Azadikaamritmahotsav, Legacy, Birthplace, Netaji, Netajisubhaschandrabose, Subhaschandrabose, India News, Nationalındia News İn Hindi

Azadikaamritmahotsav, Legacy

आजादी का अमृत महोत्सव : नेताजी सुभाषचंद्र बोस की जन्मस्थली में सहेजी गई विरासत, पढ़ें विशेष रिपोर्ट

नेताजी सुभाषचंद्र बोस ने आजादी की लड़ाई को नए आयाम पर पहुंचाया और विदेशी सरजमीं पर दुनिया की दूसरी ताकतों के साथ मिलकर

24-10-2021 04:11:00

आजादी का अमृत महोत्सव : नेताजी सुभाषचंद्र बोस की जन्मस्थली में सहेजी गई विरासत, पढ़ें विशेष रिपोर्ट AzadiKaAmritMahotsav Legacy Birthplace Netaji Netaji SubhasChandraBose SubhasChandraBose PMOIndia

नेताजी सुभाषचंद्र बोस ने आजादी की लड़ाई को नए आयाम पर पहुंचाया और विदेशी सरजमीं पर दुनिया की दूसरी ताकतों के साथ मिलकर

ख़बर सुनेंनेताजी ने आजादी की लड़ाई को नए आयाम पर पहुंचाया और विदेशी सरजमीं पर दुनिया की दूसरी ताकतों के साथ मिलकर अंग्रेजों को चुनौती दी... महानदी के किनारे पर बसे कटक में जब आप उड़िया बाजार की ओर चलते हैं तो यह सोचना भर ही रोमांचक है कि आजादी की लड़ाई के महान योद्धा की जन्मभूमि से आप रूबरू होंगे...

हेलिकॉप्टर दुर्घटना में सीडीएस बिपिन रावत की मौत, अमेरिका-इसराइल ने भी जताया दुख - BBC Hindi रोहित शर्मा बने वनडे टीम के कप्तान, विराट करेंगे केवल टेस्ट में कप्तानी - BBC News हिंदी जनरल रावत की पत्नी मधुलिका की भी हेलिकॉप्टर हादसे में मौत, क्या थी शख़्सियत - BBC News हिंदी

जेल से लेकर रेडियो रुम तकआजादी की लड़ाई में उनके हर जेल प्रवास की पूरी कहानी संग्रहालय में दर्शाई गई है। एक ब्लॉक को जेल की तरह बनाया भी गया है। बताया गया है कि 17 जनवरी 1941 की सुबह लगभग डेढ़ बजे सुभाष चंद्र बोस मुस्लिम वेशभूषा में घर से निकल गए थे। अंग्रेजों को भनक तक नहीं लगी थी। उनके भतीजे ने उन्हें गाड़ी से छोड़ा और वह लंबी यात्रा करते हुए काबुल तक पहुंच गए। वह अपने साथ बस भगवद् गीता और मां काली की एक तस्वीर ले गए थे।

आजाद हिंद फौज की सरकार के गठन के साथ ही आजाद हिंद बैंक की भी स्थापना की गई थी। उस दौर में 50 लाख की पूंजी के साथ इसे खोला गया। बैंक के सुचारू संचालन के लिए एक कमेटी का गठन किया गया था। मदद करने वाले लोगों को सेवक-ए-हिंद कहा जाता था।नवंबर 1943 में नेताजी ने आजाद हिंद की औपनिवेशिक सरकार के लिए राष्ट्रीय ध्वज और राष्ट्रगान तय करने के लिए एक उपसमिति का गठन किया। इस समिति ने तय किया कि बिना चक्र के तिरंगा ही राष्ट्रीय ध्वज के तौर पर मान्य होगा। एक मुस्लिम युवा हुसैन की लिखी पंक्तियों को राष्ट्रगान का दर्जा दिया गया। पंक्तियों से नेताजी इतने प्रसन्न हुए कि उन्होंने हुसैन को दस हजार डॉलर इनाम दिया। headtopics.com

दुनिया की पहली महिला रेजिमेंटआजाद हिंद फौज की महिला रेजिमेंट के तौर पर झांसी की रानी रेजिमेंट का गठन किया गया था। यह दुनिया की पहली महिला रेजिमेंट थी। संग्रहालय में नेताजी के साथ रेजिमेंट की यूनिफॉर्म भी यहां पर सहेज कर रखी गई है। रेजिमेंट के प्रशिक्षण और उससे जुड़े अन्य कर्ताधर्ताओं के बारे में भी इस संग्रहालय में फोटो के माध्यम से बताया गया है।

8 जनवरी 1902 को पांच साल की उम्र से बोस की प्रारंभिक शिक्षा कटक के प्रोटेस्टेंट यूरोपियन स्कूल (अब स्टीवर्ट स्कूल) में हुई थी। स्कूल के वर्तमान हेडमास्टर एफसी नोर्थ के अनुसार यहां से कक्षा छह पास करने के बाद कक्षा सात के बीच सत्र में ही रेवेनशा कॉलेजिएट स्कूल में उनका दाखिला करा दिया गया।

रेवेनशा कॉलेजियट स्कूल ने भी सुभाष को पूरी तरह से सहेज कर रखा है। स्कूल के गेट पर उनकी प्रतिमा हो, ऑडिटोरियम या लैब, सबका नाम सुभाष चंद्र बोस पर ही रखा गया है। स्कूल रिकॉर्ड के अनुसार पिता जानकीनाथ बोस ने 11 जनवरी 1909 को उनका प्रवेश स्कूल में कराया था। कक्षा दस में उनके प्रथम श्रेणी से पास होने का रिकॉर्ड भी स्कूल ने संभाला हुआ है।

कॉलेज की पढ़ाई के दौरान वह भारतीय छात्रों के हक के लिए लड़ते रहते थे। इसी वजह से एक बार उन्हें निष्कासित भी किया गया। इसके बाद इंडियन सिविल सर्विस की तैयारी के लिए इंग्लैंड गए। परीक्षा की मेरिट में उन्होंने चौथा स्थान प्राप्त किया। हालांकि आजादी की लड़ाई में उन्होंने पद ठुकरा दिया था। headtopics.com

जनरल बिपिन रावत: हेलिकॉप्टर हादसे के चश्मदीद ने क्या-क्या देखा - BBC News हिंदी हेलीकॉप्‍टर हादसे में केवल ग्रुप कैप्‍टन वरुण सिंह की ही बची जान, इसी वर्ष अगस्‍त में मिला है शौर्य चक्र CDS बिपिन रावत के साथ MP के जवान की भी मौत, 2011 में भारतीय सेना में भर्ती हुए थे जीतेंद्र कुमार

आजादी की लड़ाई के दौरान कुछ ही दिनों में सुभाष चंद्र बोस कांग्रेस के बड़े नेता बन गए थे। वह 1938 में कांग्रेस के अध्यक्ष बने। 1939 में कांग्रेस में उनकी मजबूती इतनी बढ़ी कि वे महात्मा गांधी के समर्थन से खड़े हुए प्रत्याशी के खिलाफ चुनाव जीत गए थे। वह भी तब, जब बापू ने यहां तक कह दिया था कि उनके प्रत्याशी सीतारमैया की हार उनकी हार होगी।

सुभाष ने शुरुआती शिक्षा में उड़िया और बंगाली भाषा का अच्छा ज्ञान प्राप्त कर लिया था। रेवेनशा स्कूल उनके घर से महज तीन किलोमीटर दूर था, इसके बावजूद वह हॉस्टल के कमरा नंबर 11 में रहने लगे। इस स्कूल में हॉस्टल का वह कमरा आज भी है, उसी अंदाज में और बिना किसी बदलाव के। इतना ही नहीं कमरे में पुराना फर्नीचर भी संजो कर रखा गया है। छोटे से कमरे रखे हुए पुराने फर्नीचर पर बैठना भी एक अलग तरह की अनुभूति है।

स्कूल की प्रिंसिपल डॉ. अनुष्मिता स्वेन बताती हैं कि सरकारी स्कूल होने के बावजूद उनके स्कूल में बड़ी संख्या में छात्रों का प्रवेश होता है। यहां आने वाले हर अभिभावक के मन में यह उत्सुकता रहती है कि बोस इस स्कूल में पढ़े थे। इसी गौरव का एहसास यहां पढ़ने वाला हर एक छात्र भी करता है।

विस्तारनेताजी ने आजादी की लड़ाई को नए आयाम पर पहुंचाया और विदेशी सरजमीं पर दुनिया की दूसरी ताकतों के साथ मिलकर अंग्रेजों को चुनौती दी... महानदी के किनारे पर बसे कटक में जब आप उड़िया बाजार की ओर चलते हैं तो यह सोचना भर ही रोमांचक है कि आजादी की लड़ाई के महान योद्धा की जन्मभूमि से आप रूबरू होंगे... headtopics.com

विज्ञापनजेल से लेकर रेडियो रुम तकआजादी की लड़ाई में उनके हर जेल प्रवास की पूरी कहानी संग्रहालय में दर्शाई गई है। एक ब्लॉक को जेल की तरह बनाया भी गया है। बताया गया है कि 17 जनवरी 1941 की सुबह लगभग डेढ़ बजे सुभाष चंद्र बोस मुस्लिम वेशभूषा में घर से निकल गए थे। अंग्रेजों को भनक तक नहीं लगी थी। उनके भतीजे ने उन्हें गाड़ी से छोड़ा और वह लंबी यात्रा करते हुए काबुल तक पहुंच गए। वह अपने साथ बस भगवद् गीता और मां काली की एक तस्वीर ले गए थे।

आजाद हिंद फौज की सरकार के गठन के साथ ही आजाद हिंद बैंक की भी स्थापना की गई थी। उस दौर में 50 लाख की पूंजी के साथ इसे खोला गया। बैंक के सुचारू संचालन के लिए एक कमेटी का गठन किया गया था। मदद करने वाले लोगों को सेवक-ए-हिंद कहा जाता था।नवंबर 1943 में नेताजी ने आजाद हिंद की औपनिवेशिक सरकार के लिए राष्ट्रीय ध्वज और राष्ट्रगान तय करने के लिए एक उपसमिति का गठन किया। इस समिति ने तय किया कि बिना चक्र के तिरंगा ही राष्ट्रीय ध्वज के तौर पर मान्य होगा। एक मुस्लिम युवा हुसैन की लिखी पंक्तियों को राष्ट्रगान का दर्जा दिया गया। पंक्तियों से नेताजी इतने प्रसन्न हुए कि उन्होंने हुसैन को दस हजार डॉलर इनाम दिया।

असम: न्यूज़ पोर्टल के संपादक पर राजद्रोह के आरोप के ख़िलाफ़ पत्रकारों का प्रदर्शन यूपी: संसदीय कार्य राज्यमंत्री बोले- मथुरा की मस्जिद को हिंदुओं के 'हवाले कर दें' मुस्लिम Rohit Sharma, New ODI Captain: रोहित की 'चांदी'...T-20 के बाद मिली ODI की कमान, टेस्ट में भी ली रहाणे की जगह

दुनिया की पहली महिला रेजिमेंटआजाद हिंद फौज की महिला रेजिमेंट के तौर पर झांसी की रानी रेजिमेंट का गठन किया गया था। यह दुनिया की पहली महिला रेजिमेंट थी। संग्रहालय में नेताजी के साथ रेजिमेंट की यूनिफॉर्म भी यहां पर सहेज कर रखी गई है। रेजिमेंट के प्रशिक्षण और उससे जुड़े अन्य कर्ताधर्ताओं के बारे में भी इस संग्रहालय में फोटो के माध्यम से बताया गया है।

आगे पढ़ने के लिए लॉगिन या रजिस्टर करेंअमर उजाला प्रीमियम लेख सिर्फ रजिस्टर्ड पाठकों के लिए ही उपलब्ध हैंस्कूल ने सहेज कर रखा है इतिहासइसी कमरे में नेताजी सुभाषचंद्र बोस का जन्म हुआ था। दूसरे चित्र में संग्रहालय में मौजूद उस दौर की बग्घी।- फोटो : Amar Ujala

8 जनवरी 1902 को पांच साल की उम्र से बोस की प्रारंभिक शिक्षा कटक के प्रोटेस्टेंट यूरोपियन स्कूल (अब स्टीवर्ट स्कूल) में हुई थी। स्कूल के वर्तमान हेडमास्टर एफसी नोर्थ के अनुसार यहां से कक्षा छह पास करने के बाद कक्षा सात के बीच सत्र में ही रेवेनशा कॉलेजिएट स्कूल में उनका दाखिला करा दिया गया।

रेवेनशा कॉलेजियट स्कूल ने भी सुभाष को पूरी तरह से सहेज कर रखा है। स्कूल के गेट पर उनकी प्रतिमा हो, ऑडिटोरियम या लैब, सबका नाम सुभाष चंद्र बोस पर ही रखा गया है। स्कूल रिकॉर्ड के अनुसार पिता जानकीनाथ बोस ने 11 जनवरी 1909 को उनका प्रवेश स्कूल में कराया था। कक्षा दस में उनके प्रथम श्रेणी से पास होने का रिकॉर्ड भी स्कूल ने संभाला हुआ है।

कॉलेज की पढ़ाई के दौरान वह भारतीय छात्रों के हक के लिए लड़ते रहते थे। इसी वजह से एक बार उन्हें निष्कासित भी किया गया। इसके बाद इंडियन सिविल सर्विस की तैयारी के लिए इंग्लैंड गए। परीक्षा की मेरिट में उन्होंने चौथा स्थान प्राप्त किया। हालांकि आजादी की लड़ाई में उन्होंने पद ठुकरा दिया था।

गांधी समर्थित प्रत्याशी के खिलाफ जीते थे अध्यक्ष का चुनावमहात्मा गांधी और सरदार पटेल के साथ सुभाष।- फोटो : Amar Ujalaआजादी की लड़ाई के दौरान कुछ ही दिनों में सुभाष चंद्र बोस कांग्रेस के बड़े नेता बन गए थे। वह 1938 में कांग्रेस के अध्यक्ष बने। 1939 में कांग्रेस में उनकी मजबूती इतनी बढ़ी कि वे महात्मा गांधी के समर्थन से खड़े हुए प्रत्याशी के खिलाफ चुनाव जीत गए थे। वह भी तब, जब बापू ने यहां तक कह दिया था कि उनके प्रत्याशी सीतारमैया की हार उनकी हार होगी।

गौरव का एहसास...हॉस्टल में नेताजी सुभाष का कमरा।- फोटो : Amar Ujalaसुभाष ने शुरुआती शिक्षा में उड़िया और बंगाली भाषा का अच्छा ज्ञान प्राप्त कर लिया था। रेवेनशा स्कूल उनके घर से महज तीन किलोमीटर दूर था, इसके बावजूद वह हॉस्टल के कमरा नंबर 11 में रहने लगे। इस स्कूल में हॉस्टल का वह कमरा आज भी है, उसी अंदाज में और बिना किसी बदलाव के। इतना ही नहीं कमरे में पुराना फर्नीचर भी संजो कर रखा गया है। छोटे से कमरे रखे हुए पुराने फर्नीचर पर बैठना भी एक अलग तरह की अनुभूति है।

स्कूल की प्रिंसिपल डॉ. अनुष्मिता स्वेन बताती हैं कि सरकारी स्कूल होने के बावजूद उनके स्कूल में बड़ी संख्या में छात्रों का प्रवेश होता है। यहां आने वाले हर अभिभावक के मन में यह उत्सुकता रहती है कि बोस इस स्कूल में पढ़े थे। इसी गौरव का एहसास यहां पढ़ने वाला हर एक छात्र भी करता है।

और पढो: Amar Ujala »

इतिहास में पहली बार ट्रेन से चला प्याज: 220 टन लाल प्याज किसान व्यापारियों ने सीधे असम भेजा, 1836km का सफर करेगा

राजस्थान के इतिहास में ऐसा पहली बार हुआ है जब यहां होने वाली प्याज को ट्रेन से किसी दूसरे राज्य में भेजा गया है। पहली बार अलवर की प्याज रेल से असम भेजा गया है। पूरे प्रदेश में इससे पहले कभी भी प्याज को मालगाड़ी से ट्रांसपोर्ट नहीं किया गया। किसान रेल के जरिए किसानों की उपज को भेजने की उत्तर पश्चिम रेलवे ने यह शुरुआत की है। | उत्तर पश्चिम रेलवे के क्षेत्र में किसान रेल की अलवर से शुरूआत, 220 टन प्याज अलवर से असम भेजी

निहंगों की पेशी की मॉक ड्रिल: कोर्ट परिसर में पुलिस तैनात कर बर्बर हत्या मामले में पेशी की दी सूचना, बैन की मीडिया की एंट्रीसोनीपत कोर्ट परिसर में शुक्रवार को बड़ी संख्या में पुलिस बल तैनात कर सूचना दी गई कि सिंघु बॉर्डर पर बर्बर हत्या के मामले में आरोपी निहंगों की पेशी है। पुलिस इस दौरान मुस्तैद दिखी और मीडिया की एंट्री बैन कर दी गई। हालांकि यह पेशी से एक दिन पहले रिहर्सल थी। बाद में मीडिया को भी बुलाया गया। शनिवार को हत्या के आरोपी निहंगों को कोर्ट में पेश किया जाएगा। | सोनीपत कोर्ट परिसर में शुक्रवार को भारी संख्या में पुलिस बल तैनात कर सूचना दी गई कि सिंघु बॉर्डर पर बर्बर हत्या के मामले में आरोपी निहंगों की पेशी है। पुलिस इस दौरान मुस्तैद दिखी और मीडिया की एंट्री बैन कर दी गई। आजीवन कारावास की सजा या फाँसी ये समाज में रहने लायक कतई नहीं है

बोस की अस्थियां लाना चाहती थी राव सरकार, दंगे की आशंका से पीछे खींच लिए थे कदम- नेताजी के प्रपौत्र का दावानरसिम्हा राव की सरकार ने नेताजी की अस्थियां भारत लाने की योजना बनाई थी, लेकिन खुफिया रिपोर्ट के बाद इस योजना को रोक दिया गया था। सुभाष चंद्र बोस के प्रपौत्र ने ये दावा किया है।

'कटोरा' लेकर सऊदी अरब पहुंचे इमरान खान, दिवालियेपन की कगार पर पाकिस्तान की अर्थव्यवस्थाPakistan: पाकिस्तान को जून 2018 में ग्रे सूची में डाला था। अक्टूबर 2018, 2019, 2020 और अप्रैल 2021 में हुए रिव्यू में भी पाक को राहत नहीं मिली थी। पाक एफएटीएफ की सिफारिशों पर काम करने में विफल रहा है। इसकी वजह इंटरनैशनल मॉनिटरिंग फंड (आईएमएफ), विश्व बैंक और यूरोपीय संघ से आर्थिक मदद मिलना मुश्किल है। ऑक्सीजन कहां से आया था भारत? भुकमरी में पाकिस्तान से आगे है भारत, संघ की पट्टी अपनी आँखों से हटाओ नज़र आ जाएगा Apne desh ki soacho. Pakke besharm ho tum log

IND vs PAK: महामुकाबले के लिए पाकिस्तान ने टीम की घोषणा की, बाबर-रिजवान करेंगे ओपनिंगIND vs PAK: भारत के खिलाफ महामुकाबले के लिए पाकिस्तान की प्लेइंग-XI की घोषणा, बाबर-रिजवान करेंगे ओपनिंग INDvPAK T20WorldCupsquad T20WorldCup2021 PakistanCricket indiaVsPakistan

बांग्लादेश में 'इस्लाम नहीं रहेगा राष्ट्र धर्म', सेकुलर संविधान की वापसी की तैयारी - BBC News हिंदीपिछले दिनों हिंदुओं के ख़िलाफ़ हुई हिंसा में कई लोगों की मौत हुई है. देश में तनाव के माहौल के बीच सत्ताधारी पार्टी ने संविधान में बदलाव के संकेत दिए हैं. क्या ये आसान होगा. 😂🤣😂🤣😂🎉😂🤣 Fab India's advrt makes news is Washington Post, but Bangladesh Hindu genocide doesn't. बांग्लादेश की मदद की जानी चाहिए।।

बीच सड़क घुटने पर बैठे SP, दर्द से कराहते इंस्पेक्टर की यूं की मदद, VIDEO VIRALघटना का एक वीडियो वायरल (Viral Video) हुआ है, जिसमें SP विजय कुमार इंस्पेक्टर घुटने के बल बैठकर इंस्पेक्टर के पैरों को अपने हाथों में लेकर इलाज करते हुए नजर आ रहे हैं. Krishna Katha