap hote hai, kitna v doodh pilao, aapko v katenge. PMOIndia AmitShah

सलमान के साथ वापस लौट रही हैं जैकलीन, बहुप्रतीक्षित फिल्म 'किक 2' की हुई घोषणाअभिनेता सलमान खान की बहुप्रतीक्षित फिल्मों में से एक 'किक 2' से संबंधित बातें तो बहुत दिनों से सुनने में आ रही हैं लेकिन Asli_Jacqueline BeingSalmanKhan Wat nonsense ... Asli_Jacqueline BeingSalmanKhan Is bhadwe ka picture to main dekhta hi nahi. Asli_Jacqueline BeingSalmanKhan Boycott

चीन की चाल बनी पाकिस्तान से सऊदी अरब के टकराव की वजहचीन की चाल बनी पाकिस्तान से सऊदी अरब के टकराव की वजह ImranKhanPTI ImranKhanPTI crown_saudi saudicrownprin1 TCPOSA saudi_crown official_saudi chinapakinteroperability

रूस की वैक्सीन पर बोले मुंबई के डॉक्टर- खबर अनुकूल है लेकिन सतर्क रहने की जरूरतकोरोना के मरीज दुनियाभर में बढ़ रहे हैं. ऐसे में रूस ने पहली कोरोना वैक्सीन बनाने का दावा कर दिया है. रूस के कहा कि उसके पास आवश्यक अप्रूवल भी है. भारत में भी रूस की इस वैक्सीन पर चर्चा शुरू हो गई है. मुंबई में डॉक्टर्स की इस पर अलग-अलग राय है. pankajcreates ब्रह्मांड ज्ञानी रामदेव से भी पूछ लो , कोरोनिल 😂 pankajcreates जय श्री राधे कृष्णा...... आप सभी को सपरिवार श्री कृष्ण जन्माष्टमी की बहुत बहुत बधाई एवं हार्दिक शुभकामनाएं 'माखन चुराकर जिसने खाया, बंसी बजाकर जिसने नचाया, खुशी मनाओ उसके जन्म दिन की, जिसने दुनिया को प्रेम का रास्ता दिखाया...!!!' सुप्रभात... आपका दिन शुभ

नई शिक्षा नीति बाज़ार के रास्ते के बचे रोड़े हटाने की कवायद भर हैअगर सरकार शिक्षा व्यवस्था में सुधार को लेकर गंभीर है, तो उसे इस पर संसद में बहस चलानी चाहिए. किसी बड़ी नीति में बदलाव के लिए हर तरह के विचारों पर जनता के सामने चर्चा हो. इस तरह देश की विधायिका को उसके अधिकार से वंचित रख शिक्षा नीति बदलना देश के भविष्य के साथ खिलवाड़ करने जैसा है. Veshaq