आम आदमी को झटका: एक जनवरी से महंगी हो जाएगी एटीएम से धन निकासी

आम आदमी को झटका: एक जनवरी से महंगी हो जाएगी एटीएम से धन निकासी #ATM #Money #Withdrawals #Bank @RBI

Atm, Money

03-12-2021 01:40:00

आम आदमी को झटका: एक जनवरी से महंगी हो जाएगी एटीएम से धन निकासी ATM Money Withdrawals Bank RBI

ग्राहकों के लिए नए साल से बैंकिंग सेवा महंगी होने जा रही है। एक जनवरी से एटीएम से पैसे निकालने पर ज्यादा शुल्क चुकाना

आरबीआई के अनुसार, हर बैंक अपने ग्राहक को नकदी व अन्य वित्तीय सेवाओं के लिए हर महीने निशुल्क सीमा तय करता है। सेवा का इससे ज्यादा इस्तेमाल करने पर बैंक शुल्क वसूलते हैं।रिजर्व बैंक ने कहा था कि ज्यादा इंटरचेंज शुल्क व लागत बढ़ने की वजह से बैंकों को एटीएम से धन निकासी शुल्क बढ़ाने की इजाजत दी जाती है। अब एक्सिस, एचडीएफसी सहित अन्य सरकारी व निजी बैंकों से धन निकासी पर ज्यादा शुल्क चुकाना होगा।

हर महीने आठ मुफ्त लेनदेनबैंक अभी ग्राहकों को हर महीने आठ मुफ्त लेनदेन की छूट देते हैं। इसमें वित्तीय और गैर वित्तीय दोनों तरह के लेनदेन शामिल हैं। जिस बैंक में ग्राहक का खाता है, उसके एटीएम से हर महीने पांच मुफ्त लेनदेन मिलता है। इसके अलावा मेट्रो शहरों में अन्य बैंकों के एटीएम से तीन व गैर मेट्रो शहरों में अन्य बैंक के एटीएम से पांच मुफ्त लेनदेन भी कर सकते हैं। अभी एटीएम से प्रति निकास 20 रुपये लगता है, जिसे एक जनवरी से बढ़ाकर 21 रुपये कर दिया जाएगा। इस पर सेवा कर के रूप में जीएसटी भी देना होगा।

बढ़ा इंटरचेंज शुल्क अगस्त से ही लागूरिजर्व बैंक ने बैंकों के बीच एटीएम पर लगने वाले इंटरचेंज शुल्क की बढ़ी दरें अगस्त से ही लागू कर दी हैं। बैंकों को प्रति लेनदेन के लिए इंटरचेंज शुल्क 15 के बजाए अब 17 रुपये देना पड़ता है। यह शुल्क सभी वित्तीय लेनदेन पर लागू है, जबकि गैर वित्तीय लेनदेन के लिए इंटरचेंज शुल्क 6 रुपये हो गया है, जो पहले 5 रुपये था। headtopics.com

Afghanistan Crisis: रोटी के लिए बेटियों और किडनी को बेच रहे लोग! लोगों की रुलाने वाली कहानी

इंटरचेंज शुल्क का मतलब है कि एक बैंक अपने ग्राहक को दूसरे बैंक का एटीएम इस्तेमाल करने की सुविधा देता है, जिसके लिए उसे संबंधित एटीएम वाले बैंक को शुल्क चुकाना पड़ता है। बैंक इस शुल्क की भरपाई अपने ग्राहकों से ही करते हैं।मारुति अगले महीने फिर बढ़ाएगी दाम, एक साल में चौथी बार

उत्पादन की बढ़ती लागत के दबाव में मारुति सुजुकी इंडिया (एमएसआई) जनवरी से फिर वाहनों की कीमतें बढ़ाने जा रही है। कंपनी की एक साल के भीतर यह चौथी बढ़ोतरी होगी।मारुति के वरिष्ठ कार्यकारी निदेशक शशांक श्रीवास्तव ने बृहस्पतिवार को बताया कि स्टील, एल्युमीनियम, कॉपर, प्लास्टिक सहित सभी कमोडिटीज की कीमतें लगातार बढ़ रही हैं। वाहन बनाने में इनकी लागत 75-80 फीसदी होती है। अप्रैल-मई में स्टील का भाव 38 रुपये प्रति किलोग्राम था, जो अब 77 रुपये पहुंच गया है।

एल्युमीनियम भी 1,700-1,800 डॉलर प्रति टन से बढ़कर 2,700-2,800 डॉलर प्रति टन में बिक रहा। लागत के इस दबाव को कम करने के लिए हमें एक बार फिर कीमतें बढ़ानी होंगी। इससे पहले जनवरी में कीमतें 1.4 फीसदी, अप्रैल में 1.6 फीसदी और सितंबर में 1.9 फीसदी बढ़ाई थी।

पति के गंदे मोजे से खुला धोखेबाजी का राज़, गलती से सौतन ने छोड़ दी थी अपनी निशानी

ऑडी भी तीन फीसदी महंगीजर्मन लग्जरी कार निर्माता ऑडी ने बृहस्पतिवार को बताया कि जनवरी से सभी मॉडल की कीमतों में तीन फीसदी इजाफा किया जाएगा। ऑडी इंडिया हेड बलबीर सिंह ढिल्लों ने बताया कि वैश्विक बाजार में कमोडिटी के भाव बढ़ रहे हैं, जिससे हमारी उत्पादन लागत पर दबाव है। लिहाजा हम न चाहते हुए भी कीमतें बढ़ाने को मजबूर हैं। headtopics.com

विस्तार होगा। रिजर्व बैंक ने जून में ही बैंकों को निशुल्क सीमा के बाद शुल्क बढ़ाने की इजाजत दे दी थी, जो नए साल से प्रभावी होगा।विज्ञापनआरबीआई के अनुसार, हर बैंक अपने ग्राहक को नकदी व अन्य वित्तीय सेवाओं के लिए हर महीने निशुल्क सीमा तय करता है। सेवा का इससे ज्यादा इस्तेमाल करने पर बैंक शुल्क वसूलते हैं।

रिजर्व बैंक ने कहा था कि ज्यादा इंटरचेंज शुल्क व लागत बढ़ने की वजह से बैंकों को एटीएम से धन निकासी शुल्क बढ़ाने की इजाजत दी जाती है। अब एक्सिस, एचडीएफसी सहित अन्य सरकारी व निजी बैंकों से धन निकासी पर ज्यादा शुल्क चुकाना होगा।हर महीने आठ मुफ्त लेनदेनबैंक अभी ग्राहकों को हर महीने आठ मुफ्त लेनदेन की छूट देते हैं। इसमें वित्तीय और गैर वित्तीय दोनों तरह के लेनदेन शामिल हैं। जिस बैंक में ग्राहक का खाता है, उसके एटीएम से हर महीने पांच मुफ्त लेनदेन मिलता है। इसके अलावा मेट्रो शहरों में अन्य बैंकों के एटीएम से तीन व गैर मेट्रो शहरों में अन्य बैंक के एटीएम से पांच मुफ्त लेनदेन भी कर सकते हैं। अभी एटीएम से प्रति निकास 20 रुपये लगता है, जिसे एक जनवरी से बढ़ाकर 21 रुपये कर दिया जाएगा। इस पर सेवा कर के रूप में जीएसटी भी देना होगा।

PSL 2022: शाहिद अफरीदी टीम के मैच से 1 दिन पहले कोरोना पॉजिटिव, एक कप्तान भी संक्रमित

बढ़ा इंटरचेंज शुल्क अगस्त से ही लागूरिजर्व बैंक ने बैंकों के बीच एटीएम पर लगने वाले इंटरचेंज शुल्क की बढ़ी दरें अगस्त से ही लागू कर दी हैं। बैंकों को प्रति लेनदेन के लिए इंटरचेंज शुल्क 15 के बजाए अब 17 रुपये देना पड़ता है। यह शुल्क सभी वित्तीय लेनदेन पर लागू है, जबकि गैर वित्तीय लेनदेन के लिए इंटरचेंज शुल्क 6 रुपये हो गया है, जो पहले 5 रुपये था।

इंटरचेंज शुल्क का मतलब है कि एक बैंक अपने ग्राहक को दूसरे बैंक का एटीएम इस्तेमाल करने की सुविधा देता है, जिसके लिए उसे संबंधित एटीएम वाले बैंक को शुल्क चुकाना पड़ता है। बैंक इस शुल्क की भरपाई अपने ग्राहकों से ही करते हैं।मारुति अगले महीने फिर बढ़ाएगी दाम, एक साल में चौथी बार headtopics.com

उत्पादन की बढ़ती लागत के दबाव में मारुति सुजुकी इंडिया (एमएसआई) जनवरी से फिर वाहनों की कीमतें बढ़ाने जा रही है। कंपनी की एक साल के भीतर यह चौथी बढ़ोतरी होगी।मारुति के वरिष्ठ कार्यकारी निदेशक शशांक श्रीवास्तव ने बृहस्पतिवार को बताया कि स्टील, एल्युमीनियम, कॉपर, प्लास्टिक सहित सभी कमोडिटीज की कीमतें लगातार बढ़ रही हैं। वाहन बनाने में इनकी लागत 75-80 फीसदी होती है। अप्रैल-मई में स्टील का भाव 38 रुपये प्रति किलोग्राम था, जो अब 77 रुपये पहुंच गया है।

एल्युमीनियम भी 1,700-1,800 डॉलर प्रति टन से बढ़कर 2,700-2,800 डॉलर प्रति टन में बिक रहा। लागत के इस दबाव को कम करने के लिए हमें एक बार फिर कीमतें बढ़ानी होंगी। इससे पहले जनवरी में कीमतें 1.4 फीसदी, अप्रैल में 1.6 फीसदी और सितंबर में 1.9 फीसदी बढ़ाई थी।

ऑडी भी तीन फीसदी महंगीजर्मन लग्जरी कार निर्माता ऑडी ने बृहस्पतिवार को बताया कि जनवरी से सभी मॉडल की कीमतों में तीन फीसदी इजाफा किया जाएगा। ऑडी इंडिया हेड बलबीर सिंह ढिल्लों ने बताया कि वैश्विक बाजार में कमोडिटी के भाव बढ़ रहे हैं, जिससे हमारी उत्पादन लागत पर दबाव है। लिहाजा हम न चाहते हुए भी कीमतें बढ़ाने को मजबूर हैं।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?हांखबर की भाषा और शीर्षक से आप संतुष्ट हैं?हांखबर के प्रस्तुतिकरण से आप संतुष्ट हैं?हांखबर में और अधिक सुधार की आवश्यकता है?

और पढो: Amar Ujala »

UP Elections: अमित शाह से मुलाकात, क्या मान जाएंगे जाट? देखें शंखनाद

उत्तर प्रदेश की सियासी बिसात बिछ चुकी है, पहले दो चरण में पश्चिमी यूपी में मतदान होना है जिसके लिए हर पार्टी ने पूरा जोर लगा दिया है. कोई मुस्लिम तुष्टीकरण की सियासत कर रहा है तो कोई ध्रुवीकरण के साथ मैदान पर है. इस सियासी खेल के दो सबसे बड़े कार्ड हैं पहला जाट और दूसरा मुस्लिम. जिसे लेकर हर पार्टी अपनी रणनीति तय कर रही है. आज केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने जाट नेताओं के साथ मुलाकात की. जहां उस नाराजगी को दूर करने की कोशिश है जो कृषि कानूनों के बाद बीजेपी और जाट नेताओं के बीच आई. देखिए शंखनाद का ये एपिसोड. और पढो >>

हमारी आकाशगंगा से टकराने वाले हैं दो आसमानी 'शैतान', अंतरिक्ष में 'महायुद्ध' से सहमे वैज्ञानिकइन दोनों गैसीय बादलों का जन्म हमारी आकाशगंगा के नजदीक स्थित दो बौनी आकाशगंगाओं के आपसी खींचतान से हुआ है। इन बौनी आकाशगंगाओं का द्रव्यमान हमारी आकाशगंगा की तुलना में लगभग 100 गुना कम है। अब ये गैसीय गोले हमारी आकाशगंगा के गुरुत्वाकर्षण से तेजी से पास आ रहे हैं।

ज्ञान विज्ञान: ब्रह्मांड की गहराई को देखेगी अब एक नई आंखवैज्ञानिकों को उम्मीद है कि नए जेम्स वेब टेलिस्कोप से ब्रह्मांड में और अंदर तक झांका जा सकेगा। 22 दिसंबर को इसे अंतरिक्ष में भेजने का कार्यक्रम है।

कोरोना वायरस: दक्षिण अफ्रीका में संक्रमण बेलगाम एक हफ्ते में 400 फीसदी बढ़ाकोविड के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन की पहचान के बाद से दक्षिण अफ्रीका में कोविड से संक्रमण के मामलों में 403 फीसदी की भयानक वृद्धि

गाजियाबाद : इंदिरापुरम की सोसायटी की एक बिल्डिंग में 5वें माले पर आग, दिखा भयानक मंजरवहां मौजूद लोगों ने तत्काल इस घटना की जानकारी दमकल विभाग को दी. सूचना पर दमकल की टीम मौके पर पहुंचकर आग बुझाने का प्रयास कर रही है

दिल्ली में इस डॉक्यूमेंट की वैलिडिटी एक महीने आगे बढ़ी, अब बिना रोकटोक कर सकेंगे ड्राइविंगलर्निंग लाइसेंस की डेट आगे बढ़ाने के फैसले की कॉपी काे दिल्ली परिवहन विभान ने ट्विटर पर शेयर किया है। जिसमें परिवहन विभाग ने कहा कि, कोरोना महामारी और ड्राइविंग टेस्ट के लिए स्लॉट लेने में लोगों को मुश्किल हो रही थी। जिसको देखते हुए परिवहन विभाग ने यह निर्णय लिया है।

एक देश बारह दुनियाः अछूते, अदेखे सच का मार्मिक आख्यानकुछ किताबें अपने आपमें ऐतिहासिक होती हैं. किसी दस्तावेज सरीखी. ऐसी कि हमारे वर्तमान का चेहरा इतना साफ दिखता है कि हम और हमारा समाज बेनकाब हो जाते हैं. पत्रकार और शोधार्थी शिरीष खरे की किताब 'एक देश बारह दुनिया- हाशिये पर छूटे भारत की तस्वीर' ऐसी ही है.