Concept, Halftruth, Worldpeace, İdealcondition, Desire, Freedom, Creativity, Cheerfulness, A Concept, Half Truth Of World Peace, İdeal Condition, Desire, Total Freedom, Creativity And Cheerfulness, Living, Attainment Of Basic Amenities, Columns News İn Hindi, Opinion News İn Hindi, Opinion Hindi News

Concept, Halftruth

अवधारणा: विश्व शांति का अर्ध सत्य, एक आदर्श स्थिति की मनोकामना

विश्व शांति की अवधारणा, इच्छा और उस स्थिति को स्थापित करने के प्रयास सुखद अनुभूति देते हैं। विश्व शांति सदैव मानव की

20-09-2021 23:30:00

अवधारणा: विश्व शांति का अर्ध सत्य, एक आदर्श स्थिति की मनोकामना concept halftruth worldpeace idealcondition desire freedom creativity cheerfulness

विश्व शांति की अवधारणा, इच्छा और उस स्थिति को स्थापित करने के प्रयास सुखद अनुभूति देते हैं। विश्व शांति सदैव मानव की

विभिन्न संस्कृतियों, धर्मों, दर्शनों और विचारों की आदर्श राज्य निर्माण की अलग-अलग अवधारणाएं हो सकती हैं, लेकिन शांति का मार्ग वही है, जो मानव को उसकी गहरी मानवीयता का भान कराए। मानव अधिकारों, प्रौद्योगिकी, शिक्षा, चिकित्सा अथवा कूटनीति को संबोधित करके विश्व शांति स्थापित करने का उद्देश्य सार्वभौमिक रूप से घोषित है। वर्ष 1945 में संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने युद्ध अथवा युद्ध की घोषणा के बिना देशों के आपसी संघर्षों को हल करने के उद्देश्य को स्पष्ट किया।

सुब्रमण्यम स्वामी बोले, चीन के हाथ जाती लद्दाख-अरुणाचल की ज़मीन, मोदी सरकार चुप - BBC Hindi 'आर्यन खान मामले में ऐसी कोई चीज नहीं कि बेल से इनकार किया जा सके' : NDTV से मशहूर वकील प्रशांत भूषण सूडान में तख़्तापलट: प्रधानमंत्री हिरासत में, टीवी चैनल पर सेना का क़ब्ज़ा - BBC News हिंदी

लेकिन तब से सैकड़ों हजारों युद्ध दुनिया में हो चुके हैं, लाखों लोगों का खून बह चुका है। हमारे आधुनिक काल में तो युद्ध विराम ही विश्व शांति का संकेतक बन गया है। किन्हीं दो देशों में जब तक तनाव भीषण युद्ध में परिवर्तित न हो जाए, तब तक यह माना जाता है कि 'शांति की स्थिति' बनी हुई है। दूसरे शब्दों में कहें, तो शांति का अर्थ बहुत संकीर्ण कर दिया गया है। विश्व शांति के मुद्दे बड़े लचकदार हैं। शांति का अभी कोई दर्शन शास्त्र सृजित नहीं हुआ है।

जिंदगी का एक इतना महत्वपूर्ण पहलू राजनीतिक उलटबांसियों और युद्ध के कुरुक्षेत्रों में फंसा है। देशों, धर्मों और विचारों में भले ही ईर्ष्या, द्वेष और वैमनस्य के ज्वालामुखी फटते रहें, सीमा पर लड़ाई जारी नहीं, तो शांति ही शांति! बिना रक्तपात के तख्ता पलट दिया गया तो शांति! तालिबान ने भी बिना युद्ध के सत्ता प्राप्त कर ली, वह भी स्थिति का लाभ उठाने वालों के लिए 'शांति' का एक उदाहरण! आतंकवाद भी विश्व शांति का कदाचित ही उल्लंघन माना जाता है। headtopics.com

भयानक गरीबी, कुपोषण, भुखमरी, हत्याएं, बलात्कार, मानवाधिकारों का हनन आदि भी शायद ही शांति उल्लंघन के सूचक माने जाते हैं। और वनों का विनाश, वन्यजीवों की हत्याएं, पालतू पशुओं को भोजन, दवाइयों, सौंदर्य प्रसाधनों और वैज्ञानिक प्रयोगों के लिए हत्या तो शांति की परिधि में ही रखा जाता है। यह अपरिभाषित शांति, शांति का अर्ध सत्य है, जो अशांति से भी अधिक भयावह है।

विश्व शांति की अवधारणा में निहित एक अधकचरा पहलू यह भी है कि इस पर मात्र मानव जाति का ही अधिकार है। मानव की, मानव के लिए, मानव द्वारा शांति। पृथ्वी के सभी अन्य प्राणियों को भी शांति की इतनी ही आवश्यकता है, जितनी मानव को। धरती पर लगभग 85 लाख जीवों में मानव एक है, और केवल एक की शांति के लिए अन्य सभी को 'शांतिपूर्ण दुनिया' में सब दुख-संकट झेलने के लिए छोड़ दिया जाए, यह घोर अनैतिक है!

शांति की बातों में और शांति स्थापित करने के प्रयासों और प्रक्रियाओं में नैतिकता के मानदंड गधे के सिर से सींग की तरह लुप्त हैं। युद्ध विराम हो जाए, शांति की प्रक्रिया पूर्ण! इस प्रक्रिया में बस मनुष्य द्वारा मनुष्य की हत्या रोकनी होती है। ऐसा होना आवश्यक भी है। मानव जीवन भी उतना ही मूल्यवान है, जितना अन्य प्राणियों का। लेकिन मनुष्य का जीवन भी एक जीवन प्रक्रिया का हिस्सा है।

अगर अन्य प्राणियों का प्रत्यक्ष और परोक्ष रूप से वध होता है, तो इसमें भी जीवों की जान जाती है, मगर मानव समाज के लिए यह शांति की स्थिति से भिन्न नहीं है। दुनिया में प्रतिदिन भोजन और स्वाद के लिए जमीन पर रहने वाले 20 करोड़ जानवरों का वध किया जाता है। इसके साथ प्राकृतिक जलाशयों और कृत्रिम तालाबों से पकड़ कर मारी गई मछलियों और अन्य जलचरों को भी जोड़ें, तो प्रतिदिन तीन अरब जंतुओं की हत्या की जाती है। headtopics.com

मोहम्मद शमी के ट्रोल्स को सचिन तेंदुलकर ने दिया जवाब - BBC Hindi चीन का नया सीमा क़ानून, क्या भारत की मुश्किलें बढ़ा सकता है? - BBC News हिंदी मुंबई ड्रग्स केस के गवाह प्रभाकर को पुलिस सुरक्षा, लगाए हैं एनसीबी पर आरोप - BBC Hindi

इस प्रकार वर्ष भर में 36 अरब से अधिक निरीह जंतु विश्व शांति के लिए व्याकुल मानव रूपी जंतुओं के पेटों में समा जाते हैं और मानव जिह्वा को विविधतापूर्ण स्वादों से तृप्त कर जाते हैं। शांति-शांति चिल्लाने वाले मानव के लिए अरबों जानवरों की जीवन लीला शांत कर दी जाती है, जैसे उन निरीह जंतुओं के लिए शांति का कोई अर्थ ही नहीं। सर्वाधिक संहार समुद्री जीवों का होता है।

मछुआरों के जाल में केवल वही मछलियां नहीं आतीं, जिनके लिए वे जाल बिछाते हैं। उनमें अधिकांश वे जीव-जंतु होते हैं, जो उनके भोजन में नहीं आते। अनैच्छिक जंतुओं के जाल में फंसने के लिए एक तकनीकी शब्द है 'बाईकैच'। सितबंर, 2018 के आंकड़ों के अनुसार, प्रतिवर्ष एक व्यक्ति को खिलाने के लिए बाईकैच के कारण 500 समुद्री जीवों की हत्या की जाती है। ये जीव भी शांति के अधिकारी हैं और इनकी शांति के बिना हमारी शांति अधूरी है।

कुछ वैज्ञानिक और विशेषज्ञ यदा-कदा मांस प्राप्त करने के लिए जानवरों को मारने के मानवीय तरीकों की बात करते हैं। ऐसा इसलिए कि गोश्त के बिना अपने मजहब को अधूरा मानने वाले, जानवरों को हलाल करके मारने की वे निरर्थक बात करते हैं। लेकिन जानवरों की हत्या का कोई भी तरीका मानवीय नहीं हो सकता। जमीन पर, मिट्टी और पानी में रहने वाले सभी जीव-जंतु एक ही जीवन-प्रक्रिया के हिस्से हैं।

किसी भी जीव के जीवन का संकट संपूर्ण जीवन के संकट की कड़ी होती है। मनुष्य प्रजाति के लिए उपलब्ध भोजन, जो शांति के लिए सबसे पहली आवश्यकता है, प्राकृतिक परिवेश से आता है। प्राकृतिक परिवेश (मिट्टी, पानी, हवा) स्वस्थ हैं, विभिन्न परिवेशों में रहने वाले जीव स्वस्थ हैं, तो मानव जाति की सभी मूलभूत जरूरतें पूरी होंगी, मानव समाजों में शांति प्रस्फुटित होगी और जीवन-दायिनी पृथ्वी पर जीवन खिलेगा-चहकेगा-महकेगा। headtopics.com

जीवन का खिलना-चहकना-महकना ही तो शांति की सबसे प्रखर अभिव्यक्ति है। विश्व शांति का बीज हमारी सोच में होता है। तालिबानी और आतंकवाद पैदा करने वाली सोच के बीजों को संपूर्ण रूप से नष्ट करके ही शांति के बीज धरती पर बोए जा सकते हैं, जिनकी फसलों के फल धरती की आने वाली पीढ़ियों को मिलते रहेंगे और शांति के वातावरण में धरती पर जीवन फूलता-फलता, चहकता-महकता रहेगा।

(-पूर्व प्रोफेसर, जी बी पंत कृषि एवं प्रौद्योगिक विश्वविद्यालय।)विस्तार एक ऐसी आदर्श स्थिति की मनोकामना है, जिसमें वह अपनी संपूर्ण स्वतंत्रता, रचनात्मकता और प्रफुल्लता के साथ जीवन यापन कर सके। विश्व शांति एक विचार है, जिसमें समाहित हैं अहिंसा, सभी देशों में आपसी सहयोग, दुनिया के सभी लोगों का सम्मान और सभी को जीवन की मूलभूत सुविधाओं की प्राप्ति।

पाकिस्तान की जीत पर शोएब अख़्तर ने हरभजन को किया ट्रोल, कहा- बर्दाश्त करो - BBC News हिंदी #IndVPak : वीरेंद्र सहवाग ने किस पर फोड़ा 'पटाखा'? - BBC News हिंदी मुंबई ड्रग्स मामलाः समीर वानखेड़े पर लगे आरोपों पर एनसीबी ने शुरू की जांच - BBC Hindi

विज्ञापनविभिन्न संस्कृतियों, धर्मों, दर्शनों और विचारों की आदर्श राज्य निर्माण की अलग-अलग अवधारणाएं हो सकती हैं, लेकिन शांति का मार्ग वही है, जो मानव को उसकी गहरी मानवीयता का भान कराए। मानव अधिकारों, प्रौद्योगिकी, शिक्षा, चिकित्सा अथवा कूटनीति को संबोधित करके विश्व शांति स्थापित करने का उद्देश्य सार्वभौमिक रूप से घोषित है। वर्ष 1945 में संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद ने युद्ध अथवा युद्ध की घोषणा के बिना देशों के आपसी संघर्षों को हल करने के उद्देश्य को स्पष्ट किया।

लेकिन तब से सैकड़ों हजारों युद्ध दुनिया में हो चुके हैं, लाखों लोगों का खून बह चुका है। हमारे आधुनिक काल में तो युद्ध विराम ही विश्व शांति का संकेतक बन गया है। किन्हीं दो देशों में जब तक तनाव भीषण युद्ध में परिवर्तित न हो जाए, तब तक यह माना जाता है कि 'शांति की स्थिति' बनी हुई है। दूसरे शब्दों में कहें, तो शांति का अर्थ बहुत संकीर्ण कर दिया गया है। विश्व शांति के मुद्दे बड़े लचकदार हैं। शांति का अभी कोई दर्शन शास्त्र सृजित नहीं हुआ है।

जिंदगी का एक इतना महत्वपूर्ण पहलू राजनीतिक उलटबांसियों और युद्ध के कुरुक्षेत्रों में फंसा है। देशों, धर्मों और विचारों में भले ही ईर्ष्या, द्वेष और वैमनस्य के ज्वालामुखी फटते रहें, सीमा पर लड़ाई जारी नहीं, तो शांति ही शांति! बिना रक्तपात के तख्ता पलट दिया गया तो शांति! तालिबान ने भी बिना युद्ध के सत्ता प्राप्त कर ली, वह भी स्थिति का लाभ उठाने वालों के लिए 'शांति' का एक उदाहरण! आतंकवाद भी विश्व शांति का कदाचित ही उल्लंघन माना जाता है।

भयानक गरीबी, कुपोषण, भुखमरी, हत्याएं, बलात्कार, मानवाधिकारों का हनन आदि भी शायद ही शांति उल्लंघन के सूचक माने जाते हैं। और वनों का विनाश, वन्यजीवों की हत्याएं, पालतू पशुओं को भोजन, दवाइयों, सौंदर्य प्रसाधनों और वैज्ञानिक प्रयोगों के लिए हत्या तो शांति की परिधि में ही रखा जाता है। यह अपरिभाषित शांति, शांति का अर्ध सत्य है, जो अशांति से भी अधिक भयावह है।

विश्व शांति की अवधारणा में निहित एक अधकचरा पहलू यह भी है कि इस पर मात्र मानव जाति का ही अधिकार है। मानव की, मानव के लिए, मानव द्वारा शांति। पृथ्वी के सभी अन्य प्राणियों को भी शांति की इतनी ही आवश्यकता है, जितनी मानव को। धरती पर लगभग 85 लाख जीवों में मानव एक है, और केवल एक की शांति के लिए अन्य सभी को 'शांतिपूर्ण दुनिया' में सब दुख-संकट झेलने के लिए छोड़ दिया जाए, यह घोर अनैतिक है!

शांति की बातों में और शांति स्थापित करने के प्रयासों और प्रक्रियाओं में नैतिकता के मानदंड गधे के सिर से सींग की तरह लुप्त हैं। युद्ध विराम हो जाए, शांति की प्रक्रिया पूर्ण! इस प्रक्रिया में बस मनुष्य द्वारा मनुष्य की हत्या रोकनी होती है। ऐसा होना आवश्यक भी है। मानव जीवन भी उतना ही मूल्यवान है, जितना अन्य प्राणियों का। लेकिन मनुष्य का जीवन भी एक जीवन प्रक्रिया का हिस्सा है।

अगर अन्य प्राणियों का प्रत्यक्ष और परोक्ष रूप से वध होता है, तो इसमें भी जीवों की जान जाती है, मगर मानव समाज के लिए यह शांति की स्थिति से भिन्न नहीं है। दुनिया में प्रतिदिन भोजन और स्वाद के लिए जमीन पर रहने वाले 20 करोड़ जानवरों का वध किया जाता है। इसके साथ प्राकृतिक जलाशयों और कृत्रिम तालाबों से पकड़ कर मारी गई मछलियों और अन्य जलचरों को भी जोड़ें, तो प्रतिदिन तीन अरब जंतुओं की हत्या की जाती है।

इस प्रकार वर्ष भर में 36 अरब से अधिक निरीह जंतु विश्व शांति के लिए व्याकुल मानव रूपी जंतुओं के पेटों में समा जाते हैं और मानव जिह्वा को विविधतापूर्ण स्वादों से तृप्त कर जाते हैं। शांति-शांति चिल्लाने वाले मानव के लिए अरबों जानवरों की जीवन लीला शांत कर दी जाती है, जैसे उन निरीह जंतुओं के लिए शांति का कोई अर्थ ही नहीं। सर्वाधिक संहार समुद्री जीवों का होता है।

मछुआरों के जाल में केवल वही मछलियां नहीं आतीं, जिनके लिए वे जाल बिछाते हैं। उनमें अधिकांश वे जीव-जंतु होते हैं, जो उनके भोजन में नहीं आते। अनैच्छिक जंतुओं के जाल में फंसने के लिए एक तकनीकी शब्द है 'बाईकैच'। सितबंर, 2018 के आंकड़ों के अनुसार, प्रतिवर्ष एक व्यक्ति को खिलाने के लिए बाईकैच के कारण 500 समुद्री जीवों की हत्या की जाती है। ये जीव भी शांति के अधिकारी हैं और इनकी शांति के बिना हमारी शांति अधूरी है।

कुछ वैज्ञानिक और विशेषज्ञ यदा-कदा मांस प्राप्त करने के लिए जानवरों को मारने के मानवीय तरीकों की बात करते हैं। ऐसा इसलिए कि गोश्त के बिना अपने मजहब को अधूरा मानने वाले, जानवरों को हलाल करके मारने की वे निरर्थक बात करते हैं। लेकिन जानवरों की हत्या का कोई भी तरीका मानवीय नहीं हो सकता। जमीन पर, मिट्टी और पानी में रहने वाले सभी जीव-जंतु एक ही जीवन-प्रक्रिया के हिस्से हैं।

किसी भी जीव के जीवन का संकट संपूर्ण जीवन के संकट की कड़ी होती है। मनुष्य प्रजाति के लिए उपलब्ध भोजन, जो शांति के लिए सबसे पहली आवश्यकता है, प्राकृतिक परिवेश से आता है। प्राकृतिक परिवेश (मिट्टी, पानी, हवा) स्वस्थ हैं, विभिन्न परिवेशों में रहने वाले जीव स्वस्थ हैं, तो मानव जाति की सभी मूलभूत जरूरतें पूरी होंगी, मानव समाजों में शांति प्रस्फुटित होगी और जीवन-दायिनी पृथ्वी पर जीवन खिलेगा-चहकेगा-महकेगा।

जीवन का खिलना-चहकना-महकना ही तो शांति की सबसे प्रखर अभिव्यक्ति है। विश्व शांति का बीज हमारी सोच में होता है। तालिबानी और आतंकवाद पैदा करने वाली सोच के बीजों को संपूर्ण रूप से नष्ट करके ही शांति के बीज धरती पर बोए जा सकते हैं, जिनकी फसलों के फल धरती की आने वाली पीढ़ियों को मिलते रहेंगे और शांति के वातावरण में धरती पर जीवन फूलता-फलता, चहकता-महकता रहेगा।

(-पूर्व प्रोफेसर, जी बी पंत कृषि एवं प्रौद्योगिक विश्वविद्यालय।) और पढो: Amar Ujala »

भास्कर एक्सप्लेनर: IPL की 2 नई टीमों का ऐलान आज, अडानी से लेकर मेनचेस्टर यूनाइटेड के मालिक तक दावेदारों में, जानें कितना बदलेगा IPL?

IPL की दो नई टीमों का ऐलान थोड़ी देर में होगा। इसके साथ ही 2022 के IPL में कुल 10 टीमें एक-दूसरे के खिलाफ खेलती हुई दिखाई देंगी। ऐसा पहली बार नहीं होगा जब IPL में 10 टीमें होंगी, इससे पहले 2011 में हुए IPL के तीसरे सीजन भी 10 टीमें थीं। उस वक्त कोच्ची टस्कर केरला और पुणे वॉरियर्स नाम की फ्रेंचाईजी IPL का हिस्सा बनी थीं। इस बार की नई टीमें किस शहर की होंगी और इनका मालिक कौन होगा, ये आज तय हो जाएगा। | BCCI Will announce two new team of IPL today, Know all about It,how much IPL will change after this?\r\nनई टीमें कौन से शहर की हो सकती है? नई टीमों के लिए कौन-कौन से दावेदार मैदान में हैं? BCCI को नई टीमों के लिए कितनी बोली लगने की उम्मीद है?

टी-20 विश्व कप में 6 छक्के: हर गेंद की कहानी खुद युवराज सिंह की जुबानी, वीडियो शेयर कर पूछा कैसी लगी मेरी एक्टिंग- क्या बॉलीवुड में चांस मिलेगा?14 साल पहले 19 सितंबर को युवराज सिंह टी20 मैच में 6 गेंदों पर 6 छक्के लगाने वाले पहले बल्लेबाज बने थे। युवराज ने यह कारनामा साल 2007 में पहले टी20 वर्ल्ड कप में इंग्लैंड के खिलाफ मैच में गेंदबाज स्टुअर्ट ब्रॉड के ओवर में किया था। युवराज ने इस यादगार पल को री-क्रिएट किया है। उन्होंने मजाकिया अंदाज में एक वीडियो बनाकर सोशल मीडिया पर पोस्ट किया है। इस वीडियो में उन्होंने स्टुअर्ट के ओवर में 6 गेंदों ... | Yuvraj Singh VIDEO T20 world cup 2007 how history was created 14 years ago, but gave a funny style to the high voltage drama on the field YUVSTRONG12 👍👍👍👍

भास्कर LIVE अपडेट्स: भारत की चीन को दो टूक- बॉर्डर पर शांति होने से ही दोनों देशों के बीच रिश्ते सुधरेंगेविदेश सचिव हर्ष वी श्रृंगला ने कहा कि भारत ने चीन को साफ कर दिया है कि बॉर्ड एरिया में शांति दोनों देशों के बीच संबंधों के विकास के लिए जरूरी है। उन्होंने अफगानिस्तान और चीन को ट्रेडिशनल सिक्योरिटी चैलेंज बताया। सोमवार को श्रृंगला ने जेपी मॉर्गन इंडिया इन्वेस्टर समिट में भारत की विदेश नीति और रणनीतिक को लेकर बात रखी। उन्होंने कहा कि भारत-चीन संबंधों का विकास केवल 'तीन आपसी'- आपसी सम्मान, आपसी संवे... | Breaking News Headlines Today, Pictures, Videos and More From Dainik Bhaskar (दैनिक भास्कर), Coronavirus Vaccine News Today Freind sad khber hey baba ji sedhey or semion man they ok शिष्य आनंद गिरी से चल रहा था विवाद।

नेहा रोशन कर गईं 4 जिंदगियां: वो कहती थी- लिवर, फेफड़े, किडनी और त्वचा जरूरतमंदों को डोनेट कर देना, शांति मिलेगी; पति ने पूरी की इच्छाइंदौर की 37 साल की नेहा चौधरी अब इस दुनिया में नहीं हैं, लेकिन उनकी आंखें किसकी की जिंदगी को रोशन करेंगी। उनका लिवर और दोनों किडनियां अलग-अलग लोगों को डोनेट की गई है। पति पंकज चौधरी ने रविवार को चोइथराम हॉस्पिटल में बताया कि नेहा ने कुछ महीने पहले ही परिवार को बताया था कि मेरी मौत के बाद मेरा लिवर, फेफड़ा, किडनी, त्वचा आदि जरूरतमंद को डोनेट कर दिए जाए ताकि किसी और को नया जीवन मिल सके। नेहा के इस ख्... | Donate my liver, lung, kidney, skin to the needy, I will get peace, today three people will get life donation 🙏🏻🙏🏻👌 🍼ये जीवन है इस जीवन का यही है यही है रंग रूप .🍼🍼🍼🍼🍼 थोडे गम है थोडी खूशिया है यही है यही है छाव धूपं.🍼🍼🍼🍼🍼

घर में कैसे करें श्राद्ध: कोरोना काल में जिनका अंतिम संस्कार ठीक से नहीं हो पाया, उनकी शांति के लिए जानिए विधिशास्त्रों में 4 तरह की व्यवस्था, 1 दिन से लेकर पूरे साल किए जा सकते हैं श्राद्ध,12 तरह के होते हैं श्राद्ध, मांगलिक कार्यों के पहले नांदी श्राद्ध, कामना पूर्ति के लिए काम्य | Pitru Paksha 2021: Shradh Dates And Yog Sanyog In Pitru Puja Know Importance Significance And All Other Details About Shraddha Karma, 20 सितंबर से 6 अक्टूबर तक पितृपक्ष रहेगा। इन दिनों में पितरों की तृप्ति के लिए श्राद्ध किए जाएंगे। धर्मग्रंथों में यात्रार्थ श्राद्ध यानी तीर्थ स्थानों पर जाकर श्राद्ध करने का महत्व बताया गया है। लेकिन, कोरोना महामारी के चलते घर पर ही आसान विधि से श्राद्ध किया जा सकता है।

पाकिस्तान को दोहरा झटका: न्यूजीलैंड के बाद इंग्लैंड ने भी पाक दौरा रद्द किया, टी-20 विश्व कप से पहले होनी थी सीरीजपाकिस्तान को दोहरा झटका: न्यूजीलैंड के बाद इंग्लैंड ने भी पाक दौरा रद्द किया, टी-20 विश्व कप से पहले होनी थी सीरीज pakistancricketboard ECB Follow the twitter handles of 'All India Trinamool Congress' from all over India 👇👇👇 AITC4Assam AITC4Delhi AITC4Bihar AITC4Jharkhand AITC4Tripura AITC4UP AITC4Gujarat AITCofficial AITC_Parliament BanglarGorboMB कुल 4 देशों ने बेइज्जती की है उस देश की जिसका PM खुद एक क्रिकेटर है😂😂

विश्व भारती के कुलपति का शिक्षकों से सख्ती से बात करते कथित वीडियो सामने आया, विवाद खड़ा हुआपश्चिम बंगाल स्थित विश्व भारती विश्वविद्यालय के कुलपति बिद्युत चक्रवर्ती शनिवार को उस समय विवादों में आ गए जब सोशल मीडिया पर वायरल एक वीडियो में कथित तौर पर उन्हें विश्वविद्यालय के विभिन्न विभागों में चोरी की घटनाओं को रोकने के लिए पर्याप्त क़दम न उठाने के लिए शिक्षकों के एक वर्ग को ज़िम्मेदार ठहराते हुए देखा गया.