Assam, Mizoram, Northeast, Stelliteımaging, Interstate Boundary Disputes İn İndia, Assam-Mizoram Border Dispute, Satellite Map, Satellite İmages, Central Govt, Assam Mizoram Border Clash, North East States Of İndia, North East States Border Demarcation, Satellite İmaging, North Eastern Space Applications Centre, Nesac

Assam, Mizoram

असम-मिजोरम विवाद: उपग्रह की मदद से होगा उत्तर पूर्वी राज्यों की सीमाओं का निर्धारण, केंद्र का फैसला

असम व मिजोरम के बीच हाल ही में हुए हिंसक सीमा विवाद के बाद केंद्र सरकार ने उत्तर पूर्व के राज्यों के अंतरराज्यीय सीमा

01-08-2021 19:40:00

असम-मिजोरम विवाद: उपग्रह की मदद से होगा उत्तर पूर्वी राज्यों की सीमाओं का निर्धारण, केंद्र का फैसला Assam Mizoram NorthEast StelliteImaging

असम व मिजोरम के बीच हाल ही में हुए हिंसक सीमा विवाद के बाद केंद्र सरकार ने उत्तर पूर्व के राज्यों के अंतरराज्यीय सीमा

केंद्र सरकार के दो वरिष्ठ अधिकारियों ने बताया कि यह काम नार्थ ईस्टर्न स्पेस एप्लीकेशन सेंटर (एनईएसएसी) को सौंपा गया है। यह अंतरिक्ष विभाग व उत्तर पूर्वी परिषद का साझा उपक्रम है। एनईएसएसी, अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी की मदद से उत्तर पूर्वी क्षेत्रों के विकास को बढ़ावा देने का काम करता है।

राजस्व में कमी की भरपाई के लिए दूसरी छमाही में 5.03 लाख करोड़ रुपये का कर्ज लेगी सरकार केंद्र सरकार को 'सुप्रीम' फटकार, कहा- युवा डॉक्टरों के साथ फुटबॉल जैसा बर्ताव न करें भारत बंद की वजह से 50 ट्रेनों की सर्विस पर असर पड़ा: रेलवे - BBC Hindi

अंतरराज्यीय सीमा विवाद हाल ही में असम व मिजोरम के बीच हुए हिंसक झड़प के बाद फिर सुर्खियो में आया है। इसमें असम पुलिस के पांच जवान व एक नागरिक शहीद हो गया था। 26 जुलाई को हुए संघर्ष के दौरान मिजोरम पुलिस के जवानों ने असम पुलिस पर फायरिंग कर दी थी। इस संघर्ष में 50 अन्य लोग घायल हो गए थे।

गृह मंत्री अमित शाह ने दिया था सुझावसैटेलाइट इमेजिंग के माध्यम से सीमा विवाद के निपटारे का विचार कुछ माह पहले केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने एक बैठक में दिया था। शाह ने सीमा विवाद व जंगलों के निर्धारण के काम में एनईएसएसी के नक्शों की मदद लेने का सुझाव दिया था। बता दें, मेघालय की राजधानी शिलांग स्थित एनईएसएसी क्षेत्र में बाढ़ नियंत्रण के लिए अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी का इस्तेमाल पहले से कर रही है। headtopics.com

अधिकारियों ने बताया कि चूंकि सीमाओं के निर्धारण का यह वैज्ञानिक तरीका होगा, इसलिए इसे लेकर असहमति व विवाद की गुंजाइश नहीं होगी व राज्यों के बीच स्वीकार्य हल निकल सकेगा। उन्होंने कहा कि एक बार सैटेलाइट मैपिंग हो जाने के बाद उत्तर पूर्वी राज्यों की सीमाओं का निर्धारण किया जा सकेगा और विवाद का स्थाई समाधान हो जाएगा।

विस्तार विवाद के निपटारे का फैसला किया है। इसके लिए सरकार उपग्रह से ली गई तस्वीरों की मदद लेगी। इन राज्यों के बीच अक्सर सीमा विवाद उठते रहते हैं। कई बार ये हिंसक रूप भी ले लेते हैं, जैसा कि हाल ही में असम व मिजोरम के बीच हुआ था, जिसमें पांच पुलिसकर्मी शहीद हो गए।

विज्ञापनकेंद्र सरकार के दो वरिष्ठ अधिकारियों ने बताया कि यह काम नार्थ ईस्टर्न स्पेस एप्लीकेशन सेंटर (एनईएसएसी) को सौंपा गया है। यह अंतरिक्ष विभाग व उत्तर पूर्वी परिषद का साझा उपक्रम है। एनईएसएसी, अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी की मदद से उत्तर पूर्वी क्षेत्रों के विकास को बढ़ावा देने का काम करता है।

अंतरराज्यीय सीमा विवाद हाल ही में असम व मिजोरम के बीच हुए हिंसक झड़प के बाद फिर सुर्खियो में आया है। इसमें असम पुलिस के पांच जवान व एक नागरिक शहीद हो गया था। 26 जुलाई को हुए संघर्ष के दौरान मिजोरम पुलिस के जवानों ने असम पुलिस पर फायरिंग कर दी थी। इस संघर्ष में 50 अन्य लोग घायल हो गए थे। headtopics.com

आज के Bharat Bandh से क्या हासिल हुआ? देखें क्या बोले किसान नेता Pushpendra Singh यूपी : CM योगी ने नवनियुक्त मंत्रियों को बांटे विभाग, जानें- किसको क्या मिला? इकोनॉमी के मोर्चे पर अच्छे संकेत, ICRA का अनुमान- 9% GDP ग्रोथ

गृह मंत्री अमित शाह ने दिया था सुझावसैटेलाइट इमेजिंग के माध्यम से सीमा विवाद के निपटारे का विचार कुछ माह पहले केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने एक बैठक में दिया था। शाह ने सीमा विवाद व जंगलों के निर्धारण के काम में एनईएसएसी के नक्शों की मदद लेने का सुझाव दिया था। बता दें, मेघालय की राजधानी शिलांग स्थित एनईएसएसी क्षेत्र में बाढ़ नियंत्रण के लिए अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी का इस्तेमाल पहले से कर रही है।

अधिकारियों ने बताया कि चूंकि सीमाओं के निर्धारण का यह वैज्ञानिक तरीका होगा, इसलिए इसे लेकर असहमति व विवाद की गुंजाइश नहीं होगी व राज्यों के बीच स्वीकार्य हल निकल सकेगा। उन्होंने कहा कि एक बार सैटेलाइट मैपिंग हो जाने के बाद उत्तर पूर्वी राज्यों की सीमाओं का निर्धारण किया जा सकेगा और विवाद का स्थाई समाधान हो जाएगा।

आपकी राय हमारे लिए महत्वपूर्ण है। खबरों को बेहतर बनाने में हमारी मदद करें।खबर में दी गई जानकारी और सूचना से आप संतुष्ट हैं?हांखबर की भाषा और शीर्षक से आप संतुष्ट हैं?हांखबर के प्रस्तुतिकरण से आप संतुष्ट हैं?हांखबर में और अधिक सुधार की आवश्यकता है? और पढो: Amar Ujala »

Delhi में बड़े Terror Module का पर्दाफाश, जांच एजेंसियों ने 6 को दबोचा, देखें स्पेशल रिपोर्ट

दिल्ली में पाकिस्तान की बड़ी साजिश का खुलासा करते हुए एजेंसी ने 6 लोगों को गिरफ्तार किया है. जानकारी के मुताबिक इस पाकिस्तानी आतंकी मॉड्यूल के लिए काम करने वाले 6 लोगों में से दो ने पाकिस्तान में ट्रेनिंग हासिल की थी. जांच एजेंसियों ने पाकिस्तान द्वारा पोषित एक आतंकी मॉड्यूल का भंडाफोड़ किया है. इस मामले में जांच एजेंसियों ने 6 लोगों को गिरफ़्तार किया है. पकड़े गए संदिग्ध भारत में इस आतंकी मॉड्यूल को ऑपरेट कर रहे थे. इन सभी से लगातार पूछताछ की जा रही है. एजेंसी का दावा है कि पकड़े गए इन संदिग्ध आतंकियों के पास से बड़ी मात्रा में हथियार और विस्फोटक बरामद हुए हैं. देखिए स्पेशल रिपोर्ट का ये एपिसोड.

नागरिकों के सम्मान की रक्षा के लिए बहुत कुछ करने की जरूरत: जस्टिस ललितसुप्रीम कोर्ट के जज, जस्टिस यूयू ललित ने कहा है कि देश के हरेक पुलिस थाने में किसी भी नागरिक को फ्री कानूनी सहायता दिए जाने की जानकारी डिस्प्ले बोर्ड पर लिखी होनी चाहिए. सभी आरोपियों को पता होना चाहिए कि कानूनी सहायता उसका अधिकार है और ये भी कि उसे ये सुविधा कैसे मिलेगी. mewatisanjoo Mr Justice you nonsense anpad ganwar politicians need to be educated. mewatisanjoo बोलने से कुछ नही होता जज साहेब करने से होता है; सर्वप्रथम तो जितने भी पद खाली हैं जजों के, उन्हें तत्काल से भरने की प्रक्रिया शुरू करे व ये सुनिश्चित करें कि इसप्रक्रिया में कोई धांधलेबाजी ना हो रिजल्ट भी तयसमयसीमा पर आए क्योंकि जितने केसों का निर्णय नहींहुआ उससे ज्यादा बांकी हैं mewatisanjoo Mr Justice nonsense anpad ganwar politicians need to be educated.

बिहारः चिराग की LJP में टूट के पीछे नीतीश के 'राइट हैंड' ललन का दिमाग!बिहारः चिराग की LJP में टूट के पीछे नीतीश के 'राइट हैंड' ललन का दिमाग! सवर्णों में सकारात्मक संदेश के लिए सौंपी गई JDU की कमान

आज का जीवन मंत्र: अपने काम की प्रस्तुति प्रभावशाली और दूसरों के लिए उपयोगी होनी चाहिएकहानी - महर्षि महेश योगी से जुड़ा किस्सा है। महेश योगी जी अपने गुरु ब्रह्मानंद सरस्वती के निधन के बाद बहुत दुखी थे। वे इतने निराश हो गए थे कि गंगा में कूद गए, उन्हें लोगों ने नदी से निकाला। तब से वे सोचने लगे कि इस जीवन का उद्देश्य क्या होना चाहिए? | aaj ka jeevan mantra by pandit vijayshankar mehta, story of maharshi mahesh yogi, Presentation of your work should be impressive and useful to others ऐसा ही एक काम धरातल लाना जनस्वराज ♣ जिसकेलिए ग्रहनक्षत्र मिल सबदेरहे आवाज👌 जनसबसाथ कर्मयोगी जल्दहीकरेंगे आगाजⓂ️ हरिॐ🚩

इंडोनेशिया की BRI Life बीमा शाखा के 20 लाख ग्राहकों का डेटा चोरी!साइबर क्राइम मॉनिटरिंग फर्म हडसन रॉक ने कहा कि उसे ऐसे सबूत मिले हैं जिनसे पता चलता है कि कई कंप्यूटरों से छेड़छाड़ की गई थी। कमाल है

'आराधना' की शूटिंग खत्म होने के बाद राजेश खन्ना से हुई थी फरीदा जलाल की दोस्तीफिल्म 'आराधना' ​में राजेश खन्ना के साथ शर्मिला टैगोर लीड रोल में नज़र आई थी। दोनों की ऑन स्क्रीम केमिस्ट्री दर्शकों को खूब पसंद आई थी। एक्ट्रेस फरीदा जलाल भी इस फिल्म में सपोर्टिंग रोल में दिखाई दी थी

किसान की ओलिंपियन बेटी कमलप्रीत की कहानी: पंजाब के गांव मुक्तसर से निकलकर शाकाहार के दम पर पाया मुकाम; बड़े संस्थानों में दाखिला नहीं मिला तो स्कूल के स्टेडियम में की प्रैक्टिसजब आदमी कुछ कर गुजरने की ठान लेता है तो फिर कोई भी डगर मुश्किल नहीं होती। यही कहानी है पंजाब मुक्तसर के छोटे से गांव से निकलकर ओलिंपिक के फाइनल में जगह बना चुकी कमलप्रीत कौर की। वह पिछले 7 साल से इस मुकाम के लिए संघर्ष कर रही है। इतना ही नहीं, आम तौर पर देर-सवेर खिलाड़ी नॉनवेज खाने को अपना ही लेते हैं, लेकिन कमलप्रीत कौर ने ऐसा भी कुछ नहीं अपनाया। शुद्ध शाकाहार के दम पर ही इतना बड़ा मुकाम पाया है। न... | Punjab: Farmer's daughter made a place with indigenous diet, if she did not get admission in the center of SAI, she used to go to the nearby school every day. जब आदमी कुछ कर गुजरने की ठान लेता है तो फिर कोई भी डगर मुश्किल नहीं होती। यही कहानी है पंजाब मुक्तसर के छोटे से गांव से निकलकर ओलंपिक के फाइनल में जगह बना चुकी कमलप्रीत कौर की। वह पिछले 7 साल से इस मुकाम के लिए संघर्ष कर रही है