अर्दोआन की ज़िद के कारण क्या तुर्की की मुद्रा लीरा हो रही है कमज़ोर - BBC News हिंदी

अर्दोआन की ज़िद के कारण क्या तुर्की की मुद्रा लीरा हो रही है कमज़ोर

04-12-2021 04:39:00

अर्दोआन की ज़िद के कारण क्या तुर्की की मुद्रा लीरा हो रही है कमज़ोर

अर्दोआन केंद्रीय बैंक के तीन गवर्नरों को उनके पदों से हटा चुके हैं. इसी हफ़्ते उन्होंने तुर्की की मुद्रा लीरा में ऐतिहासिक गिरावट के बाद अपने वित्त मंत्री लुत्फे एल्वान को हटा दिया.

समाप्तकई अर्थशास्त्री मानते हैं कि अगर मुद्रास्फीति बढ़ रही है तो आप ब्याज दरें बढ़ाकर इसे नियंत्रित कर सकते हैं. लेकिन अर्दोआन ब्याज दरों में बढ़ोतरी को एक ऐसी बुराई के तौर पर देखते हैं जो अमीर को और अमीर जबकि ग़रीब को और ग़रीब बनाती है.एक स्थानीय फल के बाज़ार में खड़े सेविम यिल्दिरिम ने बीबीसी से कहा, "सब कुछ बहुत महंगा है."

यूपी चुनाव: नोएडा में छत्तीसगढ़ के सीएम भूपेश बघेल के ख़िलाफ़ एफ़आईआर - BBC Hindi

उन्होंने कहा, "क़ीमत इतनी अधिक है कि इस क़ीमत पर एक परिवार के लिए खाना पका पाना भी असंभव है."तुर्की में वार्षिक मुद्रास्फीति दर 21 फ़ीसदी से पार कर गई है लेकिन तुर्की के सेंट्रल बैंक ने ब्याज दरों को 16 फ़ीसदी से घटाकर 15 फ़ीसदी कर दिया है. इसके साथ ही एक साल में यह तीसरा मौक़ा है, जब ब्याज दरों में कटौती की गई है.

अर्दोआन मानते हैं कि ऊंची ब्याज दरें महंगाई के लिए ज़िम्मेदार हैं. हालांकि, ये बात पारंपरिक आर्थिक समझ के विपरीत है.लेकिन इसके बावजूद अर्दोआन ने ब्याज़ दरें कम रखने का फ़ैसला किया है.दुनिया भर में महंगाई दर बढ़ रही है और केंद्रीय बैंक ब्याज दरों में वृद्धि करने की बात कर रहे हैं लेकिन तुर्की में नहीं, क्योंकि अर्दोआन का मानना है कि एक दिन मुद्रास्फ़ीति कम हो जाएगी. headtopics.com

साल 2019 से अब तक अर्दोआन इसका विरोध करने वाले केंद्रीय बैंक के तीन गवर्नरों को उनके पदों से हटा चुके हैं. इसी हफ़्ते उन्होंने तुर्की की मुद्रा लीरा में ऐतिहासिक गिरावट के बाद अपने वित्त मंत्री लुत्फे एल्वान को उनके पद से हटा दिया है.साथ ही नूरेद्दीन नेबती को नया वित्त मंत्री बना दिया गया है.

चुनाव आयोग ने पत्रकारों को भी पोस्टल बैलट के जरिए वोट डालने की दी इजाजत - BBC Hindi

बढ़ती क़ीमतेंतुर्की की अर्थव्यवस्था खाद्य पदार्थों से लेकर वस्त्रों के उत्पादन तक के लिए आयात पर बहुत अधिक निर्भर करती है. ऐसे में लीरा के मुक़ाबले में डॉलर की क़ीमत के बढ़ने से उपभोक्ता उत्पादों पर इसका सीधा असर होता है.तुर्की के व्यंजनों में टमाटर ख़ासतौर पर इस्तेमाल होता है. टमाटर उगाने के लिए इम्पोर्टेड खाद और गैस ख़रीदने की ज़रूरत होती है.

एर्तरुल: तुर्की के राष्ट्रपति अर्दोआन का इस्लामिक राष्ट्रवाद कैसे फैलाया जा रहा है?अंताल्या के साउथ कोस्ट एग्रीकल्चर हब के चैंबर ऑफ़ कॉमर्स के मुताबिक, बीते साल की तुलना में, इस साल अगस्त में टमाटर की कीमतों में 75% की वृद्धि हुई थी.इस्तांबुल से तीन घंटे ड्राइव करके एक छोटा सा शहर पामुकोवा आता है. यहाँ अंगूर की खेती करने वाली सादिय कलेसी पूछती हैं कि आख़िर हम पैसे कैसे कमाएं?

वह कहती हैं, "हम इन्हें सस्ते में बेचते हैं, लेकिन ख़रीदना महंगा पड़ता है."वह डीज़ल, खाद और सल्फ़र की उच्च लागत का हवाला देते हुए नाराज़गी ज़ाहिर करती हैं.इमेज स्रोत,Social Mediaएक अन्य किसान फ़ेराइड टुफ़ान शिकायत करती हैं कि अब उनके पास अपनी क़ीमती चीज़ें बेचने के अलावा दूसरा कोई ज़रिया नहीं है. वह कहती हैं, "अपनी ज़मीन और अंगूर के बाग बेचकर ही हम अपना क़र्ज़ चुका सकते हैं लेकिन अगर हम सारा कुछ बेच ही देंगे तो हमारे पास बचेगा क्या." headtopics.com

2 बिजनेसमैन और 2 एक्‍टर के पास ही है भारत में Tesla की इलेक्ट्रिक कार

तुर्की में मुद्रा इतनी अस्थिर हो चुकी है कि उसकी क़ीमत हर रोज़ बदल रही है. अकेले उत्पादकों की बात करें तो उनके लिए मुद्रास्फीति की दर 50 फ़ीसदी से अधिक है.एक बाज़ार में ख़रीदारी कर रहे हकन अयरान ने बताया कि उन्होंने अपने हर ख़र्च में कटौती की है.सोशल मीडिया पर ऐसी कई तस्वीरें हैं, जिनमें एक ही चीज़ की क़ीमत के बढ़े दाम के बाद अंतर दिखाया जा रहा है.

इमेज स्रोत,Socialतुर्की के इज़मिर शहर में एक बेकरी ने अपने बेकरी उत्पाद की बढ़ी क़ीमतों को अपने उपभोक्ताओं को समझाते हुए एक पर्ची लगा रखी है.इसमें बेकरी की चीज़े बनाने में इस्तेमाल होने वाले आटा, तेल, तिल जैसी चीज़ों की क़ीमतों का ब्यौरा दिया हुआ है. साथ ही इस पर्चे पर नीचे की ओर एक संदेश भी लिखा हुआ है- अल्लाह हमारे साथ रहे.

विदेशी मुद्रा ऋण, निजी क्षेत्र के लिए एक समस्या है. ज़्यादातर कंपनियां लीरा की अस्थिरता के कारण और महंगाई की वजह से उत्पाद को बेचने के स्थान पर उसकी जमाखोरी को अधिक फ़ायदे का सौदा मानती हैं.इससे ग़रीबी और बढ़ती है. साथ ही आय का अंतर भी.तुर्की के युवाओं में

ग़ुस्सापेट्रोल स्टेशन और स्थानीय सरकारी कार्यालयों के बाहर सस्ते दामों में रोटी लेने के लिए क़तारें लगती हैं.वहीं विपक्षी पार्टियां मध्यावधि चुनाव पर ज़ोर डाल रही हैं. उन्होंने रैलियां करने का भी आह्वान किया है. इससे पहले अभी जब 23 नवंबर को एक दिन के भीतर लीरा में 18% की गिरावट आई थी तो तुर्की में प्रदर्शन हुए भी थे. headtopics.com

लेकिन तुर्की के युवाओं की नाराज़गी ट्विटर, फ़ेसबुक और दूसरे सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर साफ़ दिखाई पड़ती है.एक यूट्यूब चैनल के एक रिपोर्टर से एक युवा ने कहा, "मैं इस सरकार से बिल्कुल भी ख़ुश नहीं हूँ. मुझे इस देश में अपना कोई भविष्य नहीं दिखाई देता."

तुर्की में हर पाँच में से एक युवा के पास काम नहीं है. महिलाओं और लड़कियों के मामले में यह आँकड़ा और भी बुरा है.वीडियो कैप्शन,तुर्की में अर्दोआन के फ़ैसले के ख़िलाफ़ महिलाएं सड़कों पर आईंतुर्की के युवा अपने जीवन की तुलना दूसरे देशों में रहने वाले युवाओं से करते हैं और जो उन्हें दिखता है वो उससे हताश हैं.

यह वह पीढ़ी है, जो तुर्की की राजनीति में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाने के लिए तैयार है.साल 1990 के आख़िरी दौर से लगभग 90 लाख बच्चे तुर्की में पैदा हुए हैं. जो साल 2023 में यानी अगले चुनाव में मतदान करने के योग्य हों जाएंगे और अभी युवाओं में जो ग़ुस्सा और हताशा है, वह अर्दोआन और उनकी पार्टी के लिए मुसीबत खड़ी कर सकता है.

और पढो: BBC News Hindi »

कोरोना में जमकर लूट: प्राइवेट अस्पतालों ने 3 गुना ज्यादा बिल बनाए तो बीमा कंपनियों ने एक महीने में 1287 करोड़ ज्यादा वसूले

परिवार के सदस्य को खोने के बाद उसकी लाश के साथ यदि आपको लाखों का बिल थमा दिया जाए तो आप कैसा महसूस करेंगे? यह सोचने भर से रूह कांप जाती है। पर क्या आप जानते हैं कि जब आप अस्पतालों में बेड ढूंढ रहे थे और ऑक्सीजन सिलेंडर के लिए लाइन में लगे थे, तो प्राइवेट अस्पताल और इंश्योरेंस कंपनियां कितना मुनाफा कमा रही थीं। | Coronavirus disease (COVID-19) Treatment How Many Indians Do Not Have Health Insurance? Know People With Health Insurance 2022 IRDAI के मुताबिक, महामारी के दौरान अस्पतालों ने इंश्योरेंस कंपनियों से तीन गुना ज्यादा हेल्थ क्लेम का पैसा वसूला

एक दाढ़ीवाला अर्दोआन हमारे पर भी है। कहां फेंके समझ में नहीं आ रहा है। goelquotes Mix of politics and religion is explosive. quotesoftheday quotes quotesdaily 😂 Everyone to Erdo_gaand - पहले अपने देश की करेंसी देखो फिर कही और की बात करो। और भारत की मुद्रा का क्या लीरा हो रहा है जरा इसे भी बताओ 😁😁 BBC is so worried on what's happening with Turkey or Pakistan or any other theirs favourite. If it is india , they are on different page 📄

WhatsApp के जरिए बुक कराई जा सकेगी Uber की राइड, ऐप डाउनलोड करने की जरूरत नहींबुकिंग कराने पर ड्राइवर के बारे में और कैब के नंबर की जानकारी भी दी जाएगी। यूजर्स ड्राइवर की लोकेशन को देख सकेंगे और उससे एक बिना पहचान वाले नंबर के इस्तेमाल से बात कर सकेंगे Uber Time to uninstall Uber_Support as well Uber Wow😲😍

Bitcoin के हिमायती अल साल्वाडोर के राष्ट्रपति की अमेरिका को नसीहत, बंद करें पैसे छापनाराष्‍ट्रपति बुकेले जहां फेडरल रिजर्व के दृष्‍टिकोण पर अपनी टिप्‍पणी दे रहे हैं, वही एक हफ्ते पहले ही उन्‍होंने बिटकॉइन में गिरावट का फायदा भी उठाया था। Who gave NANA permission to crash into an asteroid? 🤣

घबराएं नहीं, भारत में ओमिक्रॉन के मामले सामने आने के बाद केंद्र की अपील : 5 बातेंपिछले कुछ दिनों से दुनिया भर में हड़कंप मचा रहे कोरोना वायरस के नए वेरिएंट ओमिक्रॉन ने आख‍िरकार भारत में भी दस्‍तक दे ही दी. कर्नाटक में इसके दो मरीज सामने आए हैं. स्‍वास्‍थ्‍य मंत्रालय ने गुरुवार को प्रेस कॉन्‍फ्रेंस कर इसकी जानकारी दी. दोनों में से एक मरीज की उम्र 66 साल है जबकि दूसरे की 46 साल. दोनों में ही फिलहाल कोई गंभीर लक्षण नहीं दिख रहे. क्या हर एक छोटे बड़े शहरों में ऑमिक्रॉन की जांच हो सकती है? क्या सिर्फ वायरल लोड से इसका पता चल जाएगा या जीनोम सिक्वेंसिंग आवश्यक है? 11 और 20 नवम्बर को आए थे... तो इन्हें भारत में ही हुआ है... PMOIndia केन्द्र सरकार को लापरवाही से बचना चाहिए। ऐसा पहली बार नहीं हो रहा, सरकार को सबक लेना चाहिए था।

भीमा कोरेगांव मामले की आरोपी सुधा भारद्वाज की मुश्किलें बढ़ी, जमानत के खिलाफ SC पहुंची NIAछत्तीसगढ़ की जानी-मानी सामाजिक कार्यकर्ता और वकील सुधा भारद्वाज को बॉम्बे हाईकोर्ट की ओर से मिली जमानत के खिलाफ राष्ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की है. सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर करते हुए NIA ने बॉम्बे हाईकोर्ट के 1 दिसंबर के आदेश को चुनौती दी. एक भी देशद्रोही बचना नहीं चाहिए,,, अंदर ही रहणा चाहिए मध्यप्रदेश में भी बेरोजगारी की हालात देखिए pm महोदय जी स्कूल के 1 लाख से ऊपर को हटाकर मात्र 10,000 से काम चला रहे,ऐसे में बच्चे क्या सीखेगे आपको पता होगा,100 से ऊपर अतिथि शिक्षक आत्महत्या भी कर चुके है क्या शासन इतना गरीब हों गया मध्यप्रदेश में 50,000 माह वेतन देने तो है, अतिथी शिक्षक को पैसे देने 5,7,9 हजार नही ,धन्य है सरकार,जय हो मध्यप्रदेश शासन की

पाकिस्तान: पैगंबर के पोस्टर फाड़ने के आरोप में श्रीलंकाई नागरिक की हत्या कर शव को जलायापुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि श्रीलंकाई नागरिक प्रियंता कुमारा सियालकोट जिले में एक कारखाने में जनरल मैनेजर के तौर पर कार्यरत था। Pathetic nation.

खुलासाः अवैध संबंध के चलते पत्नी ने भांजे के हाथों कराई पति की हत्या, दोनों गिरफ्तारमृतक के भाई ने पुलिस को तहरीर देते हुए बताया कि उसके भाई की किसी ने गोली मारकर हत्या कर दी है. उसकी शिकायत की आधार पर पुलिस ने अज्ञात के खिलाफ हत्या का केस दर्ज कर लिया. मामले की जांच होड़ल सीआईए कर रही थी.