इलाहाबाद हाई कोर्ट का महत्वपूर्ण आदेश, बहू को बेटी से ज्यादा अधिकार; आश्रित कोटे नियम बदले सरकार

इलाहाबाद हाई कोर्ट का महत्वपूर्ण आदेश, बहू को बेटी से ज्यादा अधिकार; आश्रित कोटे नियम बदले सरकार #allahabadhighcourt #Dependentquota

Allahabadhighcourt, Dependentquota

06-12-2021 16:54:00

इलाहाबाद हाई कोर्ट का महत्वपूर्ण आदेश, बहू को बेटी से ज्यादा अधिकार; आश्रित कोटे नियम बदले सरकार allahabadhighcourt Dependentquota

इलाहाबाद हाई कोर्ट ने कहा है कि बहू को आश्रित कोटे में बेटी से ज्यादा अधिकार है। यह फैसला सस्ते गल्ले के लाइसेंस धारक की मौत पर वारिसों को दुकान आवंटन में भी लागू होगा। कोर्ट ने सरकार के आदेश को रद करते हुए इसमें बदलाव का निर्देश दिया है।

इलाहाबाद हाई कोर्ट ने सस्ते गल्ले के लाइसेंस धारक की मौत पर वारिसों को दुकान के आवंटन मामले में पुत्र वधू (विधवा या सधवा) को परिवार में शामिल करने का राज्य सरकार को निर्देश दिया है। साथ ही पुत्री को परिवार में शामिल करने तथा बहू को परिवार में शामिल न करने के राज्य सरकार के पांच अगस्त, 2019 के आदेश को रद करते हुए इसमें बदलाव का निर्देश दिया है। यह आदेश सचिव खाद्य एवं आपूर्ति द्वारा जारी किया गया था।

'सत्येंद्र जैन की गिरफ्तारी हो सकती है', CM केजरीवाल केंद्र से बोले- आप एजेंसियां भेजिए, हम तैयार हैं

यह भी पढ़ेंकोर्ट ने यूपी पावर कार्पोरेशन केस में पूर्णपीठ के फैसले के आधार पर सचिव खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति को नया शासनादेश जारी करने अथवा शासनादेश को ही चार हफ्ते में संशोधित करने का निर्देश दिया है। यह आदेश न्यायमूर्ति नीरज तिवारी ने पुष्पा देवी की याचिका को स्वीकार करते हुए दिया है।

इस फैसले में पूर्णपीठ ने कहा है कि बहू को आश्रित कोटे में बेटी से ज्यादा अधिकार है। यह फैसला इस मामले में भी लागू होगा। कोर्ट ने अपर मुख्य सचिव व प्रमुख सचिव खाद्य एवं नागरिक आपूर्ति को आदेश अनुपालन की जिम्मेदारी दी है। कोर्ट ने जिला आपूर्ति अधिकारी को नया शासनादेश जारी होने या संशोधित किए जाने के दो सप्ताह में याची को वारिस के नाते सस्ते गल्ले की दुकान का लाइसेंस देने पर विचार करने का निर्देश दिया है। headtopics.com

बता दें कि याची की सास के नाम सस्ते गल्ले की दूकान का लाइसेंस था, जिनकी 11 अप्रैल, 2021 को मौत हो गई। याची के पति की पहले ही मौत हो चुकी थी। विधवा बहू याची और उसके दो नाबालिग बच्चों के अलावा परिवार में अन्य कोई वारिस नहीं है। याची ने मृतक आश्रित कोटे में दुकान के आवंटन की अर्जी दी। जिसे यह कहते हुए निरस्त कर दिया गया कि पांच अगस्त 2019 के शासनादेश में बेटी को परिवार में शामिल किया गया है किन्तु बहू को परिवार से अलग रखा गया है। कोर्ट ने शासनादेश में बहू को परिवार से अलग करने को समझ से परे बताया और कहा कि बहू को आश्रित कोटे में बेटी से बेहतर अधिकार प्राप्त है। इसलिए बहू को परिवार में शामिल किया जाए।

India vs south africa का तीसरा वनडे मैच ऐसे देखें लाइव

और पढो: Dainik jagran »

सरकार: 2017 में BJP के भारी बहुमत से जीत के बाद Yogi Adityanath कैसे चुने गए CM?

मार्च 2017 की बात है. फागुन की पूरनमासी से पहले ही यूपी में बीजेपी की पूरनमासी हो गई. यूपी के बड़े बड़े लड़ैया मोदी के आगे ढेर हो गए. प्रचंड बहुमत से बीजेपी को जीत मिली थी, जिसकी किसी ने कल्पना भी नहीं की थी. लेकिन इसके बाद चुनना था एक ऐसा चेहरा जो इस भारी भरकम जनादेश के साथ न्याय कर सकता था, उत्तर प्रदेश का नया मुख्यमंत्री. चर्चा थी तीन नामों की - यूपी के सीएम रह चुके राजनाथ सिंह, गाज़ीपुर से तत्कालीन सांसद मनोज सिंहा और तब के यूपी बीजेपी अध्यक्ष केशव प्रसाद मौर्य. लेकिन जो फैसला लिया गया वो कयासों से बिलकुल उलट था. घोषणा हो गई एक ऐसे नाम की जिनकी किसी ने चर्चा ही नहीं की थी. बाकि तो छोड़िए, खुद योगी आदित्यनाथ को नहीं मालूम था कि उनकी बारी ऐसे आ जाएगी. देखें सरकार.

स्कूल सेवा आयोग ने कलकत्ता हाई कोर्ट के निर्देश पर एक शिक्षक की नियुक्ति खारिज कीनौवीं व दसवीं कक्षा के शिक्षकों की नियुक्ति में भ्रष्टाचार को लेकर प्रशांत दास नामक व्यक्ति ने मुकदमा दायर किया था। जिसके बाद एसएससी (School Service Commission) ने कलकत्ता हाई कोर्ट ( Calcutta High Couurt) के निर्देश पर मुर्शिदाबाद में एक शिक्षक की नियुक्ति खारिज कर दिया।

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने सीएए-एनआरसी के छह प्रदर्शनकारियों के हिरासत आदेश को ख़ारिज कियामामला उत्तर प्रदेश के मऊ ज़िले का है, जहां प्रशासन ने 16 दिसंबर 2019 को कथित रूप से एक हिंसक प्रदर्शन में शामिल होने के कारण छह लोगों के ख़िलाफ़ एनएसए के तहत हिरासत आदेश जारी किया था. कोर्ट ने इसे ग़ैरक़ानूनी क़रार दिया है.

INX Media Case: पीटर मुखर्जी को दिल्ली कोर्ट से राहत, मनी लॉन्ड्रिंग मामले में मिली जमानतINX Media Case: पूर्व मीडिया कारोबारी पीटर मुखर्जी को दिल्ली की अदालत ने जमानत दे दी है. उन्हें INX मीडिया केस में मनी लॉन्ड्रिंग से जुड़े मामले में जमानत दी गई है. इस मामले में पी. चिदंबरम और उनके बेटे कार्ति चिदंबरम भी जुड़े हुए हैं.

हेल्थ अपडेट: कमल हासन को अस्पताल से मिली छुट्टी, शुभचिंतकों को किया धन्यवादसाउथ सिनेमा के सुपरस्टार कमल हासन के चाहने वालों के लिए खुशखबरी है। कोविड-19 के लक्षण के बाद अभिनेता-राजनेता कमल हासन

Social Media: अर्जुन कपूर ने मलाइका अरोड़ा को दिया धक्का, कहा- ऐसी गर्लफ्रेंड को संभालना मुश्किलSocial Media: अर्जुन कपूर ने मलाइका अरोड़ा को दिया धक्का, कहा- ऐसी गर्लफ्रेंड को संभालना मुश्किल arjunk26 MalaikaArora

Zydus की कोरोना वैक्सीन को मिली मंजूरी, सिर्फ वयस्कों को लगेगा टीकावैक्सीन सिर्फ वयस्कों को लगाई जाएगी. इसके साथ ही यह भी देखा जाएगा कि जिन राज्यों में कोरोना की पहली खुराक का आंकड़ा कम होगा, उन्हें प्राथमिकता पर रखा जाएगा. इसके लिए भारत सरकार की ओर से जाइडस वैक्सीन की 1 करोड़ खुराक वितरिक की जाएगी.