Covid 19, Infectedreport, Hospitalamission, Govt, कोविड19, संक्रमितरिपोर्ट, अस्पताल, सरकार

Covid 19, Infectedreport

अस्पतालों में भर्ती के लिए कोविड-19 संक्रमित होने की रिपोर्ट ज़रूरी नहीं: सरकार

अस्पतालों में भर्ती के लिए कोविड-19 संक्रमित होने की रिपोर्ट ज़रूरी नहीं: सरकार #Covid19 #InfectedReport #HospitalAmission #Govt #कोविड19 #संक्रमितरिपोर्ट #अस्पताल #सरकार

08-05-2021 18:00:00

अस्पताल ों में भर्ती के लिए कोविड-19 संक्रमित होने की रिपोर्ट ज़रूरी नहीं: सरकार Covid19 InfectedReport HospitalAmission Govt कोविड19 संक्रमितरिपोर्ट अस्पताल सरकार

कोविड-19 संक्रमित मरीज़ों के इलाज के लिए समर्पित निजी और सरकार ी स्वास्थ्य सुविधाओं में भर्ती के लिए संशोधित राष्ट्रीय नीति में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि किसी भी मरीज़ को ऑक्सीजन या आवश्यक दवाओं आदि समेत किसी भी मद में सेवा देने से इनकार नहीं किया जा सकता, भले ही वह किसी दूसरे शहर का ही क्यों न हो.

नई दिल्ली:राज्यों व केंद्र शासित प्रदेशों के लिए एक महत्वपूर्ण निर्देश में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने शनिवार को कहा कि स्वास्थ्य केंद्रों में भर्ती के लिये मरीज के पास कोविड-19 संक्रमित होने की रिपोर्ट अनिवार्य नहीं है.कोविड मरीजों के उपचार के लिए समर्पित निजी और सरकारी स्वास्थ्य सुविधाओं में दाखिले (भर्ती) के लिए संशोधित राष्ट्रीय नीति में केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि किसी भी मरीज को ऑक्सीजन या आवश्यक दवाओं आदि समेत किसी भी मद में सेवा देने से इनकार नहीं किया जा सकता, भले ही वह किसी दूसरे शहर का ही क्यों न हो.

चीन की अफ़ग़ानिस्तान में दिलचस्पी पर अमेरिका की भी नज़र - BBC Hindi जूही चावला ने वापस ली 5G पर याचिका, पर देने पड़ेंगे 20 लाख रुपये - BBC Hindi 'हमारे साथी को TMC MP ने कहा बिहारी गुंडा, माफी मांगें ममता बनर्जी', NDTV से बोले सुशील मोदी

मंत्रालय ने कहा, ‘राज्यों को एक महत्वपूर्ण दिशानिर्देश में केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय ने विभिन्न श्रेणियों के कोविड देखभाल केंद्रों में कोविड मरीजों के भर्ती की राष्ट्रीय नीति में संशोधन किया है.’मंत्रालय के मुताबिक, ‘इन मरीज केंद्रित उपायों का उद्देश्य कोविड-19 से पीड़ित मरीजों को त्वरित, प्रभावी और समग्र उपचार उपलब्ध कराना है.’

सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को जारी निर्देश में कहा गया, ‘कोविड मरीजों का प्रबंधन कर रहे निजी अस्पतालों समेत, केंद्र, राज्य सरकारों और केंद्र शासित प्रदेशों के प्रशासन के तहत आने वाले अस्पताल यह सुनिश्चित करेंगे कि कोविड-19 देखभाल केंद्र में भर्ती के लिए कोरोना वायरस संक्रमित होने की रिपोर्ट की जरूरत अनिवार्य नहीं होगी.’ headtopics.com

इसमें कहा गया, ‘संदिग्ध मामले को कोविड देखभाल केंद्र (सीसीसी) संदिग्ध रोगियों के वार्ड, समर्पित कोविड स्वास्थ्य केंद्र (डीसीएचसी) और समर्पित कोविड अस्पताल (डीएचसी), जो भी हो वहां भर्ती किया जाएगा.’इन दिशानिर्देश में कहा गया है कि किसी भी मरीज को सेवा देने से इनकार नहीं किया जाएगा, न तो ऑक्सीजन या दवाओं की वजह से और न ही उसके किसी अन्य शहर से होने की वजह से.

मंत्रालय ने यह भी कहा कि अस्पताल में दाखिला निश्चित रूप से ‘जरूरत के आधार’ पर होना चाहिए.इसमें कहा गया, ‘यह सुनिश्चित किया जाना चाहिए कि बिस्तर उस व्यक्ति की वजह भरा न हो जिसे अस्पताल में भर्ती करने की आवश्यकता नहीं है. इसी के साथ अस्पताल से छुट्टी भी संशोधित नीति के तहत होनी चाहिए.’

मंत्रालय ने कहा कि उसने राज्यों/केंद्र शासित प्रदेशों के मुख्य सचिवों को परामर्श दिया है कि वे तीन दिनों में इन निर्देशों का शामिल करते हुए आवश्यक आदेश और परिपत्र जारी करें, जो तब तक प्रभावी रहेंगे जब तक एक उचित एकरूप नीति इसकी जगह नहीं ले लेती.मालूम हो कि बीते दिनों कोरोना वायरस महामारी की दूसरी लहर के मद्देनज़र

सुप्रीम कोर्टने केंद्र सरकार को यह निर्देश दिया था कि वह दो हफ्ते के भीतर अस्पताल में मरीजों को भर्ती करने की राष्ट्रीय नीति बनाए.इसके साथ ही अदालत ने कहा था कि किसी भी मरीज को स्थानीय निवास प्रमाण-पत्र नहीं होने के आधार पर कोई भी राज्य अस्पताल में भर्ती करने या आवश्यक दवा मुहैया कराने से इनकार नहीं कर सकता है. headtopics.com

पेगासस जासूसी कांड पर संसद में बात क्यों नहीं करना चाहती सरकार : अभिषेक मनु सिंघवी राकेश अस्‍थाना की पुलिस कमिश्‍नर के तौर पर नियुक्ति के खिलाफ दिल्‍ली विधानसभा ने किया प्रस्‍ताव पारित ओलंपिक: दीपिका कुमारी और अतनु दास- प्यार की पुकार के साथ अचूक निशाना - BBC News हिंदी

इससे पहले बीते 30 अप्रैल को सुप्रीम कोर्ट ने केंद्र सरकार से अस्पतालों में कोविड मरीजों की भर्ती के लिए एकराष्ट्रीय नीतिबनाने के संबंध में जानकारी मांगी थी.भर्ती के मामलों में अस्पतालों द्वारा मरीजों से की जा रही मनमानी और अन्यायपूर्ण व्यवहार के मद्देनजर सर्वोच्च न्यायालय देश में कोविड-19 प्रबंधन से संबंधित एक स्वत: संज्ञान मामले पर सुनवाई कर रही थी.

अदालत को बताया गया था कि कोविड-19 संक्रमित मरीजों से राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र के कुछ अस्पताल स्थानीय पते का प्रमाण मांग रहे हैं.इसके अलावा बताया गया था कि गुजरात के एक अस्पताल के बाहर दो मरीजों की मौत हो गई थी, क्योंकि ‘108’ एम्बुलेंस सेवा से नहीं, बल्कि निजी वाहन में लाए जाने के कारण उन्हें भर्ती करने से इनकार कर दिया गया था.

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ) और पढो: द वायर हिंदी »

आज की पॉजिटिव खबर: गुजरात के किसान ने बंजर जमीन पर 10 साल पहले ऑर्गेनिक खजूर लगाए, अब हर साल 35 लाख रुपए की कमाई

जहां तापमान ज्यादा हो, पानी की कमी हो, दूसरी फसलों की खेती न के बराबर होती हो, उन जगहों पर ऑर्गेनिक खजूर की खेती की जा सकती है। इसमें लागत भी कम होगी और बढ़िया आमदनी भी होगी। गुजरात के पाटन जिले के रहने वाले एक किसान निर्मल सिंह वाघेला ने इसकी पहल की है। करीब 10 साल पहले उन्होंने अपनी जमीन के बड़े हिस्से में ऑर्गेनिक खजूर के प्लांट लगाए थे। अब वे प्लांट तैयार हो गए हैं और उनसे फल निकलने लगे हैं। इ... | Farmer of Gujarat started farming of organic dates on barren land, earning Rs 35 lakh in first year itself

गाय हो तो VIP बेड़ भी मिलेगा ओह घटिया चैनल आ गया

बिहार के बक्सर के बाद अब यूपी के गाजीपुर में नदी में तैरते दिखे शवबिहार के बक्सर के बाद अब उत्तर प्रदेश के गाजीपुर में गंगा के किनारे शव नजर आए. मंगलवार को गाजीपुर के गंगा तट पर कुछ शव दिखाए दिए. गाजीपुर और बक्सर के बीच करीब 55 किलोमीटर की दूरी है. बक्सर में सोमवार को करीब 100 शव पानी में तैरते हुए दिखाई दिए थे. इन लाशों को देखने के बाद बिहार के अधिकारियों ने तर्क दिया था कि यह उत्तर प्रदेश से आई हैं. अधिकारियों के अनुसार बिहार में शवों को पानी में डालने की परंपरा नहीं है. देश के हालात खराब कर दिए मोदी सरकार ने bycotmodgoverment मैली होती गंगा, रोती हुई जनता, मौत के सौदागर और तमाशेबाज प्रधान लाशों पर महल बनाने में व्यस्त! गंगा_मे_बहतीं_लाशें मोदी_है_तो_मातम_है मोदीजी_इस्तीफा_दो

मालदीव के पूर्व राष्ट्रपति मोहम्मद नशीद की कार में भीषण धमाका, अस्पताल में कराए गए भर्तीमालदीव की संसद मजलिस के अध्यक्ष व पूर्व राष्ट्रपति मोहम्मद नशीद (Former Maldives President Mohamed Nasheed ) एक दुर्घटना का शिकार हो गए। पूर्व राष्ट्रपति जब अपनी कार में बैठ रहे थे कि अचानक उनकी कार में भीषण विस्फोट हो गया। Hello Everyone I will help the first 20 people earn ₹100,000RS within just 24hrs,but after your earning,you are to pay me 10% from it immediately, if interested kindly inbox or message on WhatsApp +447418324832

गोरखपुर में सीएम योगी आदित्‍यनाथ का निर्देश, कोविड अस्पतालों में लगाए जाएं सीसी कैमरेमुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अफसरों को निर्देश दिया है कि कोविड अस्पताल ों में सीसीटीवी कैमरे लगाए जाएं। हर कोविड अस्पताल में मरीजों के संबंध में जानकारी उनके स्वजन को जरूर दी जाए। होम आइसोलेशन में रहने वालों से सांसद व विधायक भी बात करें और उनका हौसला बढ़ाएं। myogiadityanath राजीव प्रताप रूड़ी को गिरफ्तारी के बजाय पप्पू यादव pappuyadavjapl जी को गिरफ्तार किया गया। सच बोलना डबल इंजन की सरकार में गुनाह है।अब भी जागिए आवाज बुलंद कीजिए। ReleasePappuyadav Retweet कीजिए myogiadityanath Jai ho myogiadityanath Bhadiya Kuch to Sahi kaam Kiya

गुजरात: कोविड केयर सेंटर में लगी आग, 61 मरीजों को दूसरे अस्पतालों में ले जाया गयागुजरात के भावनगर में कोविड देखभाल केंद्र में तब्दील किए गए एक होटल में बुधवार तड़के आग लग गई. अधिकारियों ने बताया कि घटना में कोई हताहत नहीं हुआ है. अधिकारी ने बताया कि “मामूली आग लगने और धुआं उठने के बाद” कोरोना वायरस के कुल 61 मरीजों को अन्य अस्पताल ों में ले जाया गया. Akhir kya bat ha aaag lagane ka samsya ha kvi Mumbai Gujarat Orrr v state me hota ha

10 तक: बिहार में कोरोना से हालात बदतर, अस्पतालों में संसाधनों की हो रही है बर्बादीदेशभर में जब कोरोना वायरस की तीसरी लहर की चेतावनी दी जा रही है. गांव तक में कोरोना पैर पसारता जा रहा है. जब कोरोना के मरीज एक-एक बेड और वेंटिलेटर के लिए तरस रहे हैं. मर रहे हैं. तब बिहार में संसाधनों की बर्बादी करने का अपराध किया जा रहा है. जिस ऑक्सीजन और वेंटिलेटर के लिए विदेशी मदद ली जा रही है वही बिहार के अस्पताल ों में बेकार पड़े हैं. देखें 10 तक. sharatjpr बंगाल की विस्फोटक स्थिति पर भारत का सम्पूर्ण सेक्युलर गिरोह अभी तक पूर्ण चुप्पी साधे हुए है किन्तु, यदि राज्य में धारा 356 की घोषणा हो जाए तो ये सब तुरन्त अपने अपने बिलों से बाहर निकल आएंगे...ghj sharatjpr Wakeup CM sahb

Bihar: अस्पतालों में चरम पर बदहाली, Covid वार्ड में निगेटिव पॉजिटिव का अंतर खत्मबिहार में अस्पताल ों की व्यवस्थाएं बदहाल हैं, लोग बेबस हैं, और अस्पताल ों में अराजकता है. बिहार के अस्पताल ों में भर्ती मरीज और उनके परिजन परेशान हैं इन हालातों से. लोग कोरोना से ज्यादा लापरवाही से मर रहे हैं. ये एक ऐसी त्रासदी है जिसके लिए कहीं से कोई तैयारी दिखाई ही नहीं देती. क्या होगा अगर बिहार जैसे राज्यों में त्रासदी की ये अभी सिर्फ शुरुआत हो? देखें ये रिपोर्ट.