Todayinhistory, History Today India, This Day İn History, Today İn History, This Day İn History 2021, What Happened Today İn History, Historical, Events, Bharat Mein Aaj Ka Itihaas

Todayinhistory, History Today India

आज का इतिहास: 247 साल पहले ऑक्सीजन की खोज हुई, खोज करने वाले वैज्ञानिक ने इसका नाम डिफ्लोजिस्टिकेटेड एयर दिया था

आज का इतिहास: 247 साल पहले ऑक्सीजन की खोज हुई, खोज करने वाले वैज्ञानिक ने इसका नाम डिफ्लोजिस्टिकेटेड एयर दिया था #TodayinHistory

01-08-2021 05:47:00

आज का इतिहास: 247 साल पहले ऑक्सीजन की खोज हुई, खोज करने वाले वैज्ञानिक ने इसका नाम डिफ्लोजिस्टिकेटेड एयर दिया था TodayinHistory

आज ही के दिन 1774 में इंग्लैंड के वैज्ञानिक जोसेफ प्रीस्ले ने मरक्यूरिक ऑक्साइड को जलाकर डिफ्लोजिस्टिकेटेड एयर की खोज की थी। यही गैस आगे चलकर प्राणवायु ऑक्सीजन के नाम से जानी गई। इससे पहले पूरी दुनिया एक सवाल का जवाब पता करने में लगी थी। ये सवाल था - आखिर चीजें जलती कैसे हैं? | Meta Description: Today History, Aaj Ka Itihas (आज का इतिहास) Bharat Mein Aaj Ka Itihaas | What Is The Significance Of Today? What Famous Thing \r\n\r\nHappened On This Day In history; आज ही के दिन 1774 में इंग्लैंड के वैज्ञानिक जोसेफ प्रीस्ले ने मरक्यूरिक ऑक्साइड को जलाकर डिफ्लोजिस्टिकेटेड एयर की खोज की थी।

आज का इतिहास:247 साल पहले ऑक्सीजन की खोज हुई, खोज करने वाले वैज्ञानिक ने इसका नाम डिफ्लोजिस्टिकेटेड एयर दिया था3 घंटे पहलेकॉपी लिंकआज ही के दिन 1774 में इंग्लैंड के वैज्ञानिक जोसेफ प्रीस्ले ने मरक्यूरिक ऑक्साइड को जलाकर डिफ्लोजिस्टिकेटेड एयर की खोज की थी। यही गैस आगे चलकर प्राणवायु ऑक्सीजन के नाम से जानी गई। इससे पहले पूरी दुनिया एक सवाल का जवाब पता करने में लगी थी। ये सवाल था - आखिर चीजें जलती कैसे हैं?

फ्रांस ने अमेरिका,ऑस्ट्रेलिया से राजदूत वापस बुलाने के बाद ब्रिटेन को भी दिया झटका - BBC News हिंदी दिल्ली दंगे: दिल्ली पुलिस बार-बार कोर्ट के सामने शर्मसार क्यों हो रही है? - BBC News हिंदी पंजाब के नए CM को PM नरेंद्र मोदी ने दी बधाई, बोले- राज्य के विकास के लिए मिलकर करेंगे काम

अलग-अलग लोग हवा में अलग-अलग पदार्थ जलाकर ये पता लगाने की कोशिश कर रहे थे कि हवा में कुछ तो ऐसा होता होगा जिसकी वजह से आग जलती है। 18वीं शताब्दी के आसपास इस सवाल का जवाब पाने के लिए वैज्ञानिकों के प्रयास बढ़ने लगे।1772 में स्वीडन के वैज्ञानिक कार्ल विल्हेम शील एक एक्सपेरिमेंट कर रहे थे। उन्होंने मैग्नीज ऑक्साइड, पोटेशियम नाइट्रेट और कई एलिमेंट को मिलाकर गर्म किया। इन्हें गर्म करने पर एक गैस निकली। शील ने देखा कि इस गैस में चीजें ज्यादा तेजी से जलती हैं। साथ ही जीव-जन्तु भी इस गैस में ज्यादा देर तक जिंदा रह पाते हैं। शील ने ऑक्सीजन की खोज कर ली थी, लेकिन उन्होंने इसे ‘फायर एयर’ नाम दिया।

गैसों पर एक्सपेरिमेंट के लिए बनाया गया जोसेफ का इंस्ट्रूमेंट कुछ इस तरह दिखता था।दो साल बाद 1774 में इंग्लैंड के जोसेफ प्रीस्ले भी इसी तरह के एक्सपेरिमेंट करने लगे। प्रीस्ले का मानना था कि पूरी की पूरी हवा आग जलने में सहायक नहीं होती, केवल हवा का कुछ हिस्सा ही आग जलने में मदद करता है। अपनी इस थ्योरी को प्रूव करने के लिए प्रीस्ले ने 1 अगस्त 1774 को एक एक्सपेरिमेंट किया। उन्होंने एक बंद बर्तन में रेड मरक्यूरिक ऑक्साइड को गर्म किया। गर्म करने के बाद जो हवा निकली उसे एक दूसरे बर्तन में इकट्ठा कर लिया। headtopics.com

उन्होंने इस हवा में जब एक जलती हुई चीज रखी, तो वह और तेजी से जलने लगी। इस हवा में चूहे भी साधारण हवा के मुकाबले ज्यादा देर तक जिंदा रहे। इसी तरह आज ही के दिन 1774 में प्राणवायु गैस ऑक्सीजन की खोज हुई। हालांकि, प्रिस्ले ने ऑक्सीजन को डिफ्लोजिस्टिकेटेड एयर नाम दिया था। उनका मानना था कि क्योंकि इस हवा में फ्लॉजिस्टन नहीं है, इसलिए यह जलने में ज्यादा मदद करती है।

अभी तक ऑक्सीजन को ऑक्सीजन नाम नहीं मिला था। 1777 में एक और वैज्ञानिक एंटोइन लेवाइजर ने भी ऑक्सीजन पर स्टडी की। उन्होंने ऑक्सीजन को ऑक्सीजन नाम दिया और पहली बार बताया कि ऑक्सीजन एक केमिकल एलीमेंट है। साथ ही चीजों के जलने में ऑक्सीजन की भूमिका को भी डिटेल में दुनिया को बताया।

अब सवाल उठता है कि फिर ऑक्सीजन की खोज किसने की? 1772 में शील ने ऑक्सीजन की खोज तो कर ली थी लेकिन उन्होंने अपनी स्टडी को कहीं पब्लिश नहीं किया था। इसके उलट 1774 में प्रिस्ले ने ऑक्सीजन की खोज भी कर ली थी और अपनी स्टडी को पब्लिश भी किया था। इसी वजह से प्रिस्ले को ऑक्सीजन का खोजकर्ता माना जाता है।

1920: महात्मा गांधी ने असहयोग आंदोलन की शुरुआत कीगांधी जी ने आज ही के दिन 1920 में असहयोग आंदोलन शुरू किया था। आंदोलन के दौरान स्टूडेंट्स ने स्कूलों और कॉलेजों में जाना बंद कर दिया, वकीलों ने अदालत में जाने से मना कर दिया और मजदूर हड़ताल पर चले गए। पूरे देश में विदेशी कपड़ों की होली जलाई जाने लगी। इससे विदेशी कपड़े का आयात बहुत कम हो गया। headtopics.com

Exclusive : 'चार दिनों तक हुई पूछताछ, मैंने कोई कानून नहीं तोड़ा' NDTV से IT रेड पर बोले सोनू सूद रूस: पर्म शहर की यूनिवर्सिटी में गोलीबारी से 8 की मौत, देखें खौफनाक मंजर रूसी यूनिवर्सिटी में छात्र ने लोगों पर चलाईं अंधाधुंध गोलियां, 8 की मौत

आंदोलन के दौरान विदेशी कपड़ों की होली जलाने के लिए कपड़े इकट्ठे करते लोग।जैसे-जैसे यह आंदोलन फैलता गया, लोगों ने केवल भारतीय कपड़ों को पहनना शुरू कर दिया। इससे अंग्रेजों का आर्थिक नुकसान बढ़ने लगा और भारतीय कपड़ा मिलों का उत्पादन बढ़ गया। हालांकि, असहयोग आंदोलन के शुरू होने का कारण अंग्रेजों का बढ़ता अत्याचार, रोलेट एक्ट और पहला विश्वयुद्ध अहम वजह थे।

इस आंदोलन की सबसे बड़ी खासियत इसका अहिंसक होना था, लेकिन 5 फरवरी 1922 को आंदोलनकारी किसानों ने यूपी के चौरी चौरा में एक पुलिस स्टेशन को आग के हवाले कर दिया। इस घटना में 22 पुलिसकर्मी मारे गए। इस घटना से आहत हुए गांधी जी ने असहयोग आंदोलन को वापस ले लिया।

1953: देश में सभी एयरलाइंस का राष्ट्रीयकरण किया गया1953 तक भारत में 8 प्राइवेट एयरलाइन कंपनियां हवाई यात्रा की सुविधा दे रही थीं, लेकिन दूसरे विश्वयुद्ध की वजह से दुनियाभर में एविएशन सेक्टर बुरी तरह प्रभावित हुआ। इस मंदी से निपटने के लिए योजना आयोग ने सुझाव दिया कि सभी एयरलाइन कंपनियों का राष्ट्रीयकरण कर दिया जाए। इसके बाद सरकार ने एयर कॉर्पोरेशंस एक्ट को संसद में पेश किया।

जेआरडी टाटा ने देश में 1932 में टाटा एयरलाइंस की शुरुआत की थी। टाटा एयरलाइंस ही आगे चलकर एयर इंडिया बनी।मार्च 1953 में संसद ने एयर कॉर्पोरेशंस एक्ट पास किया। 28 मई 1953 को इस एक्ट पर राष्ट्रपति ने अपने हस्ताक्षर किए और आज ही के दिन 1953 में ये एक्ट लागू हुआ। इसी के साथ देश में कामकाज कर रही 8 एयरलाइन कंपनियों को मिलाकर इंडियन एयरलाइंस और एयर इंडिया बनाई गई। एयर इंडिया को इंटरनेशनल तो इंडियन एयरलाइंस को डोमेस्टिक फ्लाइट्स संभालने का जिम्मा दिया गया। headtopics.com

1 अगस्त के दिन को और किन-किन महत्वपूर्ण घटनाओं की वजह से याद किया जाता है...1994:पॉप स्टार माइकल जैक्सन ने लिसा मैरी प्रेस्ली से शादी की घोषणा की।1971:बीटल्स के जॉर्ज हैरिसन और पंडित रविशंकर ने न्यूयॉर्क के मेडिसन स्क्वैयर पर नए-नए बने बांग्लादेश के लिए चैरिटी कॉन्सर्ट का आयोजन किया। इसे सबसे सफल चैरिटी कॉन्सर्ट में गिना जाता है।

1960:पाकिस्तान की राजधानी को कराची से बदलकर इस्लामाबाद कर दिया गया।1957:नेशनल बुक ट्रस्ट की स्थापना।1944:एनी फ्रैंक ने अपनी डायरी में आखिरी एंट्री की। एनी फ्रैंक की डायरी को जर्मन शासन की क्रूरता का लिखित दस्तावेज माना जाता है।1936:एडोल्फ हिटलर ने बर्लिन में ओलिंपिक खेलों की शुरुआत की। हिटलर ने दुनिया को अपनी ताकत दिखाने के लिए इन खेलों पर पानी की तरह पैसा बहाया था।

इलेक्ट्रिक कार के बाद Rolls-Royce का इलेक्ट्रिक हवाई जहाज, 482 Kmph है टॉप स्पीड दिल्ली: ठगी के मास्टरमाइंड सुकेश चंद्रशेखर को तिहाड़ में सुविधाएं मुहैया कराते थे 9 अधिकारी दीदी की बड़ाई में बाबुल के गीत: BJP छोड़कर TMC में आए बाबुल सुप्रियो आज बंगाल CM से मिलेंगे, बोले- ममता बनर्जी सबसे मजबूत PM उम्मीदवार और पढो: Dainik Bhaskar »

अमेठी में स्मृति ने पकौड़ी संग चाय पर की चर्चा: दुकानदार से पूछा- क्या हाल है, बोला- बेटे के दिल में छेद है, बोलीं- दिल्ली लेकर आइए, इलाज की चिंता मत करिए

स्मृति ईरानी अमेठी में हैं। केंद्रीय मंत्री गुरुवार सुबह अचानक नहर कोठी चौराहा पर राम नरेश की दुकान पर पहुंच गईं। वहां उन्होंने पकौड़ी खाई और चाय पी। दुकानदार से उसका हालचाल पूछा। साथ ही क्षेत्र की समस्याओं के बारे में जाना। रामनरेश ने केंद्रीय मंत्री को बताया कि क्षेत्र में सब ठीक चल रहा है, लेकिन वह निजी समस्या से परेशान हैं। उनके बच्चे के दिल में छेद है, जिसका इलाज कराने में वह असमर्थ है। | Discussion on Smriti Irani's tea in Amethi, After drinking tea at the shop, ate dumplings, asked - how are you; After hearing the problem of Ram Naresh called to Delhi, amethi news, political news, यूपी चुनाव से पहले गांधी परिवार अमेठी से दूर है, इसका फायदा स्मृति ईरानी बखूबी उठा रही हैं। बुधवार की रात अमेठी पहुंची केंद्रीय मंत्री गुरुवार सुबह अचानक नहर कोठी चौराहा पर राम नरेश की दुकान पर पहुंच गईं। यहां उन्होंने चाय पीकर और पकौड़ी खाकर चर्चा की। दुकानदार से उसका हालचाल पूछा। साथ ही क्षेत्र की समस्याओं के बारे में जाना। रामनरेश ने केंद्रीय मंत्री को बताया कि क्षेत्र में सब ठीक चल रहा है, लेकिन वह निजी समस्या से परेशान है। उसने बताया कि उसके बच्चे के दिल में छेद है। जिसका इलाज कराने में वह असमर्थ है।

उससे पहले आक्सीजन नही थी क्या? GovindDotasra ashokgehlot51 RajCMO RahulGandhi SachinPilot 1stIndiaNews BSBhatiInc DrSatishPoonia priyankagandhi RPSC1 Ramniwaskukna TheUpenYadav drsubhashg कंप्यूटर भर्ती की विभक्ति और सलेबस और मिनिमम क्वालिफिकेशन जल्दी निकाल कर हमें कृतज्ञ करे *3 Year 😐 And the khoj for oxygen continued, even after 247 years, during the current pandemic!

आज का जीवन मंत्र: अपने काम की प्रस्तुति प्रभावशाली और दूसरों के लिए उपयोगी होनी चाहिएकहानी - महर्षि महेश योगी से जुड़ा किस्सा है। महेश योगी जी अपने गुरु ब्रह्मानंद सरस्वती के निधन के बाद बहुत दुखी थे। वे इतने निराश हो गए थे कि गंगा में कूद गए, उन्हें लोगों ने नदी से निकाला। तब से वे सोचने लगे कि इस जीवन का उद्देश्य क्या होना चाहिए? | aaj ka jeevan mantra by pandit vijayshankar mehta, story of maharshi mahesh yogi, Presentation of your work should be impressive and useful to others ऐसा ही एक काम धरातल लाना जनस्वराज ♣ जिसकेलिए ग्रहनक्षत्र मिल सबदेरहे आवाज👌 जनसबसाथ कर्मयोगी जल्दहीकरेंगे आगाजⓂ️ हरिॐ🚩

स्‍टूडेंट्स की बढ़ती संख्‍या के बीच अमेरिका जाने वाली फ्लाइट्स की संख्‍या दोगुनी करेगा एयर इंडियाNDTV की पूछताछ पर प्रतिक्रिया देते हुए एयर इंडिया ने कहा, कोरोना के केसों में आए हाल के उछाल और अमेरिकी राष्‍ट्रपति की भारत से आने वाली फ्लाइट्स की संख्‍या को सीमित करने के ऐलान के मद्देनजर हमें अपनी अमेरिका की कुछ फ्लाइट, जिसमें मुंबई और नेवार्क के बीच की फ्लाइट शामिल हैं, को कैंसल करना पड़ा था. यात्रियों को इस कैंसलेशन के बारे में पहले ही बता दिया गया था और यह स्थितियां हमारे नियंत्रण के बाहर थीं. एयर इंडिया जिन्दा है क्या ❓️❓️ एयर इंडिया तो बिक चुकी है ना।

वंदना कटारिया ओलंपिक की तैयारियों के चलते पिता के निधन पर नहीं पहुंच पाईं थीं गांवखेलों के महाकुंभ यानी ओलंपिक में भारतीय हॉकी की ओवरऑल यह 32वीं हैट्रिक है। इन 32 में से 7 हैट्रिक मेजर ध्यानचंद के नाम हैं। मेजर ध्यानचंद ने ओलंपिक में हॉकी में भारत की ओर से सबसे ज्यादा हैट्रिक लगाईं हैं।

Weather Live: मॉनसून की बौछार के आगे दिल्ली बेबस, भारी बारिश के बाद कई जगह जलजमावToday Weather Forecast Live Updates: राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में आज (रविवार) सुबह हुई बारिश (Rain) से एक बार फिर मौसम खुशनुमा हो गया है. वहीं, राजधानी के कई इलाकों में बारिश के कारण सड़कों पर जलभराव (Waterlogging) देखने को मिल रहा है. हालांकि, रविवार होने की वजह से ट्रैफिक जाम की आशंका कम है. उधर, उत्तर प्रदेश, राजस्थान, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश सहित कई राज्यों में मौसम विभाग (IMD) ने आज यानी 01 अगस्त को बारिश की संभावना जताई है.

आज की पॉजिटिव खबर: 5 साल पहले नोएडा की इप्सिता ने घर से ही हैंडीक्राफ्ट साड़ियों की मार्केटिंग शुरू की, अब सालाना 60 लाख रुपए है टर्नओवरभारत हमेशा से ट्रेडिशनल आर्ट वर्क का हब रहा है। हमारे यहां हर जगह की अपनी एक खासियत होती है। खासकर, पहनावे को लेकर। हमारे बुनकरों की हाथ की बनाई हुई साड़ी और कपड़ों की डिमांड विदेशों में भी होती है। कई लोग अलग-अलग राज्यों के खास ड्रेसेज का कलेक्शन रखते हैं, लेकिन दिक्कत इनकी अवेलबिलिटी को लेकर होती है। कई बार ढूंढने के बाद भी हमें अपनी पसंद के कपड़े नहीं मिल पाते हैं। अगर मिलते भी हैं तो उनकी क्वालिट... | Ipsita Dash and Vinita Dash, Noida-based saree startup 6yardsandmore works with weavers in remote villages across India and sells sarees, accessories, and more वरिष्ठ_अध्यापक_भर्ती_2016 के रिक्त 1200 पदों पर रीसफल रिजल्ट & वेटिंग लिस्ट जारी करो भर्ती बिना कोर्ट विवाद के 5साल से लंबित है ashokgehlot51 Sos_Sourabh GovindDotasra RESTARajasthan me_moharsingh artizzzz zeerajasthan_ TheUpenYadav Ye kya ho raha tarikh pe tarikh Nyay kab milega ? ashokgehlot51 Sos_Sourabh GovindDotasra zeerajasthan_ 1stIndiaNews TheUpenYadav REET reet2018_नियुक्ति_दो REET2018_धरनाप्रदर्शन_बीकानेर REET2018_JOINING_DO

मध्यप्रदेश: ऑनलाइन गेम खेलने की लत ने छीनी 13 साल के बच्चे की जिंदगी, 40 हजार गंवाने के बाद की आत्महत्यामध्यप्रदेश: ऑनलाइन गेम खेलने की लत ने छीनी 13 साल के बच्चे की जिंदगी, 40 हजार गंवाने के बाद की आत्महत्या MadhyaPradesh OnlineGame CrimeNews