Todayınhistory, History Today India, This Day İn History, Today İn History, This Day İn History 2021, What Happened Today İn History, Historical Events, Bharat Mein Aaj Ka Itihaas

Todayınhistory, History Today India

आज का इतिहास: आज वर्ल्ड अल्जाइमर्स डे यानी बुजुर्गों के भूलने की बीमारी को लेकर जागरूकता बढ़ाने का दिन, भारत में 2 करोड़ से ज्यादा बुजुर्ग इस बीमारी के शिकार

आज का इतिहास: आज वर्ल्ड अल्जाइमर्स डे यानी बुजुर्गों के भूलने की बीमारी को लेकर जागरूकता बढ़ाने का दिन, भारत में 2 करोड़ से ज्यादा बुजुर्ग इस बीमारी के शिकार #TodayInHistory

21-09-2021 05:41:00

आज का इतिहास: आज वर्ल्ड अल्जाइमर्स डे यानी बुजुर्गों के भूलने की बीमारी को लेकर जागरूकता बढ़ाने का दिन, भारत में 2 करोड़ से ज्यादा बुजुर्ग इस बीमारी के शिकार TodayInHistory

आज वर्ल्ड अल्जाइमर्स डे है। पूरी दुनिया में हर साल इस बीमारी के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए 21 सितंबर को इस दिन को मनाया जाता है। अल्जाइमर्स में दिमाग में होने वाली नर्व सेल्स के बीच होने वाला कनेक्शन कमजोर हो जाता है। धीरे-धीरे यह रोग दिमाग के विकार का रूप लेता है और याददाश्त को खत्म करता है। व्यक्ति सोचना भी बंद कर देता है और रोजाना के कामकाज करने में भी कठिनाई आने लगती है। | Today History Aaj Ka Itihas (आज का इतिहास) Bharat Mein Aaj Ka Itihaas | What Is The Significance Of Today? What Famous Thing \r\n\r\nHappened On This Day In history; 1आज वर्ल्ड अल्जाइमर्स डे है। पूरी दुनिया में हर साल इस बीमारी के बारे में जागरुकता बढ़ाने के लिए 21 सितंबर को इस दिन को मनाया जाता है। अल्जाइमर्स में दिमाग में होने वाली नर्व सेल्स के बीच होने वाला कनेक्शन कमजोर हो जाता है।

आज का इतिहास:आज वर्ल्ड अल्जाइमर्स डे यानी बुजुर्गों के भूलने की बीमारी को लेकर जागरूकता बढ़ाने का दिन, भारत में 2 करोड़ से ज्यादा बुजुर्ग इस बीमारी के शिकारएक घंटा पहलेकॉपी लिंकआज वर्ल्ड अल्जाइमर्स डे है। पूरी दुनिया में हर साल इस बीमारी के बारे में जागरूकता बढ़ाने के लिए 21 सितंबर को इस दिन को मनाया जाता है। अल्जाइमर्स में दिमाग में होने वाली नर्व सेल्स के बीच होने वाला कनेक्शन कमजोर हो जाता है। धीरे-धीरे यह रोग दिमाग के विकार का रूप लेता है और याददाश्त को खत्म करता है। व्यक्ति सोचना भी बंद कर देता है और रोजाना के कामकाज करने में भी कठिनाई आने लगती है।

क्रिकेटर शमी के खिलाफ अपशब्दों को हटाने के लिए कदम उठाए गए हैं: फेसबुक क्रूज पर जाने से पहले गोसावी ने भेजी थी तस्वीरें, कहा था नजर रखना : NCB के गवाह नंबर-1 ने NDTV से कहा Petrol, Diesel Price Today : कहीं 116 तो कहीं 113 रुपये बिक रहा पेट्रोल, चेक कर लें आपके शहर में क्या है रेट

अल्जाइमर मुख्य रूप से डिमेंशिया का ही एक रूप है। इससे पीड़ित लोगों को भूलने की आदत हो जाती है। इस वजह से वे 1-2 मिनट पहले हुई बात को भी भूल जाते हैं।1906 में डॉ. एलोइस अल्जाइमर ने इस रोग के बारे में पता लगाया था, इस वजह से इस बीमारी को उन्हीं के नाम पर जाना जाता है। उन्होंने मानसिक रोग से पीड़ित एक महिला के दिमाग में कोशिकाओं में बदलाव नोटिस किया था। महिला के दिमाग की स्टडी में पाया कि उसमें कुछ गांठ पड़ गई हैं। इसकी शुरुआत किसी आम समस्या की तरह होती है, लेकिन धीरे-धीरे ये गंभीर रूप ले लेती है।

आम तौर पर अल्जाइमर वृद्धावस्था में होता है। यह 60 साल से अधिक उम्र के लोगों को ज्यादा प्रभावित करता है। बहुत ही कम केसेस में 30 या 40 की उम्र में लोगों को ये बीमारी होती है। पुरुषों में जहां 60 वर्ष की अवस्था में अल्जाइमर की शिकायत शुरू होती है, वहीं महिलाओं में इसके लक्षण 45 वर्ष की अवस्था में दिखते हैं। headtopics.com

समय के साथ-साथ इस बीमारी से प्रभावित मरीज के दिमाग का ज्यादातर हिस्सा डैमेज होने लगता है और फिर एक समय ऐसा आता है कि उसे कुछ भी याद नहीं रहता।1949: मणिपुर का भारत में विलय15 अगस्त 1947 को ब्रिटिश राज खत्म होने से कुछ दिन पहले ही मणिपुर के राजा ने 11 अगस्त को भारत का शासन स्वीकार कर लिया था, पर राज्य ने अंदरूनी संप्रभुता हासिल कर ली थी। मणिपुर स्टेट कांस्टीट्यूशन एक्ट 1947 लागू हुआ, जिससे राज्य को अपना अलग संविधान मिला। मणिपुर में कई लोग भारत में विलय चाहते थे। मणिपुर इंडिया कांग्रेस भी बनी। भारत सरकार ने अलग संविधान को मान्यता नहीं दी।

मणिपुर को पोलो खेल का जनक भी कहा जाता है। ‘सागो कांगजेई’ नामक एक पारंपरिक मणिपुरी खेल से ही पोलो का जन्म हुआ है।आखिर, महाराजा पर दबाव बना और उन्होंने 21 सितंबर 1949 को भारत सरकार के साथ मर्जर एग्रीमेंट साइन किया। यह एग्रीमेंट 15 अक्टूबर को लागू हुआ। कई सालों तक केंद्र का सीधा शासन यहां रहा, लेकिन 1972 में मणिपुर को भारत में अलग राज्य का दर्जा मिला।

आज अंतरराष्ट्रीय शांति दिवस1981 में संयुक्त राष्ट्र महासभा ने इंटरनेशनल डे ऑफ पीस की स्थापना की थी। दो दशक बाद 2001 में महासभा ने सर्वसम्मति से इस दिन को 24 घंटे अहिंसा और सीजफायर की अवधि के तौर पर मनाने का फैसला किया। यूनाइटेड नेशंस सभी राष्ट्रों और लोगों को अहिंसा का महत्व बताने के लिए यह दिन मनाता है। इस दिन शांति के आदर्शों को मजबूती दी जाती है।

यह दिन महात्मा गांधी की अहिंसा की सीख को याद करने का दिन भी है। इस साल इंटरनेशनल डे ऑफ पीस की थीम है- रिकवरिंग बेटर फॉर एन इक्विटेबल एंड सस्टेनेबल वर्ल्ड। वैसे, यह दिन सिर्फ बाहरी शांति ही नहीं, बल्कि अंदरूनी शांति की भी बात करता है।ग्राफिकॐ द्यौ: शान्तिरन्तरिक्षॅं शान्ति:, headtopics.com

समीर वानखेड़े की पत्नी बोलीं- उगाही की होती तो महलों में रहते, अभी ही क्यों बना रहे निशाना? यूपी पुलिस ने कट्टर हिंदुत्ववादी नेता यति नरसिंहानंद पर ग़ुंडा एक्ट लगाने की प्रक्रिया शुरू की आर्यन खान होंगे रिहा या जेल में ही रहेंगे? जमानत अर्जी पर आज हाईकोर्ट में सुनवाई

पृथ्वी शान्तिराप: शान्तिरोषधय: शान्ति:।वनस्पतय: शान्तिर्विश्र्वे देवा: शान्तिर्ब्रह्म शान्ति:,सर्वशान्ति:, शान्तिरेव शान्ति:, सा मा शान्तिरेधि।।ॐ शान्ति: शान्ति: शान्ति:।।यजुर्वेद से लिया गया यह शांति मंत्र कहता है कि पृथ्वी, अंतरिक्ष, जल, औषध, वनस्पतियों, विश्व में शांति हो, चारों ओर शांति ही शांति हो।

21 सितंबर के दिन को इतिहास में और किन-किन महत्वपूर्ण घटनाओं की वजह से याद किया जाता है...2018:भारत ने यूएन महासभा के दौरान पाकिस्तान के साथ विदेश मंत्री स्तर की बातचीत रद्द कर दी थी। दरअसल, कश्मीर में भारतीय सीमा पर एक जवान की हत्या कर दी गई थी और पाकिस्तान आतंकियों का महिमा मंडन कर रहा था। इससे ही भारत नाराज था। कहा गया कि आतंकवाद और बातचीत साथ-साथ नहीं चल सकते।

2013:केन्या के नैरोबी में वेस्टगेट मॉल पर अल-शबाब आतंकी समूह के सदस्यों ने हमला किया था। कुछ घंटों तक चली मुठभेड़ में आतंकियों ने 63 शॉपर्स की हत्या कर दी थी। केन्या के सुरक्षा बलों ने बंधकों को रिहा किया और चार आतंकियों को भी मार गिराया।2008ःरिलायंस के कृष्णा गोदावरी बेसिन में तेल उत्पादन शुरू हुआ।

2004:ग्लोबल फैसलों में अपना प्रभाव बढ़ाने के लिए ब्राजील, भारत, जर्मनी और जापान ने मिलकर यूएन सिक्योरिटी काउंसिल की स्थायी सीट के लिए प्रयास करने की ठानी। सबने मिलकर यूएन सुधारों पर काम करने का संकल्प लिया।2000ःभारत और ब्रिटेन के बीच बेहतर संबंध के लिए लिबरल डेमोक्रेटिक फ्रेंड्स ऑफ इंडिया सोसायटी की स्थापना। headtopics.com

1996:प्रेसिडेंट बिल क्लिंटन ने डिफेंस ऑफ मैरिज एक्ट पर साइन किए। इसमें सेम सेक्स मैरिज को मान्यता न देने का प्रावधान था, लेकिन इस आधार पर उनके साथ भेदभाव नहीं किया जा सकता था। यूएस सुप्रीम कोर्ट ने 2013 और 2015 में फैसलों से इसे रद्द कर दिया।1991ःआर्मेनिया को सोवियत संघ से स्वतंत्रता मिली।

1984ःब्रुनेई संयुक्त राष्ट्र में शामिल हुआ।1979:अपनी धमाकेदार बैटिंग के लिए मशहूर वेस्ट इंडीज के क्रिकेटर क्रिस गेल का जन्म हुआ।1966ःमिहीर सेन ने बासफोरस चैनल तैरकर पार किया।1964:दक्षिण यूरोपीय द्वीपीय देश माल्टा को अंग्रेजों ने 1814 में पेरिस संधि के तहत अपनी कॉलोनी बनाया था। देश ने 1964 में 21 सितंबर को आजादी हासिल की। पहले तो इंग्लैंड की महारानी को राष्ट्र प्रमुख के तौर पर स्वीकार किया, लेकिन 13 दिसंबर 1974 को खुद को रिपब्लिक घोषित किया।

प्रकाश झा और 'आश्रम' वेब सिरीज़ को लेकर एमपी में गरमाई सियासत - BBC News हिंदी सत्यपाल मलिक बोले: 300 करोड़ रिश्वत के मामले में RSS का नाम नहीं लेना चाहिए था, माफी चाहता हूं; किसान आंदोलन का लोकसभा चुनाव पर ज्यादा असर स्पेशल रिपोर्ट: Aryan Khan की गिरफ्तारी, Ananya Pandey से पूछताछ के बीच सवालों से घिरी NCB

1961:अमेरिका में बने बोइंग सीएच-47 चिनूक ने पहली बार उड़ान भरी। इसका इस्तेमाल इराक और अफगानिस्तान के युद्धों में बड़े पैमाने पर अमेरिकी फौजों ने किया।1784ःअमेरिका में पहली बार दैनिक अखबार (पेनसिल्वेनिया पैकेट एंड जनरल एडवरटाइजर) छपा। और पढो: Dainik Bhaskar »

आज की पॉजिटिव खबर: पारंपरिक खेती छोड़ नीरव ने 3 साल पहले मोतियों की खेती शुरू की, अब सालाना 5 लाख रुपए कमा रहे हैं मुनाफा

सूरत के रहने वाले नीरव पटेल एक किसान परिवार से ताल्लुक रखते हैं। उनके पिता पारंपरिक खेती करते थे, लेकिन कमाई उतनी नहीं होती थी। कभी मौसम की मार तो कभी मार्केट में सही कीमत नहीं मिलने से वे परेशान रहते थे। इसके बाद 2018 में नीरव ने मोतियों की खेती करना शुरू किया। इसका उन्हें फायदा भी मिला और पहले ही साल अच्छी आमदनी हुई। फिलहाल वे 5 तालाबों में मोतियों की खेती कर रहे हैं और सालाना 5 लाख रुपए का मुना... | Aaj Ki Positive Story : Know all about pearl Farming, It's Cultivation and Marketing Process

गोभी जी को अल्जाइमर दिवस की शुभकामनाएं हर साल 2 करोड़ रोजगार देने का वादा करके भूलने पर Alzheimers Alzheimer_day

यूपी के बाराबंकी में मूर्ति विसर्जन के दौरान हादसा, महिला समेत 5 नदी में डूबेमसौली थाना क्षेत्र में सहादतगंज में नारायण धर पांडेय के घर गणेश प्रतिमा रखी गई थी. इसका विसर्जन करने के लिए 10-15 लोग रविवार की दोपहर करीब 1 बजे कस्बे के समीप ही कल्याणी नदी के पीपरा घाट पुल पर गए थे.

Galaxy M52 5G भारत में इस दिन हो रहा है लॉन्च, ये है संभावित फीचर्सGalaxy M52 5G भारत में जल्द ही लॉन्च होने वाला है. कंपनी ने लॉन्च डेट का ऐलान कर दिया है. इसका टीजर भी जारी कर दिया गया है और इसमें क्या फीचर्स दिए जाएंगे इसकी भी कई जानकारियां सामने आई हैं.

सहमा चीन, इंडो पैसिफ‍िक क्षेत्र में ड्रैगन के खिलाफ लामबंद हुआ अमेरिका, जानें क्‍या है AUKUSAUKUS का लक्ष्‍य आस्‍ट्रेलिया को परमाणु संपन्‍न देश बनाना है। इसके तहत आस्‍ट्रेलिया को न्‍यूक्लियर पावर्ड सबमरीन बनाने की तकनीक दी जाएगी। आखिर क्‍या है AUKUS। इंडो पैसिफ‍िक क्षेत्र में क्‍यों चिंत‍ित हुआ चीन। अमेरिका की क्‍या है बड़ी योजना।

चन्नी तो बने पंजाब के सीएम, पर यूपी में हलचल क्यों है भला - BBC News हिंदीमायावती ने चन्नी के चयन को लेकर कांग्रेस पर साधा निशाना. पंजाब को लेकर कांग्रेस के फ़ैसले पर बीजेपी ने क्या कहा, पढ़िए अब क्या हुआ पंजाब का CM वेटिकन के इशारे पर नियुक्त हुआ है खबर आ रही है पंजाब के नए CM चरणजीत चन्नी धर्मान्तरित ईसाई हैं.. लुटियन मीडिया दलित होने की झूठी खबर फैला रही है इसका मतलब सोनिया गांधी ने सोच समझ कर ही अपनी चाल चली है.. अब पंजाब में खुल कर धर्मांतरण का खेल होगा कमीने कोंग्रेसी 😜👌👌

विदेशी पर्यटकों के लिए खुलेंगे देश के दरवाजे: 10 दिन के भीतर भारत आने की दी जा सकती है इजाजत, कोरोना संक्रमण के कारण मार्च 2020 से लगा है बैनदेश में जल्दी ही विदेशी पर्यटकों के लिए दरवाजे फिर खुल सकते हैं। केंद्रीय गृह मंत्रालय के एक अधिकारी ने इसकी पुष्टि की है। उन्होंने बताया कि इस संबंध में औपचारिक घोषणा अगले 10 दिन के भीतर की जा सकती है। कोरोना महामारी के कारण मार्च-2020 में विदेशी पर्यटकों के भारत आने पर प्रतिबंध लगाया गया था। हालांकि, इससे टूरिज्म, हॉस्पिटैलिटी और एविएशन सेक्टर बुरी तरह चरमरा गया। | Foreign tourists can get permission to come to India soon, due to corona infection, now there is a ban

दिल्ली में अचानक से बच्चों में बढ़े वायरल बुखार के मामले, रखें ये सावधानीडॉक्टर कहते हैं कि बच्चे जब भी घर से निकलें, मास्क पहन कर घर से निकलें, घर में जब भी आए अपने हाथ साबुन से जरूर धोएं. बच्चों को इन दिनों ताजे फल खासकर विटामिन सी वाले फल जरूर खिलाएं. बच्चों को सिर्फ घर का ही खाना दें. बाहर के पैक्ड फूड या जंक फूड से बच्चों को बचाएं sushantm870 mansukhmandviya trust and hope you will work for nation and do your duty. ombirlakota