Positivestory, Motivational, İnspirational

Positivestory, Motivational

आज की पॉजिटिव खबर: राजस्थान के सिद्धार्थ ने ऑस्ट्रेलिया की नौकरी छोड़ भारत में बनाया किसानों का नेटवर्क, सालाना 50 करोड़ टर्नओवर, 200 लोगों को नौकरी भी दी

आज की पॉजिटिव खबर: राजस्थान के सिद्धार्थ ने ऑस्ट्रेलिया की नौकरी छोड़ भारत में बनाया किसानों का नेटवर्क, सालाना 50 करोड़ टर्नओवर, 200 लोगों को नौकरी भी दी #PositiveStory #motivational #inspirational @journalistibm

27-07-2021 05:49:00

आज की पॉजिटिव खबर: राजस्थान के सिद्धार्थ ने ऑस्ट्रेलिया की नौकरी छोड़ भारत में बनाया किसानों का नेटवर्क, सालाना 50 करोड़ टर्नओवर, 200 लोगों को नौकरी भी दी PositiveStory motivational inspirational journalistibm

किसानों के सामने अपने प्रोडक्ट्स की मार्केटिंग करना सबसे बड़ा चैलेंजिंग टास्क होता है। खासकर कम पढ़े-लिखे किसानों को भरपूर प्रोडक्शन के बाद उतनी आमदनी नहीं मिलती जितनी उन्हें मिलनी चाहिए। मार्केटिंग के अभाव में वे औने पौने दाम पर अपने प्रोडक्ट बेचने पर मजबूर हो जाते हैं। उनकी इस मुसीबत को दूर करने को लेकर राजस्थान के पाली जिले के रहने वाले सिद्धार्थ संचेती ने एक पहल की है। उन्होंने पिछले 10 साल में ... | Siddharth of Rajasthan left his job in Australia and created a network of farmers in India, annual turnover of 50 crores, also gave jobs to 200 people

किसानों के सामने अपने प्रोडक्ट्स की मार्केटिंग करना सबसे बड़ा चैलेंजिंग टास्क होता है। खासकर कम पढ़े-लिखे किसानों को भरपूर प्रोडक्शन के बाद उतनी आमदनी नहीं मिलती जितनी उन्हें मिलनी चाहिए। मार्केटिंग के अभाव में वे औने पौने दाम पर अपने प्रोडक्ट बेचने पर मजबूर हो जाते हैं। उनकी इस मुसीबत को दूर करने को लेकर राजस्थान के पाली जिले के रहने वाले सिद्धार्थ संचेती ने एक पहल की है। उन्होंने पिछले 10 साल में देशभर में 40 हजार किसानों का नेटवर्क बनाया है। वे किसानों के प्रोडक्ट्स की मार्केटिंग करते हैं। भारत के साथ ही दुनिया के 25 देशों में उनके कस्टमर्स हैं। इससे हर साल वे 50 करोड़ का बिजनेस कर रहे हैं।

बंगाल की खाड़ी के 'कॉन्टिनेंटल शेल्फ़' पर भारत के दावे से बांग्लादेश को एतराज - BBC Hindi उत्तराखंड: केजरीवाल ने की वादों की बौछार, 6 महीने में 1 लाख नौकरी और 5 हजार का भत्ता अंबिका सोनी ने ठुकराया CM पद का ऑफर, कहा-पंजाब का मुख्यमंत्री एक सिख ही हो

ऑस्ट्रेलिया में नौकरी का ऑफर मिला, लेकिन इंडिया लौट आए35 साल के सिद्धार्थ की शुरुआती पढ़ाई पाली जिले में हुई। इसके बाद वे बैंगलुरु चले गए। वहां उन्होंने कंप्यूटर एप्लिकेशन से बैचलर्स की पढ़ाई पूरी की। इसके बाद एक साल तक उन्होंने एक मल्टीनेशनल कंपनी में जॉब किया। फिर नौकरी छोड़ दी और ऑस्ट्रेलिया चले गए। 2009 में मास्टर्स की पढ़ाई पूरी करने के बाद उन्हें काम करने का ऑफर मिला, लेकिन सिद्धार्थ इंडिया वापस लौट आए।

सिद्धार्थ अपने भाई मोहनीश के साथ। सिद्धार्थ के इस काम में उनके भाई भी मदद करते हैं।सिद्धार्थ कहते हैं कि इंडिया आने के बाद मैंने तय किया कि कहीं जॉब करने की बजाय खुद का ही कुछ ऐसा काम शुरू किया जाए, जिससे दूसरे लोगों को भी रोजगार मिल सके। काफी सोच-विचार करने के बाद उन्होंने ऑर्गेनिक फार्मिंग शुरू करने का प्लान किया। headtopics.com

न कभी फार्मिंग की थी, न परिवार में कोई किसानी करता थासिद्धार्थ का पहले से खेती से कोई लगाव नहीं था। परिवार में दूर-दूर तक खेती से कोई संबंध नहीं था। पिता जी माइनिंग के काम से जुड़े थे। इस लिहाज से उनके लिए यह बिलकुल ही नया फील्ड था। सबसे पहले सिद्धार्थ ने ऑर्गेनिक फार्मिंग को लेकर रिसर्च किया। किसानों से मिले, खेती की प्रोसेस को समझा। अलग-अलग क्रॉप और उनकी मार्केटिंग को लेकर जानकारी जुटाई।

सिद्धार्थ बताते हैं कि तब बहुत कम लोग ऑर्गेनिक फार्मिंग के बारे में जानते थे। ज्यादातर किसान तो इसमें दिलचस्पी भी नहीं लेते थे। ट्रेडिशनल फार्मिंग में फायदा नहीं होने के बाद भी वे उसे छोड़ना नहीं चाहते थे। ऑर्गेनिक फार्मिंग में उन्हें नुकसान का डर था। इसलिए उन्हें मोटिवेट करने के साथ ही ट्रेंड करना भी जरूरी था। ताकि वे उसकी प्रोसेस को समझ सकें।

तीन लाख रुपए की लागत से की बिजनेस की शुरुआतसिद्धार्थ ने 200 लोगों को रोजगार दिया है। इसमें बड़ी संख्या में महिलाएं शामिल हैं।साल 2009 में सिद्धार्थ ने पाली जिले से अपने बिजनेस की शुरुआत की। उन्होंने एग्रोनिक्स फूड नाम से कंपनी रजिस्टर की और स्थानीय किसानों के साथ मिलकर काम करना शुरू किया। शुरुआत में करीब 3 लाख रुपए की लागत उन्हें आई थी।

सिद्धार्थ कहते हैं कि घर से उन्हें पैसों को लेकर सपोर्ट मिल रहा था, लेकिन उन्होंने बजट कम रखा। वे लो बजट के साथ धीरे-धीरे आगे बढ़ना चाहते थे। उन्होंने खुद लैंड खरीदने की बजाय किसानों से टाइअप किया। कुछ किसानों को ट्रेनिंग दी, उन्हें रिसोर्सेज उपलब्ध कराए और मसालों की खेती करनी शुरू की। headtopics.com

अफगानिस्तान में इन्फ्रास्ट्रक्चर पर अब भी भारत करेगा निवेश? नितिन गडकरी ने दिया ये जवाब उत्तराखंड में केजरीवाल का बड़ा चुनावी वादा : 6 महीने में 1 लाख जॉब्स, नौकरी न मिलने तक 5000 रुपये भत्ता ईरान के परमाणु वैज्ञानिक की हत्या रिमोट कंट्रोल वाली मशीन गन से की गई थी: रिपोर्ट - BBC Hindi

सिद्धार्थ को शुरुआत के तीन साल तक संघर्ष करना पड़ा। मार्केटिंग से लेकर प्रोडक्शन तक में उन्हें कई तरह की दिक्कतों का सामना करना पड़ा। उसके बाद उन्हें ऑर्गेनिक फार्मिंग का सर्टिफिकेशन मिला। इसके बाद उनके बिजनेस की रफ्तार तेज हो गई।राजस्थान और गुजरात में सिद्धार्थ की यूनिट है। जहां किसानों से प्रोडक्ट कलेक्ट करने के बाद उसकी प्रोसेसिंग का काम होता है।

वे किसानों से उनके उत्पाद खरीदकर उसे मार्केट में भेजने लगे। इससे किसानों को भी अच्छा मुनाफा होने लगा और सिद्धार्थ का काम भी आगे बढ़ने लगा। एक के बाद एक उनके साथ किसान जुड़ते गए।कैसे करते हैं काम, क्या है उनका बिजनेस मॉडल?सिद्धार्थ बताते हैं हम किसानों को पहले ट्रेनिंग देते हैं। उन्हें इसकी प्रोसेस के बारे में बताते हैं। सीजन और रीजन के हिसाब से उन्हें फसल लगाने की सलाह देते हैं। अगर उनके पास रिसोर्सेज नहीं होते हैं, तो वह भी हम उन्हें उपलब्ध कराते हैं। किसान अपनी जमीन पर फसल उगाते हैं। फसल जब पककर तैयार हो जाती है तो हम उनसे उनका प्रोडक्ट खरीद लेते हैं। उन्हें हम मार्केट रेट के मुकाबले ज्यादा पैसे भुगतान करते हैं।

किसानों से प्रोडक्ट कलेक्ट करने के बाद उसे हम अपनी यूनिट में लाते हैं। फिलहाल गुजरात और राजस्थान में हमारी यूनिट है। यहां उस प्रोडक्ट की क्वालिटी टेस्टिंग, प्रोसेसिंग और पैकिंग का काम होता है। इसके बाद उसकी मार्केटिंग की जाती है। फिलहाल सिद्धार्थ के साथ 40 हजार से ज्यादा किसान जुड़े हैं। ये किसान मध्यप्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़, हरियाणा सहित देश के कई राज्यों से ताल्लुक रखते हैं।

सिद्धार्थ ने मसालों के साथ अपने काम की शुरुआत की थी। वे फ्रेश फ्रूट और सब्जियां छोड़कर एक किचन की जरूरत की हर चीज की मार्केटिंग करते हैं।कैसे करते हैं मार्केटिंग, ग्राहकों तक कैसे पहुंचाते हैं प्रोडक्ट?सिद्धार्थ बताते हैं कि हमने शुरुआत लोकल मार्केट से की थी। इसके बाद हमने अलग-अलग शहरों में जाना शुरू किया। लोगों से मिलना शुरू किया। हम विदेशों में भी गए और अपने प्रोडक्ट के सैम्पल उन्हें दिखाए। उन्हें हमारा प्रोडक्ट अच्छा लगा। इस तरह धीरे-धीरे हमारा दायरा बढ़ने लगा। इसके बाद हमने रिटेल मार्केटिंग भी शुरू की। headtopics.com

फिलहाल वे ऑनलाइन और ऑफलाइन दोनों ही तरह से मार्केटिंग कर रहे हैं। वे सोशल मीडिया और ई कॉमर्स वेबसाइट के जरिए अपने प्रोडक्ट ग्राहकों तक भेजते हैं। फिलहाल दाल, ऑइल, मसाले, ब्लैक राइस, हर्ब्स, मेडिसिनल प्रोडक्ट जैसी चीजों की सप्लाई कर रहे हैं। और पढो: Dainik Bhaskar »

प्रधानमंत्री से लेकर रक्षा मंत्री तक...देखें तालिबान की सरकार में कौन-कौन शामिल

तालिबान ने अंतरिम सरकार की घोषणा कर दी है. इस अंतरिम सरकार में प्रधानमंत्री यानी सरकार के प्रमुख की भूमिका में मुल्ला हसन अखुंद होंगे. मुल्ला हसन अखुंद तालिबान की रहबरी शूरा यानी लीडरशिप काउंसिल का चीफ है और तालिबान प्रमुख मुल्ला हिब्तुल्लाह अखुंदजादा के बेहद करीबियों में शामिल हैं. मुल्ला बरादर को तालिबान सरकार में डिप्टी पीएम बनाया गया है. डिप्टी पीएम की भूमिका में मुल्ला हन्नाफी की भी भूमिका रहेगी. इसके अलावा मुल्ला याकूब तालिबान सरकार में रक्षा मंत्री होगा और सिराजुद्दीन हक्कानी तालिबान सरकार में आंतरिक मामलों का मंत्री होगा. शेर मोहम्मद अब्बास स्तनकजई तालिबान सरकार में उपविदेश मंत्री होगा. खैरुल्लाह खैरख्वा तालिबान सरकार में सूचना मंत्री होगा. जबकि तालिबान प्रवक्ता जैबुल्लाह मुजाहिद को उप सूचना मंत्री की जिम्मेदारी मिल रही है. अब्दुल हकीम को तालिबान सरकार का न्याय मंत्री बनाया गया है. ज्यादा जानकारी के लिए देखें खबरदार.

ऐसे ही कर्मशील व्यक्तियों की जरूरत है इस देश को वो नही जो सरकारी नौकरियों के पीछे अंधी दौड़ लगा रहे है। जब NIOS विद्यार्थियों को प्रमोट किया जा चुका है।RBSE विद्यार्थियों को प्रमोट कर चुकी है तो राजस्थान स्टेट ओपन के विद्यार्थियों को अभी तक प्रमोट क्यों नहीं किया गया है?कृपया उन्हें दोयम दर्जे के विद्यार्थी ना समझें। ashokgehlot51 GovindDotasra RahulGandhi priyankagandhi

journalistibm हमारे कृषक संगठनों तथा सामाजिक सरोकारों के निवेशकों की साझेदारी की ओर से हार्दिक शुभकामनाएँ journalistibm एक महीने के अंदर अगर कांग्रेस के दो सीएम बदले होते तो सारे एंकर ब्रेक डांस करते हुए शो करते कि किस तरह दिल्ली नेतृत्व के कारण कांग्रेस में हाहाकिरी हो गयी है। अभी चित्त गंभीर होकर इसे बीजेपी का मास्टस्ट्रोक बताएंगे।

तमिलनाडु: सोशल मीडिया पोस्ट के जरिए ISIS की विचारधारा को बढ़ावा, NIA ने की छापेमारीएक सोशल मीडिया पोस्ट के जरिए लोगों के मन में भारत के लिए जहर भरा जा रहा था और ISIS की विचारधारा को बढ़ावा देने का काम हो रहा था. अप्रैल में तमिलनाडु पुलिस ने इस मामले में अब्दुल्ला नाम के आरोपी को गिरफ्तार किया था. 2 states who claim that they are most educated people in India I.e Kerala and Tamil Nadu But in reality they are traitors who just speak English. Kerala known for communist,Arabic and Vatican ideology Tamil Nadu known for boycotting Brahman, hindi, Hindu and sanskrit. गंदगी में रहने के अभ्यस्त कीड़े जहाँ भी जायेंगे, गंदगी ही फैलाएंगे । Certainly some of our leaders are responsible for increasing the movement of ISIS in our country. If it is not suppressed now, the country will face terrible problems in the future.

हैदराबादः गृह मंत्री के काफिले को रास्ता देने के लिए दो एंबुलेंसों को रोकातेलंगाना की राजधानी हैदराबाद में गृह मंत्री के काफिले को रास्ता देने के लिए दो एंबुलेंसों को रोक दिया गया। वीआईपी काफिले की वजह से एंबुलेंस को रोकने का वीडियो सामने आने पर लोगों ने हैदराबाद ट्रैफिक पुलिस को आड़े हाथों लिया।

अमेरिका को दूसरे देशों के साथ बर्ताव करना सिखाएंगे: चीन- आज की बड़ी ख़बरें - BBC Hindiचीनी के विदेश मंत्री वांग यी ने कहा है कि कोई भी देश दूसरे से श्रेष्ठ नहीं है और चीन ऐसे किसी भी देश को स्वीकार नहीं करेगा जो अपने लिए ऐसा सोचता है. Kashmir? Ye puchho ki Pakistan k kitne tukde bachenge?

पीएम ने दी कारगिल के शहीदों को श्रद्धांजलि, बहादुरी को किया सलाम | Narendra Modiप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को कारगिल विजय दिवस की 22वी वर्षगांठ पर पाकिस्तान के साथ हुए इस युद्ध के शहीदों को याद कर कहा कि... PMModi PMOIndia Pakistan KargilVijayDiwas Kargil PMOIndia

भारत की जीत के छक्के पर नजर, इनके पास T20 वर्ल्ड कप की दावेदारी का मौकाटीम के लिए हार्दिक पंड्या की बल्लेबाजी फॉर्म भी चिंता का विषय है जो श्रीलंका के खिलाफ अब तक प्रभावित करने में नाकाम रहे हैं। उन्होंने ठीक-ठाक गेंदबाजी की है, लेकिन वह पीठ की सर्जरी से पहले की तरह गेंदबाजी करने में नाकाम रहे हैं।

टोक्यो ओलंपिक: भवानी देवी को फ़्रांस की तलवारबाज़ ने हराया- आज की बड़ी ख़बरें - BBC Hindiभारतीय तलवारबाज भवानी देवी को हार का सामना करना पड़ा है. फ़्रांस की खिलाड़ी मेनन ब्रूनेट ने उन्हें राउंड ऑफ़ 32 में 15-7 से हराया. Ohhh कोई बात नहीं अगली बार भारत गोल्ड मेडल जीतकर आएगा हमें गर्व है भवानी देवी पर नया झांसी कि रानी कांगना रानावत है उसको भेजना चाहिए ओलंपिक में 🤣🤣🤣