अर्जेंटीना के साथ सेमी फ़ाइनल में इन महिला हॉकी खिलाड़ियों से करिश्मे की उम्मीद - BBC News हिंदी

अर्जेंटीना के साथ सेमी फ़ाइनल में इन महिला हॉकी खिलाड़ियों से करिश्मे की उम्मीद

03-08-2021 09:18:00

अर्जेंटीना के साथ सेमी फ़ाइनल में इन महिला हॉकी खिलाड़ियों से करिश्मे की उम्मीद

भारतीय महिला हॉकी टीम बुधवार को अर्जेंटीना के ख़िलाफ़ सेमी फ़ाइनल खेलेगी. आइए जानते हैं इस टीम के उन नगीनों के बारे में जिन्होंने भारत को यहां तक पहुंचाया.

गुरजीत कौरमहिला हॉकी टीम का ओलंपिक सेमीफ़ाइनल तक पहुँचना बहुत से लोगों के लिए किसी सपने की तरह है. क्वॉर्टर फ़ाइनल में ऑस्ट्रेलिया के ख़िलाफ़ मुश्किल मैच में जिस खिलाड़ी के गोल ने भारत को जीत दिलाई वो थी पंजाब की गुरजीत कौर. ये गुरजीत का पहला ओलंपिक है.

आनंद गिरि कौन हैं और महंत नरेंद्र गिरि के साथ उनके कैसे रिश्ते थे? - BBC News हिंदी केरल के मशहूर पद्मनाभस्वामी मंदिर ट्रस्ट का ऑडिट होगा : सुप्रीम कोर्ट Jagran Forum 2021 LIVE : सीएम योगी ने कहा- पहले की सरकारों ने किसानों के साथ अन्याय किया

गुरजीत कौर को भारत ही नहीं, दुनिया के सबसे बेहतर ड्रैग फ़्लिकर में गिना जाता है.पंजाब में पाकिस्तान सीमा से सटे छोटे से गाँव से आने वाली गुरजीत के गाँव में लड़कियों के लिए खेल का माहौल नहीं था. उनके पिता की इच्छा था कि बेटियाँ पढ़-लिख जाएँ. वो गाँव से रोज़ पास के कस्बे में बेटी को छोड़ने जाते थे. चूँकि इतने पैसे नहीं थे कि वो शहर तक दो-दो चक्कर लगाएँ तो उनके पिता सुबह से शाम तक स्कूल के बाहर ही खड़े रहते थे. लेकिन बाद मे हॉस्टल में रहते हुए गुरजीत ने लड़कियों को हॉकी खेलते देखा और लगा कि इसमें कुछ कर सकते हैं. ड्रैग फ़्लिक क्या होती है तब गुरजीत ने इसका नाम भी नहीं सुना था.

लेकिन मैच दर मैच गुरजीत अपने खेल को निखारती गईं. ओलंपिक शुरू होने से पहले वो 87 अंतरराष्ट्रीय मैच खेल चुकी थीं और 60 गोल कर चुकी थीं. और पढो: BBC News Hindi »

गुजरात में सियासी भूचाल, कौन होगा अगला मुख्यमंत्री? देखें दंगल में बड़ी बहस

गुजरात में शनिवार को बड़ा सियासी उलटफेर हुआ है. विजय रुपाणी (Vijay Rupani) ने मुख्यमंत्री (Chief Minister) के पद से इस्तीफा (Resign) दे दिया. उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृह मंत्री अमित शाह और पार्टी आलाकमान को आभार प्रकट किया. कुछ देर पहले ही रुपाणी ने राज्यपाल आचार्य देवव्रत से मुलाकात करते हुए उन्हें इस्तीफा सौंप दिया. गुजरात के मुख्यमंत्री पद से विजय रुपाणी के इस्तीफा देने के बाद अब यह सवाल उठने लगा है कि राज्य का अगला मुख्यमंत्री कौन होगा? देखें दंगल में बड़ी बहस.

जीत,जज्बा और जुनून ही इनका करिश्मा है। रही बात उम्मीद की तो पंख लग चुके है बस उड़ान देखना बाकी है। दुआ है उन करोड़ों देशवासियों का जिन्हें बेटियां साकार और स्वीकार भी करेंगी। सम्मान_की_बाजी_खेलो_इंडिया 🙏🙏🙏

Tokyo Olympics: जीत के बाद सिंधु बोलीं- फाइनल प्वाइंट जीतने के बाद दिमाग सचमुच ब्लैंक थाTokyo Olympics: जीत के बाद सिंधु बोलीं- फाइनल प्वाइंट जीतने के बाद दिमाग सचमुच ब्लैंक था TokyoOlympics PVSindhu Pvsindhu1

अडानी ग्रुप ने लुधियाना के लाजिस्टिक्स पार्क को किया बंद, किसानों के गतिरोध के बाद फैसलाकिसानों के जत्थे इस साल जनवरी से किला रायपुर लाजिस्टिक्स पार्क के मुख्य द्वार पर पर बैठे थे। इस वजह से लाजिस्टिक्स पार्क में कामकाज पूरी तरह ठप हो गया था।

ममता के भतीजे और TMC के MP अभिषेक बनर्जी के काफिले पर हमलाTMC के MP अभिषेक बनर्जी के काफिले पर BJP कार्यकर्ताओं ने अपनी पार्टी के झंडों के डंडों से कथित रूप से कार पर वार किए BJP TMC AbhishekBanerjee TripureshwariTemple MamataBanerjee BJP4India MamataOfficial abhishekaitc Tripura BjpBiplab

CBSE के 10वीं क्लास के परीक्षा परिणाम आज 12 बजे घोषित किए जाएंगेCBSE के 10वीं क्लास के परीक्षा परिणाम आज 12 बजे घोषित किए जाएंगे

स्कूल से दोस्तों के साथ गाड़ियों के काफिले में बैठकर दिल्ली पहुंचे थे ज्योतिरादित्य सिंधियाज्योतिरादित्य सिंधिया ने एक इंटरव्यू में बताया था कि वह स्कूल से बस में बैठकर दिल्ली आ रहे थे। अपनी गाड़ियों का काफिला देखकर वह उसमें बैठ गए थे। घर पहुंचकर माधव राव सिंधिया नाराज़ हो गए थे।

टोक्यो ओलंपिक: हारने के बावजूद अपनी बहादुरी से छाए भारत के सतीश - BBC Hindiभारतीय बॉक्सर सतीश कुमार बॉक्सिंग के सुपर हैवी वेट वर्ग के क्वार्टर फ़ाइनल में हारकर बाहर हो गए हैं. हालाँकि इस दौरान सतीश के प्रदर्शन की तारीफ़ हो रही है क्योंकि उन्होंने घायल होने के बावजूद इस मुकाबले में हिस्सा लिया. Great moment for INDIA जन गण मन अधिनायक जय हे...🇮🇳🇮🇳 बेसिक शिक्षा विभाग में जनपद के अंदर एक लंबे समय से एक ब्लॉक से दूसरे ब्लॉक मैं ट्रांसफर नही हुए है। जिस से सैकड़ों दिव्यांग अपने मूल ब्लॉक से 100 किलोमीटर से अधिक दूरी के विद्यालयों मैं अद्यापन का कार्य कर रहे हैं जहाँ आने जाने के साधन भी नही है महोदय संज्ञान में ले। M