Ahmedabad, Covıd 19, Re, Covid-19, Gujarat, Schools Closed, Covid-19 Cases, Schools, Cities, Gujarat, Municipal Corporation

Ahmedabad, Covıd 19

अहमदाबाद: प्राइवेट स्कूलों की महंगी फीस नहीं भर पा रहे लोग, सरकारी स्कूलों में रिकॉर्ड दाखिले

कोरोना में महंगाई अभिभावकों पर पड़ी भारी #Ahmedabad #COVID19 | @gopimaniar #RE

25-06-2021 23:30:00

कोरोना में महंगाई अभिभावकों पर पड़ी भारी Ahmedabad COVID19 | gopimaniar RE

गुजरात में लॉकडाउन का असर लोगों की जेब पर पड़ा. परेशान लोगों ने अब प्राइवेट स्कूलों से अपने बच्चों का ट्रांसफर कराकर सरकारी स्कूलों में नाम लिखा दिया है. प्राइवेट स्कूलों की महंगी फीस की जगह अब लोग, सरकारी स्कूलों का रुख कर रहे हैं.

स्टोरी हाइलाइट्सकोरोना में महंगाई अभिभावकों पर पड़ी भारीप्राइवेट स्कूलों की महंगी फीस से परेशान लोगआमदनी कम, बढ़ा खर्च, सरकारी स्कूलों में पहुंचेकोरोना महामारी लोगों पर कहर बनकर टूट रही है. लॉकडाउन की वजह से लोगों की आर्थिक स्थिति बुरी तरह से प्रभावित हुई है. आम आदमी को प्राइवेट स्कूलों की महंगी शिक्षा की जगह सरकारी स्कूलों में बच्चों को मिलने वाली मुफ्त शिक्षा रास आ रही है. कोरोना काल में एक ओर जहां लोगों की आमदनी घटी, वहीं ऑनलाइन शिक्षा पर लोगों का भरोसा भी नहीं है.

चीन ने अमेरिकी राष्ट्रपति बाइडन से कहा- ज़रा संभलकर बोलिए - BBC News हिंदी 'हिन्दू होने पर हम शर्मिंदा हैं', नमाज पढ़ रहे लोगों के सामने 'जयश्री राम' के नारे पर भड़कीं स्वरा भास्कर शाहरुख़ के बेटे आर्यन ख़ान को ज़मानत क्यों नहीं मिल पा रही है? - BBC News हिंदी

अहमदाबाद के सीटीएम इलाके में रहने वाले जयेश पंचाल अपने बच्चों को अहमदाबाद नगर निगम की ओर से संचालित सरकारी स्कूल में दाखिला दिलाना चाहते हैं. लेथ मशीन पर काम करने वाले जयेश पंचाल, महीनेभर में मुश्किल से 12,000 कमाते हैं. लॉकडाउन और कोरोना की दूसरी लहर में जब उनकी कमाई बंद हुई, तो असर उनकी जेब पर पड़ा.

उन्होंने तय किया कि अब वे अपने बच्चों को प्राइवेट स्कूल नहीं, सरकारी स्कूल में शिक्षा दिलाएंगे. नगर निगम की ओर से संचालित स्कूल में फीस नहीं देनी पड़ती है, वहीं घर में ही ऑनलाइन प्लेटफॉर्म के जरिए, बच्चों को शिक्षा दी जा रही है.निजी स्कूल के टीचर ने की आत्महत्या, दो साल से सैलरी नहीं मिलने से था परेशान headtopics.com

बीते डेढ़ साल से लोग कोरोना संक्रमण की मार से जूझ रहे हैं. लोगों ने महामारी के दौरान अपने परिजनों को खोया है, वहीं बेरोजगारी का कहर भी परिवारों पर टूटा है. लोगों की आर्थिक स्थिति पर भी इसका असर हुआ है. महंगी शिक्षा की वजह से अब पढ़ाई पर भी इसकी आंच देखने को मिल रही है.

प्राइवेट स्कूलों में जहां बेतहाशा फीस बढ़ी है, वहीं बच्चों को पढ़ाने में एक तबका अब महंगे स्कूलों में जाने से कतरा रहा है. महंगी फीस और किताबों का खर्च उठाने में मध्यम वर्ग की कमर टूट रही है.सरकारी स्कूलों में 15,700 नए एडमिशनअहमदाबाद नगर निगम की ओर से सार्वजनिक किए गए आंकड़ों के मुताबिक सरकारी स्कूलों में कुल 15,700 नए छात्रों का एडमिशन हुआ है. कोरोना और लॉकडाउन की वजह से अभिभावकों की आमदनी कम हुई है. यही वजह है कि अभिभावकों को प्राइवेट स्कूलों की महंगी फीस भरने में मुश्किलें पेश आ रही हैं. वैसे बीते साल फीस में 25 फीसदी कटौती सरकार ने की थी, लेकिन इस बार अब तक सरकार ने फीस को लेकर कोई फैसला नहीं किया है.

सरकारी स्कूल में दाखिले के लिए वेटिंग!लॉकडाउन और कोरोना की वजह से लोगों की सैलरी में कटौती हुई है. प्राइवेट स्कूल में ऑनलाइन पढ़ाई से बेहतर है कि मुफ्त में सरकारी स्कूल में बच्चों को ऑनलाइन पढ़ाना. खर्च कर्म होने की वजह से लोग सरकारी स्कूलों का रुख कर रहे हैं. यही वजह है कि इन स्कूलों में पढ़ाई के लिए कई छात्रों का नाम वेटिंग में चल रहा है.

Live TV और पढो: आज तक »

लखीमपुर में जहां हिंसा हुई वहां बनेगा स्मारक: दिल्ली गुरुद्वारा कमेटी अध्यक्ष बोले- किसानों की मूर्ति लगाकर पत्थरों पर लिखेंगे जुल्म की गाथा, ताकि पीढ़ियां याद रखें

दिल्ली सिख गुरुद्वारा मैनेजमेंट कमेटी ने उत्तर प्रदेश के लखीमपुर में उसी स्थान पर किसानों का स्मारक बनवाने का ऐलान किया है, जहां 3 अक्टूबर को हिंसा हुई थी। यह ऐलान मंगलवार को तिकुनिया में हुए अंतिम अरदास में किया गया। तिकुनिया में चार किसान और एक पत्रकार का स्मारक बनेगा। किसान आंदोलन के एक साल के भीतर यह तीसरा स्मारक होगा, जिसे बनाने का ऐलान किया गया है। | Conversation with Manjinder Sirsa, who announced the farmer memorial: Said - where the massacre took place, the saga of atrocities will be written on the stones by placing the idols of the five; One crore rupees will be spent on the memorial किसान स्मारक की घोषणा करने वाले मनजिंदर सिरसा से बातचीत : बोले- जहां कत्लेआम हुआ, वहीं पांचों की मूर्ति लगाकर पत्थरों पर लिखेंगे जुल्म की गाथा; स्मारक पर खर्च होंगे एक करोड़ रुपये

डोमिनिका में मेहुल चोकसी केस की सुनवाई, खराब स्वास्थ्य की वजह से कोर्ट में मौजूद नहींपिछले हफ्ते कोर्ट के आदेश के बाद मेहुल चोकसी को पुलिस कस्टडी से शिफ्ट करके जेल में भेज दिया गया था. हालांकि, अभी मेहुल चोकसी अस्पताल में ही है और उसका इलाज चल रहा है.

वैज्ञानिकों ने विकसित की टगबोट्स में ईंधन की खपत कम करने की तकनीकभारतीय समुद्र-पत्तनों पर पर्यावरण-अनुकूल स्थायी समाधान विकसित करने और कार्बन पदचिह्न को कम करने के लिए भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (आईआईटी रुड़की) के जल संसाधन विकास और प्रबंधन विभाग, आईआईटी रुड़की की हाइड्रोपावर सिमुलेशन प्रयोगशाला (एचएसएल) और विशाखापत्तनम स्थित भारतीय समुद्री विश्वविद्यालय (आईएमयू-वी) ने एक साझा शोध-अध्ययन किया है।

'मोदी' की अवमानना मामले में राहुल गांधी अदालत में हुए पेश - BBC Hindiमोदी सरनेम वालों के ख़िलाफ़ कथित तौर पर अपमानजनक टिप्पणी करने का आरोप लगाते हुए गुजरात में एक विधायक पूर्णेश मोदी ने राहुल गांधी के ख़िलाफ आपराधिक मानहानि की शिकायत करते हुए अदालत का दरवाज़ा खटखटाया था. ये NIMO की बात कर रहे होंगे मतलब NIRAV MODI और पुरनेस मोदी ने NAMO समझ लिया 🤣🤣😃 काँग्रेस के लिए देश का हिन्दू भ्ग्बा आतंक्बादी,सेना सड़क का गुंडा,देशद्रोही नारेबाजी मुस्लिम कट्टरता इस्लामिक आतंकबाद फेलाना देश के श्ंतिदूतों की लोकतन्त्र अभिव्यक्ति की आजादी व संभिधान मे दिया हुया इंका फंडामेनतल राइट,देशविरोधी नारेबाजी बोलने की आजादी हे काँग्रेस के लिए ..... आदरणीय मुख्यमंत्री जी(Bihar) Sir आप से नम्र निवेदन हैं की STET19 रिजल्ट की CBI जांच हाई कोर्ट की निगरानी मे कराने की सिफारिश करे। हम अभ्यार्थियो के साथ न्याय करने की कृपा प्रदान करे।😭🙏🏿🙏🏿 NitishKumar yadavtejashwi CPIMLBIHAR AnupamConnects yuvahallabol

लक्षद्वीप में काम कर चुके वैज्ञानिकों की राष्ट्रपति से दखल की गुहारवैज्ञानिकों ने कहा कि लक्षद्वीप विशेष रूप से संवेदनशील है और महासागर से घिरे होने और समुद्र तल से महज कुछ मीटर ऊपर होने तथा केवल चट्टानों से संरक्षित होने के कारण, यह साफ है कि इन द्वीपों पर सभी प्रकार के विकासों को बहुत ध्यान से मैनेज करना होगा।

गुना में बैंककर्मियों की गुंडागर्दी: कोरोना कर्फ्यू में दुकान बंद होने से नहीं चुका पाए लोन की किश्त, बैंक वालों ने घर जाकर परिवार से की मारपीट; घटना CCTV में कैदगुना में बैंककर्मियों की गुंडागर्दी का मामला सामने आया है। यहां लोन चुकाने के लिए मोहलत मांगने पर बैंक कर्मियों ने परिवार के साथ मारपीट कर दी। इसमें परिवार के सदस्य गंभीर रूप से घायल हो गए। पूरी घटना CCTV में रिकॉर्ड हो गई। बच्चे रोते-बिलखते रहे, लेकिन बैंककर्मियों ने एक नहीं सुनी। परिवार वालों ने एफआईआर दर्ज कराई है। | कोरोना कर्फ्यू के चलते दूकान बंद होने के कारण नहीं चुका पाए लोन की किश्त, बैंककर्मियों ने घर पर जाकर पूरे परिवार से की मारपीट ; घटना CCTV में कैद Sarkar bhi yhi chahti hai Isiliye banko ko private kr rhe hai Banks ko private Ho Jane do, ye kuchh bhi kar Gujrenge!!!!!!!! यही दिक्कत है प्राइवेट बैंक की। और ये हक दिया किसने इन्हें। लोन नहीं चुका पा रहे तो कानूनन प्रॉपर्टी जप्त करो या जो भी प्रोसेस है वो करो। मारपीट से कैसे कोई पैसा देगा। आप बैंक है या साहूकार।

इथोपिया : स्वास्थ्य कर्मियों ने कहा- तिग्रे में हवाई हमले में दर्जनों लोगों की हुई मौतइथियोपिया के तिग्रे क्षेत्र में स्वास्थ्य कर्मियों ने कहा कि मंगलवार को भीड़भाड़ वाले एक ग्रामीण बाजार पर हवाई हमला