असम: कैबिनेट ने सरकारी मदरसों, संस्कृत स्कूलों को बंद करने के प्रस्ताव को मंज़ूरी दी

असम: कैबिनेट ने सरकारी मदरसों-संस्कृत स्कूलों को बंद करने के प्रस्ताव को मंज़ूरी दी #Assam #Madrasas #SanskritSchool #AssamGovt #असम #मदरसा #संस्कृतस्कूल #असमसरकार

Assam, Madrasas

14-12-2020 21:30:00

असम : कैबिनेट ने सरकारी मदरसों-संस्कृत स्कूलों को बंद करने के प्रस्ताव को मंज़ूरी दी Assam Madrasas SanskritSchool Assam Govt असम मदरसा संस्कृतस्कूल असम सरकार

बीते अक्टूबर महीने में असम के शिक्षा मंत्री ने कहा था कि राज्य में 610 सरकारी मदरसे हैं और सरकार इन संस्थानों पर प्रति वर्ष 260 करोड़ रुपये ख़र्च करती है. जबकि लगभग 1,000 मान्यता प्राप्त संस्कृत विद्यालय हैं और राज्य सरकार इन संस्कृत पाठशालाओं पर वार्षिक तौर पर लगभग एक करोड़ रुपये ख़र्च करती है.

गुवाहाटी:असम कैबिनेट ने सभी सरकारी मदरसों और संस्कृत स्कूलों को बंद करने के प्रस्ताव को रविवार को मंजूरी दे दी और इस सिलसिले में राज्य विधानसभा के आगामी शीतकालीन सत्र में एक विधेयक पेश किया जाएगा.यह जानकारी संसदीय मामलों के मंत्री चंद्र मोहन पटवारी ने दी.

UP में BJP को रोकने के लिए चुनाव बाद भी SP से करार को तैयार-चंद्रशेखर Exclusive

असम सरकार के प्रवक्ता पटवारी ने कहा, ‘मदरसा और संस्कृत स्कूलों से जुड़े वर्तमान कानूनों को वापस ले लिया जाएगा. विधानसभा के अगले सत्र में एक विधेयक पेश किया जाएगा.’असम विधानसभा का शीतकालीन सत्र 28 दिसंबर से शुरू होगा.शिक्षा मंत्री हिमंता बिस्वा शर्मा ने पहले

कहा थाकि असम में 610 सरकारी मदरसे हैं और सरकार इन संस्थानों पर प्रति वर्ष 260 करोड़ रुपये खर्च करती है.असम में लगभग 1,000 मान्यता प्राप्त संस्कृत विद्यालय हैं, जिनमें से लगभग 100 सरकारी सहायता प्राप्त हैं और राज्य सरकार इन संस्कृत पाठशालाओं पर वार्षिक तौर पर लगभग एक करोड़ रुपये खर्च करती है. headtopics.com

शर्मा ने कहा था, ‘राज्य के मदरसा शिक्षा बोर्ड को भंग कर दिया जाएगा और सरकार द्वारा संचालित सभी मदरसों को उच्च विद्यालयों में तब्दील किया जाएगा. मौजूदा छात्रों को नियमित छात्रों के तौर पर नए सिरे से दाखिले लिए जाएंगे.’उन्होंने कहा था, ‘अंतिम वर्ष के छात्रों को उत्तीर्ण होकर वहां से निकलने की अनुमति दी जाएगी, लेकिन इन स्कूलों में अगले साल जनवरी में प्रवेश लेने वाले सभी छात्रों को नियमित छात्रों की तरह पढ़ाई करनी होगी.’

कश्मीर प्रेस क्लब के कैंपस को सरकार ने अपने नियंत्रण में क्यों लिया - BBC Hindi

उन्होंने कहा था, एकरूपता लाने के लिए सरकारी खर्च पर कुरान को पढ़ाए जाने की अनुमति नहीं दी जा सकती.इंडियन एक्सप्रेस कीरिपोर्टके अनुसार, वह इन संस्थानों को सामान्य शिक्षा की पढ़ाई के लिए तब्दील करेंगे.इसके साथ ही सरमा ने कहा था कि यह पैसा बचाने के लिए नहीं है. बल्कि वे 300 करोड़ रुपये खर्च करते रहेंगे ताकि किसी को निकालना न पड़े.

सरमा के अनुसार, असम के मदरसों में इस्लाम या कुरान पर आधारित विषयों को पढ़ने पर छात्रों को 200 मार्क्स हासिल करने का मौका मिलता है.सरमा ने कहा, ‘मेरा आपत्ति इसलिए है क्योंकि आपको समानता स्थापित करनी होगी. या तो आप भगवत गीता या बाइबल को भी अनुमति दीजिए, ताकि अन्य छात्र भी 200 मार्क्स हासिल कर सकें या कुरान को निकाल दीजिए.’

उन्होंने आगे कहा, ‘मुझे लगता है कि बाइबल या भगवद गीता की पढ़ाई शुरू करना आसान नहीं होगा क्योंकि असम में एक मिली-जुली संस्कृति है और कई छोटे धर्म हैं. तो समता स्थापित करने का सबसे अच्छा तरीका कुरान पर आधारित विषयों को हटाना है.’इससे पहले सरमा ने गुवाहाटी में पत्रकारों से कहा था कि संस्कृत टोलों की बागडोर कुमार भास्करवर्मा संस्कृत विश्वविद्यालय को सौंपी जाएगी और उन्हें भारतीय संस्कृति पर अकादमिक शिक्षण और अनुसंधान के केंद्रों में बदल दिया जाएगा. headtopics.com

दिल्ली की सड़क पर उतरी DTC की पहली इलेक्ट्रिक बस, सीएम केजरीवाल ने दिखाई हरी झंडी, जानिए खासियतें

(समाचार एजेंसी भाषा से इनपुट के साथ)

और पढो: द वायर हिंदी »

स्पेशल र‍िपोर्ट: कैराना में हिंदुओं के पलायन और नाहिद की पूरी कुंडली

समाजवादी पार्टी के उम्मीदवार नाहिद हसन ने पश्चिमी यूपी में सियासी माहौल गर्म कर दिया है. बीजेपी नाहिद हसन को लेकर अखिलेश पर हमलावर है तो दूसरी तरफ नाहिद के नफरती टेप सोशल मीडिया पर खूब वायरल हैं. आखिर नाहिद हसन को लेकर अखिलेश को बैकफुट पर क्यों आना पड़ा? क्या कैराना में नाहिद हसन के उम्मीदवार बनने से पश्चिमी यूपी के सियासी समीकरण बदल सकते हैं? आखिर कौन हैं नाहिद? क्यों अखिलेश नाहिद हसन का टिकट काटने पर विचार कर रहे हैं? देखें स्पेशल रिपोर्ट.

सेंट्रल विस्टा पर दिग्विजय ने उठाए सवाल, हरदीप पुरी ने ट्विटर पर किया पलटवारकेंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने सिलसिलेवार तरीके से कई ट्वीट किए और दिग्विजय सिंह को जवाब दिए. हरदीप पुरी ने दिग्विजय के ट्वीट को 'आलसी विपक्ष' का क्लासिक उदाहरण बताया.

रेज़िडेंट डॉक्टरों ने कोवैक्सीन पर संदेह जताया, भारत बायोटेक ने कहा- साइड इफेक्ट पर देंगे मुआवज़ाकोवैक्सीन का केवल पहले और दूसरे चरण का ट्रायल पूरा हुआ है, जबकि तीसरे चरण के क्लीनिकल ट्रायल का अध्ययन अभी किया जा रहा है. दिल्ली के आरएमएल अस्पताल के रेजिडेंट डॉक्टर्स एसोसिएशन ने कहा कि उन्हें इसे लेकर कुछ संदेह है और उनमें से अधिकतर टीकाकरण अभियान में हिस्सा नहीं लेंगे. Matlb modi virodhi kuch naya planning kar rahe honge ki kaise inko badnam kiya jay.

चीन पे करम पर किसानों पर सितम- ओवैसी ने लोकसभा में केंद्र पर यूं साधा निशानाकहा कि सरकार किसानों को रोकने के लिए दीवार खड़ा कर रही, जबकि चीन देश के अंदर घुसकर अपना गांव बसा लिया और सरकार उसके खिलाफ एक शब्द नहीं बोल पा रही है।

असम: जालुकबारी सीट पर है हेमंत बिस्व सरमा की प्रतिष्ठा दांव पर, जानिए क्या है इतिहास असम : जालुकबारी सीट पर है हेमंत बिस्व सरमा की प्रतिष्ठा दांव पर, जानिए क्या है इतिहास ElectionResult WestBengalElections2021 TamilNaduElections2021 Assam Election2021 KeralaElection2021 PuducherryElection2021 ResultsWithAmarUjala

हेमंत बिस्वा सरमा ने असम के मुख्यमंत्री के तौर पर ली शपथहिमंत बिस्व सरमा को रविवार के दिन असम भाजपा विधायक दल ने अपना नेता चुना था. इसके बाद उन्होंने रविवार को ही राजभवन में राज्यपाल जगदीश मुखी से मुलाकात कर सरकार गठन का दावा पेश किया था. Seems He doesn't give.. fkk bout Corona एक पूर्व कांग्रेसी नेता बीजेपी में cm बना l अब तो सिंधिया को भी Cm का कुर्सी माँगना चाहिए l declare_chsl18_result

असम-मिज़ोरम सीमा पर फ़िर हुई हिंसा, असम के हैलाकांडी ज़िले में निषेधाज्ञा लागूमिज़ोरम के कोलासिब और असम के हैलाकांडी ज़िले में बीते नौ फरवरी की रात हुई झड़प में कई लोग घायल हो गए. पिछले साल अक्टूबर-नवंबर में भी असम के कछार ज़िले और मिज़ोरम के कोलासिब ज़िले के लोगों के बीच हिंसक झड़प हुई थी, जिसके बाद सीमा पर तब कई दिन तक तनाव रहा था.