इलाहाबाद हाईकोर्ट ने सीएए-एनआरसी के छह प्रदर्शनकारियों के हिरासत आदेश को ख़ारिज किया

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने सीएए-एनआरसी के छह प्रदर्शनकारियों के हिरासत आदेश को ख़ारिज किया #AllahabadHighCourt #CAA #NRC #Protest #Mau #UPGovt #इलाहाबादहाईकोर्ट #सीएए #एनआरसी #प्रदर्शन #यूपीसरकार

Allahabadhighcourt, Caa

05-12-2021 20:30:00

इलाहाबाद हाईकोर्ट ने सीएए - एनआरसी के छह प्रदर्शन कारियों के हिरासत आदेश को ख़ारिज किया AllahabadHighCourt CAA NRC Protest Mau UPGovt इलाहाबादहाईकोर्ट सीएए एनआरसी प्रदर्शन यूपीसरकार

मामला उत्तर प्रदेश के मऊ ज़िले का है, जहां प्रशासन ने 16 दिसंबर 2019 को कथित रूप से एक हिंसक प्रदर्शन में शामिल होने के कारण छह लोगों के ख़िलाफ़ एनएसए के तहत हिरासत आदेश जारी किया था. कोर्ट ने इसे ग़ैरक़ानूनी क़रार दिया है.

नई दिल्ली:इलाहाबाद हाईकोर्ट ने उत्तर प्रदेश के मऊ जिला प्रशासन द्वारा नागरिकता (संशोधन) अधिनियम (सीएए) और राष्ट्रीय नागरिक रजिस्टर (एनआरसी) के खिलाफ 16 दिसंबर 2019 को कथित रूप से एक हिंसक प्रदर्शन में शामिल होने के कारण छह लोगों के खिलाफ राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (रासुका या एनएसए) के तहत जारी किए गए हिरासत आदेश को रद्द कर दिया है.

श्रीलंका को ‘अंधेरे में डूबने’ से बचाने के लिए भारत क्या कर रहा है? - BBC News हिंदी

जस्टिस सुनीता अग्रवाल और जस्टिस साधना रानी (ठाकुर) की खंडपीठ ने कहा कि ‘राष्ट्रीय सुरक्षा कानून की धारा 10 के अनुसार, सरकार को सभी प्रासंगिक सामग्री तीन सप्ताह के भीतर भेजने की आवश्यकता होती है, लेकिन इस मामले में यह 28 सितंबर को सलाहकार बोर्ड के पास भेजा गया था, तब तक तीन सप्ताह की अवधि पहले ही बीत चुकी थी.’

इस ‘देरी’ पर संज्ञान लेते हुए अदालत ने हिरासत को ‘अवैध’ करार दिया.कोर्ट ने कहा कि अनुच्छेद 22(5) के साथ-साथ राष्ट्रीय सुरक्षा कानून की धारा 10 पर विचार करने के दौरान यह पाया गया कि इस मामले में सरकार द्वारा सलाहकार बोर्ड के सामने सभी दस्तावेज जैसे कि हिरासत का आधार, हिरासत में लेने वाले प्राधिकारी की रिपोर्ट इत्यादि समयसीमा के भीतर पेश नहीं किया गया था. इसलिए यह हिरासत आदेश अवैध है. headtopics.com

छह याचिकाकर्ताओं ने बंदी प्रत्यक्षीकरण याचिका दायर कर मऊ के जिला मजिस्ट्रेट द्वारा जारी हिरासत आदेश को रद्द करने की मांग की थी. उन्होंने राज्य सरकार के उस आदेश को भी रद्द करने की मांग की थी, जिसमें उनके हिरासत की अवधि तीन महीने और बढ़ा दी गई थी.अदालत के समक्ष यह प्रस्तुत किया गया था कि 16 दिसंबर, 2019 को एनआरसी और सीएए कानून के खिलाफ एक हिंसक विरोध प्रदर्शन हुआ था, जिसके बाद याचिकाकर्ताओं सहित कई लोगों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की गई थी.

Desh Ki Bahas : 'भड़काऊ भाईजान'...UP चुनाव में घमासान

मऊ शहर के सर्किल ऑफिसर ने थाने के प्रभारी निरीक्षक की रिपोर्ट का अध्ययन कर इसे उच्च अधिकारी के पास भेजने की सिफारिश की थी. इसके बाद याचिकाकर्ताओं के खिलाफ एनएसए के तहत कार्रवाई करने की सिफारिश के साथ पुलिस अधीक्षक द्वारा रिपोर्ट को मऊ के जिला मजिस्ट्रेट को भेज दिया गया था.

मऊ के जिला मजिस्ट्रेट ने तब पूरी सामग्री पर विचार किया और तीन सितंबर, 2020 को नजरबंदी आदेश पारित करते हुए अपनी मंजूरी प्रदान की. इसके लिए उन्होंने राष्ट्रीय सुरक्षा कानून की धारा 3 (2) के तहत शक्तियों का प्रयोग किया. उसी दिन याचिकाकर्ताओं को अन्य प्रासंगिक सामग्री के साथ नजरबंदी का आधार बताया गया था.

जिला मजिस्ट्रेट के अनुसार, शांति बहाल करने और कानून व्यवस्था बनाए रखने के लिए याचिकाकर्ताओं को एनएसए के तहत हिरासत में लिया गया था.यह आरोप लगाया गया था कि इलाहाबाद उच्च न्यायालय में जमानत याचिका दायर कर आरोपी अपने खिलाफ गैंगस्टर एक्ट के तहत दर्ज आपराधिक मामले में जमानत लेने का प्रयास कर रहे थे और इसलिए उन्हें हिरासत में लेना जरूरी समझा गया. headtopics.com

हिंदुओं के खिलाफ नफरत फैलाने को लेकर BJP ने सपा-कांग्रेस पर किया 'वार'

याचिकाकर्ताओं द्वारा अगले दिन, 14 सितंबर, 2020 को डीएम को एक अभ्यावेदन दिया गया था और इनके संबंध में पैरा वार टिप्पणियां 14 सितंबर, 2020 को संबंधित प्राधिकारी को भेजी गई थीं. इसके बाद एनएसए की धारा 10 के अनुसार 28 सितंबर को हिरासत आदेश सलाहकार बोर्ड के पास भेजा गया था.

उच्च न्यायालय ने उत्तर प्रदेश सरकार के इस तर्क को भी खारिज कर दिया कि याचिकाकर्ताओं की हिरासत की तारीख से सात सप्ताह की निर्धारित अवधि के भीतर सलाहकार बोर्ड द्वारा रिपोर्ट प्रस्तुत की गई थी और इसलिए इस मामले में अधिनियम की धारा 11 (1) का अनुपालन किया गया था.

इस दलील पर अदालत ने कहा, ‘सलाहकार बोर्ड द्वारा सरकार को रिपोर्ट प्रस्तुत करने के लिए धारा 11 (1) के तहत निर्धारित अधिकतम अवधि के आधार पर राज्य सरकार द्वारा की गई देरी को माफ नहीं किया जा सकता है.’न्यायालय ने कहा, ‘अनुच्छेद 22 (5) के तहत संवैधानिक दायित्व को पूरा करने के लिए निर्णय लेने की प्रक्रिया के हर चरण में अधिनियम के तहत प्रत्येक प्राधिकरण की कार्रवाई की समयसीमा तय की गई है.’

अदालत ने यह भी माना कि याचिकाकर्ताओं को हिरासत में लेने के निष्कर्ष पर पहुंचने के लिए जिला मजिस्ट्रेट द्वारा दर्ज की गई दलील किसी भी प्रासंगिक सामग्री (तथ्य) पर आधारित नहीं थी.ये पहला मौका नहीं है जब इलाहाबाद हाईकोर्ट ने उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा राष्ट्रीय सुरक्षा कानून (एनएसए) के इस्तेमाल पर सवाल उठाया है, जो राज्य को बिना औपचारिक आरोप या सुनवाई के गिरफ्तारी का अधिकार देता है. headtopics.com

इंडियन एक्सप्रेसके एक इनवेस्टिगेशन के अनुसार, पुलिस और अदालत के रिकॉर्ड्स दिखाते हैं कि ऐसे मामलों में एक ढर्रे का पालन किया जा रहा है, जिसमें पुलिस द्वारा अलग-अलग एफआईआर में महत्वपूर्ण जानकारियां कट-पेस्ट करना, मजिस्ट्रेट द्वारा हस्ताक्षरित डिटेंशन ऑर्डर में विवेक का इस्तेमाल न करना, आरोपी को निर्धारित प्रक्रिया मुहैया कराने से इनकार करना और जमानत से रोकने के लिए कानून का लगातार गलत इस्तेमाल शामिल है.

जनवरी 2018 और दिसंबर 2020 के बीच इलाहाबाद हाईकोर्ट ने एनएसए के तहत निरोधात्मक हिरासत को चुनौती देने वाली 120 बंदी प्रत्यक्षीकरण (हैबियस कॉर्पस) याचिकाओं में फैसला सुनाया, जिसमें से 94 मामलों में हिरासत में रखे गए लोगों को रिहा करने का आदेश दिया गया.रिकॉर्ड्स दिखाते हैं कि एनएसए लगाने के मामले में गोहत्या का मामला पहले नंबर पर है, जिसमें 41 मामले दर्ज किए गए, जो कि हाईकोर्ट में पहुंचने वाले मामलों का एक तिहाई था.

इन मामले में सभी आरोपी अल्पसंख्यक समुदाय के थे और गोहत्या का आरोप लगाने वाली एफआईआर के आधार पर जिलाधिकारियों ने उन्हें हिरासत में रखा था.इसमें से 30 मामलों (70 फीसदी से अधिक) में हाईकोर्ट ने उत्तर प्रदेश प्रशासन को कड़ी फटकार लगाई और एनएसए आदेश को रद्द करते हुए याचिकाकर्ता की रिहाई का आदेश दिया था.

(इसे अंग्रेजी में पढ़ने के लिए यहांक्लिककरें)

और पढो: द वायर हिंदी »

जरूरत की खबर: क्या वाकई ज्यादा देर तक मास्क लगाने से शरीर में बढ़ जाती है कार्बन डाइऑक्साइड? जानिए क्या है सच

कोरोना से बचने के लिए मास्क लगाना बहुत जरूरी है। देश-दुनिया के हेल्थ एक्सपर्ट और डॉक्टर लगातार मास्क लगाने पर जोर दे रहे हैं। इधर सोशल मीडिया पर मास्क को लेकर एक अलग चर्चा हो रही है। बताया जा रहा है कि ज्यादा देर तक मास्क लगाने से हमारे शरीर में CO2 (कार्बन डाइऑक्साइड) का लेवल बढ़ सकता है। यह खतरनाक है। इसलिए लंबे समय तक मास्क न लगाएं। | Keeping a mask on for a long time is dangerous, the level of CO2 in the body can increase

ढाका के गवर्नमेंट हाउस पर जब भारत के मिग विमानों ने किया हमला - BBC News हिंदी1971 युद्ध की दसवीं कड़ी में सुनिए किस तरह भारत के मिग विमानों ने ढाका के गवर्नमेंट हाउस में चल रही उच्च स्तरीय बैठक के दौरान वहां हवाई हमला किया. इस हमले ने इतना बड़ा मनोवैज्ञानिक दबाव बनाया की दो दिन बाद 93000 पाकिस्तानी सैनिकों ने भारतीय सेना के सामने आत्मसमर्पण कर दिया. तब इंदिरा गाँधी PM थीं। कनिष्ठ सहायक 04/2019 की टंकण परीक्षा को 4 माह से अधिक का समय बीत गया है किन्तु Upsssc ने टंकण परीक्षा परिणाम ही नहीं बल्कि DV का Schedule भी नहीं जारी किया जबकि आयोग को 2 बार लखनऊ जाकर ज्ञापन द्वारा अवगत कराया जाता चुका है! किन्तु आयोग ने कोई संज्ञान नहीं लिया है जय भारत जय गगन् गर्जना i a f

यूक्रेन पर रूस के हमले के ख़तरे को देख बाइडन ने दी चेतावनी - BBC Hindiअमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने रूस को चेतावनी देते हुए कहा है कि वो ‘सीमा रेखा’ न लांघे क्योंकि यह बर्दाश्त नहीं किया जाएगा.

दिल्ली MCD चुनाव के लिए AAP ने फूंका बिगुल, सिसोदिया ने लॉन्च किया सदस्यता अभियानपंजाब, उत्तराखंड, गोवा और उत्तर प्रदेश में चुनावी तैयारियों के बीच दिल्ली में भी आगामी MCD चुनाव के लिए आम आदमी पार्टी ने बिगुल फूंक दिया है. आईटीओ स्थित पार्टी दफ़्तर में कार्यकर्ताओं और निगम के तमाम पार्षदों की मौजूदगी में डिप्टी सीएम मनीष सिसोदिया और AAP के दिल्ली संयोजक गोपाल राय ने मिस्ड कॉल सदस्यता अभियान की शुरुआत की.

अमेरिकी विदेश विभाग के अधिकारियों के आईफोन पेगासस के ज़रिये हैक किए गए: रिपोर्टसमाचार एजेंसी रॉयटर्स की रिपोर्ट के अनुसार, इज़रायली कंपनी एनएसओ के पेगासस स्पायवेयर के ज़रिये युगांडा स्थित या युगांडा से संबंधित मामले देख रहे अमेरिकी विदेश विभाग के अधिकारियों के आईफोन में सेंधमारी की गई है. इस घटना को एनएसओ के माध्यम से अमेरिकी अधिकारियों पर की गई सबसे बड़ी हैकिंग बताया जा रहा है. America's Frankenstein.

Omicron : केंद्र ने छह राज्यों को किया अलर्ट, चिट्ठी लिखकर दी हिदायतेंOmicron वैरिएंट के खतरे को लेकर केंद्रीय स्वास्थ्य सचिव ने छह राज्यों को चिट्ठी लिखकर चिंता जताई है. इन छह राज्यों में केरल, जम्मू कश्मीर, तमिलनाडु, कर्नाटक, ओडीशा और मिजोरम शामिल हैं. केंद्र सरकार चुनाव में व्यस्त । जब केंद्र क्या कर रहा था जब विदेश से नागरिक भारत आ रहे थे जांच के नाम पर खानापूर्ति कर रहे थे ‌। Phir bhi focus on election Aditya Birla Sunlife insurance is a fraud company and looting the people through their insurance policies. I request to all Indians not to purchase the insurance policies of Aditya Birla Sunlife insurance. Otherwise, you have to weep for your this decision like me.

'मुंबईकर' के आगे भारत के शेर ढेर: मुंबई में जन्मे एजाज ने टीम इंडिया के सभी 10 विकेट लिए, कुंबले के रिकॉर्ड की बराबरी कीभारत में क्रिकेट का गढ़ है मुंबई। मुंबई ने भारत के लिए खेलने वाले एक से बढ़कर एक क्रिकेटर दिए हैं। इन खिलाड़ियों ने दुनियाभर में जाकर विपक्षी टीम को परास्त किया है। लेकिन, आज इसी मुंबई में पैदा हुआ एक खिलाड़ी भारतीय टीम के लिए उलझन बन गया। न्यूजीलैंड के लिए खेल रहे एजाज खान ने भारतीय बल्लेबाजों के गुरूर को उसी जमीन पर ला दिया जहां वो पैदा हुए थे। | Ajaz Patel Wickets Video; Shubman Gill, Virat Kohli Shreyas Iyer Out By Spinners | IND vs NZ 2nd Test