असम-मिज़ोरम विवाद में क्या-क्या हुआ और क्या है पूरा मामला? - BBC News हिंदी

असम-मिज़ोरम विवाद में क्या-क्या हुआ और क्या है पूरा मामला?

27-07-2021 04:59:00

असम-मिज़ोरम विवाद में क्या-क्या हुआ और क्या है पूरा मामला?

असम और मिज़ोरम पड़ोसी राज्य हैं. दोनों के बीच ताज़ा तनाव में असम पुलिस के छह जवान मारे गए हैं. आख़िर इस तनाव की वजह क्या है और इसकी शुरुआत कैसे हुई. सबकुछ जानें.

दोनों राज्यों के बीच पुराना है विवादअसम में बीबीसी हिंदी के सहयोगी पत्रकार दिलीप कुमार शर्मा के मुताबिक, 'असम और मिज़ोरम के बीच सीमा विवाद औपनिवेशिक काल से रहा है. मिज़ोरम पहले 1972 तक असम का ही हिस्सा था. यह लुशाई हिल्स नाम से असम का एक ज़िला हुआ करता था जिसका मुख्यालय आइजोल था. ऐसा बताया जाता है कि असम-मिज़ोरम के बीच यह विवाद 1875 की एक अधिसूचना से उपजा है जो लुशाई पहाड़ियों को कछार के मैदानी इलाकों से अलग करता है.'

कार्टून: इस ड्रग्स में वो बॉलीवुड वाली बात कहाँ? - BBC News हिंदी US दौरे पर PM मोदी, अब होगा आतंक पर वार! देखें हल्ला बोल आकाशवाणी के रामानुज प्रसाद सिंह का निधन, 86 साल की उम्र में ली आखिरी सांस

एडम हैलीडे बताते हैं, "मिज़ोरम असम के साथ ही था, लेकिन मिज़ो आबादी और लुशाई हिल्स का क्षेत्र निश्चित था. यह क्षेत्र 1875 में चिन्हित किया गया था. मिज़ोरम की राज्य सरकार इसी के मुताबिक अपनी सीमा का दावा करती है, लेकिन असम सरकार यह नहीं मानती है. असम सरकार 1933 में चिन्हित की गई सीमा के मुताबिक अपना दावा करती है. इन दोनों माप में काफ़ी अंतर है तो विवाद की असली जड़ वही एक-दूसरे पर ओवरलैप करता हुआ हिस्सा है जिस पर दोनों सरकारें अपना-अपना दावा छोड़ने को तैयार नहीं हैं."

1875 का नोटिफ़िकेशन बंगाल ईस्टर्न फ़्रंटियर रेगुलेशन (बीइएफ़आर) एक्ट, 1873 के तहत आया था, जबकि 1933 में जो नोटिफ़िकेशन आया उस वक़्त मिज़ो समुदाय के लोगों से सलाह मशविरा नहीं किया गया था, इसलिए समुदाय ने इस नोटिफ़िकेशन का विरोध किया था.असम के साथ मिज़ोरम लगभग 165 किलोमीटर लंबी सीमा साझा करता है जिसमें मिज़ोरम के तीन ज़िले आइजोल, कोलासिब और ममित आते हैं. वहीं, इस सीमा में असम के कछार, करीमगंज और हैलाकांदी ज़िले आते हैं. headtopics.com

दिलीप शर्मा के मुताबिक, 'पिछले साल अक्टूबर में असम के कछार ज़िले के लैलापुर गांव के लोगों और मिज़ोरम के कोलासिब ज़िले के वैरेंगते के पास स्थानीय लोगों के बीच सीमा विवाद को लेकर हिंसक संघर्ष हुआ था जिसमें कम से कम आठ लोग घायल हो गए थे.'दोनों राज्यों के बीच इन झड़पों की वजहों पर दुर्वा घोष ने बताया, "देखिए मूल रूप से यह झगड़ा ज़मीन का है. आप इसे बढ़ती आबादी का ज़मीन पर पड़ने वाला दबाव भी कह सकते हैं. लोगों को मकान चाहिए, स्कूल, अस्पताल चाहिए तो इसके लिए ज़मीन चाहिए. दोनों राज्य एक-दूसरे की ज़मीन पर अतिक्रमण का आरोप लगा रहे हैं. दोनों राज्यों के अपने-अपने दावे हैं और उन दावों में कौन सच बोल रहा है और कौन झूठ बोल रहा है, इसका पता लगाना अब बेहद मुश्किल हो चुका है."

वीडियो कैप्शन,असम में एक मुस्लिम दंपती मंदिरों और रास्तों को संवार रहा हैहालांकि, सिलचर यूनिवर्सिटी में एसोसिएट प्रोफ़ेसर जॉयदीप बिश्वास कहते हैं, "यह विवाद उन्हीं पॉकेट में ज़्यादा है जहां लोगों की बसावट ज़्यादा है. सभी इलाकों में ऐसा तनाव नहीं है."

एडम हैलीडे के मुताबिक, "पहले तो यह इलाक़ा जंगलों से भरा हुआ था और इसे नो मैन्स लैंड कहा जाता था. लेकिन अब ऐसी स्थिति नहीं है, इसलिए भी संघर्ष बढ़ा है."वैसे सीमा को लेकर असम का विवाद केवल मिज़ोरम के साथ ही नहीं है. दुर्वा घोष ने बताया, "असम का केवल मिज़ोरम से ही विवाद नहीं है. मेघालय, अरुणाचल प्रदेश और नागालैंड के साथ भी असम का सीमा विवाद रहा है."

पड़ोसी राज्यों के साथ सीमा विवाद को लेकर असम के मुख्यमंत्री हिमंत बिस्व सरमा ने पिछले ही दिनों अपने बयान में कहा है कि मेघालय, अरुणाचल प्रदेश और नागालैंड से सीमा विवाद तो हल हो जाएगा, लेकिन मिज़ोरम के साथ इस विवाद का हल मिल पाना मुश्किल है. और पढो: BBC News Hindi »

US दौरे पर PM मोदी, अब होगा आतंक पर वार! देखें हल्ला बोल

दो साल बाद अमेरिका के लिए पीएम मोदी की उड़ान तेजी से बदलती दुनिया में भारत की आन-बान और शान को दमदार अंदाज़ में दर्ज कराएगी. ये पहला मौका होगा जब प्रधानमंत्री मोदी और अमेरिकी राष्ट्रपति के तौर पर जो बाइडेन आमने सामने मुलाकात करेंगे. माना जा रहा है कि पीएम मोदी और जो बाइडेन की मुलाकात में अफगानिस्तान में तालिबान राज और उसके बाद के बढ़ते खतरे पर भी बात होगी. भारत और अमेरिका के बीच द्विपक्षीय रिश्तों को मजबूती देने के अलावा प्रधानमंत्री के एजेंडे में आतंकवाद पर दुनिया को कड़ा संदेश देना भी शामिल होगा. SCO की बैठक में पीएम मोदी आतंकवाद को लेकर चीन और पाकिस्तान के सामने खरी-खरी सुना चुके हैं. आज हल्ला बोल में देखें इसी मुद्दे पर चर्चा.

दो राज्यों की पुलिस आपस में भिड़ जाती है,NDA के दो मुख्यमंत्री ट्विटर पर गुत्थमगुत्थी करते हैं। वक्त रहते मोदी सरकार ने मुक्कमल कदम नहीं उठाया।6 जवान आपस की लड़ाई में मारे गए। कहीं कोई तुच्चा नारा लगा देता है तो देश की अखंडता खतरे में पड़ने लगती है,यहां क्या बुलंद हुई है ? Most powerful CM Himanta Biswa Sarma 🔥🔥 ..2nd Yogi adityanath of India 🇮🇳

2 राज्यों की पुलिस आपस में ऐसे लड़ रही है जैसे दो देश सीमा विवाद पर लड़ रहे हो, बहुत ही शर्मनाक घटना।

असम-मिज़ोरम सीमा पर संघर्ष में असम पुलिस के छह जवान मारे गए - BBC News हिंदीगृह मंत्री अमित शाह ने दोनों राज्यों के मुख्यमंत्रियों से शांति बनाए रखने को कहा. मिज़ोरम के मुख्यमंत्री ज़ोरमाथांगा ने गृह मंत्री को टैग करते हुए हिंसा का वीडियो पोस्ट किया था. What is this? If home minister can not solve the interstate border dispute how can he will safe our china pakistan border ...should regine ... मोती का डंका बज रहा है।।

असम और मिज़ोरम के मुख्यमंत्री सार्वजनिक रूप से क्यों भिड़ गए - BBC News हिंदीमिज़ोरम के मुख्यमंत्री ज़ोरमाथांगा ने गृह मंत्री अमित शाह को टैग करते हुए हिंसा का वीडियो पोस्ट किया. इसके जवाब में असम के सीएम हिमंत बिस्व सरमा ने मिज़ोरम प्रशासन पर आरोप लगाए. Ladte raho... sposhy0007 अभी. तो शुरुआत हुई है

असम-मिजोरम बॉर्डर पर फायरिंग: जमीन विवाद में दोनों राज्यों की पुलिस और नागरिक भिड़े, आंसू गैस और लाठियां चलीं; असम के CM बोले-हमारे 6 जवान मारे गएअसम और मिजोरम के बीच सीमा विवाद का मुद्दा सोमवार को हिंसक हो गया। दोनों राज्यों की पुलिस और नागरिकों के बीच झड़प हुई है। दोनों तरफ से पहले लाठियां चलीं, मामला बढ़ा तो पुलिस ने आंसू गैस के गोले छोड़े। इस बीच फायरिंग भी हुई। | Firing on Assam-Mizoram Border, Assam-Mizoram Border Dispute, Mizoram Chief Minster Zoramthanga, Home Minister Amit Shah assampolice मोदी जी ने दो राज्यों के बीच दो देशों की तरह सीमा बनवा दी, अब कितना विकास चाहिए ? assampolice Shocking... गृह मंत्रालय क्या कर रहा हैं... assampolice दोनो राज्यों में बीजेपी की सरकार है ।

असम-मिजोरम सीमा विवाद: ब्रिटिश काल से चला आ रहा है यह मामला, जानिए विस्तार सेअसम-मिजोरम सीमा विवाद: ब्रिटिश काल से चला आ रहा है यह मामला, जानिए विस्तार से Assam Mizoram BorderDispute Violence HMOIndia HMOIndia कोई नेहरू जी वाला एंगल निकालते

Assam-Mizoram border dispute: 49 साल से चल रहा असम और मिजोरम के बीच का सीमा विवाद, समझिए पूरा मामला1987 में असम के लुशाई हिल्‍स इलाके को मिजोरम राज्‍य का दर्जा दे दिया गया था। मिजोरम का दावा है कि असम ने उसके 509 वर्गमील पर कब्‍जा कर रखा है। गत 10 जुलाई को यह सीमा विवाद का मुद्दा तब भड़क गया जब असम पुलिस ने अपनी जमीन पर कथित तौर पर अतिक्रमण हटाने के लिए अभियान शुरू किया। महाराष्ट्र डूबा राह तलाश बदले शाह पहुचे कराया अशान्त! बदले राहुल के हिम्मती काम की चिंता मे सब! अमित शाह समय डोनाल्ड शहर मे और शहर राजधानी क्या घट गया? कभी समझ आया तो शासक पद ले सन्यासी बना देता राजनितियुं अदूरदर्शिता अलावा ये तमाम आज हुआ क्या?

असम-मिजोरम सीमा पर फायरिंग की खबर, अमित शाह के दौरे के कुछ दिन बाद स्थानीय लोगों की बीच बढ़ा तनावअसम-मिजोरम बॉर्डर (Assam-Mizoram border) पर आज हिंसा भड़क उठी. केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) की शिलांग में पूर्वोत्‍तर राज्‍यों के सभी मुख्‍यमंत्रियों के साथ मुलाकात के दो दिन बाद हिंसा की यह खबरें आई हैं. बॉर्डर एरिया पर फायरिंग की खबरें मिली हैं, इसके साथ ही सरकारी वाहनों पर हमला किए जाने की भी खबरें सामने आई हैं. तड़ीपार और क्या करवा सकता है