असम: एक महीने से बाढ़ में डूबा है गांव, खाने तक के लाले

असम: बाढ़ के पानी में एक महीने से डूबा है गांव, खाने तक के लाले पड़े

03-08-2020 05:28:00

असम: बाढ़ के पानी में एक महीने से डूबा है गांव, खाने तक के लाले पड़े

असम के इस गांव में हालात इतने डरावने हैं कि राहत सामग्री बांटने आए लोग डर के मारे गांव के अंदर नहीं घुस रहे हैं. ज़रा सोचिए, एक महीने से बाढ़ के पानी में डूबे इस गांव के लोग कैसे गुज़ारा रहे होंगे?

100-200 रुपये के लिए तरसते लोगगांव में अधिकतर लोग किसान हैं और अगर अगले एक महीने तक बाढ़ में रहना पड़ा तो इनकी जीविका कैसे चलेगी?इसके जवाब में 54 साल के सैकिया कहते हैं," अब हालात ये हैं कि लोगों को खाने-पीने की परेशानी से गुजरना पड़ रहा है. आपने देखा होगा,राहत में मिल रहे तीन किलो चावल लेने के लिए लोग ख़तरा उठाकर केले के पेड़ वाली नाव से जा रहे हैं. कोरोना वायरस के चलते मज़दूरी करने वाले लोग भी घर पर बैठे हैं. लोग उधार लेकर गुजारा कर रहे हैं. कई बार 100-200 रुपये मांगने के लिए लोग हमारे घर आते हैं. यक़ीन मानिए, ये सब देखकर बहुत बुरा लगता है."

सबसे प्रशंसनीय लोगों की लिस्ट आई सामने, पीएम मोदी सहित शाहरुख और अमिताभ का भी जलवा कायम 'मोदी जी को 'सपनों का सौदागर' इसीलिए तो कहते हैं', उदाहरण दे दिग्विजय सिंह ने कसा तंज 'माल है क्या' वाली चैट पर दीपिका का कबूलनामा, बढ़ेंगी मुश्किलें?

इससे पहले जेलेंगी टूप गांव में 1987 में बड़ी बाढ़ आई थी लेकिन उस समय भी हालात ऐसे नहीं हुए थे.गांव के लोगों को इस बात की भी चिंता है कि जब बाढ़ का पानी निकल जाएगा, उसके बाद कीचड़ और दुर्गंध से होने वाली बीमारी से निपटना होगा और जब तक हालात पूरी तरह सामान्य होंगे, इलाके में दोबारा बाढ़ आने का समय आ जाएगा.

असम राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण द्वारा शनिवार को जारी की गई एक रिपोर्ट के अनुसार असम में अब भी 20 जिले के 1295 गांव बाढ़ के पानी में डूबे हुए हैं. 10 लाख 62 हज़ार 764 लोग बाढ़ अब भी बाढ़ से प्रभावित है.इस रिपोर्ट के अनुसार सरकार द्वारा खोले गए 206 राहत शिविरों में 29,220 लोगों ने शरण ले रखी है. इससे पहले राज्य के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनावाल ने मीडिया से कहा था कि असम में इस साल आई बाढ़ से अब तक 70 लाख से अधिक लोग प्रभावित हुए हैं.

राज्य में बाढ़ से मरने वालों की संख्या 109 हो गई है.प्लेबैक आपके उपकरण पर नहीं हो पा रहानमक आने वाली बाढ़ रोक सकता है?इमेज कॉपीरइटDilip Sharmaक्या कहता है प्रशासन?राहत सामग्री को लेकर जेलेंगी टूप गांव वालों के आरोपों का जवाब देते हुए जोरहाट ज़िले की उपायुक्त रोशनी कोराती ने बीबीसी से कहा,"बाढ़ प्रभावित इलाकों में काम कर रहें हमारे सर्किल अधिकारी एक आकलन के बाद यह तय करते हैं कि किन लोगों को राहत सामग्री देनी है. जेलेंगी टूप के बाढ़ पीड़ितों में भी प्रशासन ने अबतक दो बार राहत सामग्रियां बांटी हैं. उस गांव में तीसरे लहर के बाद फिर से बाढ़ का पानी आया है.''

रोशनी कहती हैं, ''कुछ ग़ैर सरकारी संगठन भी राहत सामग्री के तौर पर चावल-दाल बाढ़ पीड़ितों में बांट रहे हैं, लेकिन कई बार एक ही व्यक्ति को बार-बार राहत मिल जाती है और कुछ लोग छूट जाते है. इसलिए हमने सभी एनजीओ से कहा है कि वो सरकारी अधिकारी के साथ तालमेल बैठाकर ही राहत सामग्रियां बांटें, ताकि ठीक तरीके से सभी लोगों तक राहत पहुंच सके."

जेलेंगी टूप गांव में काम कर रही सर्किल अधिकारी आकाशी दुवराह कहती हैं,"अब तक इस गांव के 400 बाढ़ प्रभावित परिवारों को दो बार राहत सामग्रियां दी गई हैं. राहत वितरण नियमों के अनुसार तीन दिनों के लिए बाढ़ पीड़ित प्रत्येक व्यक्ति को एक किलो 800 ग्राम चावल, 300 ग्राम दाल और 90 ग्राम नमक दिया जाता है."

छोड़िए फ़ेसबुक पोस्ट BBC News हिन्दी''पानी में घिरे हुए लोग प्रार्थना नहीं करते'' देश के अलग-अलग हिस्सों में आई बाढ़ से पीड़ित लोगों को समर्पित केदारनाथ सिंह की कविता रूपा झा की आवाज़ में. (वीडियो: अनंत प्रकाश, शुभम कौल) और पढो: BBC News Hindi »

जिस वॉट्सऐप ग्रुप में दीपिका ने लिखा था ‘माल है क्या’, उसकी खुद ही एडमिन निकलीं; ग्रुप से इंडस्ट्री की कई हस्तियां जुड़ी थीं

दीपिका पादुकोण ने जिस वॉट्सऐप ग्रुप में 'हैश' (हशीश) और 'माल है क्या' जैसी लाइन लिखी थी, उसे 2017 में बनाया गया था,सूत्रों के मुताबिक, कुछ महीने पहले ही यह ग्रुप डिलीट किया गया, इसमें कई नामचीन सितारे और उनके मैनेजर जुड़े थे | Deepika Padukone Manager Karishma Prakash Drug Connection Investigation | Here's Latest News Updates Narcotics Control Bureau (NCB)

Modi hai to Mumkin hai Abhi prime Minister mandir me chandi ke Eit rakhne Gaye hai tab Tak aap log mare BJP Govt forgot dention center peoples . हां तो? देख नहीं रहे हैं सरकार मन्दिर बनाने में व्यस्त है? लोग मर जायेंगे तो फिर से जीवित हो सकते हैं लेकिन मंदिर बनाने का शुभ मुहूर्त फिर से कभी नहीं आएगा....

Mandir banna jaruri h हां तो? देख नहीं रहे हैं सरकार मन्दिर बनाने में व्यस्त है? लोग मर जायेंगे तो फिर से जीवित हो सकते हैं लेकिन मंदिर बनाने का शुभ मुहूर्त फिर से कभी नहीं आएगा.... Sarkaar unki purti kare... 😓😓😓😓 Godi media bzy on shushat and bhumi poja Where are the MLA and MP? इंसान के बच्चो की भूख मिटाई जा सकती है लेकिन सुअरो का बाड़ा खोल के बैठे हो,, चालीस पिल्लों का ठेका नही लिया है देश ने

हैदराबाद की चारमीनार को हटा कर वहां अस्पताल बनाना चाहिए, ताजमहल और लालकिला को भी हटा कर अस्पताल बनाने की जरूरत है, दिल्ली की जामा मस्जिद को हटा कर AIIMS बनाना चाहिए सबका हित होगा और, इससे गंगा जमनी तहजीब भी मजबूत होगी क्या ख्याल है मितरो 🤗 कश्मीर कब डूबेगा बाढ़ में, कश्मीर में खाने के लाले कब पड़ेंगे? बड़ी इच्छा है, इनको भूखा नँगा देखने की,, हे ईश्वर कश्मीर पे भी बादल को फाड़ो, डुबो दो कश्मीर को, प्रभु श्री राम से प्रार्थना है कि दुष्टो का संहार हो जय श्री राम

desh ki media our sarkar andhi bahiri banke tamasya dekh rahi hai garib jantha ka sharam ani chaiye aisi bikau media ko our nikammi sarkar ko NRC ka paper rakhna bhai nhi to nhi rhogeee TrueStriver_X Kagaz dundh le phir khana milega aaj kiski jarurat phale puri karna hai janta ya samrajay Ayodhya se laddoo ayenge!

अभी चिंता किसें होंगा क्योकी आसाम में अभी चुनाव जो नही है!! अभी वहां चुनाव नहीं है साहब कहीं और व्यस्थ है भब्ब निर्माण 👌 This is condition of Patna, Rupaspur, pincode 801506 Mandir bhumi poojan zarori hai garibon Jaan Nahi...arbo rupay kharch ho rahe hain lekin garib k liye ek paisa Nahi hai... नार्थ ईस्ट भारत का सबसे उपेक्षित हिस्सा है।

Kya karna humare desh me chunao aur festival bahot hai बाढ तो अतीतकाल में लोगों के लिये वरदान सावित होता था यहाँ आधुनिक काल में सरकार की गलत अदूर्दर्शी नीति के कारण लोगों के लिए अभिशाप बन गयी है बाढ को अब सरकार प्रायोजित कृत्रिम समस्या कहना न्यायोचित बनता जा रहा है भारत में पत्थर के भगवान को बचाना ज़्यादा ज़रूरी है। इंसान तो फिर पैदा हो जाएगा।

PMOIndia narendramodi badih badih hakne se fekne se kuchh nahi hoga Hindustan ki army police kis kaam aayegi or black money assam ko sakhat madad ki jarurat h फिलहाल हिन्दू खतरे से बाहर है! सरकार अभी चुनाव जितने में व्यस्त है। आप कांग्रेस से सवाल कीजिए। Government to helps CMOfficeAssam श्रीमान कृपया सर्वोच्च विधि संविधान के आर्टिकल21 तहत शीघ्र/तत्काल प्रभावी लोकहितार्थ कार्रवाई करें cc narendramodi PMOIndia HMOIndia BJP4India

Abe kagaz dhundo kyu khane k chakkar me pde ho.... UNHumanRights hrw UNGeneva camanpour BBCWorld RanaAyyub sardesairajdeep AIIndia amnesty SHAME OF INDIA PHOTO 70 साल के विकास का काला उजियारा। रंगा बिल्ला सरकार बनाएंगे भूख नहीं मिटाएंगे.. अबे BC तुम लोग क्या वहां इतने दिन से अपनी मां ठुका रहे थे , पहले भी तो इन्फॉर्म कर सकते थे अब सरकार को पता ह तो अब क्यो इंफॉर्म कर रहे हो सालो । तुम्हारे जैसी मीडिया ने ही तो इस महान देश को बदनाम कर रखा ह , बिकाऊ दलाल मीडिया तुम्हारा भी टाइम आएगा जब तुम लोग खाक में मिल जाओगे।

पप्पू और पिंकी को भेज दे

महामारी के छह माह: कैसे गांव-गांव तक फैल गया कोरोना वायरसगांव गांव तक नहीं मुख्यमंत्री जी के दरवाजे तक पहुंच गया मध्यप्रदेश एक जांच आयोग का गठन किया जाय और तहकीकात की जाए की क्या इन गांव में थाली-ताली-दीप का तमाशा नही किया गया था क्या?😜😜😜 ये क्या बात हुयी... भगवान की माया वो जैसा करे

प्लाज्मा डोनेट करने के लिए आगे आए कोरोना से ठीक होने वाले असम के 67 पुलिसकर्मीअसम में कोरोनावायरस (COVID 19) संक्रमण के कारण स्वास्थ्य विभाग को मरीजों के इलाज के लिए प्लाज्मा की बेहद जरूरत है. ऐसे में असम पुलिस के 67 पुलिसकर्मियों ने मिसाल पेश की है. कोरोनावायरस संक्रमित होने के बाद ठीक होने वाले सभी 67 पुलिसकर्मी प्लाज्मा डोनेट करने के लिए आगे आए. J ha mupt. Me elaj hota ho vahi pr donet k re Nai to choro ki kami nai h Please raise the issue of exams during COVID THANK YOU!!AND THE NATION IS PROUD OF YOU! AND EACH ONE SHOULD COME FORWARD TO DONATE PLASMA!!

कोरोना संकट के बीच देश के चार बड़े बैंको ने ट्रांजेक्शन के नियमों में किए बदलावकोटक महिंद्रा बैंक के ग्राहक (सेविंग और कॉर्पोरेट सैलरी अकाउंट होल्डर) को अब हर महीने पांच फ्री ट्रांजेक्श के बाद कैश निकासी पर 20 रुपये एटीएम चार्ज देना होगा।

भारत में कोरोना संक्रमितों के कुल मामले 18 लाख के पारChutiya banane ka thekka tumko hi mila h kya चिंता का विषय भारत सरकार को इसके लिए कोई नई पहल और नई योजनाएं लागू करनी चाहिए मोदी जी अब आप इस्तीफा दे दो आपसे नहीं संभल रहा

लद्दाख के बाद अब लिपुलेख में तैनात दिखाई दिए चीनी सेना के एक हजार जवानलिपुलेख एक बार फिर से सुर्खियों में है और इस बार वहां नेपाल नहीं बल्कि चीन केंद्र है। लद्दाख में चीन दावा कर रहा है कि अगर ये खबर सही है तो फिर ये भी सच है कि आज नही तो कल चीन भारत के साथ दोखा करेगा और फिर एक बार भारत को दोखा देगा। चीन की नीयत को समझना आसान नहीं है , वो बातचीत का झांसा देकर LAC पर अपनी फौज को पोजिशन पर तैनात कर रहा है । दूसरी ओर पाकिस्तान और नेपाल भारत का ध्यान भटकाने के लिए बोर्डर पर हरकतों को अंजाम दे रहे हैं , यह चीन की साज़िश के तहद उसकी रणनीति है । भारत को सतर्क रहने की जरूरत है

बिहार: 10 जिलों में बाढ़ से तबाही, सांसद के घर में घुसा पानीआसमान से आई आफत अब भी बिहार का पीछा नहीं छोड़ रही. उफनाती नदियां करीब 10 जिलों में तबाही मचा रही हैं. क्या गांव, क्या कस्बे, लाखों लोग बाढ़ की तबाही झेल रहे हैं औऱ सरकार को कोस रहे हैं. मैदान से लेकर पहाड़ तक मौसम की मार से जनजीवन अस्त व्यस्त हो गया है. गोपालगंज में सारण तटबंध टूटने से आफत छपरा में आ गई है. यहां परसा मकेर में सड़क के ऊपर से कई फुट पानी बह रहा है. आलम ये है कि सांसद राजीव प्रताप रूडी के घर तक पानी आ गया है. हालांकि इस वक्त घर में केवल केयरटेकर ही हैं. देखिए रिपोर्ट. Sushan babu kis bill me chupa baitha h may god help🙏🏻 हर साल बहाड़ का यही हाल होता है पर सरकार कुछ सबक नहीं लेती, न तो समय पर नालों की सफाई होती है और नाही नालों का विस्तार! देश की राजधानी का यदि ये हाल है तो बाकी शहरो का आकलन बहुत साधारण है! बीते 15 वर्षों में कुशासन बाबू ने पटना को ओवरब्रिज से पाटने के अलावा कुछ भी नहीं किया! 😡