आत्मनिर्भर भारत बनाने में मोदी सरकार को कितनी कामयाबी मिली? - BBC News हिंदी

मोदी सरकार को आत्मनिर्भर भारत बनाने में कितनी कामयाबी मिली?

10-06-2021 05:39:00

मोदी सरकार को आत्मनिर्भर भारत बनाने में कितनी कामयाबी मिली?

चीन के साथ हुईं झड़पों के बाद प्रधानमंत्री मोदी ने आत्मनिर्भर भारत का नारा दिया था, पढ़िये किन क्षेत्रों में कितनी कामयाबी मिली

समाप्तबहरहाल, प्रधानमंत्री का ये स्लोगन सोशल मीडिया अभियान बन गया. मंत्रियों, राज्य सरकारों, अफ़सरों और उद्योगपतियों से लेकर आम नागरिकों ने आत्मनिर्भरता की बातें बढ़-चढ़कर कीं.पिछले साल जून में गलवान घाटी में चीन के साथ हुई सैन्य झड़पों ने इस शब्द को न केवल और भी ज़्यादा बल दिया बल्कि इसमें देशभक्ति का जज़्बा भी जोड़ दिया, भारत सरकार ने कई चीनी ऐप्स पर प्रतिबंध लगा दिया और चीनी आयात पर निर्भरता को कम करने के लिए आत्मनिर्भरता का नारा और भी बुलंद करना शुरू कर दिया.

शरद पवार क्या नरेंद्र मोदी के सामने किसी तरह का ‘मोर्चा’ खड़ा कर सकते हैं - BBC News हिंदी PAK ने अफगानिस्तान में क्या किया ये दुनिया जानती है, पकिस्तानी मंत्री को भारत का जवाब गुना में बैंककर्मियों की गुंडागर्दी: कोरोना कर्फ्यू में दुकान बंद होने से नहीं चुका पाए लोन की किश्त, बैंक वालों ने घर जाकर परिवार से की मारपीट; घटना CCTV में कैद

इमेज स्रोत,Yurchello108साल भर से अधिक समय बीतने के बाद देश कितना आत्मनिर्भर हुआ है? आर्थिक मामलों में प्रधानमंत्री के सलाहकारों में से एक नीलेश शाह कहते हैं कि भारत में आत्मनिर्भरता कोई नई अवधारणा नहीं है. शाह कोटक महिंद्रा एसेट मैनेजमेंट के सीईओ और मैनेजिंग डायरेक्टर भी हैं.

बीबीसी से एक ख़ास बातचीत में वे कहते हैं, "आत्मनिर्भरता कोई नया शब्द नहीं है. आज़ादी के बाद कई सालों तक हम दूध का आयात करते थे और फिर अमूल एक आत्मनिर्भर भारत का हिस्सा बना. आज हम दुनिया के सबसे बड़े दूध उत्पादक बन गए. तो जैसे हम अमूल के ज़रिए दूध में, हरित क्रांति के ज़रिए अनाज में, निजी क्षेत्र के कारण दवाइयों में, वैसे ही हमें आत्मनिर्भर बनना है मैन्युफैक्चरिंग और रक्षा के क्षेत्र में. ये एक सफ़र है, मंज़िल नहीं है. इस साल अगर आप दूध के सबसे बड़े उत्पादक हैं तो अगले साल भी बने रहना है." headtopics.com

इमेज स्रोत,Getty Imagesदिल्ली में फ़ोर स्कूल ऑफ़ मैनेजमेंट में चीनी मामलों के विशेषज्ञ डॉक्टर फ़ैसल अहमद कहते हैं, "लगातार पंचवर्षीय योजनाओं में आत्मनिर्भरता की बात की गई है. रक्षा, कृषि और दूध में आत्मनिर्भरता की बात की गई है लेकिन आत्मनिर्भरता पर जो ज़ोर दिया गया है उसकी वजह महामारी में लॉकडाउन के कारण सप्लाई चेन में आई बाधाएँ हैं. कोरोना लॉकडाउन के दौरान ये विचार सामने आया कि देश के अंदर ही उत्पादन क्षमता बढ़ाई जाए ताकि आगे की चुनौतियों का मुक़ाबला कर सकें.".

कुछ विशेषज्ञों का मानना है कि आत्मनिर्भरता एक कोविड प्रेरित वैश्विक प्रवृत्ति है. बीबीसी से बातें करते हुए सिंगापुर में चीनी लेखक सुन शी ने कहा कि महामारी के कारण आत्मनिर्भरता का नारा देने वाला भारत अकेला देश नहीं है.इमेज स्रोत,Getty Imagesवे कहते हैं, "इस संकट से पहले वैश्वीकरण सामान्य प्रवृत्ति थी, सब यही सोचते थे कि यह एक ग्लोबल दुनिया है इसलिए हमें व्यापार समझौतों को बढ़ाना चाहिए, लेकिन कोविड संकट के कारण ज़्यादातर देशों ने महसूस किया कि आत्मनिर्भरता भी ज़रुरी है. मुझे लगता है कि पीएम मोदी की इस नीति में दम है."

लेकिन उनके अनुसार भारत आत्मनिर्भरता के लिए तैयार नहीं है, "चीन के पास अपनी ज़रुरत के अधिकांश सामान का उत्पादन करने की क्षमता है, लेकिन भारत की घरेलू मांग बहुत अधिक है, भारत अपनी ज़रुरत के उत्पाद का एक बड़ा हिस्सा खुद नहीं बना सकता. चीन को यहां तक पहुंचने में कई दशक लगे हैं. भारत आत्मनिर्भर रातोंरात नहीं बन सकेगा."

दिलचस्प बात ये है कि चीन भी इस वैश्विक ट्रेंड का हिस्सा था, इसके बावजूद कि चीन लगभग सभी चीज़ों का उत्पादन ख़ुद करता है और दुनिया का सबसे बड़ा एक्सपोर्टर है.चीनी मामलों के विशेषज्ञ डॉक्टर फ़ैसल अहमद कहते हैं कि पहले चीन की प्राथमिकता निर्यात को बढ़ावा देना होता था लेकिन पिछले साल से कुछ बदलाव आया. headtopics.com

ज्येष्ठ पूर्णिमा के शुभ अवसर पर हुई बाबा अमरनाथ की प्रथम पूजा मुकेश अंबानी का ऐलान, रिलायंस का होगा इंटरनेशनलाइज़ेशन - BBC News हिंदी क़ानूनी चुनौती में उलझे डिजिटल न्यूज़ पर मोदी सरकार के नए नियम - BBC News हिंदी

वे कहते हैं, "राष्ट्रपति शी जिनपिंग पिछले साल मई में एक पॉलिसी लेकर आए जिसका नाम उन्होंने ड्यूल सर्कुलेशन रखा. उन्होंने कहा कि हम अब केवल एक्सटर्नल सर्कुलेशन (निर्यात) पर ही फोकस नहीं करेंगे बल्कि इंटरनल सर्कुलेशन (डोमेस्टिक मार्केट) पर भी फोकस करेंगे. ये जो इंटरनल सर्कुलेशन है वो एक तरह से चीन की अपनी आत्मनिर्भरता की पॉलिसी है."

इमेज स्रोत,Getty Imagesचीनी आयात पर निर्भरता कम करने की कोशिशगलवान घाटी में हुई झड़पों के बाद राष्ट्रवाद की भावना ने ज़ोर पकड़ा. मीडिया में चीन के ख़िलाफ़ बयान रोज़ आने लगे. कई जगहों से खबरें आईं कि जनता ने चीनी सामान में आग लगाई और उसके बहिष्कार के नारे लगाए.

चीनी निवेश पर सरकार ने कई तरह की पाबंदियाँ लगाई. और साथ ही 200 से अधिक चीनी ऐप्स पर पाबंदी लगा दी गई थी. ऐसा लगने लगा कि भारत का आत्मनिर्भरता अभियान केवल चीनी आयात के ख़िलाफ़ है.वीडियो कैप्शन,तनाव के बीच भारत-चीन व्यापार कैसे बढ़ा?चीन के साथ व्यापारसाल भर बाद अब सवाल ये है कि चीन पर निर्भरता कितनी घटी? हक़ीक़त ये है कि सभी देशों से आयात काफ़ी कम हुआ लेकिन चीन से नहीं.

साल 2019-20 में दुनिया के अलग-अलग देशों से भारत का कुल आयात 474.7 अरब डॉलर था जो 2020-21 में घटकर लगभग 345 अरब डॉलर पर रुका.साल 2019-20 में चीनी आयात की राशि 65 अरब डॉलर से थोड़ी अधिक थी जो 2020-21 में 58 अरब डॉलर से कुछ अधिक रही. रकम के हिसाब से चीनी आयात में थोड़ी-सी ही कमी आई जबकि कुल आयात के प्रतिशत के हिसाब से इसमें बढ़ोतरी ही हुई. कुल आयात में चीनी आयात का हिस्सा 13.7 प्रतिशत से बढ़कर इस साल 16.9 प्रतिशत रहा. headtopics.com

वीडियो कैप्शन,59 ऐप बैन करने के क्या मायने?भारत ने निर्यात भी कम किया और आयात भी. निर्यात 2019-20 में 313 अरब डॉलर से अधिक था जो 2020-21 में घट कर 256 अरब डॉलर से भी कम हो गया. चीन को होने वाला भारतीय निर्यात 2019-20 में 16 अरब डॉलर से थोड़ा अधिक था जो 2020-21 में बढ़कर 18 अरब डॉलर से थोड़ा ज़्यादा हुआ. यह चीन के साथ व्यापार घाटे को थोड़ा कम करता है जो भारत के लिए चिंता का विषय रहा है.

चीन से आयात अब महंगा हो गया है इसके बावजूद इसमें कमी आती दिखाई नहीं देती. दिल्ली के करोल बाग इलाक़े में राजीव चड्ढा सालों से चीन से मोटर पार्ट्स आयात करते आए हैं.रिज़र्व बैंक के इक़रार में चिंता या निर्मला सीतारमण के दीवाली गिफ़्ट में राहत?वे कहते हैं, "चीनी एक्सपोर्टरों ने सामान के दाम 20 से 40 प्रतिशत बढ़ा दिए हैं. उनकी सरकार भारत को भेजे जाने वाले सामान पर सख्ती कर रखी है. दूसरी तरफ़, भारतीय बंदरगाहों में चीनी सामानों को रिलीज़ करने में पिछले साल से काफ़ी समय लग रहा है. हमें काफ़ी दिक़्क़तें हो रही हैं.''

बिहार में वैक्‍सीनेशन के दौरान लापरवाही, वैक्‍सीन लोड किए बगैर ही युवक को लगाया इंजेक्‍शन कश्मीरी नेताओं को मोदी ने दिया भरोसा, महबूबा बोलीं- पाकिस्तान से करें बात - BBC News हिंदी दिल्ली से दिल मिलना मुश्किल: उमर बोले- एक बैठक से दूरी कम नहीं होती, महबूबा ने कहा-कश्मीरी जोर से सांस भी लें तो उन्हें जेल में डाल देते हैं

चीन में सिचुआन यूनिवर्सिटी स्कूल ऑफ़ इंटरनेशनल स्टडीज़ के एसोसिएट डीन, प्रोफेसर हुआंग यूनसॉन्ग भारत और चीन के बीच दोतरफ़ा व्यापार और भारत में चीनी निवेश को आगे बढ़ाने के पक्ष में ज़रूर हैं, लेकिन वो सावधानी बरतने की सलाह भी देते हैं.वीडियो कैप्शन,भारत-चीन तनाव का असर क्या पूरी दुनिया पर पड़ने वाला है?

बीबीसी से बातचीत में वे कहते हैं, "हम इसे द्विपक्षीय संबंधों को फिर से शुरू करने के एक अच्छे संकेत के रूप में लेते हैं, लेकिन काफ़ी एहतियात के साथ."कुल मिलकर देखें तो चिकित्सा उपकरण जैसे क्षेत्रों में एक साल में भारत ने उल्लेखनीय आत्मनिर्भरता हासिल की है. मसलन, पीपीई किट को लीजिए पिछले साल मार्च में लॉकडाउन लगने के समय भारत में पीपीई न के बराबर बनती थी. आज रोज़ाना साढ़े चार लाख से अधिक पीपीई किट बन रही है.

इमेज स्रोत,ANIदवा और रक्षा क्षेत्रभारत पीपीई किट का अब एक बड़ा निर्यातक बन गया है. मास्क का भी कुछ ऐसा ही हाल है. वेंटिलेटर बनाने वाली भारत में बहुत कम कंपनियाँ थीं. अब कई हैं. आज़ादी से महामारी तक देश में केवल 16 हज़ार वेंटिलेटर बनाए गए थे लेकिन सरकारी आंकड़ों के मुताबिक़, महामारी के एक साल बाद देश में 58 हज़ार से ज्यादा वेंटिलेटर बने. ये बात और है कि कई अस्पतालों से इनमें खामियों की शिकायतें भी आई हैं.

इसके अलावा कई तरह की दवाएं बनाने के लिए 62 प्रतिशत कच्चा माल चीन से आयात करना पड़ता था. अब कच्चे माल पर निर्भरता कम हुई है. ये बात और है कि भारत में इन कच्चे माल की लागत चीन से अधिक है.रक्षा क्षेत्र में भारत को आत्मनिर्भर बनाने पर काफ़ी ज़ोर दिया गया है. वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने पिछले दो बजटों में इस पर ज़ोर दिया, लेकिन इसमें कोई ख़ास कामयाबी अब तक नहीं मिली है.

इमेज स्रोत,Getty Imagesनीलेश शाह कहते हैं, "रक्षा क्षेत्र में टेक्नोलॉजी बहुत तेज़ी से बदलती रहती है. और वो टेक्नोलॉजी हमेशा उपलब्ध हो ऐसा ज़रूरी नहीं है. रक्षा क्षेत्र पब्लिक सेक्टर में था, अब धीरे-धीरे निजी सेक्टर में आने लगा है. हर क्षेत्र में तुरंत फल मिले यह ज़रूरी नहीं है. पहले नींव डालनी पड़ती है, उसे मज़बूत करना होता है, फिर इमारत बनती है.''

उत्पादन में भारत को आत्मनिर्भर बनाने और निर्यात बढ़ाने के लिए मोदी सरकार ने अप्रैल 2020 में 'उत्पादन से जुड़ी प्रोत्साहन योजना' या पीएलआई स्कीम शुरू की है. इसके अंतर्गत इलेक्ट्रॉनिक्स, मोबाइल फ़ोन, एयर कंडीशनिंग जैसे 13 क्षेत्रों में कंपनियों को सरकार कर और एक्साइज ड्यूटी में काफ़ी छूट दे रही है.

इसके फ़ायदे अगले कुछ सालों में दिखने लगेंगे, नीलेश शाह के अनुसार इससे सकल घरेलू उत्पाद में वृद्धि होगी लेकिन क्या आयात अर्थव्यवस्था के लिए हानिकारक है?इमेज स्रोत,Rasi Bhadramaniदुनिया के बड़े निर्यातक देश, बड़े आयातक भी हैं. अमेरिका, यूरोपीय संघ और जापान इसकी मिसालें हैं. पीएम मोदी के आत्मनिर्भरता के अभियान का एक उद्देश्य आयात को काफ़ी हद तक कम करना था. इस उद्देश्य को हासिल करने के लिए केंद्र सरकार ने कई वस्तुओं के आयात में टैरिफ बढ़ा दिया है.

प्रधानमंत्री के आर्थिक मामलों के सलाहकार नीलेश शाह इसे सही ठहराते हुए कहते हैं, "आमतौर से आप कच्चे माल का आयात सस्ते दाम करते हैं और उसमे वैल्यू बढ़ाकर उसे ज़्यादा दाम पर निर्यात करते हैं. लेकिन भारत में हमने देखा कि तैयार माल का आयात सस्ते दाम पर हो रहा था और कच्चे माल का आयात मंहगे दाम पर. इसे ठीक करना ज़रूरी था और इसके लिए सरकार ने कई क़दम उठाए हैं. दूसरा हमने ये देखा कि दक्षिण-पूर्वी एशिया के देश अपने उत्पादकों को कई तरह की छूट दे रहे थे."

वीडियो कैप्शन,दुनिया में सबसे ज़्यादा हथियार कौन बेचता है?वे समझाते हैं, "जैसे आप कोई पौधा लगाते हैं तो आप इसके आगे-पीछे बाड़ लगाते हैं ताकि पौधा बड़ा हो सके. जब वो पेड़ बन जाता है तो उसे बाड़ की ज़रुरत नहीं पड़ती है. तो जैसे आप पौधे की कुछ देर तक देखभाल करते हैं उसी तरह से अपने उद्योग की कुछ देर देखभाल ज़रूरी है."

लेकिन सिंगापुर में चीनी लेखक सुन शी के अनुसार आयात बुरी चीज़ नहीं है, "आप वो वस्तु बनाने की कोशिश ना करें जिसमें आप सक्षम नहीं हैं. आप वो माल उस देश से खरीदें जो आपसे सस्ता और बेहतर क्वालिटी बना सकता है इसलिए तो दो देशों के बीच आयात-निर्यात के व्यापारिक समझौते होते हैं".

'आत्मनिर्भरता' को चुना गया साल 2020 का ऑक्सफ़ोर्ड हिंदी शब्दसुन शी व्यापार घाटे को संतुलित करने की वकालत ज़रूर करते हैं, जो इस समय चीन के पक्ष में बुरी तरह झुका हुआ है, चीन से भारत निर्यात के मुकाबले 40 अरब डॉलर अधिक रकम का सामान आयात करता है.

डॉक्टर फैसल अहमद कहते हैं, "अभी क्षेत्रीय और वैश्विक वैल्यू चेन का ज़माना है. देशों के बीच 60 प्रतिशत व्यापार कच्चे माल की श्रेणी में आता है. इसमें वैल्यू चेन की अहमियत बहुत हो जाती है (यानी कच्चे माल में आप कितना वैल्यू जोड़ सकते हैं).''

डॉक्टर फैसल के अनुसार ऐसे में लागत की अहमियत बहुत बढ़ जाती है. अगर चीन से कुछ कच्चा माल मंगाते हैं और इसमें वैल्यू ऐड करके इसके क़ीमत कम रखने में कामयाब होते हैं तो निर्यात से फ़ायदा होगा, इस तरह तो एक बड़ा निर्यातक बनने के लिए एक बड़ा आयातक बनना पड़ेगा.

इमेज स्रोत,AFP Contributorहिन्द महासागर में सुरक्षाहिंद महासागर में अगर भारत को सुरक्षा के क्षेत्र में आत्मननिर्भरता हासिल करनी है तो विशेषज्ञों के अनुसार उसे हिन्द महासागर में अपनी शक्ति बढ़ानी पड़ेगी.डॉक्टर फैसल अहमद कहते हैं, "हिन्द महासागर में अमेरिका पर हमारी निर्भरता है. 'सागर' नाम का हमारा एक इनिशिएटिव है, तो अगर हम इसकी क्षमता बढ़ाएं और इसे मज़बूत करें और अमेरिका पर कम-से-कम निर्भर करें तो हिन्द महासागर के देशों को हम सिक्योरिटी दे कर सकते हैं."

इस क्षेत्र के 20 देशों में से फिलहाल कई पर चीन का दबदबा है लेकिन कई देश चाहते हैं कि इस क्षेत्र की सुरक्षा में भारत की भूमिका बढ़े.चीनी लेखक सुन शी भारत सरकार की आत्मनिर्भरता नीति से सहमत हैं लेकिन उनका कहना है कि जैसे चीन को उस लक्ष्य तक पहुँचने में सालों लग गए भारत को भी आत्मनिर्भर बनने में सालों लग सकते हैं.

इस प्रक्रिया को थोड़ा तेज़ तो किया जा सकता है लेकिन कोई जादू की छड़ी नहीं है जिससे पलक झपकते ही देश आत्मनिर्भर बन जाए. और पढो: BBC News Hindi »

जिंदा सांप का फन खा गया 'सनी देओल': मरा समझकर दफनाए गए करैत को निकालकर स्टंट दिखा रहा था, सांप ने डसा तो दांत से सिर काटकर खा गया युवक, भर्ती

छत्तीसगढ़ के रायगढ़ में एक युवक सनी देओल जहरीले सांप करैत का फन काटकर निगल गया। घर में सफाई के दौरान सांप निकला आया था। युवक उसको पकड़कर स्टंट दिखाने लगा। तभी सांप ने उसे डस लिया। सांप के डसने पर युवक भड़क गया और गुस्से में आकर उसका सिर ही काटकर निगल गया। इसके बाद युवक को गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती कराया गया है। फिलहाल उसकी हालत ठीक बताई जा रही है। | Krait Snake In Raigarh; Chhattisgarh Young Man Swallowed Krait Snake head after being bitten in raigarh

मैं नहीं जानता कि, मै कितना सही हूं कितना गलत, लेकिन मैं यह कह सकता हूं कि, विश्व के दूसरे विकासमान अथवा विकसित देशों के लिए आत्मनिर्भर का मतलब, वो नहीं जो भारत का है। यह एक बहस का विषय हो सकता है। कहीं यह, भारतीय जनमानस को गुमराह करने का, महज नारा तो नहीं। 0 आत्मनिर्भर भारत ? ते काय असतं ? भारत बांग्लादेश बॉर्डर पर इन रोहिंग्या गो तस्करों को यहीं गोली से क्यों नही भून देती भारत सरकार !!

100% कामयाबी मिल चुकी हैं. देश पूर्णरूपेण आत्मनिर्भर बन गया हैं. जनता किसी भी काम के लिए सरकार की तरफ नहीं देख रही हैं. मोदीजी का दिया ज्ञान पाकर भावविभोर है. ऐसा गुरूमंत्र अगर सत्तर साल पहले नेहरू जी दे देते तो हमारा देश विश्वगुरु कब का ही बन चुका होता. बीबीसी के दो कौड़ी के पत्रकारों से हमें सर्टिफिकेट की जरूरत नहीं है की मोदी जी ने क्या किया क्या नही मोदी जी हमारे सुपर हीरो थे हैं और रहेंगे हमें उन पर विश्वास ही नहीं महाविस्वास है

अरे न्यूज़ चैनल वालों आत्मनिर्भर बनाने में इतनी इतनी मोदी सरकार आगे निकली कि फ्री में राशन बांट रही है ये भगवान और जनता जी जानती है की सरकार ऐसी कोई प्रोजेक्ट ले जिसमे पेड़ काटना हो और काम करना हो तो वो प्रोजेक्ट देश विरोधी है,पैसे से एसी कार नोकर चाकर एसो आराम खरीद सकते है पर ऑक्सीजन और पानी खाना नही,इस लिए लोग आत्मनिभार हो गए की जरूरत के समय सरकार का भी हाल भाई साहब नही लगेगा

Bhut kamyab huye chote bde sb vrg k log desh Me hi Sman Bna rhe ha BBC ko garv na ho hme ha aj srkar ne desh ko atmnrbhr banne me bada role nibhaya congres, kjriwal kabhi NH kr sakte jai modi,bharat. bhrshtachar sb krte h desh ko upr uthane ka kam modi jaise sashakt neta krte h पूर्वर्ती सभी पीएम को मिलाकर अटल बिहारी को भी जितनी कामयाबी नहीं मिली उससे दुगुना मोदी जी को अकेले मिली,भगवान जाने कब देस में 2014 जितना GDP देखने को मिलेगी।अंधेर नगरी चौपट राजा, टके सेर भाजी टके सेर खाजा।

On scale of 10, its 3-4.

भारत और पाकिस्तान में गर्मी ने बिगाड़ा लोगों का हाल, जानिए दुनिया में कहां कितना तापमानIndia Weather Report: मानसून के आने से पहले दिल्ली-एनसीआर सहित पूरा उत्तर भारत भीषण गर्मी से तप रहा है, वहीं महाराष्ट्र के साथ ही कई राज्यों में मानसून दस्तक...

🔔 कुछ नही 0 jaikishan2900 अभी तक भाजपा खुद आत्मनिर्भर नहीं बन पाया वो देश को क्या ख़ाक आत्मनिर्भर बनायेंगे। jaikishan2900 हम इतने आत्मनिर्भर हो गये है की चाइना से मास्क मंगवाया है। jaikishan2900 jaikishan2900 बहुत ज्यादा आत्म निर्भर वाली चीजें आज टॉप पे हैं, खाने का तेल, प्याज, सब्जियां आटा सब स्टॉक मार्केट की तरश बढ़ते जा रहे

आइये अब ज्यादा जानकारी के लिए नीचे कमेंट सेक्सन मे चलते है वहा देखते है। अन्धभक्त एक्सपर्टो की क्या राय है ।। 😁 लुल बट्टा सन्नाटा 👻👻 100? कम है

Facebook Down: दुनियाभर में डाउन हुआ फेसबुक, इंस्टाग्राम और वॉट्सऐप, भारत में भी यूजर्स हुए परेशानभारत न्यूज़: WhatsApp Down: सोशल नेटवर्किंग साइट्स फेसबुक, वॉट्सऐप और इंस्टाग्राम के डाउन होने की वजह से दुनियाभर में इसके यूजर्स को परेशानी का सामना करना पड़ा। फिलहाल ये प्लैटफॉर्म ठीक काम कर रहे हैं।

Much more Atmnirbhar means unemployed पूरी शत-प्रतिशत । आज अधिकतर बेरोज़गार हैं और ‘आत्म-निर्भर’ बनने के लिए पूरी तरह से मज़बूर है ।। सोच को सलाम है । शगूफ़े छोड़ती है ख़ाली else nothing 0000000 लगता है यह भाई भी आत्मनिर्भर हो गया है Zero Fool pm क्या ये हास्यास्पद नहीं कि जो व्यक्ति खुद आत्मनर्भर न हो सका वे दूसरों को आत्मनिर्भर बनाने की बात करता है खुद तो 35 वर्ष भीख माँग कर खाय उस के बाद जनता के टैक्स के पैसों पर जिंदगी गुजार रहा है.

ये तो जुमला था।

WTC FINAL: भारत-न्यूजीलैंड के ऐतिहासिक मैच में कौन होंगे फील्ड अंपायर, आईसीसी ने की घोषणाविश्व टेस्ट चैंपियनशिप: खिताबी मुकाबले में कौन होंगे फील्ड अंपायर, आईसीसी ने की नामों की घोषणा WTCFinal2021 indvsnz icc ICC WTC WTCFinal

0% Raha hai Barbad kar diya desh koo - 000 इतनी ज्यादा कामयाबी मिली है कि अब देश की जनता इनको अगले चुनाव में जल्दी वोट भी नहीं देंगे 🤗🤗🤗 0% आत्मनिर्भर भारत के चक्कर में सब को बेरोजगार कर दिया और सारा काला धन अपनी जेब में रख लिया आत्मनिर्भर शब्द की गहराई नापना राजा रूपी नेताओं के बस का रोग नही । रोजगार और अर्थव्यवस्था में डामाडोल है।

कसिनो बनाने मे100% धंधे हुऐ बंद उत्पादन थमे तो अनउत्पादित भारत मे मई मे 10000करोड़ घुसा MFs मे पर मिनट 35 डिमेट खाता खुल रहे! आज यह अपार्च्युनिटि!🤗 कल का संकट!!☠ कसिनो ईकोनोमी 🤔 भारत मे ला रहे दल्ला पसंद, मोदी के शाह! 0%

इजरायल में बेंजामिन नेतन्याहू युग की समाप्ति, बहुत मजबूत हैं भारत-इजरायल संबंधभारत फलस्तीन की स्वतंत्रता का समर्थक रहा है। ऐसे में जब फलस्तीन और इजरायल के बीच संघर्ष की स्थिति पैदा होती है तो भारत के लिए धर्मसंकट की स्थिति बन जाती है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इजरायल और फलस्तीन की यात्र कर चुके हैं। इंसान बदला सकता सम्बंध बदस्तुर बने रहेगें दोनो मित्र एक दुसरे के पुरक है और आतंक से त्रस्त है।

😜😜😜🤪 Zero mahakyadav_ सरकार खुद भिखारी बन गयी.. हा अगर ये एक तरह की आत्मनिर्भरता मानी जाए तो ऐसा कुछ ही हुआ Sab chaupat hogaya...chaupat raja 0 ) झिरो percent. Khud se baal kaat rahe hai ghar me baith k, aur kitna aatmanirbhar banega bharat जीडीपी -7.3% के साथ मोदी राज में भारत 194 देशों की सूची में अब 142वें स्थान पर है! याद रहे, कांग्रेस मनमोहन राज में भारत 1 नम्बर पर भी रहा था! जीडीपी के साथ सबसे बड़ी समस्या यह है कि वह फेंकने से नहीं बढ़ती!! 😂😂😂🤦‍♂️

Realme C25s की भारत में आज पहली सेल, कीमत 9,999 रुपये से शुरूRealme C25s को मंगलवार को लॉन्च किया गया. अब आज यानी 9 जून को इस स्मार्टफोन को पहली बार भारत में सेल में उपलब्ध कराया जा रहा है. ये नया फोन भारत में अप्रैल में लॉन्च हुए Realme C25 का जरा सा अपग्रेडेड मॉडल है.

Bhikari logo s y questions puch k faida h kya or jo sach m kaam kr rhe h unke pass twitter chalene ka h kya? बिलकुल सही कामयाबी मिली है। अब सब अपने अपने मे ही लगे रहते हैं।महँगाई और बेरोजगारी ये दो मुद्दे ऐसे हैं कि इसमें सब अपने, अपने में ही परेशान हैं। अपने पर अब, सब निर्भर हो रहे हैं। कहावत है कि, मरता क्या नहीं करता।

अभी सभी सरकारी उपक्रमों का निजीकरण कहां हुआ है आत्मनिर्भर to bana sir apne abi apk citizens oxygen khud khoj re h beds khud arrange kr re h hospital me even doctors b khud h khud ko protect kr re h. Women khud ki izzat bacha ri h. Actors and wrestlers ab apka responsibility nibha re. Well done modiji shayari तु खुद रोते रोते अपने तम्बू बचाने के लिये भारत आएगा एक दिन..

🔔 😁😁😁😁😂😂 BJP khud manti hai 80 crores janta aaj khane ke laale pade hai. Is liye toh free ka ration de rhi hai. Yahi toh hai atmnirbhar bharat. 6 months baad 100 crores ho jayenge. Zero Nil bata sannatta, गुलाम बना दिया। बालू की नीव पर देश है

कोरोना: भारत में कल से अधिक आए नए संक्रमण के मामले - BBC Hindiभारत में बीते 24 घंटों में कोरोना वायरस संक्रमण के 92,596 नए मामले पाए गए हैं जो कि मंगलवार से थोड़े अधिक हैं. सोमवार की रिपोर्टिंग कम होती है रविवार के कारण। रविवार को सैम्पलिंग सही नहीं होती। हमेशा सोमवार 24 घंटे का आकड़ा कम होता है। Because we celebrates before victory! covid19 India welcoming third wave 😑

देश आज बहुत से आवश्यकताओं में आत्मनिर्भर हो गए हैं अपना ही नहीं दूसरे देशों की जरूरतों को भी पूरा कर रहा है भूख से कोई नहीं मर रहा मरता है तो अपने कर्मों से ० % परिवारों के परिवार (आत्मनिर्भर हुये) भूख से तड़प-तड़प मरने से अच्छा समझा आत्महत्या करना। देश के लिये संताप_मोदी narendramodi AnupamPKher AmitShah

पूरी कामयाबी मिली। कोरोना काल में सब कुछ ही लोगो ने खुद किया है। सरकार तो चुनाव व्यस्त थी। आत्म निर्भर मतलब आत्मा यानी प्राण पर निर्भर रहना होगा, और कुछ नहीं रहेगा । We can say in the present context 100% and almost no one in the world have achieved. Lauda kamyabi mili. 00000 Bus itni c

100% अब हर आदमी आप अपना बोझ ढो रहा है यहां तक कि अपनो की लाशें भी अकेला ही उठा कर कब्रिस्तान या शमशान तक पहुंचा रहा है और कितनी आत्मनिर्भरता चाहिए! 🔔🔔🔔 Zero भाजपा इतने साल की सत्ता के बाद भी आत्मनिर्भर नही बन पाई ! जितना आत्मनिर्भर मोदी ने भारत को बनाया है, उसका सांकेतिक प्रदर्शन गार्गी कॉलेज में घुसकर भारतमाता की पुत्रियों के सामने अमित शाह के सरंक्षण में संघियो ओर भाजपाइयों ने दिखाया था।

आत्मा ही नहीं रही तो निर्भर की बात ही खत्म। अपनी चिता खुद लगा नहीं सके, और खुद को दफनाने को गड्ढा खोद नहीं सके। नदी किनारे सड़ते रहे। दवा, ऑक्सीजन, वैक्सीन सब आयात करना पड़ा तब भी कमी पूरी नहीं हुई। लोग बिना दवा,ऑक्सीजन दम घुटने से ही मर गए। ये कैसा आत्मनिर्भर विश्वगुरु भारत आत्मनिर्भर की छोड़ो पिछले दिनों जीडीपी -7.3% के साथ मोदी राज में भारत 194 देशों की सूची में अब 142वें स्थान पर है! याद रहे, मनमोहन राज में भारत विकसित राष्ट्रों की होड़ में था। जीडीपी के साथ सबसे बड़ी समस्या यह है कि वह फेंकने से नहीं बढ़ती!! 😂😂😂🤦‍♂️

Somalia donate karne ke liye bacha hai इतनी की पाकिस्तान जैसे टुच्चे ने भी भारत की मदद करने की पेशकश कर दी। केन्या जैसे गरीब अफ्रीकी देश ने भी 9 टन फ़ूड प्रोडक्ट भेज दिए। आत्मनिर्भर बनने का सपना 2014 के बाद आत्मनिर्भर बनते बनते भीखारी बन गए। और अब रोड पे आ गए हाथ में कटोरा है भीख मांगने के लिए और मोदी जी के नाम पे दे दो। कोई देने के लिए तैयार ही नही है। आत्मनिर्भर अगर कोई बना हैं तो वो सिर्फ़ बीजेपी हैं नंगो पे कपड़े तो थे नही हमसे वो उतार लिए

56 इंच की हवा निकल चुकी है 😊😊 कमरतोड महंगाई, मध्यम वर्ग पर आई, इसे कहते हैं आत्मनिर्भर निर्भर भारत बनाने सपना, घोड़े की कमाई गधों को खिलाई। ऊतनी ही जितनी जतीन प्रसाद को मिलाने से😀 Yeah, as if UK and US became self reliant in one day! BBC has mastered 'How to make a political propaganda in everything and always have biased opinions on India, Hindus, Ayurveda and Indian Culture and tradition'

Progressing very well. 🔔 लोगो का पता नही पर देश आत्म निर्भर बन गया हे उतनी ही मीली जीतनी भिखमंगों की संख्या बढ़ी! मोदी सरकार ने इतना आत्मनिर्भर भारत बना दिया है कि अब लोग दवा सरकार से नहीं माँगते, रोजगार नही माँगते, और इतना ही नही लोग अब जीने को ही विकास समझते हैं, इतना आत्मनिर्भर बना दिया है Nothing

That’s a good question and funny too भारत को मोदीजी ने पूर्णतया आत्मनिर्भर भारत बना दिया है। PM और गृहमंत्री के बगैर सहयोग के भारत ने कोरोना महामारी का सामना लाखो लोगो की जान देकर सफलतापूर्वक कर लिया है। अब जब कि कोरोना कम हुआ है तो मोदीजी भी प्रकट होकर फ्री वैक्सीन का ऐलान कर दिया है। देश को गरीब बना दिया बेरोजगारी बड़ा दिया

क्यों न ज्वालामुखी को एनर्जी का एक स्रोत बना लिया जाय समुद्र की पानी और ज्वालामुखी की हीट को इस्तेमाल करके स्टीम बॉयलर चलाकर उस स्टीम से टरबाइन चलाकर इलेक्ट्रीसिटी पैदा किया जा सकता है । इसमे आप लोगो की क्या राय है।. 8888338237 बहुत कामयाबी मिली! पहले वो भीख मांगता था ,अब पुरा देश अपने जान माल की भीख मांग रहा है! आत्मनिर्भर भारत!

Ghntq Zero ,ha carporate walo ko sarkari company sell ke hai , Carporate wale aatmnirbh bane hai VRSforMODI Slow slow aage badh Raha hai Govt is encouraging to take vaccine. People listen and they have taken. But when its time to take 2 nd dose, it is unavailable. Max days for 2nd dose is 42 days.If person cant get in 42 days then is nt it wastage of 1st dose? 2nd dose of covaxin for 18+ not available in assam

100% we saw during the covid period, everyone buys oxygen in black by themselves, the government made them independent. FarmersProtest 500DeathsAtFarmersProtest 7_साल_देश_बेहाल EVMचोरभाजपा EVMचोरभाजपा BjpDestroyedIndia UP_सरकार_वेंटिलेटर_पर मोदी_झूठा_है 100%success. See the certificate of success below.

देश बरबाद कर दिया मोदी ने Isse PARMATMANIRBHAR kehte hai मोदी के शासनकाल में केवल हिन्दू राष्ट्र भारत केवल बीफ निर्यात में आत्मनिर्भर है। RT अगर सहमत हो तो 👎 अर्थवयवस्था ध्वस्त है जनता बेचारी त्रस्त है । मोस्टली जनता घर बैठी है आराम से बिना काम धंधे के , सब आत्मनिर्भर हो गए 😆 व्यायारी भी मुफ्त राशन योजना का हिस्सा बनने लगे है। 80 करोड तो हो गए हैं अगले दो सालो में 100 करोड मुफ्त राशन योजना के लाभार्थी बन सकते हैं जिसमे छोटे व्यापारी भी होगें। 🏹🏹🏹🤣🤣

आत्मा निर्भर भारत का दुसमन कुई बाहरी नही येही लोग हे

000% आत्मनिर्भर या आत्मा निर्भर ?😁