Maharashtra, Police, Parambirsingh, Supremecourt, Anildeshmukh, महाराष्ट्र, पुलिस, परमबीरसिंह, सुप्रीमकोर्ट, अनिलदेशमुख

Maharashtra, Police

आश्चर्य है कि परमबीर सिंह को अब राज्य पुलिस पर भरोसा नहीं है: सुप्रीम कोर्ट

आश्चर्य है कि परमबीर सिंह को अब राज्य पुलिस पर भरोसा नहीं है: सुप्रीम कोर्ट #Maharashtra #Police #ParambirSingh #SupremeCourt #AnilDeshmukh #महाराष्ट्र #पुलिस #परमबीरसिंह #सुप्रीमकोर्ट #अनिलदेशमुख

13-06-2021 02:30:00

आश्चर्य है कि परमबीर सिंह को अब राज्य पुलिस पर भरोसा नहीं है: सुप्रीम कोर्ट Maharashtra Police ParambirSingh SupremeCourt AnilDeshmukh महाराष्ट्र पुलिस परमबीरसिंह सुप्रीमकोर्ट अनिलदेशमुख

परमबीर सिंह की उनके ख़िलाफ़ चल रही जांच महाराष्ट्र से बाहर किसी स्वतंत्र एजेंसी से कराने के अनुरोध वाली याचिका सुनते हुए सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि यह बहुत ‘आश्चर्य की बात है’ कि राज्य में 30 साल से ज्यादा सेवा देने के बाद मुंबई के पूर्व पुलिस आयुक्त परमबीर सिंह अब कह रहे हैं कि उन्हें राज्य पुलिस पर भरोसा नहीं है.

नई दिल्ली:सुप्रीम कोर्ट ने शुक्रवार को कहा कि यह बहुत ‘आश्चर्य की बात है’ कि राज्य में 30 साल से ज्यादा सेवा देने के बाद मुंबई के पूर्व पुलिस आयुक्त परमबीर सिंह अब कह रहे हैं कि उन्हें राज्य पुलिस पर भरोसा नहीं है और उनके खिलाफ चल रही सभी जांच महाराष्ट्र से बाहर किसी स्वतंत्र एजेंसी से कराने की मांग कर रहे हैं.

विजय माल्या के ख़िलाफ़ ब्रिटेन की अदालत का बड़ा फ़ैसला - BBC Hindi असम-मिज़ोरम विवाद में क्या-क्या हुआ और क्या है पूरा मामला? - BBC News हिंदी पेगासस से जासूसी की लिस्ट में और नाम बढ़े: रिपोर्ट में दावा- ED ऑफिसर, BSF के पूर्व DG और केजरीवाल के चीफ एडवाइजर की भी जासूसी हुई

सिंह के खिलाफ चल रही जांच महाराष्ट्र से बाहर किसी स्वतंत्र एजेंसी से कराने की अनुरोध करने वाली याचिका पर सुनवाई करते हुए जस्टिस हेमंत गुप्ता और जस्टिस वी. रामासुब्रमणियन की अवकाश पीठ ने कहा, ‘यह सामान्य कहावत है कि शीशे के घर में रहने वालों को दूसरों पर पत्थर नहीं उछालना चाहिए.’

न्यायालय ने जब कहा कि वह याचिका खारिज करने का आदेश पारित करेगा, सिंह के अधिवक्ता ने कहा कि वह याचिका वापस लेंगे और अन्य न्यायिक उपाय अपनाएंगे.सिंह 1988 बैच के आईपीएस अधिकारी हैं. उन्हें 17 मार्च को मुंबई पुलिस आयुक्त के पद से हटाकर महाराष्ट्र राज्य होम गार्ड का जनरल कमांडर नियुक्त किया गया. इस फेर-बदल के बाद उन्होंनें राज्य के गृहमंत्री और एनसीपी के वरिष्ठ नेता अनिल देशमुख के खिलाफ भ्रष्टाचार के आरोप लगाए. headtopics.com

सिंह की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता महेश जेठमलानी ने कहा कि याचिका दायर करने वाले के खिलाफ एक के बाद एक मुकदमे सिर्फ इसलिए दायर नहीं किए जा सकते क्योंकि वह व्हिसिलब्लोअर हैं.उन्होंने कहा कि सिंह फिलहाल उनके खिलाफ चल रही सभी जांच को राज्य के बाहर स्थानांतरित करने और जांच सीबीआई जैसी किसी स्वतंत्र एजेंसी को सौंपने का निर्देश देने का अनुरोध कर रहे हैं.

पीठ ने कहा, ‘हमारे लिए यह आश्चर्य की बात है. आप महाराष्ट्र कैडर का हिस्सा रहे हैं और 30 साल से ज्यादा लंबी सेवा दी है. अब आप कह रहे हैं कि आपको अपने ही राज्य पुलिस पर विश्वास नहीं है. यह आश्चर्यजनक है.’वीडियो कांफ्रेंस के जरिये हो रही सुनवाई में जेठमलानी ने कहा कि बॉम्बे हाईकोर्ट ने देशमुख के खिलाफ सिंह के आरोपों की सीबीआई जांच कराने का आदेश दिया है.

उन्होंने दलील दी कि जांच अधिकारी सिंह पर उस पत्र को वापस लेने का दबाव बना रहे हैं जिसमें उन्होंने पूर्व मंत्री के खिलाफ आरोप लगाए हैं.पीठ ने कहा, ‘ये दोनों अलग-अलग बातें हैं. पूर्व मंत्री के खिलाफ जांच और आपके (सिंह) खिलाफ जांच अलग-अलग बातें हैं. आप 30 साल तक पुलिस बल में रहे हैं. आपको पुलिस बल पर संदेह नहीं होना चाहिए. अब आप ऐसा नहीं कह सकते हैं कि आप राज्य से बाहर की एजेंसी से जांच कराना चाहते हैं.’

जेठमलानी ने पीठ से कहा कि सिंह किसी ‘शीशे के मकान’ में नहीं रह रहे हैं और उन्हें फंसाने के लिए फर्जी मुकदमे दायर किए गए हैं.बॉम्बे हाईकोर्ट इससे पहले पूर्व मंत्री देशमुख के खिलाफ परमबीर सिंह सहित तीन व्यक्तियों द्वारा दायर जनहित याचिकाओं में लगाए गए आरोपों की जांच सीबीआई से कराने का आदेश दे चुका है. headtopics.com

यूपी से बिहार भेजे जाने पर बोले मुकेश सहनी, बीजेपी 'जातिवादी मानसिकता' से ग्रसित - BBC Hindi असम-मिज़ोरम सीमा पर संघर्ष में असम पुलिस के छह जवान मारे गए - BBC News हिंदी असम-मिजोरम बॉर्डर पर फायरिंग: जमीन विवाद में दोनों राज्यों की पुलिस और नागरिक भिड़े, आंसू गैस और लाठियां चलीं; असम के CM बोले-हमारे 6 जवान मारे गए

हालांकि देशमुख ने इन आरोपों से इनकार किया था लेकिन उन्हें मामले में इस्तीफा देना पड़ा था.दरअसल, 1988 बैच के आईपीएस अधिकारी ने राज्य के तत्कालीन गृह मंत्री और वरिष्ठ एनसीपी नेता अनिल देशमुख पर भ्रष्टाचार के आरोप लगाये थे जिसके बाद उनका तबादला किया गया था.

सिंह को 17 मार्च को मुंबई पुलिस आयुक्त के पद से हटाया गया था और महाराष्ट्र राज्य होमगार्ड का जनरल कमांडर बनाया गया था.वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने शीर्ष अदालत में दायर याचिका में आरोप लगाया है कि राज्य सरकार और उसके पदाधिकारियों ने उन पर अनेक जांच थोपी हैं. उन्होंने इन्हें महाराष्ट्र के बाहर हस्तांतरित करने तथा सीबीआई जैसी किसी स्वतंत्र जांच एजेंसी से पड़ताल कराने का अनुरोध किया है.

सिंह पर ऐसे कई मामलों में से 2015 के एक मामले में अनुसूचित जाति और अनुसूचित जनजाति (अत्याचार रोकथाम) अधिनियम के तहत जांच चल रही है. उन्होंने दावा किया है कि उनके खिलाफ बदले की भावना से इस तरह की जांच कार्रवाई की जा रही हैं.सिंह के खिलाफ अत्याचार अधिनियम के तहत दर्ज प्राथमिकी पुलिस निरीक्षक घाडगे द्वारा दायर एक शिकायत पर आधारित है. घाडगे वर्तमान में महाराष्ट्र के अकोला में तैनात है. घाडगे ने सिंह और अन्य अधिकारियों के खिलाफ भ्रष्टाचार के कई आरोप लगाए हैं.

घाडगे ने प्राथमिकी में आरोप लगाया है कि जब सिंह ठाणे में तैनात थे, उस समय उन्होंने एक मामले से कुछ लोगों के नाम हटाने को लेकर उन पर दबाव डाला और जब उन्होंने इनकार कर दिया, तो आईपीएस अधिकारी ने उन्हें झूठे मामलों में फंसा दिया.प्राथमिकी भारतीय दंड संहिता की विभिन्न धाराओं और अनुसूचित जाति एवं अनुसूचित जनजाति (अत्याचार रोकथाम) कानून के प्रावधानों के तहत दर्ज की गई है. headtopics.com

हालांकि, महाराष्ट्र सरकार ने बृहस्पतिवार को बॉम्बे हाईकोर्ट से कहा कि वह मुंबई पुलिस के पूर्व आयुक्त परमबीर सिंह के खिलाफ एससी/एसटी (अत्याचार रोकथाम) अधिनियम के तहत दर्ज मामले में 15 जून तक उन्हें गिरफ्तार नहीं करेगी.सिंह ने राज्य सरकार द्वारा उनके खिलाफ शुरू की गई दो अन्य जांच को चुनौती देते हुए एक अन्य याचिका दायर की है.

जांच संबंधी पहला आदेश एक अप्रैल को राज्य के तत्कालीन गृह मंत्री अनिल देशमुख ने अखिल भारतीय सेवा (आचरण) नियमों के कथित उल्लंघन को लेकर पारित किया गया था. दूसरा आदेश 20 अप्रैल को वर्तमान गृह मंत्री (दिलीप वालसे पाटिल) ने सिंह के खिलाफ लगाए गए भ्रष्टाचार के आरोपों को लेकर पारित किया गया था.

9,000 करोड़ रुपए की बैंक धोखाधड़ी: विजय माल्या को ब्रिटेन की कोर्ट ने दिवालिया घोषित किया, अब दुनियाभर में उसकी संपत्ति जब्त कर सकेंगे भारतीय बैंक इमरान ख़ान पाकिस्तान प्रशासित कश्मीर में जीत पर बोले- आवाज़ उठाता रहूँगा - BBC Hindi टोक्यो ओलिंपिक: महिला हॉकी में भारतीय टीम की लगातार दूसरी हार, जर्मनी ने 2-0 से हराया; जापान की 13 साल की मोमिजी ने गोल्ड जीता

बॉम्बे हाईकोर्ट के जस्टिस एसएस शिंदे और जस्टिस एन जे जमादार की पीठ 14 जून को इस तीनों याचिकाओं पर सुनवाई करेगी.समाचार एजेंसीपीटीआईके अनुसार, महाराष्ट्र सरकार मुंबई के पूर्व पुलिस आयुक्त परमबीर सिंह द्वारा राज्य के गृह मंत्री अनिल देशमुख के खिलाफ लगाए गए भ्रष्टाचार के आरोपों की जांच के लिए हाईकोर्ट के एक रिटायर्ड जज की अध्यक्षता में एक

समिति गठितकी है. और पढो: द वायर हिंदी »

ऑपरेशन Al Qaeda में UP ATS किए कौन से नए खुलासे? देखें खबरदार

लखनऊ में अलकायदा का टेरर मॉड्यूल ध्वस्त हुआ है. ये टेरर मॉड्यूल धीरे धीरे डिकोड हो रहा है. पिछले 24 घंटे में जांच काफी आगे बढ़ चुकी है. यूपी एटीएस और यूपी पुलिस की टीमें लगी हैं. जगह जगह संदिग्धों की तलाश हो रही है.एजेंसियां एक एक जानकारी निकालने में जुटी हैं. अलकायदा से जुड़े जिन दो संदिग्ध आतंकियों को कल पकड़ा गया था। उनसे अब तक की पूछताछ में कई बड़े खुलासे हुए हैं। ये संदिग्ध आतंकी कैसे आतंक के DIY मॉड्यूल पर काम कर रहे थे. इस एपिसोड में जानिए यूपी एटीएस के ऑपरेशन अलकायदा में नए खुलासे क्या हुए हैं. देखें वीडियो.

अर्नब गोस्वामी😢😢 Yehi sach hai

'लगता है मोदी के दिमागी सॉफ्टवेयर में कोई वायरस आ चुका है...',पीएम मोदी का जो पुराना वीडियो दिग्विजय सिंह ने शेयर किया है, उसमें ऑडियंस मोदी-मोदी के नारे लगा रही है, इस पर दिग्विजय ने कहा है- 'मोदी मोदी मोदी ..... नारे लगाने वाले अंध भक्तों अब कहां हो? कहां छिपे हो?' लगता है हैग हो गया

कौन है आयशा सुल्ताना: लक्षद्वीप में जिनके खिलाफ दर्ज हुआ है मामलालक्षद्वीप की रहने वाली अभिनेत्री, मॉडल और फिल्ममेकर आयशा सुल्ताना पर कवरत्ती पुलिस ने देशद्रोह और गलत भाषा का उपयोग इसकी नागरिकता कहाँ की है अगर ये बांग्लादेश की पैदाईश है और लक्षद्वीप कैसे आयी What are we Indians waiting for? The authoritarian regime is at its peak. It's time to react. If not it will be too late. saveLakshwadeep AishaSultana

क्या है Uttar Pradesh का जाति समीकरण, ज‍िसपर ट‍िकी है BJP की सियासी बिसातउत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की पार्टी के शीर्ष नेताओं से हुई मुलाकातों के मायने बहुत बड़े है क्योंकि एक साथ कई घटनाक्रम बीजेपी के अंदर चल रहे हैं. अगले साल उत्तर प्रदेश में चुनाव है. योगी दिल्ली में हैं और बीजेपी उत्तर प्रदेश के जाति समीकरण को चुनावी मिशन के हिसाब से साधने में जुट गई है. देखिए क्या है बीजेपी की तैयारी.

मोसाद : आतंकियों की किलिंग मशीन है यह एजेंसी, जानिए कैसे करती है काम और क्या है बड़े ऑपरेशनमोसाद : छोटे देश की बड़ी एजेंसी, खौफ खाते हैं आतंकी, जानिए काम का तरीका और बड़े ऑपरेशन mossad Israel Iran yoheekohen

नरेंद्र मोदी का ये दावा कि राज्यों ने ख़ुद कोविड टीके खरीदने की मांग की थी, ग़लत हैसुप्रीम कोर्ट की फटकार के बाद सात जून को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने टीकाकरण नीति में बदलाव की घोषणा की और पुरानी नीति के लिए राज्यों को ज़िम्मेदार ठहरा दिया. हालांकि ऑल्ट न्यूज़ की पड़ताल बताती है कि दो मुख्यमंत्रियों के बयानों को छोड़ दें, तो किसी भी राज्य ने ख़ुद वैक्सीन खरीदने की मांग नहीं की थी. New India में झूठ बोलना New normal hai 😂 झूठ पकड़ा भी जाता है तब भी शर्म नही आती हैं अपनी जिम्मेदारी के अहसास से वह छटपटा रहे थे देश के सारे अधिकार किसी एक के हाथ में बंधक थे , उनकी आत्मा उन्हें धिक्कार रही थी। जिनसे उम्मीद थी वह धरती पर नहीं थे !

कोरोना: क्या है 'प्रिविलेज वीजा' और महामारी में क्यों बढ़ी इसकी डिमांड, खासियत समेत जानें सबकुछकोरोना: क्या है 'प्रिविलेज वीजा' और महामारी में क्यों बढ़ी इसकी डिमांड, खासियत समेत जानें सबकुछ PrivilageVisa CoronaVirusUpdates CoronavirusPandemic सभी उत्तराखण्ड के Nursing Staff की यही पुकार 15 जून को परीक्षा हो अबकी बार Nurses_Wants_Exam TIRATHSRAWAT AnilBaluni4UK babyranimaurya DrRPNishank narendramodi ganeshjoshibjp