Farmer, Movement, Haryana, Supreme Court, Road Block

Farmer, Movement

आंदोलन का रास्ता

आंदोलन का रास्ता in a new tab)

22-10-2021 01:27:00

आंदोलन का रास्ता in a new tab)

सर्वोच्च न्यायालय ने स्पष्ट कर दिया है कि किसानों को आंदोलन का अधिकार तो है, मगर वे अनिश्चित काल तक रास्ते रोक कर नहीं रख सकते।

कई बार कई घंटे जाम में फंसे रहना पड़ता है। यह याचिका विशेष रूप से गाजीपुर सीमा पर बैठे किसानों के संदर्भ में थी। मगर ऐसी शिकायतें सिंघू और टिकरी आदि सीमाओं के आसपास रहने वाले लोग भी दर्ज कराते रहे हैं। पिछले दिनों सिंघू सीमा से लगी औद्योगिक इकाइयों की याचिका पर भी अदालत ने यही कहा था कि अगर आंदोलन की वजह से लोगों के रोजगार और कारोबार पर असर पड़ रहा है, तो रास्ते खाली कराने का उपाय किया जाना चाहिए। सर्वोच्च न्यायालय का ताजा आदेश आने के बाद खबर आई कि गाजीपुर सीमा पर किसानों ने जगह खाली करनी शुरू कर दी है। मगर फिर किसान संगठनों ने स्पष्ट कर दिया कि दरअसल, सड़क उन्होंने नहीं, पुलिस ने पक्की दीवार बना कर घेर रखी है। किसान तो सड़क से दूर बैठे हैं।

India Russia 2+2 dialogue: भारत-रूस के बीच AK Deal, देश में इंसास राइफल की लेंगी जगह AK 203 Omicron भारत के लिए कितना बड़ा खतरा, इन 5 राज्यों के हालात से समझिए BSP से बर्खास्त किए गए हरिशंकर तिवारी के बेटे MLA विनय शंकर और पूर्व सांसद कुशल तिवारी

अदालत ने किसान संगठनों को अपना पक्ष रखने के लिए तीन हफ्ते का समय दिया है। किसान शुरू से कहते आए हैं कि उन्होंने सड़क नहीं घेरी है। पुलिस ने सड़कों पर अवरोधक खड़े कर लोगों के आने-जाने में असुविधा पैदा की है। सर्वोच्च न्यायालय ने ठीक ऐसा ही आदेश नागरिकता संशोधन कानून के विरोध में धरने पर बैठी महिलाओं के संबंध में भी दिया था। उसके बाद दिल्ली पुलिस ने धरने के खिलाफ सख्ती बरती थी।

हालांकि तब भी स्थिति यही थी कि पुलिस ने सड़कों पर अवरोधक खड़े करके लोगों को लंबा रास्ता तय करके आने-जाने पर मजबूर कर दिया था। मगर किसान संगठन भी अपने पक्ष पर अड़े हैं। एक बार तो संयुक्त किसान मोर्चा के नेता राकेश टिकैत ने यहां तक कहा था कि अगर अदालत आदेश तो वे सड़कें खाली करा सकते हैं। किसान तो सीमाओं पर बैठना ही नहीं चाहते थे, वे दिल्ली के रामलीला मैदान में धरना देना चाहते थे, मगर पुलिस ने उन्हें दिल्ली में घुसने की इजाजत नहीं दी। फिर वे सीमाओं पर ही बैठ गए। बातचीत का सिलसिला लंबा खिंचता गया और फिर रुक ही गया, तो किसानों ने वहां रहने के स्थायी इंतजाम करने शुरू कर दिए। headtopics.com

छिपी बात नहीं है कि धरने पर बैठे किसानों को परेशान करने की नीयत से पुलिस और प्रशासन ने तरह-तरह के हथकंडे अपनाए। उनकी बिजली-पानी की सुविधा छीन ली। फिर सड़कों के किनारे गहरे गड्ढे खोद दिए। पक्की दीवारें खड़ी करके उन्हें अलग-थलग करने का प्रयास किया गया। गाजीपुर सीमा पर तो पुलिस ने कंटीले तार की बाड़ खींच दी, सड़कों पर बड़ी-बड़ी कीलें गाड़ दी। उसकी इन हरकतों की खबरें विस्तार से छपती रहीं। अदालत की जानकारी में भी ये सब बातें होंगी। इसलिए जब किसान उसके समक्ष अपना पक्ष रखेंगे तो हो सकता है, फैसले का रुख कुछ और हो। मगर सरकार इस हकीकत से मुंह नहीं फेर सकती कि उसकी जिद की वजह से किसानों का आंदोलन खिंचते हुए अब साल होने के करीब पहुंच गया है। अगर सरकार अदालती टिप्पणी को आधार बना कर कोई ऐसा अप्रिय कदम उठाने का प्रयास करेगी, तो स्थिति और विस्फोटक होने की आशंका बनी रहेगी।

और पढो: Jansatta »

नशे में धुत खंडवा का पुलिस इंस्पेक्टर: पंधाना TI के वाहन की टक्कर से भीकनगांव के दो युवक घायल, FIR; खंडवा SP ने सस्पेंड कर लाइन भेजा

खंडवा के पुलिस थाना पंधाना के TI अंतिम पंवार की कार की टक्कर से रविवार रात करीब 11 बजे दो युवक घायल हो गए। हादसा खरगोन जिले के भीकनगांव थाना क्षेत्र में हुआ। गुस्साई भीड़ ने थाने का घेराव कर दिया। आरोप लगाया कि TI शराब के नशे में गाड़ी चला रहे थे। उन्होंने लोगों से गाली-गलौज भी की। खरगोन पुलिस ने टीआई के खिलाफ FIR दर्ज की तो खंडवा एसपी ने सस्पेंड कर लाइन भेज दिया। | runk policeman in khandwa accident

नवाब मलिक का सवाल, मालदीव में क्या कर रहा था NCB अधिकारी समीर वानखेड़े का परिवारमुंबई। राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के नेता और महाराष्ट्र सरकार में मंत्री नवाब मलिक ने गुरुवार को दावा किया कि पिछले साल सुशांत सिंह राजपूत की मौत के बाद केंद्र सरकार ने विशेष रूप से वानखेड़े को एजेंसी में नियुक्त किया था। मलिक ने यह भी आरोप लगाया कि एनसीबी ने सुशांत की दोस्त रिया चक्रवर्ती को झूठे मामले में फंसाया।

दिल्ली में बच्चे का अपहरण कर मांगी 1 करोड़ 10 लाख की फिरौती, आरोपित गिरफ्तारदिल्ली के गांधी नगर में बच्चे का अपहरण करने का आरोपित मोनू गिरफ्तार कर लिया गया है। मोनू उत्तर प्रदेश के बहराइच जिले के हज़ूरपुर का रहने वाला है। मोनू ने बच्चे का अपहरण कर 1 करोड़ 10 लाख की फिरौती मांगी थी।

भारत की नई उपलब्धि, कोरोना वैक्सीन का 100 करोड़ का आंकड़ा पारकेंद्रीय स्वास्थ्यमंत्री मनसुख मंडाविया ने 100 करोड़ वैक्सीनेशन का आंकड़ा पूरा होने के बाद ट्वीट किया कि बधाई हो भारत. दूरदर्शी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के समर्थ नेतृत्व का य प्रतिफल है. NDTV waly ko saport karta ho naam khud dekhlo लाखों बेरोजगार है , तिल तिल मरते रोज़ ! व्यर्थ दिखावा कर रहे , सौ करोड़ की डोज !! For रandi tv and those who question on indian Vaccin and try to failed it

तालिबान का दुनिया को आश्वासन, उसकी जमीन का दूसरे देशों के खिलाफ नहीं होगा इस्तेमाल15 अगस्त 2021 को काबुल पर तालिबान का कब्जा होने के बाद भारत के साथ उसके प्रतिनिधियों की यह दूसरी मुलाकात है। इसके पहले दोहा में भारत के राजदूत दीपक मित्तल ने तालिबान के राजनीतिक दल के मुखिया शेर मुहम्मद अब्बास स्टेनकजई से मुलाकात की थी। देखे कब तक टिकते है जुबान पर,दुनिया का अनुभव तो कुछ और ही कहता है,सावधानी सतर्कता मे हर्जा क्या है

यूपी चुनावः प्रियंका का फोकस महिला वोटों पर, स्मार्टफोन और इलेक्ट्रॉनिक स्कूटी देने का किया वादाप्रियंका गांधी ने एक वीडियो ट्वीट किया है जिसमें एक न्यूज चैनल के रिपोर्टर से कुछ छात्राओं ने प्रियंका से अपनी मुलाकात के अनुभव को शेयर किया है।

सुप्रीम कोर्ट: भगोड़ा आरोपी अग्रिम जमानत का हकदार नहीं, पटना हाईकोर्ट का फैसला रद्दसुप्रीम कोर्ट: भगोड़ा आरोपी अग्रिम जमानत का हकदार नहीं, पटना हाईकोर्ट का फैसला रद्द SupremeCourt supremecourtofindia